अपने बड़बोलेपन पर ट्रोल हुए BJP सांसद

पटना,12 फरवरी. दिल्ली विधानसभा के चुनाव नतीजों के बाद केजरीवाल की पार्टी से पटखनी खाये BJP की हार के बाद दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बुरा हाल है. चुनाव से पहले 48 सीट लाने का दावा करने वाले और अपने ट्वीट को सेव कर रखने के लिए जनता से कहने वाले सांसद व दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी को ट्वीटर पर जनता ने ट्रोल कर दिया है. पहले से ही जीत का दम्भ भरने वाले अपने अनुमानित सीटों की एक चौथाई सीट लाने में नाकाम BJP अध्यक्ष को अपने बड़बोलेपन के कारण मुंह की खानी पड़ी है. फेसबुक से लेकर ट्वीटर और वाट्सएप पर लोग मनोज तिवारी के ट्वीट को साझा कर मजे ले रहे हैं. मजेदार बात यह है कि जिस अध्यक्ष ने 48 सीटों को पाने का दावा किया था उन्होंने कल aap की जीत के बाद ट्वीटर पर आप और केजरीवाल को बधाई दी है. प्रेसिडेंट अवार्ड विनर निर्देशक नितिन चन्द्रा ने भी ट्वीट को साझा कर लिखा है कि औकात से ज्यादा बोलने वालों के लिए यह एक सीख है. बताते चलें मनोज तिवारी पिछले 6 सालों से भोजपुरी को 8वी अनुसूची में शामिल होने का दावा करते आ रहे हैं लेकिन पिछले 6 सालों से उनका एक साल पूरा नही हुआ है. भोजपुरी को 8वी अनुसूचि में शामिल करना तो दूर इसे स्कूल के पाठ्यक्रमों में शामिल नही किया है जबकि दिल्ली में मात्र 14 प्रतिशत बिहारियों के लिए केजरीवाल सरकार ने स्कूलों में भोजपुरी को ऐच्छिक विषय के रूप में लागू कर दिया

Read more

पटना डुबोने वालों पर गिरी गाज

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | गत वर्ष बरसात में पटना लगभग डूब गया था. इसका कारण आकाश से आए वर्षा का पानी नहीं बल्कि पटना से पानी निकालने वाले सभी स्रोतों का फेल होना था. पटना के जल जमाव के बाद इसके लिए एक जांच समिति गठित की गई थी. इस समिति की रिपोर्ट के बाद 27 अधिकारियों पर गाज गिरी है. इस बावत नगर विकास विभाग के सचिव आनंद किशोर ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. सचिव ने बताया कि गाज गिरने वाले अधिकारियों में बुडको के तत्कालीन प्रबंध निदेशक (एमडी) और आईएएस अधिकारी अमरेन्द्र प्रसाद सिंह भी शामिल हैं. पटना नगर निगम के तत्कालीन आयुक्त अनुपम कुमार सुमन (आईआरएस सेवा) के खिलाफ कार्रवाई के लिए केन्द्र सरकार से अनुशंसा की जाएगी. जल जमाव के लिए दोषी 14 अभियंताओं को भी निलंबित कर विभागीय कार्यवाही की जाएगी. वहीं संविदा पर तैनात 7 अभियंताओं को कार्युमक्त करने का निर्णय लिया गया है. बुडको एमडी अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने ढिलई कीनगर विकास विभाग के सचिव आनंद किशोर ने सोमवार को बताया कि जल जमाव के बाद गठित जांच समिति की रिपोर्ट और इसपर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अनुमोदन के बाद यह कार्रवाई की गई है. जिन अधिकारियों पर कार्रवाई हुई है उनके खिलाफ गंभीर आरोप हैं. बुडको के तत्कालीन एमडी पर संप हाउस की व्यवस्था की मॉनिटरिंग और संचालन की व्यवस्था की समीक्षा नहीं की गई. रख-रखाव और मरम्मति कार्य का अनुश्रवण भी नहीं किया गया.पहले से बरसात के मौसम को लेकर कोई प्लान नहीं थातत्कालीन नगर आयुक्त और वर्तमान में

