देख लीजिए अनलॉक 1.0 की खास बातें

अब लॉकडाउन नहीं अनलॉक होगा भारत जी हां अब लॉकडाउन की बजाय अनलॉक 1.0 के बारे में सोचिए और काम पर चलिए. कुछ ऐसा ही संदेश दे रही है केन्द्र सरकार. एक तरफ लॉकडाउन को 30 जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है. दूसरी तरफ बारी-बारी से सभी पाबंदियां खत्म करने की बात कही गई है. हालांकि हर राज्य को अपनी स्थिति देखकर फैसला लेने का अधिकार दिया गया है. बिहार में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए फिलहाल छूट मिलने की गुंजाइश कम है. केन्द्र सरकार की नई गाइडलाइंस के अनुसार आठ जून से धार्मिक स्थलों को खोलने की तैयारी है. लॉकडाउन 5.0 में ग्रीन, रेड और ऑरेंज जोन की कैटेगरी को खत्म करके सिर्फ एक जोन होगा. यह जोन कंटेनमेंट जोन होगा. 8 जून से सभी धार्मिक स्थलों को खोला जा सकेगा. लॉकडाउन 5.0 में मिलेंगी ये रियायतें: – सबसे महत्वपूर्ण ये कि एक जून से आप बिना किसी पास के एक से दूसरे जिला या राज्य आ-जा सकते हैं. फिलहाल स्कूल-कॉलेज नहीं खुलेंगे लेकिन अगले महीने से स्कूल कॉलेज और कोचिंग इंस्टीट्यूट खोले जाएंगे. स्कूल-कॉलेज खोलने का फैसला राज्य सरकारों पर छोड़ा गया है. 8 जून से होटल रेस्टोरेंट मॉल खोलने की इजाजत दी गई है लेकिन ये सोशल डिस्टेंसिंग के सभी मानकों को पूरा करेंगे एक जून से रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा. दुकानों पर सिर्फ 5 लोग एक साथ सामान ले सकेंगे. सिनेमा हॉल, मेट्रो रेल, जिम और स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे. कंटेनमंट जोन के अलावा कोई और

Read more

अब हवाई यात्रा के लिए भी हो जाइए तैयार

रेल यात्रा के बाद अब हवाई यात्रा शुरू करने की तैयारी केंद्रीय नागरिक नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है कि 25 मई से घरेलू हवाई सेवा शुरू की जा रही है. इस बाबत सभी एयरलाइन कंपनियों को जानकारी दे दी गई है और गाइडलाइंस जारी किया जा रहा है. घरेलू विमान सेवा नियंत्रित तरीके से शुरू होगी और इसमें कोरोना संक्रमण के खतरे को लेकर तमाम सावधानियां बरती जाएगी. घरेलू विमान सेवा शुरू करने के लिए लॉक डाउन के नियमों में संशोधन भी केंद्र सरकार की ओर से कर दिया गया है. आपको बता दें कि 12 मई से देश में चुनिंदा ट्रेनों की शुरुआत की गई है जबकि 1 जून से 200 ट्रेनें शुरू करने की घोषणा की गई है. इस बीच, स्टेशनों पर अवस्थित सभी कैटरिंग/वेंडिंग यूनिट तत्काल प्रभाव से खुलेंगे. पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि रेलवे बोर्ड द्वारा स्टेशनों पर जितने भी कैटनिंग यूनिट, बहुउद्देशीय स्टॉल आदि हैं, इन सभी को तत्काल प्रभाव से खोले जाने का निर्णय लिया गया है. इसी कड़ी में पूर्व मध्य रेल के स्टेशनों पर अवस्थित कैटरिंग यूनिट,/वेंडिंग स्टॉल, बहुउद्देशीय स्टॉल, दवा की दुकानें आदि तत्काल प्रभाव से खोले जा रहे हैैं. PNC

