कभी पुरस्कार भी मिले कभी सस्पेंड भी हुए भोजपुर SP राकेश दुबे

पटना: तीन महीने पहले बनाये गए भोजपुर के Sp राकेश दुबे को अबविभाग ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है और विभागीय कार्रवाई चलने तक उन्हें निलंबित रखा जाएगा इस दौरान उन्हें सिर्फ जीवन यापन के लिए आंशिक राशि ही मिलेगी। आरा में sp के पद पर काम करते हुए उन्होंने तीन माह में शराब,अवैध बालू और क्राइम पर काम किया लेकिन विभाग ने उन्हें उसी बालू के अवैध उत्खनन में बालू माफियाओं की मदद करने का आरोप लगा कर उन्हें निलंबित कर दिया है।आप को बताते चलें कि देवघर (झारखंड) के रहने वाले राकेश कुमार दुबे कई सालों तक सीबीआइ में भी काम कर चुके हैं। वे बिहार के चर्चित चारा घोटाले के अनुसंधानकर्ता भी थे। जब बिहार में रंगदारी के लिए हत्याएं और फिरौती के लिए अपहरण का दौर चरम पर था, तब अपराध पर लगाम लगाने के लिए राकेश कुमार दुबे ने बतौर डीएसपी काफी सुर्खियां बटोरीं थीं। तीन साल तक पटना टाउन डीएसपी रहे और इस दौरान उन्होंने मुठभेड़ में आधा दर्जनों दुर्दांत अपराधियों को मार गिराया था। राकेश कुमार दुबे तक एसटीएफ में भी अपनी सेवा दे चुके हैं। आरा में वार्ड पार्षदों की शराब पार्टी का में पहुंच कर 13 से अधिक लोगों को गिरफ्तार भी किया था ।

Read more

हिन्दी रंगमंच में अभिनेता स्थायी नहीं -परवेज अख्तर

दुर्भाग्यवश हिन्दी रंगमंच में अभिनेता स्थायी नहीं है, जबकि यह उसी का माध्यम है चन्द रंगकर्मी ही औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त कर पाते हैं कितने प्रतिशत कलाकार संस्थानों से प्रशिक्षित होते हैं, 5% या उससे भी कम किसी व्यक्ति द्वारा कला-सृजन, उस व्यक्ति के रचनात्मक रुझान और उसकी नैसर्गिक* कला-प्रतिभा पर निर्भर करता है। कलात्मकता का प्रशिक्षण कदाचित सम्भव नहीं है। रंगमंच में प्रशिक्षण दरअसल शिल्प का ही होता है। फिर भी रंगमंच के क्षेत्र में सक्रिय कितने प्रतिशत कलाकार संस्थानों से प्रशिक्षित होते हैं, 5% या उससे भी कम। लेकिन प्रशिक्षण केन्द्र कुछ इस तरह का माहौल या हाइप बनाते हैं, गोया औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त नाट्यकर्मी ही रंगमंच के वास्तविक नायक हैं। जबकि वस्तुस्थिति यह है कि बहुत बड़ी संख्या में अप्रशिक्षित या अनौपचारिक रूप से प्रशिक्षित कलाकर्मी रचनात्मक क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान करते और अति-महत्वपूर्ण रचते हुए दिखते हैं और कला-जगत उनका उच्च-मूल्यांकन भी करता है। हालाँकि सभी कलाओं में शिल्प-के-प्रशिक्षण का अत्यधिक महत्व है; इसका विकल्प नहीं है लेकिन कितने हैं, जिन्हें औपचारिक प्रशिक्षण का अवसर मिल पाता है ? वैसे देखें, तो आप पाएँगे कि अप्रशिक्षित कोई होता नहीं। चन्द रंगकर्मी ही औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त कर पाते हैं; जबकि अधिकांश हिन्दी-नाट्यकर्मी, नाट्य-दल में अपनी सक्रियता के क्रम में अनौपचारिक रूप से प्रशिक्षित होते रहते हैं।कला प्रशिक्षण केन्द्र, वास्तव में ‘शिल्प’ या ‘क्राफ़्ट’ तथा ‘तकनीक’ का प्रशिक्षण देते हैं, कला अथवा कलात्मकता का नहीं। रंगमंच कला में, अंतर्शिल्पीय दक्षता की आवश्यकता होती है। नाट्य-शिल्प के अन्तर्गत स्टेज-क्राफ़्ट, लाइटिंग, म्यूजिक, मेक-अप, कास्ट्यूम, सीनिक-डिजाईन आदि-इत्यादि रंगमंच-कला के मुख्य-सर्जक अभिनेता और

