ये कैसी डॉक्यूमेंट्री, जिसके लिए दर्शको से भरा सिनेमा हॉल !

साधनापूत का हुआ प्रीमियर,अमेरिका से देखने आये दर्शक आरा, 7 जनवरी. भोजपुरी फिल्मों में फुहड़ता के चलते आ रही लगातार गिरावटों ने जहाँ थियेटर से दर्शको का मोह भंग कर दिया है, वैसे में छोटी फिल्मो, डॉक्यूमेंट्री फिल्मों और कुछ स्थानीय सार्थक फ़िल्म निर्माण करने वाले शख्सियतों के बदौलत सिनेमाघरों में पुरानी रौनक लौटती दिखाई पड़ रही है. जी हाँ ये चौकाने वाला तथ्य जरूर है लेकिन वास्तविकता है. पटना नाउ की खास रिपोर्ट हम बात कर रहे हैं सोमवार को स्थानीय मोहन सिनेमा हॉल में रिलीज की गई फ़िल्म “साधनापूत” की, जिसके प्रीमियम शो में सिनेमाघर दर्शकों से ठसाठस भरा दिखा और दर्शकों ने शानदार लुत्फ उठा फ़िल्म निर्माण से जुड़े लोगों को बधाई दी. बताते चलें कि इस तरह की प्रीमियम शो की शुरुआत अम्बा ने पिछले साल 16 सितम्बर को “ह्यूमन बम” नामक लघु फ़िल्म से मोहन सिनेमा हॉल, आरा से ही की थी. दर्शकों की भारी भीड़ अम्बा की छवि,सत्यकाम आनंद और ओ पी पांडेय जैसे चर्चित नामो की बदौलत इक्कठी हुई थी. फ़िल्म देखने के बाद दर्शको का फ़िल्म मेकरों पर विश्वास और बढ़ा और इस तरह के प्रयोगों में जब “साधनापूत” की खबर दर्शकों तक पहुँची तो हॉल में दर्शकों के बैठने की जगह काम पड़ गयी. स्थानीय मोहन सिनेमा हॉल में सोमवार को भोजपुर के पुरोधा कहे जाने वाले प्रो.डॉ यू एस पांडेय की 84वीं वर्षगाँठ पर भोजपुर दर्शन द्वारा निर्मित साधनापूत फ़िल्म का प्रीमियर किया गया. यह फ़िल्म प्रो.डॉ यू एस पांडेय की जिंदगी पर बनी एक डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म थी. फ़िल्म के

Read more

7 खाद्य पदार्थ जो एक्सपायर नहीं होते !

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | हमारे आस-पास कई खाद्य पदार्थ हैं जो कुछ घंटों के बाद बासी या ख़राब हो जाते हैं, लेकिन कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ भी हैं जो इस्तेमाल नहीं होने पर भी हमेशा या बहुत दिनों तक के लिए अच्छा रह सकते हैं या उन्हें फ्रीज या डिहाइड्रेट कर रखा जा सकता है. ऐसे ही हमारे आस-पास 7 खाद्य पदार्थ ऐसे हैं जो जल्द खराब नहीं होते हैं या कभी खराब नहीं होते. आइये जानते हैं वे कौन कौन से खाद्य पदार्थ हैं – 1. सफेद चावल : ऐसे कई शोधकर्ता हैं जिन्होंने पाया है कि पॉलिश किये हुए या सफेद चावल को 40 डिग्री फ़ारेनहाइट से कम तापमान वाले ऑक्सीजन मुक्त कंटेनरों में संग्रहीत कर लगभग 30 वर्षों तक इसके पोषक तत्व और स्वाद को बनाए रखा जा सकता है. वही दूसरी ओर ब्राउन राइस, जो चोकर की परत में प्राकृतिक तेलों की उपलब्धता के कारण छह महीने से अधिक ठीक नहीं रह पाता है. 2. शहद (हनी) : हनी यानि मधु यानि शहद अधिमानतः एकमात्र भोजन है जो एक परिपूर्ण रसायन है और मधुमक्खियों की करतूत के कारण हमेशा के लिए खराब नहीं होता। जब मधुमक्खियां फूलों पर बैठती हैं तो फूलों से निकाला गया पराग मधुमक्खियों के शरीर में मौजूद एंजाइमों के साथ मिल जाता है जो पराग की संरचना को बदल देता है. पराग आगे चलकर सरल शर्करा में टूट जाता है और मधुमक्खियों के छत्ते में जमा हो जाता है. शहद बनाने का प्रोसेस तथा शहद की सीलिंग, मुख्य रूप से शहद के