Read more

लॉकडाउन 4.0 में बिहार

लॉकडाउन 4.0 में नया क्या है! आखिरकार देश में लॉक डाउन का चौथा चरण लागू हो गया है. 18 मई से 31 मई तक के लिए लॉकडाउन 4.0 लागू किया गया है. 12 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में इतना तो साफ कर दिया था कि लॉक डाउन फोर होगा. उन्होंने यह भी कहा था कि लॉक डाउन 4.0 नए रंग रूप में होगा. इसके बाद लोग अंदाजा लगा रहे थे कि लॉक डाउन 4.0 में छूट मिलेगी. कई दुकानें खुलेंंगी और लोग घर से बाहर निकल पाएंगे. लेकिन फिलहाल ऐसा कुछ भी होता हुआ नहीं दिख रहा है. एक नजर बिहार में लागू प्रमुख बातों पर– √ भीड़ भाड़ संभावित किसी भी जगह या एक्टिविटी पर रोक जारी रहेगी. स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल, मॉल, मंदिर मस्जिद, गुरुद्वारा,चर्च, होटल, रेस्टोरेंट, हवाई यात्रा कोई भी सार्वजनिक आयोजन, सभा, समारोह,कोचिंग आदि पर रोक जारी √ रेलसेवा पर रोक नहीं है, सिर्फ मेट्रो रेल पर रोक है. √ अब आप परमिशन लेकर अपनी गाड़ी से एक राज्य से दूसरे राज्य जा सकते हैं √ रेड जोन,बफर जोन या ऑरेंज जोन घोषित करने का निर्णय राज्य खुद करेंगे √ राज्य आपसी सहमति से बस या अन्य परिवहन सेवा का परिचालन दिशानिर्देशों के मुताबिक कर सकते हैं √ मेडिकल स्टाफ, डॉक्टर, नर्स, एंबुलेंस, पारामेडिकल स्टाफ, सैनिटरी पर्सनल, खाली या भरे गुड्स/कार्गो ट्रक को राज्य के अंदर या बाहर आने-जाने पर कोई रोक नहीं होगी. नई गाइडलाइन्स पर नजर डालने से साफ हो जाता है कि इसमें पिछले लॉक डाउन की तुलना

Read more

लॉकडाउन 4.0 तय, 20 लाख करोड़ के पैकेज का एलान

पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित करते हुए लॉकडाउन 4.0 की घोषणा करते हुए कोरोना से बचते हुए आगे बढ़ने की बात कही है. पीएम ने लॉकडाउन 4.0 का ऐलान करते हुए कहा कि नये नियमों के बारे में 18मई के पहले घोषणा की जाएगी. चौथे लॉकडाउन के लिए नए नियम जारी होंगे. पीएम के संबोधन के बाद ये तय हो गया है कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ेगी. पीएम ने कहा कि कोरोना संकट ने भारत को अवसर में बदल दिया है. पीएम ने कोरोना संकट के जुझने और भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मध्यमवर्ग, श्रमिकों, उद्योग कृषकों के लिए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की.पीएम ने कोरोना संकट का जिक्र करते हुए कहा कि श्रमिकों, मजदूरों ने बहुत कष्ट झेला है. आर्थिक पैकेज में इनके लिए व्यवस्था की गई है. सुनिए क्या बोले प्रधानमंत्री मोदी पीएम ने महात्मा गांधी के कुटीर उद्योग के दर्शन पर आगे बढ़ते हुए कोरोना काल में लोकल सामान, लोकल सप्लाई चेन का जिक्र करते हुए लोकल का उपयोग करने की सलाह दी है. उन्होंने कहा कि लोकल ही एक दिन ब्रांडेड बनता है. उन्होंने कहा कि कोरोना के दंश को हम भारतवासी संभावना में बदल कर विश्व शक्ति बनेंगे. सिवान से हीरेश

Read more

’31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की मांग’

पीएम के साथ वीसी में हुई डिमांड कोरोना वायरस से सुरक्षा एवं बचाव पर आयोजित आज प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार शामिल हुए. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम सेअपने संबोधन में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने में केंद्र, राज्य सरकार के सामूहिक प्रयास की सराहना की. उन्होंने कहा कि इस संकट के समय राज्यों नेे भी अपनी जिम्मेवारी का बेहतर ढंग से निवर्हन किया है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यो, लॉकडाउन के दौरान छट में किये जा रहे रोजगार सजन के कार्यों एवं कोरोना संक्रमण की अद्यतन स्थितिके साथ-साथ तथा भविष्य की रणनीति पर विस्तृत चर्चा की गई. मुख्यमंत्री नीतीश कमार ने अपने संबोधन में सभी लोगों का स्वागत करते हुये कहा कि आज की इस चर्चा में बहुत सारी बातें सामने आयी हैं. उन्होंने कहा कि बिहार के संबंध में हमआप सभी को जानकारी देना चाहते हैं कि देश के अन्य हिस्सों से एवं विदेशों से आने वाले लोगों के कारण बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 700 से ज्यादा हो गयी है. अभी भी लोग बाहर से आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि 4 मई से 10 मई के बीच 1 लाख से ज्यादा लोग आये हैं. उनमें 1,900 लोगों की रैडम टेस्टिंग करायी गयी है, जिसमें 148 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के बाहर दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों, छात्रों जरूरतमंदों को ट्रेनों से लाने की अनुमति देने

