तिरुपति मंदिर के पास 2.26 लाख करोड़ की संपत्ति

ट्रस्ट ने कहा- 10.3 टन सोना और 16 हजार करोड़ रुपए बैंकों में जमा 2019 के बाद से सोना और नकद में हुई वृद्धि तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम ने पहली बार मंदिर की कुल संपत्ति की घोषणा की है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शनिवार को श्वेत पत्र जारी किया गया है, जिसमें बताया गया कि मंदिर का करीब 5,300 करोड़ का 10.3 टन सोना और 15,938 करोड़ नकद राष्ट्रीयकृत बैंकों में जमा है. मंदिर की कुल संपत्ति 2.26 लाख करोड़ की है. ट्रस्ट के कार्यकारी अधिकारी एवी धर्म रेड्डी ने बताया है कि वर्तमान ट्रस्ट बोर्ड ने 2019 से अपने इन्वेस्टमेंट गाइडलाइंस को मजबूत किया है. 2019 में कई बैंकों में 13,025 करोड़ नकद था, जो बढ़कर 15,938 करोड़ हो गया है. पिछले तीन सालों की इन्वेस्टमेंट में 2,900 करोड़ की वृद्धि हुई है. वहीं ट्रस्ट के शेयर किए गए बैंक-वाइस इन्वेस्टमेंट में 2019 में मंदिर के पास 7339.74 टन सोना जमा था, जो पिछले तीन सालों में 2.9 टन जोड़ा बड़ गया.  कुछ सोशल मीडिया रिपोर्ट्स को गलत बताया, जिसमें दावे किए जा रहे थे कि ट्रस्ट के चेयरमैन और बोर्ड ने फंड आंध्र प्रदेश सरकार की सिक्योरिटीज पर इन्वेस्ट किया है. मंदिर प्रशासन  ने कहा कि ऐसा नहीं किया गया, बल्कि बचे हुए फंड को शेड्युल्ड बैंकों में इन्वेस्ट किया जाता है. PNCDESK

Read more

रिलायंस बनेगा देश का सबसे बड़ा मल्टी ब्रांड हलवाई

        50 हजार करोड़ के मिठाई बाजार पर नजर •             इस दिवाली छोटे हलवाईयों की हो रही बंपर सेल, रिलायंस रिटेल बना पार्टनर •             चॉकलेट की तरह बिकेगी मिठाई, सिंगल-सर्व पैक लाएगा रिलायंस रिटेल •             बिक्री बढ़ाने को स्टोर्स में लगाए स्पेशल डिस्पले रैक  मिठाई के शौकिनों के लिए खुशखबरी, अब रिलायंस रिटेल स्टोर्स पर देश के 50 से भी अधिक प्रसिद्ध हलवाईयों की मिठाईयां मिलनी शुरू हो गई हैं. भारतीय परांपरिक पैक्ड मिठाई बाजार लगभग 4,500 करोड़ रुपये का है और अगले कुछ वर्षों में इसके 13 हजार करोड़ रु हो जाने का अनुमान है. जबकि अंसगठित मिठाई बाजार करीब 50 हजार करोड़ का माना जाता है. इस हिसाब से संगठित मिठाई बाजार में कमाई का बहुत बड़ा मौका है, जिसे रिलायंस चूकना नही चाहता. पारंपरिक हलवाईयों की दुकानों पर भीड़ तो बहुत लगती थी पर देश के मिठाई बाजार तक उनकी पहुंच नही थी. ऊपर से नकली मावा और शुद्धता से जुड़ी नेगेटिव खबरों ने हलवाईयों की कमर तोड़ दी थी. रिलायंस रिटेल के साथ मिलकर  ये प्रसिद्ध और पारंपरिक हलवाई अब क्षेत्रीय बाजारों से निकल कर अपनी विशिष्ट मिठाईयों के जरिए देश भर के ग्राहकों का स्वाद बढ़ा रहे हैं. सदाबहार डिब्बाबंद रसगुल्लों और गुलाब जामुन का जमाना तो हमेशा रहेगा पर उसके साथ हलवाई अब पैक्ड मिठाई के साथ भी कई नए प्रयोग कर रहे हैं. अजमेर के चव्वनीलाल हलवाई की कहानी भी देश के मशहूर लेकिन सीमित बाजार में काम करने वाले हजारों हलावाईयों जैसी ही थी. दुकान के बाहर सुबह से ही खरीददारों की