Read more

भोजपुरी महोत्सव में अश्लीलता के सवाल पर बवाल, कार्यक्रम कैंसिल

खेसारीलाल का प्रोग्राम आरा में हुआ रद्द भोजपुर जिला प्रशासन का अश्लीलता के खिलाफ कड़ा एक्शन आरा, 30 दिसम्बर. शहर के रमना मैदान में स्थित वीर कुंवर सिंह स्टेडियम में 31 दिसम्बर को भोजपुरी का एक कार्यक्रम होना तय था. भोजपुरी महोत्सव के नाम से आयोजित इस कार्यक्रम में गीत और नृत्य का कार्यक्रम होने वाला था जिसमे भोजपुरी के अश्लीलता का सिरमौर बन चुके खेसारी लाल यादव,काजल राघवानी, और यश मिश्रा समेत कई कलाकार इस कार्यक्रम में अपना जलवा बिखेरने वाले थे. कार्यक्रम की जानकारी पोस्टर के माध्यम से पिछले कई दिनों से प्रचारित की जा रही थी. कार्यक्रम आरा की H B इवेंट कम्पनी द्वारा आयोजित थी. कार्यक्रम के नाम ‘भोजपुरी महोत्सव’ को लेकर लोगों में बहस छिड़ी थी कि भोजपुरी महोत्सव में खेसारी लाल जैसे अश्लील गायक को बुला कर आयोजक कौन सा जिले का नाम बढ़ाने वाले हैं. इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्टर के साथ विवाद छिड़ गया था. आयोजकों का दावा था कि भले ही गायक कोई आये पर अश्लील प्रस्तुति नही होगी. लेकिन अश्लीलता के खिलाफ अग्रणी भूमिका निभाने वाले भोजपुर जिला वासियों ने ऐसे आयोजन के खिलाफ जिला प्रशासन से ऐसे आयोजन को रद्द करने की गुहार लगाई. जिला प्रशासन से इस कार्यक्रम को रद्द करने के लिए दिए गए आवेदन में संगठनों ने कार्यक्रम होने की स्थिति में इसका पुरजोर विरोध करने की चेतावनी भी दी थी. फिर क्या था जिला प्रशासन ने आयोजन में आने वाले कलाकारों के विगत हाल-फिलहाल की कुंडली निकाली और यह पाया कि इनके

Read more

शाहजहाँपुर रंग महोत्सव का शानदार आगाज

पहले दिन ही प्रस्तुत 4 नाटकों और 7 नृत्यों ने दर्शको का दिल मोहा शाहजहाँपुर,17 दिसम्बर. पांचवे शाहजहांपुर रंग महोत्सव का शुभारंभ रविवार को शानदार रंग उत्सव के प्रदर्शन से हुआ. कार्यक्रम की शुरुआत संध्या लगभग 6:00 बजे हुई जिसमें देश के कई भागों भागों से पहुंचे कलाकारों ने हिस्सा लिया. दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया. शास्त्रीय नृत्य से कार्यक्रम की शुरुआत हुई. उसके बाद 7 नृत्य और 4 नाटकों की प्रदर्शन की गई, जिसकी प्रस्तुति शानदार रही. कार्यक्रम में कांगड़ा से उत्तम कुमार,मध्य प्रदेश के द्वारिका दहिया,रविंद्र जी, ललिता कुंजू, किरण कश्यप निर्णायक के रूप में पहुंचे हैं जो नाटक और नृत्य का निर्णय करेंगे. निर्णायक मंडल में पहुंचे लोग राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय और शास्त्रीय नृत्य के चर्चित नाम है. नाटक की शुरुआत दिल्ली से आई टीम ने “अत्याचारी औरत” नाटक से की. वहीं मानसी गुरुकुल आर्ट, शाहजहांपुर ने “इंकलाब जिंदाबाद” की प्रस्तुति से काकोरी-कांड की शहादत में शामिल लोगों की जीवनी को जीवंत प्रस्तुति की. तीसरे नंबर पर आरा बिहार से पहुंचे संस्कार कला आश्रम की प्रस्तुति “तेतू” ने मनोशारीरिक शैली में अपने नाटक से दर्शकों पर अपना विशेष प्रभाव छोड़ा. आखरी और चौथे नंबर पर प्रस्तुत नाटक “अरे शरीफ लोग” ने प्रेक्षागृह में उपस्थित दर्शकों हंसा-हंसा कर लोटने पर मजबूर कर दिया. इस नाटक की प्रस्तुति राजस्थान की अलवर से आई टीम ने की. शाहजहांपुर से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट

