भ्रष्टाचार जनित “पटना के जल जमाव” से राहत के लिए एक हेलिकॉप्टर नहीं, “मानव शृंखला” वास्ते 15 हेलिकॉप्टर

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | बिहार सरकार द्वारा किए जा रहे मानव शृंखला के विरोध में आरजेडी ने मुखर विरोध किया है. जहां सदन में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने इसे गरीब राज्य के पैसे को पानी की तरह बहाना कहा है तो वहीं राबड़ी देवी ने कहा कि इससे कुछ हासिल होने वाला नहीं है. आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने भी इस पर हमला बोला. तेजस्वी ने अपने ट्वीट में लिखा कि “याद किजीए विगत वर्ष दो बार बिहार में आयी बाढ़ और भ्रष्टाचार जनित पटना के जल जमाव को. लोग त्राहिमाम कर रहे थे. राहत के लिए एक हेलिकॉप्टर तक नीतीश सरकार के पास नहीं था लेकिन करोड़ों रुपए वाली सरकारी फ़ेयर एंड लवली से सामाजिक और राजनीतिक भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह के दाग़दार चेहरे पर हाई-रेज़लूशन फ़िल्टर लगाकर फ़ेस चमकाने वास्ते 15 हेलिकॉप्टरों में मुंबई से फ़ोटोग्राफ़र बुलाए जा रहे है.सिपाही परीक्षा रद्द की गयी, युवाओं को रोज़गार नहीं, शिक्षकों को वेतन नहीं, नियोजित कर्मियों को उचित मानदेय नहीं लेकिन मानव शृंखला की नौटंकी पर ग़रीब राज्य का पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है. वहीं राबड़ी देवी ने ट्वीट किया – “CM नीतीश जी ने शराबबंदी पर श्रृंखला की थी हमने समर्थन भी किया था. लेकिन क्या उससे शराब बंद हुई? नहीं ना?‬बाल विवाह और दहेज पर भी करोड़ों खर्च कर मानव शृंखला बनाई? क्या हुआ? अब सीएम ने इनका ज़िक्र करना भी छोड़ दिया है. अब एक और श्रृंखला की नौटंकी? क्यों ग़रीबों का हक़ खा रहे है?‬” आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने

Read more

लालू को मिली जमानत, लेकिन अभी नहीं आ पाएंगे बाहर

रांची/पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को शुक्रवार को रांची हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है. देवघर कोषागार मामले में यह जमानत मिली है. इस मामले में लालू द्वारा सजा की आधी अवधि गुजर जाने को आधार बनाकर जमानत याचिका दायर की गई थी. इस पर सुनवाई करते हुए रांची हाईकोर्ट ने लालू यादव को 50-50 हजार के मुचलके पर जमानत दे दी. कोर्ट ने लालू को पासपोर्ट जमा कराने का भी आदेश दिया है. लालू ने 13 जून को झारखंड हाईकाेर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की थी. हालांकि चाईबासा-दुमका कोषागार मामले में लालू को जमानत नहीं मिली है, इसलिए फिलहाल वे जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे. लालू के वकील आज मिली जमानत को आधार बना कर चाईबासा-दुमका कोषागार मामले में अब जमानत के लिये अर्जी दी सकते हैं.

Read more

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद दे सकते हैं किसी पत्रकार को पहली बार तबज्जो

पटना / झंझारपुर (ब्यूरो रिपोर्ट) | 2019 के लोकसभा चुनाव का विगुल फूंका जा चुका है. सभी पार्टियां अपनी जीत का समीकरण बैठाने में लगी हैं. ऐसे में बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में एनडीए प्रत्याशियों का एलान कर दिया गया है. एक सीट को छोड़ 39 उम्मीदवारों की सूची भी जारी कर दी गई है. महागठबंधन ने भी सीट शेयरिंग के तहत सीटों का ऐलान कर दिया है. आरजेडी को 20, कांग्रेस को नौ, मांझी की पार्टी को तीन, कुशवाहा की पार्टी को पांच और वीआईपी को तीन सीटें दी गई हैं. शरद यादव आरजेडी के चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरेंगे. जहां एक तरफ एनडीए ने झंझारपुर लोकसभा सीट जेडीयू को दिया है वहीं महागठबंधन की ओर से यह सीट राजद के खाते में है. जदयू ने यहां से रामप्रीत मंडल को उम्मीदवार बनाया है.रामप्रीत मंडल पहले राजद में थे और अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष थे. सितम्बर 2017 में वे जदूय में शामिल हुए थे. अब देखना है कि जदयू इस फैसले को सही साबित करता है कि नहीं. अपनी छवि को सुधारने की कवायत के तहत राजद अच्छे उम्मीदवारों को मैदान में उतारने में लगा है. इसी कड़ी में, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पहली बार किसी पत्रकार को तबज्जो देते हुए मिथिलांचल के प्रतिष्ठित मिश्रा परिवार में जन्मे तथा प्रसिद्ध पत्रकार राजीव मिश्र को झंझारपुर सीट से उम्मीदवार बना सकते हैं. ये वही राजीव मिश्र हैं जिनके परिवार का झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र से पुराना रिश्ता है. राजीव मिश्र के चाचा पूर्व केंद्रीय रेल

Read more