Read more

दिवाली छठ से पहले ही मिलेगा राज्यकर्मियों को वेतन

दिवाली और छठ महापर्व को देखते हुए बिहार में राज्य कर्मियों को 20 तारीख से राज्य कर्मियों को वेतन भुगतान करने का फैसला लिया है. वित्त मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात करके वित्त विभाग ने लिया फैसला लिया है. इस महीने समय से दस दिन पहले दिया राज्य कर्मियों को जाएगा. वित्त मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि त्योहारों को देखते हुए ये फैसला लिया गया है. दो साल से कोरोना की वजह से सही तरीके से त्योहार नहीं मनाया जा रहा था. pncb

Read more

पीएम नरेंद्र मोदी ने 75 डिजिटल बैंकिंग यूनिट्स किया लांच

बैंकिंग सेवाओं में पारदर्शिता लाना और इसका लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना लक्ष्य ग्राहकों की समस्या का होगा समाधान DBUs से वित्तीय साक्षरता को मिलेगा बढ़ावा बैंकिंग सुविधाओं को देश के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के उद्देश्य से आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 75 डिजिटल बैंकिंग यूनिट्स को लांच किया. डिजिटल बैंकिंग यूनिट्स लॉन्च करते हुए उन्होंने कहा कि हमारा संकल्प बैंकिंग सेवाओं में पारदर्शिता लाना और इसका लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना है. आज प्रति एक लाख वयस्क आबादी पर बैंक की शाखाओं की संख्या भारत में जर्मनी, चीन और साउथ अफ्रीका से अधिक हो गई हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि डिजिटल बैंकिंग यूनिट्स आम लोगों की जिंदगी को आसान बनाएंगी. यह खास तरह की बैंकिग सुविधा कम से कम डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर में अधिक से अधिक लोगों को लाभ पहुंचाएगी. डीबीयू की स्थापना करने के पीछे सरकार का लक्ष्य देश के कोने-कोने में डिजिटल बैंकिंग के लाभ को पहुंचाना है. इस योजना में देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कवर किया जाएगा. सरकार के इस प्रयास में 11 सरकारी बैंक, 12 निजी बैंक और एक स्माल फाइनेंस बैंक भाग ले रहे हैं. प्रधानमंत्री ऑफिस की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक, डिजिटल बैंकिंग यूनिट्स के आउटलेट्स में लोग बचत खाता खोलने, अकाउंट बैलेंस चेक करने, पासबुक प्रिंट करने, फंड ट्रांसफर, एफडी खुलवाना, लोन के लिए आवेदन, क्रेडिट और डेबिट कार्ड के लिए आवदेन, बिल का भुगतान और नामांकन जैसी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं. पीएमओ की ओर से