Read more

डॉ प्रभात रंजन डायग्नोस्टिक एंड रिसर्च सेंटर ने शुरू किया फ्रेंचाइजी चेन

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | डॉ प्रभात रंजन डायग्नोस्टिक एंड रिसर्च सेंटर पैथोलॉजी सर्विस के क्षेत्र में एक जाना माना नाम है. जिसके पास है अत्याधुनिक तकनीक एवं मशीन से लैस अपना पैथोलॉजी लैब. जहां 24×7 ट्रेंड लैब टेक्निशियन बेहद कम समय में खून या दूसरे जांच सैंपल का परीक्षण कर तैयार करते हैं एक विश्वसनीय जांच रिपोर्ट. पहले मरीजों के खून या दूसरे सैंपल जांच के लिए राज्य के बाहर भेजना पड़ता था. लेकिन डॉ प्रभात रंजन डायग्नोस्टिक एंड रिसर्च सेंटर ने इस समस्या को हमेशा के लिए खत्म कर बिहार में विश्वस्तरीय पैथॉलोजी सेवाएं उपलब्ध कराई हैं. अब यह जांच एक छत के नीचे आसानी से कम खर्च और कम समय में हो जा रही है. यह बिहार के मरीजों के लिए एक बड़ी सुविधा है. पहले इस तरह के जटिल जांच के लिए मरीजों को या तो बिहार से बाहर जाना पड़ता था या फिर उन लैब्स पर निर्भर रहना पड़ता था जो जांच के लिए मरीजों के सैंपल्स को बिहार के बाहर भेजते थे. इसका प्रतिकूल असर मरीज पर पड़ता था. रिपोर्ट मिलने में देरी होने के कारण सही समय पर इलाज शुरू नहीं हो पाता था. जिससे कई बार बिमारी गंभीर हो जाती थी या फिर कई मामलों में मरीज की आकस्मिक मौत तक हो जाती थी. हमारे संस्थान ने बिहार में कैंसर जैसे गंभीर बीमारियों के जांच सही समय पर कम खर्च में प्रदान कर मानव सेवा की दिशा में एक अहम पहल की है. अब यह लैब अपनी सेवाओं का दायरा बढ़ाने की दिशा

Read more

सरकार झुकी, समझौते के बाद सफाईकर्मियों की हड़ताल हुई खत्म

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | पिछले 6 दिनों से विरोध पर बैठे नगर निगम के सफाईकर्मियों ने शनिवार को अपनी हड़ताल तोड़ दी है. सरकार से बात करने के बाद समझौता होने से यह हड़ताल खत्म करने की घोषणा हुई. 4300 दैनिक सफाईकर्मियों पर आउटसोर्सिंग का नियम लागू नहीं करने पर सहमति बनी रहेगी तथा पहले की तरह नियमतिकरण की प्रक्रिया जारी रहेगा. इंटक अध्यक्ष चंद्रप्रकाश ने यह बताया कि आउटसोर्सिंग पर रखे गए कर्मियों को न्यूनतम मजदूरी के अलावा ईपीएफ (एंप्लोई प्रोविडेंटर फंड) और कर्मचारी बीमा सख्ती से लागू किया जाएगा. इसके लिए एक सप्ताह में विशेष समिति का गठन किया जाएगा. सरकार के फैसले के विरोध में प्रदर्शन पर बैठे सफाईकर्मियों से बातचीत में यह तय हुआ कि हड़ताल अवधि के दौरान दंडात्मक कार्रवाई वापस ली जाएगी. हड़ताल अवधि में वेतन की कटौती भी नहीं की जाएगी. समझौते के बिन्दु निम्न हैं –

Read more

चार लाख लोग करेंगे अनिश्चितकालीन हड़ताल …..