Read more

मिस बिहार 2018 का ऑडिशन शुरू | ‘बेटी बचाओ – दहेज हटाओ’ है इसका थीम

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | रविवार 16 दिसंबर को ब्‍यू‍टी पीजेंट मिस बिहार 2018 का ऑडिशन पटना में होटल गार्गी ग्रैंड में शुरू हुआ. ऑडिशन के पहले दिन बिहार के विभिन्‍न जिलों से आयीं कंटेस्‍टेंट का जलवा कारपेट पर देखने को मिला. इस दौरान सभी परिचय, डांस, आईक्‍यू टेस्‍ट से ज्‍यूरी मेंबर को रिझाती नजर आयीं. ओसियन विजन द्वारा ‘बेटी बचाओ – बेटी पढ़ाओ – दहेज हटाओ’ अभियान’ के तहत आयोजित मिस बिहार 2018 के ऑडिशन में आज 110 कंटेस्‍टेंट ने हिस्‍सा लिया, जबकि इस बार मिस बिहार के लिए 900 कंटेस्‍टेंट ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन कराया है. ऑडिशन सोमवार को भी जारी रहेगा. ये जानकारी ओसियन विजन के डायरेक्‍टर प्रवीण सिन्‍हा ने दी. उन्‍होंने बताया कि मिस बिहार 2018 के ऑडिशन राउंड में ज्‍यूरी मेंबर में मिस मिस बिहार 2017 सान्‍या राज, फर्स्‍ट रनर अप मिस बिहार 2017 रूपाली, फैशन कोरियोग्राफर मनीष चंदेश, डांस कोरियोग्राफर अनिल राज और फैशन डिजाइनर आशीष अग्रवाल हैं, जिन्‍होंने ऑडिशन में सभी कंटेस्‍टेंट से खूबसूरती, कम्यूनिकेशन स्किल, आई क्यू, पर्सनालिटी के पैमाने पर कई सवाल पूछे. प्रवीण ने बताया कि मिस बिहार 2018, मिस बिहार का यह 12वां सीजन है, जहां बिहार की बेटियां अपने टाइलेंट का जलवा बिखेर रही हैं. ऑडिशन के पहले दिन मुकाबला नेक टू नेक देखने को मिल रहा है. उन्‍होंने बताया कि रूफ फाउंडर इस इवेंट को सोशल सपोर्ट दे रहा है और स्‍पांउसर अन्‍नू अनांद कंस्‍ट्रक्‍शन है. मिस बिहार 2018 का फिनाले दिसंबर के अंतिम सप्‍ताह में संभावित है, जिसमें मिस इंडिया, मिस बिहार 2017 के अलावा बॉलीवुड और फैशन इंडस्‍ट्री

Read more

“बेबी शो प्रोग्राम” का आयोजन; थिरके बच्चे और उनके पेरेंट्स

पटना (निखिल के डी वर्मा की रिपोर्ट) | अल्पना मार्केट, पाटलिपुत्रा के समीप स्थित एएच आईवीएफ सेंटर में बेबी शो प्रोग्राम हुआ। पटना सेंटर पर यह तीसरी बार आयोजित किया गया. ज्ञातव्य है डॉ० जयाश्री भट्टाचार्य के नेतृत्व में 27 जुलाई 2003 से पटना में एएच आईवीएफ सेंटर का सञ्चालन किया जा रहा है. यहां आईवीएफ ट्रीटमेंट किया जाता है. इन 15 वर्षों में डॉ.भट्टाचार्य के इस सेंटर से सैकड़ों नि:संतान दंपतियों को संतान सुख की प्राप्ति हुई है. डॉ०भट्टाचार्य ने इंग्लैंड में 20 साल तक स्त्री रोग विशेषज्ञ के रूप में काम किया है. वे डॉक्टरों के उस टीम की भी सदस्य रही है जिसके प्रयास से विश्व में सर्वप्रथम 1978 में कैंब्रिज, ब्रिटैन में प्रथम टेस्ट ट्यूब बेबी का जन्म हुआ था. उस प्रथम टेस्ट ट्यूब बेबी का नाम लोईस ब्राउन था. कुछ दिनों पहले लोईस ब्राउन ने भी नार्मल डिलीवरी से एक स्वस्थ बेबी को जन्म दिया है. रविवार को एएच आईवीएफ सेंटर, पटना में बच्चों और उनके परेंस्ट ने जमकर मस्ती की. डांस ट्रूप ने भी फ़िल्मी गानों पर डांस से उपस्थित लोगों एवं बच्चों को थिरकने पर मजबूर कर दिया. इस अवसर पर सेंटर द्वारा बच्चों को आकर्षक खिलौने भी दिए गए. प्रोग्राम की शुरुआत गणेश वंदना से हुई जिसे डांस ट्रूप ने प्रस्तुत किया. उसके बाद फिल्मी धुनों पर पेरेंट्स के साथ बच्चों ने भी धमाल मचाया. इस अवसर पर सेंटर की ओर से फोटो सेशन, रक्तदान एवं उपस्थित बच्चों की मुफ्त जांच हुई. एएच आईवीएफ सेंटर के इस प्रोग्राम में पटना नगर की मेयर