Read more

त्योहारी सीजन से पहले आरबीआई  ने फिर दिया ईएमआई पर झटका

50 बेसिस प्वाइंट बढ़ाया रेपो रेट 01 अक्टूबर से लागू हो रहा है नया नियम चौथी बार हुआ इजाफा रेपो रेट में 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी की घोषणा की है. महंगाई पर काबू पाने के लिए केंद्रीय बैंक लगातार रेपो रेट में इजाफा कर रहा है. बीते महीने पांच अगस्त को भी RBI ने रेपो रेट में 0.50 फीसदी का इजाफा किया था. भारतीय रिजर्व बैंक की मॉनीटरी पॉलिसी कमेटी की बैठक आज खत्म हो गई. रिजर्व बैंक के गर्वनर शक्तिकांत दास ने बैठक में लिए गए फैसलों के बारे में जानकारी दी और उन्होंने रेपो रेट में बढ़ोतरी का ऐलान किया है. शक्तिकांत दास ने रेपो रेट में 50 बेसिस प्वाइंट बढ़ाने की घोषणा की है. इस तरह रेपो रेट में 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. महंगाई पर काबू पाने के लिए केंद्रीय बैंक लगातार रेपो रेट में इजाफा कर रहा है. बीते महीने पांच अगस्त को भी भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 0.50 फीसदी का इजाफा किया था. आज हुई बढ़ोतरी के मिलाकर केंद्रीय बैंक मई के बाद से रेपो रेट अब तक चार बार इजाफा कर चुका है. इस वजह से रेपो रेट अब 5.90 फीसदी पर पहुंच गया है. इससे पहले यह 5.40 पर था. शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी और रूस-यूक्रेन युद्ध के झटके के बाद एक और तूफान वैश्विक केंद्रीय बैंकों द्वारा आक्रामक मौद्रिक नीतियों से उत्पन्न हुआ है. दुनियाभर के सेंट्रल बैंकों ने महंगाई पर काबू पाने के लिए ब्याज दरों में इजाफा किया है. अमेरिकी फेड

Read more

आकाश अंबानी ‘Time100 Next’ लिस्ट में शामिल

मात्र 22 वर्ष की उम्र में ही उन्होंने जियो के बोर्ड में जगह पा ली, जो एक महत्वपूर्ण उपलब्धि : टाइम मैगजीन दुनिया के उभरते सितारों की इस लिस्ट में अकेले भारतीय हैं आकाश अंबानी लीडर्स कैटेगरी में चुने गए आकाश टाइम मैगजीन ने जाने माने उद्योगपति मुकेश अंबानी के बड़े बेटे और रिलायंस जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी को टाइम100 नेक्स्ट लिस्ट में जगह दी है. उन्हें लीडर्स कैटेगरी में चुना गया है. आकाश अंबानी के बारे में टाइम मैगजीन का कहना है कि “वे बिजनेस बढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं. उन्होंने Google और Facebook के साथ अरबों डॉलर की निवेश डील पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.“ आकाश अंबानी टाइम100 नेक्स्ट लिस्ट में शुमार होने वाले अकेले भारतीय हैं. दुनिया के उभरते सितारे आकाश अंबानी के बारे टाइम मैगजीन की राय है कि मात्र 22 वर्ष की उम्र में ही आकाश अंबानी को जियो के बोर्ड में जगह मिल गई थी. और इसी वर्ष जून में उन्हें, भारत की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी जियो की कमान सौंप दी गई. 42 करोड़ 60 लाख ग्राहकों वाली रिलायंस जियो को संभालने की जिम्मेदारी अब चेयरमैन आकाश अंबानी के कंधों पर है.  रिलायंस जियो का 5जी रोलआउट आकाश अंबानी की निगरानी में हो रहा है. कंपनी की योजना दीवाली तक दिल्ली, मुंबई सहित कुछ अन्य मैट्रों में 5जी लॉन्च करने की है. अकेली जियो ही है जिसने 700 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बैंड खरीदा है और यह अकेला स्पेक्ट्रम बैंड है जिस पर स्टैंड-अलोन 5जी नेटवर्क यानी True 5G