4 लाख नियोजित शिक्षक जाएंगे 17 फरवरी से हड़ताल पर पटना, 28 जनवरी. बिहार के करीब 400000 नियोजित शिक्षक 17 फरवरी 2020 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे. सोमवार को बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति की आम बैठक में एक प्रस्ताव पारित किया गया कि आगामी 17 फरवरी से बिहार के सभी शिक्षक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे. साथ ही साथ 11 सदस्य कोर कमेटी का भी गठन किया गया है जिसने ब्रजनंदन शर्मा, प्रदीप कुमार पप्पू, पूरण कुमार, आनंद कौशल सिंह, बंशीधर बृजवासी, राजू सिंह, शिवेंद्र पाठक ,मार्कंडेय पाठक ,चौधरी ,किशोर कुमार और प्रदीप राय है यह कोर कमेटी किसी भी प्रकार की वार्ता ने सभी कोर कमेटी के सदस्य एक साथ बैठक करेंगे. कोर कमिटी ने यह लिया निर्णय: 1 – कोई भी पत्रकार कोर कमेटी के हस्ताक्षर से होगा. 2 – किसी भी प्रकार के वार्ता में कोर कमेटी के सभी सदस्य एक साथ जाएंगे, कोई भी संगठन अलग-अलग नहीं जाएगा. 3 – कोई भी निर्णय अध्यक्ष मंडल के सहमति से लिया जाएगा. समन्वय समिति के सभी संगठन के सदस्य अध्यक्ष मंडल के सदस्य होंगे. 4 – कोई भी व्यक्ति अध्यक्ष पद का इस्तेमाल नहीं करेंगे किसी भी एकल हस्ताक्षर से ज्ञापन पत्राचार और बयान नहीं दिया जाएगा. 5 – शब्रजनंदन शर्मा पूर्ववत संयोजक के पद पर रहेंगे. 6 – सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि दिनांक 17 फरवरी 2020 दिन सोमवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल किया जाए।हड़ताल अवधि में शिक्षक परीक्षा मूल्यांकन, बीएलओ, जनगणना आदि कोई भी काम नहीं करेंगे. 7 – किसी भी संगठन के पद

Read more

आज मेडिकल साइंस में रिर्सच का काफी महत्व – रस्तोगी

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | राजधानी के अनूप इंस्टीट्यूट ऑफ रिहैबिलिटेशन (Anup Institute of Rehabilitation) के द्वारा लंच एंड लर्न कार्यक्रम का आयोजन शनिवार को सेमिनार हॉल में किया गया. कार्यक्रम के मुख्य वक्ता दिल्ली के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ आशीष रस्तोगी थे. इस सेमिनार का मुख्य विषय मेडिकल रिसर्च था, इस विषय पर सेमिनार के आयोजन के दौरान कई चिकित्सकों ने इसमें हिस्सा लिया. इसमें मेडिकल रिसर्च के महत्व तथा सरकार के नियमों पर प्रकाश डाला गया. इस अवसर पर प्रसिद्ध आर्थो सर्जन डॉ०आशीष सिंह ने बताया कि आज के समय में मेडिकल साइंस में रिर्सच का काफी महत्व हो गया है. उन्होंने बताया कि आज देश के सभी बड़े अस्पतालों में हर मरीजों के केस स्टडी के डाटा को रिसर्च के लिए रखा जाता है, ताकि आने वाले समय में कई आसाध्य रोगों के निदान में इसकी सहायता ली जा सके. वही दूसरी ओर पद्मश्री डॉ०आर. आर. सिंह ने भी सेमिनार में आयें चिकित्सकों एवं इथिक्स कमेटी सदस्यों का आभार दिया. साथ ही इस लंच एंड लर्न कार्यक्रम में मेडिकल रिसर्च महत्व को समझाया. इस अवसर पर डॉ०जे. के. जैन, डॉ० सुशील सिंह, डॉ० किशोरी सिंह सहित कार्यक्रम में उपस्थित रहे. कार्यक्रम को सफल बनाने में खुशबू एवंअमित सिन्हा ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