Read more

यात्रीगण कृपया ध्यान दें…

12 मई, 2020 से चुनिंदा पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन पुनर्बहाल प्रारंभ में नई दिल्ली से देश के विभिन्न स्टेशनों के लिए चलेंगी 15 स्पेशल ट्रेनें राजेन्द्ररनगर टर्मिनल से नई दिल्ली के लिए प्रतिदिन होगा स्पेशल ट्रेन का परिचालन भारतीय रेलवे द्वारा दिनांक 12 मई, 2020 से धीरे-धीरे यात्री ट्रेनों का परिचालन पुनः शुरू किया जा रहा है . इसकी शुरूआत मंगलवार 12 मई, 2020 को 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों के परिचालन के साथ की जा रही है. पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि ये सभी ट्रेनें नई दिल्ली स्टेशन से स्पेशल ट्रेन के रूप में चलायी जाएंगी जो पटना, डिब्रूगढ़, अगरतल्ला, हावड़ा, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरू, चेन्नई, तिरूवनंतपुरम, मड़गांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मूतवी को जोड़ेंगी । इसके बाद नए मार्गों पर भी स्पेशल ट्रेन चलाई जाएंगी, जो कोविड-19 केयर सेंटर के लिए 20 हजार कोचों को आरक्षित रखने और फंसे हुए प्रवासियों हेतु ‘श्रमिक स्पेशल‘ के रूप में प्रतिदिन 300 तक ट्रेनों का परिचालन सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त संख्या में कोचों को आरक्षित रखने के बाद उपलब्ध कोचों पर निर्भर करेगा . इसी क्रम में पूर्व मध्य रेल द्वारा राजेन्द्रनगर टर्मिनल से नई दिल्ली एवं वापसी के लिए प्रतिदिन एक स्पेशल ट्रेन का परिचालन किया जाएगा . राजेन्द्रनगर टर्मिनल से नई दिल्ली के लिए स्पेशल ट्रेन का परिचालन दिनांक 12 मई से तथा नई दिल्ली से राजेन्द्रनगर टर्मिनल के लिए दिनांक 13 मई, 2020 से अगले आदेश तक के लिए प्रारंभ होने जा रहा है. गाड़ी संख्या 02309 राजेन्द्रनगर टर्मिनल-नई दिल्ली स्पेशल ट्रेन

Read more

12 से शुरू हो रही आपकी छुक-छुक गाड़ी

लॉकडाउन से बाहर आने को तैयार हो जाइये. कम से कम अब तो केन्द्र सरकार की तैयारी ऐसी ही कुछ लग रही है. 12 मई से रेल सेवा शुरू करने की तैयारी कर रही है सरकार. जी हां, रेल सेवा शुरू हो रही है लेकिन सिर्फ दिल्ली से ट्रेन चलेगी और यात्रा देश के 15 महत्वपूर्ण शहरों के लिए होगी. प्रेस इनफॉर्मेशन ब्यूरो(PIB) की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार शुरुआती दौर में रेलवे केवल 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें चलाएगा. ये ट्रेनें दिल्ली से पटना, सिकंदराबाद, चेन्नई, तिरुअनंतपुरम, मुंबई सेन्ट्रल, रांची, भुवनेश्वर, अहमदाबाद, मडगांव, बेंगलुरू, जम्मू तवी, बिलासपुर, डिब्रूगढ़, अगरतला और हावड़ा तक जाएंगी और इन जगहोंं से फिर दिल्ली के लिए. कैसे ले सकते हैं टिकट! 12 मई से शुरू होने वाली इन ट्रेनों के टिकट लेने के लिए आपको सिर्फ रेलवे की ऑनलाइन सेवा के भरोसे रहना पड़ेगा क्योंकि फिलहाल देशभर में कोई भी टिकट काउंटर नहीं खुलने वाला. irctc.co.in की वेबसाइट पर टिकट की फैसिलिटी 11 मई की शाम 4 बजे से शुरू होगी. आने वाले दिनों में रेलवे आवश्यकता के मुताबिक और ट्रेनें चला सकता है. फिलहाल रेलवे की पहली प्राथमिकता प्रवासी मजदूरों को अपने घर तक पहुंचाना है. इसके लिए 300 ट्रेने रिजर्व रखी गई हैं. जबकि 20 हजार रेल कोच को आइसोलेशन वार्ड में बदला गया है कोविड 19 पेशेंट्स के लिए. इन बातों का रखें ध्यान केवल ऑनलाइन टिकट ले सकते हैं दिल्ली से इन जगहों के लिए- पटना, सिकंदराबाद, चेन्नई, तिरुअनंतपुरम, मुंबई सेन्ट्रल, रांची, भुवनेश्वर, अहमदाबाद, मडगांव, बेंगलुरू, जम्मू तवी, बिलासपुर,

Read more

ये ऐतिहासिक रेल ब्रिज क्यों हो गया बंद!