Read more

9.21 लाख करोड़ रुपये गायब, कहीं आपके घर में तो नहीं पड़ा

500 और 2000 के 1680 करोड़ नोटों का आरबीआई के पास हिसाब नहीं नए 500 और 2000 के नोटों में अब 9.21 लाख करोड़ गायब 2016 की नोटबंदी के समय केंद्र सरकार को उम्मीद थी कि भ्रष्टाचारियों के घरों के गद्दों-तकियों में भरकर रखा कम से कम 3-4 लाख करोड़ रुपए का काला धन बाहर आ जाएगा. पूरी कवायद में काला धन तो 1.3 लाख करोड़ ही बाहर आया…मगर नोटबंदी के समय जारी नए 500 और 2000 के नोटों में अब 9.21 लाख करोड़ गायब जरूर हो गए हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की 2016-17 से लेकर ताजा 2021-22 तक की एनुअल रिपोर्ट्स बताती हैं कि आरबीआई  ने 2016 से लेकर अब तक 500 और 2000 के कुल 6849 करोड़ करंसी नोट छापे थे उनमें से 1680 करोड़ से ज्यादा करंसी नोट सर्कुलेशन से गायब हैं. इन गायब नोटों की वैल्यू 9.21 लाख करोड़ रुपए है. इन गायब नोटों में वो नोट शामिल नहीं हैं जिन्हें खराब हो जाने के बाद आरबीआई ने नष्ट कर दिया. आरबीआई  2019-20 से 2000 के नए नोट नहीं छाप रहा है. जबकि 500 के नोटों की छपाई 2016 के मुकाबले 76% बढ़ गई है. आरबीआई  ने कभी भी आधिकारिक तौर पर यह स्वीकार नहीं किया है कि सर्कुलेशन से नोटों के गायब होने की वजह क्या है. मगर जानकार मानते हैं कि इसका सबसे बड़ा कारण लोगों का करंसी जमा करके रखना है. जरूरी नहीं कि यह पूरी रकम ही काला धन हो, लेकिन यह बैंकिंग सिस्टम से बाहर जरूर है. PNCDESK

Read more

अगर आपने ये काम नहीं किया तो आपका डेबिट और क्रेडिट कार्ड…

1 अक्टूबर से बदल जाएगा पेमेंट का नियम क्रेडिट और डेबिट कार्ड होल्डर्स ध्यान दें, कार्ड-ऑन-फाइल टोकनाइजेशन जरुरी कार्ड की जानकारी को यूनिक वैकल्पिक कोड में बदल दिया जाएगा साइबर सुरक्षा को देखते हुए आरबीआई ने लिया फैसला देशभर में बढ़े रहे साइबर ठगी के मामलों पर शिकंजा कसने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक  अगले महीने से अहम बदलाव करने जा रहा है. दरअसल, आरबीआई क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड इस्तेमाल करने वालों के लिए 1 अक्टूबर से कार्ड-ऑन-फाइल टोकनाइजेशन नियम ला रहा है. आरबीआई के मुताबिक, इस नियम के लागू होने के बाद कार्डहोल्डर्स को ज्यादा सुविधाएं और सुरक्षा मिलेगी. टोकनाइजेशन की सुविधा अगले महीने 1 अक्टूबर से लागू कर दी जाएगी. ऐसे में आरबीआई ने सभी क्रेडिट और डेबिट कार्ड डेटा ऑनलाइन, पॉइंट-ऑफ-सेल और इन ऐप से होने वाले लेन-देन को एक ही में मर्ज कर एक यूनिक टोकन जारी करने को कहा है. टोकनाइजेशन क्या है? जब आप लेन-देन के लिए अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड का उपयोग करते हैं, तो लेन-देन 16-अंक के कार्ड नंबर, एक्सपायरी डेट, सीवीवी के साथ-साथ वन-टाइम पासवर्ड या ट्रांज़ैक्शन पिन जैसी जानकारी पर आधारित होता है. जब इन सभी जानकारी को सही से डाला जाता है तभी लेनदेन सफल होता है. टोकनाइजेशन वास्तविक कार्ड विवरण को “टोकन” नामक एक यूनिक वैकल्पिक कोड में बदलेगा. यह टोकन कार्ड, टोकन अनुरोधकर्ता और डिवाइस के आधार पर हमेशा यूनिक होगा. क्या कार्ड टोकनाइजेशन सुरक्षित है? जब कार्ड के विवरण एन्क्रिप्टेड तरीके से स्टोर किए जाते हैं, तो धोखाधड़ी का जोखिम बहुत कम हो जाता

Read more

कहीं आपके हाथ में तो नहीं है 2000 के नकली नोट!