Read more

इको पार्क को मिला नया प्रवेश द्वार

बच्चे करेंगे राजधानी जलाशय का दीदार सीएम नीतीश कुमार ने राजधानी वाटिका के नये प्रवेश द्वार का उद्घाटन किया. मुख्यमंत्री ने राजधानी वाटिका का भ्रमण किया और राजधानी वाटिका के बारे में अधिकारियों के साथ विमर्श किया. दरअसल जिस जगह वर्तमान में इको पार्क का मुख्य प्रवेश द्वार है वो रास्ता सचिवालय के लिए मुख्य रास्ता है. इको पार्क के कारण इस रास्ते में अक्सर जाम लगता था और यहां पार्किंग की व्यवस्था भी नहीं थी. नये प्रवेश द्वार के पास पार्किंग के पर्याप्त इंतजाम रहेंगे. राजधानी वाटिका के नये एन्ट्री गेट के उद्घाटन के बाद मुख्यमंत्री ने सचिवालय तालाब परिसर का भ्रमण किया. मुख्यमंत्री ने सचिवालय तालाब का नामकरण ‘राजधानी जलाशय’ के रूप में किया. आज से सचिवालय तालाब ‘राजधानी जलाशय’ के नाम से जाना जायेगा. भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री ने तालाब के पास सोलर पम्प लगाने, और वृक्ष लगाने के साथ-साथ राजधानी जलाशय परिसर के सौंदर्यीकरण के लिये अधिकारियों को कई दिशा-निर्देश भी दिये. राजधानी जलाशय परिसर में सिर्फ बच्चों का प्रवेश होगा. बच्चों का प्रवेश भी ग्रुप में और ट्रेंड गाइड के साथ होगा. गाइड वन विभाग द्वारा प्रशिक्षित होंगे, जो बच्चों को पक्षियों, हरियाली एवं पर्यावरण से संबंधित विस्तृत जानकारी देंगे. इस परिसर में पक्षियों की कुछ विशेष प्रजाति को संरक्षित करने की व्यवस्था की गयी है. कार्यक्रम के दौरान उपमुख्यमंत्री, भवन निर्माण मंत्री, मुख्य सचिव और वन, पर्यावरण एवं जलवायु विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार सिंह भी मौजूद थे.

Read more

सरस मेला 1 दिसंबर से गांधी मैदान में, प्रवेश होगा निःशुल्क

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | देसी अंदाज में आयोजित सरस मेला आधुनिक समाज में भी अपनी एक अलग पहचान बना रहा है. मेला में बिकने वाले उत्पाद और उनके प्रति लोगों का क्रेज लगातार बढ़ रहा है और यह बात का प्रमाण है कि लोग आधुनिकता से दूर गांव की ओर लौट रहे हैं. अपने घरों को संवारने के लिए लोग ग्रामीण शिल्प और उत्पाद को ही तरजीह दे रहे हैं. सरस मेले में लोगों का सबसे बड़ा रुझान ग्रामीण शिल्प कला की ओर तरफ है. वर्तमान समय में बिहार ग्राम सरस मेला राष्ट्रीय मेला के स्वरूप में प्रदर्शित हो रहा है. सरस मेला ग्रामीण विकास विभाग, भारत सरकार द्वारा निर्धारित कैलेंडर के तहत देश की लगभग प्रत्येक राज्य की राजधानी में प्रतिवर्ष आयोजित होता है. राजधानी पटना में भी इसका आयोजन कई वर्षों से होता रहा है. वर्ष 2014 से ही इसके आयोजन की जिम्मेदारी बिहार ग्रामीण जीविकोपार्जन प्रोत्साहन समिति जीविका की है. बिहार ग्राम सरस मेला इस साल 2019-20 का प्रथम संस्करण ज्ञान भवन, पटना में 2 सितंबर से 11 सितंबर तक आयोजित हुआ. मेला में बिहार समय देश राज्यों के स्वयं सहायता समूह से जुड़े महिलाओं और अन्य सरकारों द्वारा निर्मित उत्पादक आकृतियों की बिक्री से प्रदर्शनी 110 स्टॉलों से हुई. एक बार फिर इसी साल जीविका सरस मेला का आयोजन 1 दिसंबर से 15 दिसंबर तक गांधी मैदान पटना में हो रहा है, जिसमें 400 स्टॉल विभिन्न विभागों के 50 और जीविका दीदियों के लिए 50 का निर्माण प्रस्तावित है. इस मेला में स्टाल के माध्यम से

