दरबान बना ‘गेट’.. क्या लुभायेगा पर्यटकों को ?

रेत के महल सी ढेर होती फिल्मी विरासत और बेपरवाह सरकार सूचना और प्रसारण मंत्रालय के निजी पहल से बच सकती है फिल्मी विरासत Patna now Special Report मुंबई, 8 सितंबर. अपने कई फिल्मों के लिए इतराने वाला आर. के स्टूडियो का गेट, यादों की दरबान बन खुद ही अपनी पहचान का इस्तकबाल करेगा. जी हाँ चौकिये मत वही आर. के स्टूडियो जिसके नाम मात्र से कई सदाबहार फिल्मों के नाम जुबां पर आ जाते थे. स्व. राजकपूर साहब के रचनात्मक कार्यों का गवाह आज अपने अस्तित्व पर आँसू बहा रहा है. कपूर खानदान के वरिसो ने इसे गोदरेज को बेच दिया है जिसके बाद यहाँ कंस्ट्रक्शन चालू होगा लेकिन गोदरेज ने पिछले महीने घोषणा की, कि स्टूडियो का गेट अपने पूर्ववत रहेगा जो आने वाले पर्यटकों को लुभायेगा. आलम यह रहा कि गणपति उत्सव में गणपति जो स्टूडियो में सदियों से धूमधाम से मनाई जाती थी इसबार वह भी नदारथ रहा. आर के स्टूडियो में होली भी यादगार मनती थी लेकिन अब सब ये यादे रह जाएंगी भविष्य में सुनाने को. आर के स्टूडियो पर यादों के सफर से वर्तमान तक के हश्र पर वरिष्ठ पत्रकार अजय ब्रह्मात्मज जी की कलम से लिखी गयी संवेदात्मक आलेख को हम आपके लिए यहां लेकर आये हैं…. दो साल पहले 16 सितंबर 2017 को आरके स्टूडियो में भयंकर आग लगी थी. इस घटना के बाद कपूर खानदान के वारिसों में तय किया कि वे इसे बेच देंगे. इसे संभालना, संरक्षित करना या चालू रखने की बात हमेशा के लिए समाप्त हो गई. आग लगने के दिन तक

Read more

जहां विघ्नहर्ता हरते हैं विघ्न

जहाँ सिर्फ फूलों से सजा है गणपति का मंदिर फूलों से पटा सिद्धिविनायक मंदिर, विघ्नहर्ता के द्वार पहुँचे लाखो लोग मुंबई, 2 सितंबर. देश मे आज से गणेश चतुर्थी की पूजा प्रारम्भ हो गयी है जिसे पूरे धूमधाम से मनाया जा रहा है. देवताओं में विघ्नहर्ता के नाम से जाने जाने वाले भगवान गणेश की पूजा सभी देवाताओं की पूजा से पहले की जाती है और इसकी भव्यता महाराष्ट्र में अलग ही दिखती है. हर घर मे भगवान गणपति की पूजा अर्चना की जाती है. लेकिन सिद्धिविनायक मंदिर में गणपति का दर्शन अलग ही महत्व रखता है. मुंबई के प्रभादेवी इलाके में स्थित इस मंदिर की स्थापना 1801 में हुई थी. इस मंदिर को एक मशहूर बिल्डर ने बनवाया था. इस मंदिर में ऐसी मान्यता है कि भक्तों की मनोकामना पूरी होती है. मंगलवार के दिन खास भीड़ होती है. लोग अपने घरों से खाली पैर मनोकामना पूर्ण होने के बाद यहाँ आते अक्सर दिखते हैं. गणेश चतुर्थी के अवसर पर मंदिर को बड़े ही भव्य रूप में सजाया गया है. सूर्यमुखी,डहेलिया,ट्यूलिप, गुलाब और गेंदा के फूलों से मंदिर का हर कोना अपने अनोखे रउआ से आनेवाले लोगों को आकर्षित कर रहा है. मंदिर के भीतरी मंडप का एरिया हो या पिलर या दिवाल सभी फूलों से सजकर तैयार हैं. दर्शन के लिए भले सुबह से भरी भीड़ सुबह की आरती के लिए इक्कठी दिखी. वैसे तो आम दिनों में भी यहाँ देश विदेश से श्रद्धालुओ का तांता लगा रहता है लेकिन गणेश चतुर्थी के वक्त दस दिनों तक भीड़