Read more

कला विश्वविद्यालय खोलने पर सरकार का ध्यान नहीं

नीतीश कैबिनेट में 21 एजेंडा पर लगी मुहर पटना:नीतीश कुमार की कैबिनेट ने आज कई सालों से लंबित कई एजेंडे को आज मुहर लगा दी है।जिसमें 3 नई यूनिवर्सिटी,इंजीनियरिंगमेडिकल और स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी खोले जाएंगे।हर विधानसभा में 1 – 1 पीएचसी और 5 स्वास्थ्य उपकेंद्र खोले जाएंगे।पंचायत समिति का कार्यपालक पदाधिकारी अब बीडीओ नही होंगे,जिला पंचायती राज पदाधिकारी को जिम्मेवारी दी गई हैजेल में सामान्य मामलों में सज़ावार कैदियो को रिहा करने का सरकार ने फैसला लिया है वहीं दिसंबर तक सजा से राहत मिलेेगी।

Read more

अब कचरा शुल्क ख़त्म करने की मांग उठी

चैम्बर द्वारा नगर निगम की ओर से लिए जानेवाले कचरा शुल्क को समाप्त करने का आग्रह बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज ने तारकिशोर प्रसाद, माननीय उप मुख्यमंत्री-सह-नगर विकास एवं आवास मंत्री आनन्द किशोर, प्रधान सचिव, नगर विकास एवं आवास विभाग, सीता साहु, माननीय मेयर एवं हिमांशु शर्मा, नगर आयुक्त से आग्रह किया है कि कचरा शुल्क लिए जाने के पटना नगर निगम के सशक्त स्थायी समिति के निर्णय पर पुनर्विचार किया जाए जिससे कि व्यवसायियों पर लगाए गए इस अतिरिक्त आर्थिक बोझ से राहत मिल सके चैम्बर अध्यक्ष पी० के० अग्रवाल ने कहा कि यह सर्वविदित है कि नागरिकों को नगर निगम द्वारा प्रदान की जानेवाली सेवाओं यथा गृह कर, मल कर जल कर, शिक्षा कर स्वास्थ्य कर आदि की सुविधा प्रदान करने के बदले उक्त क्षेत्र में आनेवाले प्रत्येक निजी मकान या व्यवसायिक प्रतिष्ठान सभी से क्षेत्रफल या निर्माण के अनुसार निगम के द्वारा होल्डिंग टैक्स की वसूली की जाती है। उसके बावजूद व्यवसायिक प्रतिष्ठानों या घर घर से कूड़ा उठाने के लिए अतिरिक्त शुल्क लगाना अव्यवहारिक प्रतीत होता है। उन्होंने आगे बताया कि व्यवसायिक प्रतिष्ठानों से घर-घर कूड़ा उठाने के लिए निगम के सशक्त स्थायी समिति के द्वारा अतिरिक्त शुल्क लिए जाने का निर्णय जन विरोधी है इस पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए क्योंकि व्यवसायी पहले से ही सरकार की ओर से अधिरोपित कई प्रकार के करों के बोझ से दबे हैं। ऐसा लगता है कि सशक्त स्थायी समिति द्वारा एक निजी कंपनी को सभी व्यवसायिक संपत्ति धारकों से जबरन कचरा शुल्क वसूलने की छूट दी गई

Read more

देश के अन्नदाताओं को उनका वाजिब हक दिलाना है -नरेंद्र सिंह

यह बिल किसानों को गुलाम बनाने वाला है देश में कारपोरेट घराने को किसानों के हाथों बेचने की कोशिश पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह आज कल किसानों की मांग को लेकर जिलों में भ्रमण कर रहे हैं ।किसानों की दयनीय स्थिति पर केंद्र में मोदी सरकार और बिहार की नीतीश कुमार की सरकार पर मानवता के नाते भी अनदेखी करने का आरोप लगाया।आरा के सर्किट हाउस में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मेरा मुख्य कार्य है देश के अन्नदाताओं को उनका वाजिब हक दिलाना। बिहार में शाहाबाद से संयुक्त किसान संघर्ष समन्वय समिति कृषि बिल के खिलाफ लोगों को एकजुट करने की कवायद शुरु करते हुए नरेंद्र सिंह ने कहा कि रोहतास जिले से 13 जुलाई को नोखा में चौपाल से आंदोलन का शुभारंभ हो चुका है किसानों का लागत का डेढ़ गुना पैसा मिले, खरीदारी सुनिश्चित हो प्राथमिकता यही होगी। यह बिल किसानों को गुलाम कर देगा है। अनाज भंडारण के लिए भी प्रावधान नहीं है । देश में कारपोरेट घराने को किसानों के हाथों बेचने की कोशिश की जा रही है। स्वामीनाथन कमिटी की सिफारिश को देश में लागू नहीं किया जा रहा है। इस यात्रा के दौरान संयुक्त किसान संघर्ष समन्वय समिति के संयोजक सह पत्रकार दिनेश सिंह, डॉ राजेंद्र प्रसाद, समाजसेवी डॉ जितेंद्र शुक्ला एवं अजीत सिंह समेत कई उपस्थित थे ।

Read more

तेजस्वी यादव को डर लगता है ??