Read more

तो क्या दीपिका हो जाएगी परायी ?

पटना (पटना नाउ डेस्क) । बॉलीवुड की धड़कन दीपिका पादुकोण जल्द ही शादी करने वाली है. क्यों चौक गए? चौंकिए मत! यह परफेक्ट खबर है. अगले महीने 14 नवंबर को करोड़ों दिलों पर राज करने वाली दीपिका पादुकोण अपनी शादी रचाने वाली है. अब आप यह सोच रहे होंगे कि बॉलीवुड के इस शहजादी के दिल का शहजादा कौन होगा? चलिए आपको यह भी बता दें कि उनके दिल का शहजादा कोई और नहीं बल्कि कई फिल्मों में उनके साथ काम कर चुके उम्दा कलाकार रणबीर सिंह है. 14 और 15 नवंबर को दोनों एक सूत्र में बंध अपने नए जीवन की पारी की शुरुआत करें लेकिन अभी यह तय नहीं हुआ है कि यह शादी कहां होगी. आप पढ़ते रहिए हमारी खबरें क्योंकि हम जल्दी नए अपडेट से भी रूबरू कराएंगे.

Read more

इस नवरात्रि रहेगी सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम : संस्कृति विभाग और जिला प्रशासन की पहल

युवा ,कला एवं संस्कृति विभाग, बिहार तथा जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में स्थानीय नागरी प्रचारिणी सभागार, आरा मे 12 अक्टूबर से 14 अक्टूबर तक दुर्गा पूजा के अवसर पर भोजपुर जिला के प्रतिभावान कलाकारों के लिए विभिन्न विधाओं मे प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है. इसके अंतर्गत लोक गायन, लोक नृत्य, शास्त्रीय संगीत, शास्त्रीय नृत्य, नाटक आदि विधाओं में प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा तथा योग्य एवं अनुभवी प्रतिभागी कलाकारों का चयन किया जाएगा. इस आयोजन को सफल बनाने हेतु अपर समाहर्ता भोजपुर श्री सुरेंद्र प्रसाद जिला जनसंपर्क पदाधिकारी प्रमोद कुमार, वरीय उप समाहर्ता श्रीमती अरूणा  कुमारी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी माध्यमिक शिक्षा श्री राघवेंद्र सिंह की कमेटी का गठन किया गया है. इसके लिए अपर समाहर्ता की अध्यक्षता में एक बैठक का आयोजन किया गया तथा कार्यक्रम को भव्य एवं आकर्षक बनाने हेतु रणनीति तैयार की गई. इसके लिए सभी अनुमंडल पदाधिकारी को 3 दिनों के अंदर उत्कृष्ट कलाकारों की सूची जिला सामान्य शाखा में उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है. साथ ही जिला शिक्षा पदाधिकारी को स्वतंत्र निष्पक्ष योग्य एवं अनुभवी कलाकारों की एक निर्णायक मंडल के गठन का निर्देश दिया गया है ताकि विभिन्न विधाओं में योग्य कलाकारों का चयन किया जा सके. जिला जनसंपर्क पदाधिकारी को इस आयोजन का बृहद प्रचार-प्रसार करने का निर्देश दिया गया है. इस कार्यक्रम का आयोजन कला संस्कृति एवं युवा विभाग बिहार तथा जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में किया गया है. कार्यक्रम स्थल पर ध्वनि विस्तारक यंत,प्रकाश, प्रतिभागियों के लिए प्रमाण पत्र, निर्णायक समिति के सदस्यों को मानदेय आदि