Read more

भाजपा का शिष्टमंडल चीन यात्रा पर, सांसद महेश पोद्दार भी हैं शामिल

दक्षिण अफ्रीका के बाद चीन यात्रा के लिए भाजपा ने महेश पोद्दार पर जताया भरोसाआर्थिक, सांस्कृतिक, सांगठनिक मुद्दों पर दोनों देशों के बीच गहन विमर्श रांची (ब्यूरो रिपोर्ट) | चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के आमंत्रण पर भारतीय जनता पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह के नेतृत्व में चीन पहुंचा है. भारतीय प्रतिनिधिमंडल में झारखंड से राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार सहित 5 सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, श्रीमती रक्षा खडसे, सुरेश पुजारी तथा शिवकुमार उदासी शामिल हैं. इसके अलावा पार्टी पदाधिकारी विजय चौथाईवाले, संजय टंडन, गोपाल अग्रवाल, नलिन कोहली, अशोक गोयल एवं सुश्री नीतू डबास भी इस प्रतिनिधिमंडल में शामिल हैं. भाजपा का यह प्रतिनिधिमंडल चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं से मिलेगा. अपने अपने देशों में सत्ताधारी दोनों दल सांगठनिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक एवं आर्थिक विषयों पर विचारों का आदान – प्रदान करेंगे. इसी वर्ष चीन के राष्ट्रपति जी जिनपिंग की प्रस्तावित भारत यात्रा को देखते हुए भाजपा के इस प्रतिनिधिमंडल की चीन यात्रा को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.रविवार को चीन की राजधानी बीजिंग पहुंचकर भाजपा के शिष्टमंडल ने फोर्बिडन सिटी का भ्रमण किया और चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिश्री के साथ उनके आवास पर रात्रिभोज बैठक की. सोमवार को भारतीय शिष्टमंडल की चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के दल के साथ नेबरहुड पार्टी टॉक के तहत “आउटलुक फॉर इंडियन इकॉनोमी एंड प्रोस्पेक्टस फॉर चाइना – इंडिया कोऑपरेशन” विषय पर सार्थक विमर्श हुआ. भारतीय शिष्टमंडल ने “चीन की दीवार” (ग्रेट वाल ऑफ़ चाइना) का भ्रमण भी किया. भाजपा के इस

Read more

अद्भुत जलमंदिर महोत्सव का दूसरा दिन…

जल मंदिर महोत्सव के दूसरे दिन निकली भव्य कलश यात्रा 108 महिलाओं ने उठाया दिव्य कलश आरा,24 अगस्त. त्रिदिवसीय भगवान महावीर स्वामी जल मंदिर जीणोद्धार महोत्सव के दूसरे दिन शनिवार को प्रातःकाल जिनेन्द्र देव की भक्तिभाव से पंचामृत अभिषेक, पूजन एवं शांतिधारा हुई जिसमें शांतिधारा करने का सौभाग्य सीमा-मनोज जैन एवं प्रभा-राकेन्द्र चन्द्र जैन को प्राप्त हुआ. विधान में जैन धर्म के सभी 24 तीर्थंकरों के माता-पिता, यक्ष-यक्षिणी, क्षेत्रपाल के गुणों का स्मरण करते हुये श्रीफल सहित अर्ध्य समर्पित किया गया. संगीतकार संतोष जैन के सु-मधुर संगीत एवं प्रतिष्ठाचार्य पं० नरेश कुमार जैन ‘शास्त्री’ के विशेष मंत्रोच्चार से इंद्र-इन्द्राणी झूम उठे तथा उन्होने भाव नृत्य किया. विधान के बाद मंत्रोच्चारित पवित्र जल को लेकर भव्य कलश यात्रा निकाली गई,जिसमे108 जैन महिलाओं ने भाग लिया. कलश यात्रा श्री चन्द्रप्रभु दिगम्बर जैन मंदिर, जेल रोड से निकलकर शिवगंज स्थित श्री 1008 भगवान महावीर स्वामी जल मंदिर पहुँची जहाँ महिलाओं ने जीणोद्धार द्वारा निर्मित नवीन वेदियों का शुद्धि, पवित्र जल एवं विशेष मन्त्रो द्वारा किया. साथ ही यक्ष-यक्षिणी की नवीन प्रतिमाओं का संस्कार आरोपण एवं क्षेत्रपाल जी का शुद्धिकरण हुआ. कार्यक्रम की समाप्ति पर साधर्मी वात्सल्य की व्यवस्था थी जिसे भक्तों ने प्रसाद स्वरूप ग्रहण किये. सायंकालीन कार्यक्रम में महाआरती, भजन, शास्त्र प्रवचन, प्रश्नमंच, एवं संस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित था. जिसमें महाआरती करने का सौभाग्य आकृति जैन एवं अखण्ड जैन को प्राप्त हुआ. कार्यक्रम में समिति के डॉ शशांक जैन, विजय जैन, अजय जैन, डॉ राकेन्द्र चन्द्र जैन, मीडिया प्रभारी निलेश कुमार जैन, धीरेन्द्र चन्द्र जैन, बिभु जैन, राजेश जैन, भावेश जैन, सर्वेश जैन,