विधान सभा में मारपीट के मुद्दे को लेकर विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र । ट्विटर के माध्यम से तेजस्वी ने कहा कि उन्हें और उनके विधायकों को विधान सभा में जाने में डर लगता है । पिछले सत्र में विधायकों की लात जूते और बूट से हुई थी पिटाईअब तेजस्वी और उनके विधायकों को विधानसभा जाने में लगता है डरस्पीकर विजय सिन्हा को नेता प्रतिपक्ष ने लिखा पत्रस्पीकर बताएं, पिछले सत्र में हुए हंगामे के मामले में किस-किस पर हुई कार्रवाई26 जुलाई से 30 जुलाई तक चलने वाला है बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र 23 मार्च को विधान सभा में भारी पुलिस बल बुलाने,विधायको से मारपीट करने और महिलाओं के बाल पकड़ कर बाहर घसीटने पर राजद के नेता तेजस्वी यादव ने विधान सभा अध्यक्ष को एक पत्र भेज कर पूछा है कि उस दिन की घटना के बाद क्या कार्रवाई हुई। राजद गठबंधन के विधायक विधानसभा में जाने से डरते हैं तेजस्वी ने विधान सभा अध्यक्ष से कार्रवाई की मांग की है।

Read more

भोजपुर एसपी राकेश दुबे का तबादला

पटना पुलिस मुख्यालय भेजे गए औरंगाबाद के SP सुधीर कुमार पोरिका का भी तबादला आरा, बालू के अवैध उत्खनन के मामले में कार्रवाई करने पर भोजपुर के एसपी राकेश दुबे और औरंगाबाद के एसपी को हटा कर उन्हें पुलिस मुख्यालय में योगदान करने को कहा गया है। गृह विभाग ने आज ही सुधीर कुमार पोरिका और राकेश कुमार दुबे का स्थानांतरण कर दिया है । आपको बता दें कि राकेश दुबे ने भोजपुर में पद सम्भालते ही शराब माफिया और बालू माफिया पर कार्रवाई करते हुए बड़ा काम किया। हाल ही कई वार्ड पार्षदों को शराब की पार्टी में छापेमारी कर राकेश दुबे ने शराब माफियाओं और बालू माफियाओं की कमर तोड़ कर रख दी थी। उनके भोजपुर जिले में पदस्थापन के बाद से किसी भी मामले में त्वरित कार्रवाई को लेकर राजनीतिक हलकों में चर्चाओं का बाजार गर्म था । 42वीं बैच के बिहार पुलिस सेवा के अधिकारी से आइपीएस अधिकारी बने राकेश दुबे भोजपुर के 99वें नए एसपी के रूप में जिले की बागडोर संभाल कर कई महत्वपूर्ण मामलों का निपटारा किया था । Pnc

Read more

रेलवे यात्रियों के लिए आज से चलेंगी ये ट्रेनें

आज से ECR जोन में तीन जोड़ी मेमू ट्रेनों की सेवा हुई पुनः बहाल हाजीपुर,14 जुलाई. बुधवार 14 जुलाई से अगले आदेश तक पूर्व मध्य रेलवे (ECR) कोविड काल की दूसरी लहर के कारण बन्द की गई ट्रेनों में से तीन जोड़ी ट्रेनों की सेवा यात्रियों के लिए बहाल कर रही है, जिससे आवागमन में यात्रियों को सहूलियत मिलेगी. ECR CPRO राजेश कुमार ने बताया कि ये मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनें पटना से गया, आरा एवं पंडित दीन दयाल उपाध्याय जं. के मध्य प्रतिदिन चलाई जाएंगी. इन पैसेंजर ट्रेनों से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए कोविड-19 से बचाव एवं रोकथाम हेतु जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना आवश्यक होगा. इन ट्रेनों के खुलने का समय निम्नांकित है: 1.03203/03204  पटना-पंडित दीन दयाल उपाध्याय जं.-पटना मेमू पैसेंजर स्पेशल : 03204 पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन-पटना मेमू पैसेंजर स्पेशल पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन से 08.15 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 16.50 बजे पटना जं. पहुंचेगी. इसी तरह 03203 पटना-पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन मेमू पैसेंजर स्पेशल पटना जंक्शन से प्रतिदिन 12.35 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकते हुए 20.30 बजे पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन पहुंचेगी. 2. 03263/03264 पटना-गया-पटना मेमू पैसेंजर स्पेशल : 03264 गया-पटना मेमू पैसेंजर स्पेशल गया से प्रतिदिन 05.45 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकते हुए 08.35 बजे पटना पहुंचेगी. यहाँ से वापसी में 03263 पटना-गया मेमू पैसेंजर स्पेशल पटना से 22.00 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकते हुए 00.45 बजे गया पहुंचेगी. 3. 03221/03222 पटना-आरा-पटना मेमू पैसेंजर स्पेशल: गाड़ी संख्या 03222 आरा-पटना

Read more

मेट्रो के लिए करना होगा 5 से 8 साल का इंतजार!