Read more

“छोटी फ़िल्म” के लिए ‘बड़ी भीड़’ से गुलजार हुआ सिनेमा हॉल

अम्बा की फ़िल्म ने जगाई उम्मीद की एक किरण पटना से आरा तक लोगों की एक ही डिमांड ” फ़िल्म लंबी बने”…. आरा 17सितंबर. आमतौर पर सिनेमा हॉल में दर्शकों की भीड़ इन दिनों ना के बराबर होती है इसका एक मात्र कारण होता है भोजपुरी के अश्लील एवं फूहड़ फिल्मों का हॉल में प्रदर्शन लेकिन रविवार को दोपहर 3:00 बजे के शो में दर्शकों की संख्या जब बढ़ी तो लोगों के बीच यह चर्चा का विषय बन गया. मौका था अंबा द्वारा बनाई गई लघु फिल्म human bomb का मोहन सिनेमा में प्रदर्शन. अंबा ने शहरवासियों को खुले तौर पर अखबार, टेलीविजन और सोशल मीडिया के माध्यम फिल्म देखने के लिए आमंत्रित किया था. अम्बा के कार्यो से प्रभावित और उसके प्रशंसको की भीड़ परिवार के संग हॉल में फ़िल्म देखने उपस्थित हुई और फ़िल्म देखने के बाद लोगों का कॉमेंट मिला- छोटी फ़िल्म नही बड़ी फिल्म चाहिए…बधाई पूरी टीम को… फ़िल्म की स्क्रीनिंग भोजपुर वासियों के लिए नि:शुल्क किया गया. पहली बार किसी शॉर्ट फिल्म की स्क्रीनिंग बड़े पर्दे पर पर आरा जैसे शहर में की गई. पटकथा व निर्देशन बॉलीवुड अभिनेता सत्यकाम आनंद की है. सत्यकाम की यह पहली निर्देशित फिल्म है. फिल्म संवेदनशील मुद्दे पर बनी हुई है जो बताती है की धर्म ग्रंथों को पहचानना टेढ़ी खीर है लेकिन जो मां हमें बताती है धर्म ग्रंथों के बारे में, वही सच्ची होती है क्योंकि मां कभी भी गलत बता ही नहीं सकती. फिल्म में सत्यकाम खुद ही अभिनय करते हुए दिखे,जिन्हें देखकर दर्शक उत्साह से

Read more

कैलाश खेर आ रहे हैं पटना

आगामी 6 अक्‍टूबर को राजधानी पटना स्थित बापू सभागार में ग्रामीण स्‍नेह फाउंडेशन द्वारा कैंसर पीडि़तों की मदद के लिए पद्मश्री कैलाश खेर का एक म्‍यूजिकल कंसर्ट आयोजित किया जा रहा है. इस कंसर्ट का मकसद कैंसर मरीजों के लिए फंड जमा करना है. यही वजह है कि इस कंसर्ट का नाम फंड राइजिंग कंसर्ट रखा गया है. इसलिए लोगों से अपील है कि कैंसर पीडि़तों की मदद के लिए आगे आयें। उक्‍त बातें पटना के बीआईए हॉल में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन में ग्रामीण स्नेह फाउण्डेशन के सचिव सह आईएएस अधिकारी गंगा कुमार ने दी. उन्‍होंने कहा कि इस कंसर्ट द्वारा इकट्ठा होने वाले फंड की आधी राशि कैंसर मरीजों के दवा में खर्च की जानी है और आधी राशि से कैंसर जागरुकता अभियान के तहत बिहार ग्रामीण क्षेत्रों में मेडिकल कैम्प लगाने में की जायेगी. गंगा कुमार ने कहा कि हमने इस कंसर्ट के लिए डोनेशन सिस्‍टम बनाया है. कैंसर के प्रति समाज में जागरूकता लाने के लिए कार्यरत ग्रामीण स्‍नेह फाउंडेशन का प्रयास है कि कंसर्ट से ज्‍यादा से ज्‍यादा फंड इकठ्ठा हो सके, ताकि कैंसर पीडि़त मरीजों की मदद की जा  सके. इसलिए डोनेशन की मिनिमम राशि 600 और 1000 रूपए रखी गई है. लेकिन कैंसर के मरीजों के लिए अगर कोई ज्‍यादा भी मदद करना चाहते हैं, तो हम उनका स्‍वागत करेंगे. उन्‍होंने कहा कि कई ऐसे लोगों हैं, जो खुलकर इसमें मदद देंगे. ग्रामीण स्‍नेह फाउंडेशन अपने कैंसर जागरूकता के अलावा कई सामाजिक कार्य में अग्रणीय भूमिका निभाता है.

Read more