आज दिनांक 10 मई, 2020 से पुराना किऊल ब्रिज बंद हो गया है तथा इसके बदले नया किऊल ब्रिज को रेल परिचालन के लिए चालू कर दिया गया   है . दिनांक 08 मई को नया किऊल ब्रिज पर ट्रायल रन किया गया था जो पूरी तरह सफल रहा . अब ट्रेनों के परिचालन के लिए पूरी तरह फिट पाते हुए नए किऊल ब्रिज पर आज दिनांक 10 मई, 2020 से आधिकारिक रूप से ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया है . इस पुल से किऊल-लखीसराय के बीच अप एवं डाउन दिशा में प्रतिदिन 150 यात्री ट्रेनें तथा मालगाड़ियों का परिचालन किया जाता है . हालांकि 17 मई तक सभी प्रकार की रेल सेवाएं स्थगित हैं, परंतु वर्तमान में इस रेलमार्ग पर चलने वाली मालगाड़ियां और कुछ श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन नए किऊल रेल पुल से किया जाएगा . 17 मई के बाद जब भी ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ होगा तो सभी ट्रेनों की आवाजाही नए रेल पुल से ही होगी . अब नए किऊल ब्रिज से ट्रेनों का संरक्षित परिचालन हो सकेगा . साथ ही ट्रेनों की अधिकतम गतिसीमा में वृद्धि का मार्ग प्रशस्त हो गया है . अब इस पुल से ट्रेनों का परिचालन अधिकतम 110 किलोमीटर प्रतिघंटा तक की गति से किया जा सकेगा . आज दिनांक 10.05.2020 को किउल-लखीसराय ब्रिज होकर स्टाफ स्पेशल गुजरी . इस प्रकार इस ऐतिहासिक पुल से गुजरने वाली यह अंतिम रेल सेवा  बनी . 100 वर्षों से भी अधिक अवधि के दौरान इस पुल से अनगिनत यात्री ट्रेनों और मालगाड़ियों के

Read more

सावधान, परदेसी अपने साथ लेकर आ रहे कोरोना

बिहार में 1 मई से ही हर दिन हजारों की संख्या में परदेसी अपने घर लौट रहे हैं. रेलवे की तरफ से बिहार के बाहर लॉक डाउन में फंसे मजदूरों छात्रों और अन्य लोगों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है. हर दिन 15 से 20 स्पेशल ट्रेनें बिहार आ रही हैं. इन ट्रेनों से बड़ी संख्या में लोग अपने घर वापस लौट रहे हैं और अपने साथ ला रहे हैं वायरस. जी हां, वही जानलेवा वायरस जो सारे फसाद की जड़ बना हुआ है. शनिवार को 49 मामले बिहार में आए हैं कोरोनावायरस संक्रमण के. इनमें से 44 बिहार के बाहर से आए मजदूरों के हैं. यह आंकड़ा बिहार सरकार की तरफ से दिया गया है. इसकी पुष्टि की है स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने. पिछले 2 दिनों में जो नए आंकड़े सामने आए हैं उनसे साबित होता है कि बिहार के बाहर से लौट रहे मजदूर संक्रमण लेकर आ रहे हैं. हालांकि इनमें से ज्यादातर लोगों को कोरेंटाइन किया गया है और वही उनकी जांच की जा रही है. लेकिन ऐसे लोग भी बड़ी संख्या में हैं जो कोरेंटाइन सेंटर से निकल भागे हैं या चोरी-छिपे अपने घर पहुंच गए हैं. ऐसे में सावधानी बहुत जरूरी है. पीएनसी

Read more

‘जमालपुर से लखनऊ शिफ्टिंग की खबर गलत’

IRIMEE को लेकर मचा था बवाल पिछले कुछ दिनों से सियासत का अखाड़ा बने जमालपुर रेल संस्थान को लेकर रेलवे के बयान ने सब कुछ साफ कर दिया है. इंडियन रेलवे इंस्टीट्यूट फॉर मैकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग को लेकर पिछले कुछ दिनों से यह खबरें आ रही थी कि रेलवे जमालपुर के इस प्रतिष्ठित संस्थान को लखनऊ शिफ्ट करने वाला है. इसके लिए 27 अप्रैल के पत्र का हवाला दिया जा रहा था. बिहार में इसे लेकर जमकर सियासत हो रही थी. विपक्ष सरकार पर हमले बोल रहा था और यह पूछ रहा था कि आखिर क्यों मुंगेर के अति प्रतिष्ठित संस्थान को लखनऊ से किया जा रहा है. भारतीय रेलवे ने जमालपुर रेल संस्थान को लेकर ट्वीट करके और प्रेस रिलीज जारी करके यह सफाई दी है कि इस तरह की खबरें पूरी तरह भ्रामक और गलत हैंं. रेलवे की इस संस्थान को कहीं भी शिफ्ट करने की कोई योजना नहीं है. बल्कि इस संस्थान के जरिए कई नए कोर्स संचालित करने की रेलवे की योजना है. पीएनसी

Read more