Read more

अपराधियों पर कोर्ट की सख्ती, 1 को फांसी और 7 को उम्रकैद

जस्टिस : कोर्ट बम ब्लास्ट आरा फांसी, उम्रकैद के साथा किया फाइन भी आरा,21 अगस्त. आरा सिविल कोर्ट के अंदर बम ब्लास्ट मामले में साढ़े 4 साल बाद सिविल कोर्ट ने 8 दोषियों के खिलाफ सजा के बिंदु पर सुनवाई करते हुए बड़ी सजा का ऐलान किया. कोर्ट बम ब्लास्ट के मास्टर माइंड लंबू शर्मा को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है,जबकि इस कांड में संलिप्त कुख्यात चांद मियां नईम मियां प्रमोद सिंह समेत 7 दोषियों को आजीवन कारावास व अलग-अलग सेक्शन में आर्थिक दंड की भी सजा मुकर्रर की है. सजा का ऐलान आरा सिविल कोर्ट एडीजे-3 त्रिभुवन यादव की कोर्ट ने सुनाया है. इस दौरान फैसला सुनने के लिए सिविल कोर्ट कैंपस के अंदर लोगों की भारी भीड़ जुटी हुई थी, जिसको लेकर भोजपुर पुलिस प्रशासन ने कोर्ट कैंपस में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया था. कोर्ट बम ब्लास्ट कांड के सभी 8 दोषियों की सजा के बाद अपर लोक अभियोजक प्रशांत रंजन ने बताया कि 23 जनवरी 2015 को आरा सिविल कोर्ट के अंदर बम ब्लास्ट मामले में कुल 8 दोषी करार दिए गए थे, जिन पर मंगलवार को एडीजे-3 त्रिभुवन यादव की कोर्ट ने सजा के बिंदु पर आज अपना फैसला सुनाया है. कोर्ट ने कोर्ट में हुए बम ब्लास्ट का मुख्य दोषी लंबू शर्मा को माना है जिसको फांसी की सजा सुनाई गई है. जबकि कुख्यात चांद मियां नईम मियां प्रमोद सिंह समेत 7 दोषियों को आजीवन कारावास व आर्थिक दंड की सजा सुनाई गई है. इस कांड में कुल 11 लोगों को आरोपी