संसद में दी गई जानकारी ,107 गुना बढ़ गये 2000 के नकली नोट 2019 और 2020 के बीच, 2,000 रुपये मूल्यवर्ग के नकली नोटों में 170 प्रतिशत की वृद्धि नोटबंदी के बाद भी जाली नोटों का बाजार लगातार बढ़ रहा है. साल 2016 से 2020 के बीच 2,000 रुपये के नकली नोटों की संख्या में 107 गुना की भारी वृद्धि हुई है. वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने आज लोकसभा में एक लिखित जवाब में कहा कि वर्ष 2016 में 2,000 रुपये के 2272 नोट जब्त किए गए थे, जबकि 2020 में 2,44,834 नोट जब्त किए गए. साल 2018 को छोड़कर हर वर्ष यह आंकड़ा बढ़ा है. वर्ष 2019 और 2020 के बीच, 2,000 रुपये मूल्यवर्ग के नकली नोटों में 170 प्रतिशत की वृद्धि हुई. बैंकिंग प्रणाली में नकली नोटों का पता लगाने की संख्या में कमी आई है. वित्त राज्य मंत्री ने कहा, ‘बैंकिंग प्रणाली में पाए गए ऐसे नोटों की संख्या 2018-19 से 2020-21 के दौरान कम हुई. साल 2021-22 में यह संख्या 13,604 थी, जो 2,000 के बैंक नोटों की कुल सर्कुलेशन संख्या का 0.000635 प्रतिशत है.’ मंत्री ने कहा कि नकली करेंसी नोटों का प्रचलन रोकने के लिए सरकार ने गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 लागू किया है, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का गठन किया और राज्यों तथा केंद्र की एजेंसियों के बीच खुफिया जानकारियां साझा करने के लिए एफआईसीएन कोऑर्डिनेशन ग्रुप (एफकोर्ड) गठित किया है. टेरर फंडिंग और नकली करेंसी मामलों की जांच के लिए एनआईए में एक विशेष सेल भी बनाया गया है. उन्होंने

Read more

गौतम अडानी बने दुनिया के चौथे अमीर आदमी

फोर्ब्स की रियल टाइम बिलिनेयर्स की लिस्ट एशिया के सबसे अमीर आदमी हैं अडानी मुकेश अंबानी 10वें स्थान पर अडानी ग्रुप के मुखिया गौतम अडानी दौलत की रेस में एक पायदान और ऊपर आ गए हैं. गौतम अडानी ने दुनिया के चौथे सबसे अमीर शख्स बिल गेट्स को पछाड़ते हुए उनकी जगह ले ली है. फोर्ब्स की रियल टाइम बिलिनेयर्स की लिस्ट आई है जिसके अनुसार, अडानी के पास अब 115.5 अरब डॉलर की दौलत हो गई है. सबसे बड़ी बात की अडानी की दौलत में आई तेजी ने सबको हैरान कर दिया है, 2.9 अरब डॉलर की संपत्ति से अडानी आज 115 अरब डॉलर की संपत्ति तक देखते ही देखते पहुंच गए. गौतम अडानी के दुनिया के चौथे अमीर आदमी बनने के पीछे दो प्रमुख कारण हैं. पहला कारण है उनके शेयरों में लगातार होने वाली तेजी और दूसरा कारण है, माइक्रोसॉफ्ट के बिल गेट्स द्वारा 20 अरब डॉलर का दान. दरअसल बिल गेट्स ने अपनी संपत्ति में से 20 अरब डॉलर अपने गैर-लाभकारी संगठन ‘बिल एंड मेलिंडा गेट्स’ को दान करने की घोषणा की है, जिसके बाद से ही दुनिया के तमाम अरबपतियों की लिस्ट में फेरबदल हुई है. फोर्ब्स की इस लिस्ट में मुकेश  अंबानी के नाम की तलाश करें तो वह 10वें नंबर पर मिलेंगे. मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति 87.7 अरब डॉलर है. अडानी ग्रुप इस वक्त इंफ्रास्ट्रक्चर, कमॉडिटी, बिजली उत्पादन और बिजली ट्रांसमिशन के साथ-साथ रियल स्टेट बिजनेस में अपना लोहा मनवा रहा है. फोर्ब्स की लिस्ट में पहले, दूसरे और तीसरे नंबर के

Read more