Read more

20 नवंबर रात्रि 10.00 बजे से बदल जाएगी यहां की ट्रैफिक व्यवस्था

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | मंगलवार को समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में पटना DM कुमार रवि की अध्यक्षता में ट्रैफिक व्यवस्था के संबंध में बैठक की गई. इसमें निर्णय लिया गया कि कोईलवर पुल से आरा की ओर बड़ी वाहनों के परिचालन को दिनांक – 20 नवंबर को रात्रि 10.00 बजे से प्रतिबंधित किया जाना है. आरा से कोईलवर पुल होते हुए बड़े वाहन को पटना तक आने की अनुमति रहेगी. पटना से कोईलवर पुल होते हुए आरा की तरफ कोई भी भारी वाहन नहीं ले जा सकता है. कोईलवर पुल होते हुए दोनों तरफ से छोटी वाहनों के परिचालन पर कोई रोक नहीं रहेगी. इस प्रकार बिहटा से कोईलवर तक बड़ी वाहनों के लिए सड़क वन-वे होगा. इन सभी नियमन को भोजपुर जिला प्रशासन से समन्वय स्थापित कर लागू करने का निर्देश पुलिस अधीक्षक पश्चिमी को दिया गया. कोईलवर आरा की ओर से बालू के ट्रकों को पटना होकर आने की अनुमति नहीं जानी है. बल्कि पूर्व की भांति बालू वाले ट्रक बिना कोईलवर पुल पार किए वीर कुंवर सिंह सेतु होते हुए छपरा एवं उत्तर बिहार की ओर जायेगी.> दिनांक-20.11.2019 से सिर्फ रात 10.00 बजे से सुबह 05.00 बजे तक भारी वाहनों को जेपी सेतु से उत्तरी बिहार जाने के लिए परिचालन की अनुमति दी जाती है. जेपी सेतु पर भारी वाहनों के लिए वन-वे ट्रैफिक होगा. सभी बड़े वाहन उत्तरी बिहार से जेपी सेतु होते हुए पटना नहीं आना है. अतः जेपी सेतु पर दंडाधिकारी एवं बल, एम्बुलेंस, क्रेन प्रतिनियुक्त करने का निर्देश दिया गया. > गया की

Read more

पटना में Anara Gupta अभिनेत्री | मच्छरदानी का किया वितरण

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | राजधानी पटना में पिछले महीने आई आपदा से पीडि़त लोगों से मिस जम्मू रहीं अभिनेत्री अनारा गुप्ता ने मुलाक़ात की तथा अपनी संस्थाा ए जी फाउंडेशन के तहत उनके बीच मच्छड़दानी का वितरण किया. उन्होंने पटना के राजेंद्र नगर स्थित वैशाली गोलंबर पर सैकड़ों जरूरतमंद लोगों के बीच मच्छड़दानी का वितरण किया ताकि वे जलजमाव के बाद डेंगू, मलेरिया के मच्छड़ों से खुद को बचा सकें एवं बीमार न हों. अनारा ने आगे भी जरूरत मंद लोगों की सहायता करने की बात कही. इस दौरान अनारा ने बताया कि हम टीवी और न्यूज पेपर में पटना की हालत देख रहे थे. हमें काफी दुख हुआ कि इतना बड़ा शहर महज दो दिन की बारिश में कैसे डूब गया. मैं वहां से कुछ कर नहीं पा रही थी, लेकिन तब भी मैंने पेटीएम से मदद भेजी थी. लेकिन फिर भी मन विचलित था. बाद में मुझे पता चला कि जलजमाव खत्म होने के बाद जानलेवा बीमारियों का खतरा बढ़ गया है. खास कर डेंगू और मलेरिया के केस बहुत ज्यादा आ रहे हैं. तो मुझे लगा कि लोगों को इससे बचाने के लिए मच्छड़दानी का वितरण करना चाहिए. साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि उन्हें पटना के मार्केट में मच्छड़दानी नहीं मिली, तब उन्होंने इसे ऑर्डर देकर बनवाया.अनारा ने कहा कि इस संकट के लिए जिम्मेवारी कहीं न कहीं सरकार की ही बनती है. ऐसा तो है नहीं कि शहर का स्तर बहुत नीचे पर है. यहां का ड्रेनज सिस्टम ठीक नहीं है. हर साल पटना

Read more