Read more

नहीं रहे बिहार के पूर्व CM जगन्नाथ मिश्रा | मुख्यमंत्री ने जताया शोक

पटना, 19 अगस्त. लंबे समय से बीमार चल रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का आज दिल्ली में निधन हो गया. वे 82 वर्ष के थे. वे बिहार के तीन बार मुख्यमंत्री रहे. अपने राजनीतिक जीवन मे पहली बार 1975 में मुख्यमंत्री बने और अप्रैल 1977 तक रहे. उसके बाद 1980 में उन्होंने तीन साल के लिए मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली. फिर 1989 में तीन महीने के लिए सीएम रहे. उनपर चारा घोटाले का भी दाग रहा जिसकी वजह से कई महीने उन्हें जेल में बितानी पड़ी. जगन्नाथ मिश्रा लंबे समय तक कांग्रेस में रहे. भाई एलएन मिश्रा की हत्या के बाद 80 के दशक में वह राजनीति के केंद्र में आए थे. उनका पुत्र नीतीश मिश्रा अब भारतीय जनता पार्टी में शामिल है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताया शोकडॉ मिश्रा के निधन पर नीतीश कुमार ने गहरा शोक व्यक्त किया है. मुख्यमंत्री ने अपने शोक-संदेश में कहा है कि डाॅ जगन्नाथ मिश्रा एक प्रख्यात राजनेता एव शिक्षाविद् थे. बिहार के साथ-साथ देश की राजनीति में उनका बहुमूल्य योगदान रहा है. उनके निधन से न केवल बिहार बल्कि पूरे देश की राजनीतिक, सामाजिक एव शिक्षा के क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है. मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर-शान्ति तथा उनके परिजनों एव प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है. डाॅ जगन्नाथ मिश्रा के निधन पर राज्य में तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की गयी है. उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ

Read more

जनसंघ ने केंद्र सरकार का क्यों किया अभिनन्दन ?

जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को न्याय देने के लिए केन्द्र सरकार का अभिनन्दन- जनसंघ आरा, 5 अगस्त. जिस जम्मू कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाने के लिए कोलकाता से जम्मू तक पैदल यात्रा जनसंघ के संस्थापक स्वर्गीय श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने की थी और जिस यात्रा के बाद वहां पहुंचते ही उन्हें नजरबंद कर दिया गया था. कहते हैं कि उस नजरबंद से छूटने के बाद कुछ ही दिनों बाद उनकी मौत भी हो गयी थी. आज उस जम्मू-कश्मीर में धारा 370 के हटाने के ऐलान के साथ ही उनके सपने साकार हो गए. उनके सपने को साकार करने के लिए जनसंघ ने केंद्र सरकार को अभिनन्दन किया है. अखिल भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य भारतभूषण पाण्डेय ने जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाख के नागरिकों को न्याय देने के लिए केन्द्र सरकार का अभिनन्दन किया है. उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद ३७०के भेदभाव और राष्ट्रघाती प्रावधानों तथा अनुच्छेद ३५अ के नागरिकता विभेदकारी उपबंधों को निरस्त करने के लिए भारत सरकार विशेषकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का जनसंघ हृदय से अभिनंदन करता है. आज से ६६वर्ष पूर्व जनसंघ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने जो संघर्ष किया तथा श्रीनगर जेल में अपना बलिदान किया वह आज सार्थक होता दिख रहा है. जनसंघ संस्थापक प्रो. बलराज मधोक ने कश्मीर समस्या का जो समाधान सुझाया था और जनसंघ कार्यसमिति ने उसे पारित किया था उसकी भावना के अनुरूप दृढ़ कदम उठाने के लिए भारत सरकार बधाई की पात्र है. कश्मीर घाटी, जम्मू और लद्दाख के नागरिकों के लिए

Read more

कौन है संविधान का हत्यारा, और किसने कहा सोमवार को काला दिन

BJP संविधान का हत्यारा-गुलाम नबी आजाद आज़ाद भारत के लिए आज का दिन “काला दिन”- HAM पटना, 5 अगस्त. धारा 370 संशोधन विधेयक पर तरह तरह की प्रतिक्रियाये मिल रही हैं. जहाँ आम जनता में खुशी की लहर है वही विपक्षियों के चेहरे गुस्से से लाल है. राजनीति से जुड़े विपक्षियों में खासा नाराजगी है इस विधेयक को लेकर. कोई आज के दिन को ही काला दिवस घोषित कर रहा है तो कोई बीजेपी को कानून का हत्यारा.  राज्यसभा में गुलाम नबी आजाद ने कहा कि अनुच्छेद 370 के तहत ही जम्मू कश्मीर को भारत के साथ जोड़ा गया था और इसके पीछे लाखों लोगों ने कुर्बानियां दी है. उन्होंने कहा कि हजारों नेताओं ने अपने नेता और कार्यकर्ता खो दिए हैं. आजाद ने कहा कि 1947 से हजारों आम नागरिकों की जान गई हैं. जम्मू कश्मीर को भारत के साथ रखने के लिए हजारों बलिदान हुए हैं. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख के लोग हर हालत में भारत के साथ खड़े रहे. आजाद ने कहा कि यह ऐतिहासिक दिन है और यह कोई आम बात नहीं है. उन्होंने कहा कि मैं इस कानून का कड़े शब्दों में विरोध करता हूं और हम भारत के संविधान की रक्षा के लिए अपनी जान की बाजी लगा देंगे लेकिन हम उस एक्ट का विरोध करते हैं जो हिन्दुस्तान के संविधान को जलाते हैं. बीजेपी ने इसी संविधान की हत्या की है. वही इस विधेयक पर हिन्दूस्तानी आवाम मोर्चा के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि आज़ाद भारत के लिए आज

Read more

70 सालों बाद मिली आजादी…अब हुआ एक भारत

राज्यसभा में जोरदार हंगामे के साथ हुआ मोदी सरकार का सबसे बड़ा फैसला. मोदी सरकार ने हटाई जम्मू-कश्मीर से धारा 370, दो टुकड़ों में बंटा राज्य, जम्मू-कश्मीर अब केंद्र शासित प्रदेश, लद्दाख अलग नई दिल्ली. 5 अगस्त. आजादी के बाद भी भारत मे जम्मू-काश्मीर स्वतंत्र राज्य के रूप में रह भारत की एकता को हमेशा मुँह चिढ़ाता था. जसको लेकर पड़ोसी देश से हमेशा तीखी नोक-झोंक होती रहती थी. लेकिन आजाती के 70 सालों बाद सरकार के एक अहम फैसले ने इसे स्वतंत्र भारत की आबोहवा में इसे भी स्वतंत्रता दे असली जिंदगी दी है. जम्मू-कश्मीर पर भारत सरकार का जबरदस्त एक्शन प्लान आज भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में धारा 370 को लेकर संकल्प पेश किया. साथ ही साथ जम्मू कश्मीर में 10% आरक्षण संशोधन बिल भी पेश किया. बिल पेश करने से पहले राष्ट्रपति ने इस बिल को मंजूरी दे दी थी. गृह मंत्री अमित शाह ने संकल्प पेश करते हुए कहा की 370 के एक खंड को छोड़कर बाकी सभी खंड को समाप्त कर दिया गया है. अब जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया जाएगा. यही नहीं जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग राज्य बनाया जाएगा इससे साफ जाहिर हो गया कि मोदी राज में कश्मीर की एक अलग नीति बन गई है. संकल्प पेश करने के दौरान विपक्षी पार्टियों ने राज्यसभा में जबरदस्त हंगामा किया. लद्दाख को किया जम्मू कश्मीर से अलग जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश का मिला दर्जा क्या मिशन कश्मीर पर अब चलेगी मोदी नीति! आजादी के 70 साल

Read more

17 जुलाई को इस दौरान रहेगा आंशिक चन्द्रग्रहण

17 जुलाई को होने वाला आंशिक चन्द्रग्रहण भारत में देखा जा सकेगा. चन्द्रग्रहण भारतीय समयानुसार 1 बजकर 31 मिनट से शुरू होगा और 4 बजकर 30 मिनट पर खत्म हो जाएगा. इस अवधि में चन्द्रमा पर पृथ्वी की छाया धीरे-धीरे बढ़ती जाएगी और सबसे ज्यादा आंशिक चन्द्रग्रहण 3 बजकर 1 मिनट पर देखा जा सकेगा. इस दौरान चन्द्रमा का आधे से थोड़ा ज्यादा हिस्सा पृथ्वी की छाया से पूरी तरह ढंक जाएगा. केन्द्र सरकार के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय से उपलब्ध जानकारी के मुताबिक अरुणाचल प्रदेश के सुदूर उत्तर-पूर्वी हिस्से को छोड़कर भारत के अन्य सभी स्थानों से पर आंशिक चन्द्रग्रहण देखा जा सकेगा. इसे ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका तथा दक्षिणी अमेरिका के ज्यादातर हिस्सों, सुदूर उत्तरी स्केंडिनेविया को छोड़कर पूरे यूरोप तथा पूर्वोत्तर को छोड़कर समूचे एशिया में भी देखा जा सकेगा. आंशिक चन्द्रग्रहण 2 घंटा 59 मिनट तक रहेगा।

Read more