18 किलोमीटर सुरंग से होकर पटना मेट्रो गुजरेगी और 14 KM में बनेगा एलिवेटेड ट्रैक। भूमि अधिग्रहण ना होने और अतिक्रमण से आ रही है दिक्कतें पटना: मेट्रो डिपो और अन्य जगहों पर भूमि अधिग्रहण के कारण मेट्रो के काम दो वर्ष देर से चल रहे हैं।प्राप्त जानकारी के अनुसार सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण में देरी से मेट्रो प्रोजेक्ट फिलहाल ग्रहण लगता दिख रहा है । कई इलाकों में अभी भूमि अधिग्रहण की रफ्तार फाइलों में दम तोड़ रही है। राजधानी पटना में मेट्रो ट्रेन अधिकांश इलाकों में 50 से 150 फ़ीट नीचे सुरंग से होकर गुजरेगी। सिर्ग सगुना मोड़ से गोला रोड और अंतरराज्जीय बस टर्मिनल पहाड़ी से कंकड़बाग के मलाही पकड़ी तक एलिवेटेड ट्रैक से गुजरेगी। पटना मेट्रो गोला रोड में सुरंग शुरू होगी, जो पाटलिपुत्र स्टेशन, बेली रोड होते पटना जंक्शन को जोड़ेने का काम करेगी ।एलिवेटेड ट्रैक की ऊंचाई औसतन 13 मीटर और सुरंग सतह से 150 फीट तक नीचे होगी।राजधानी पटना की घनी आबादी के बीच मेट्रो परियोजना की डिजाइन को इस तरह बनाया गया है कम से कम भूमि अधिग्रहण की जरूरत हो। अधिकांश इलाके में सरकारी भूमि की जरूरत है। सबसे अधिक करीब 75 एकड़ जमीन डिपो की जरूरत होगी। पटना मेट्रो के दो कारिडोर में दानापुर कैंट टू पटना जंक्शन करीब 17.933 किलोमीटर में करीब 10.54 किलोमीटर सुरंग से गुजरेगी। मात्र 7.39 किलोमीटर एलिवेटेड ट्रैक का निर्माण होगा।कारिडोर -2 में पटना जंक्शन से आकाशवाणी, गांधी मैदान, पीएमसीएच, एनआइटी, मोइनुलहक स्टेडियम, राजेंद्र नगर टर्मिनल, भूतनाथ रोड, जीरो माइल होते अंतरराज्जीय बस टर्मिनल तक

Read more

फूहड़ गाने वालों सावधान! नीतीश सरकार ने अश्लीलता पर लिया संज्ञान

भोजपुरी और मगही में अश्लील गाने वालों पर चलेगा कानून का चाबुक पटना,12 जुलाई. भोजपुरी और मगही में अश्लीलता फैलाने वाले सावधान! नीतीश सरकार ने लॉक डाउन के टूटते ही अपने पहले जनता दरबार में आये एक शिकायतकर्ता की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए अश्लीलता फैलाने वालों को अपने रडार पर ले लिया है और इससे सम्बंधित वरीय अधिकारियों के साथ मुख्य सचिव के जिम्मे लगा दिया है. बिहार में इन दिनों भोजपुरी और मगही में फूहड़ गानों की बाढ़ आ गई है. आये दिनों यू ट्यूब पर नए से लेकर नामी गायकों द्वारा यह सिलसिला शुरू है. नया  IT एक्ट जरूर लागू हो गया है लेकिन  इसके बाद भी सरकार द्वारा ऐसे गायकों या कम्पनी वालों पर कोई कार्रवाई नही हुई है. ऐसे फूहड़ और अश्लील गीतों से तंग आम जनता में से एक ने अपनी फरियाद को जनता दरबार मे पहुंचा दिया. सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में एक फरियादी ने भोजपुरी और मगही में अश्लीलता पर रोक लगाने की अपील की. अश्लीलता के खिलाफ अपनी शिकायत लेकर पहुंचे शिकायतकर्ता ने मुख्यमंत्री से मिल कहा कि इन दिनों भोजपुरी और मगही गानों में अश्लीलता को खुलेआम परोसा जा रहा है,जो सभ्य समाज के लिए घातक है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने युवक की बात को सुनने के बाद त्वरित एक्शन लेते हुए तुरन्त चीफ सेक्रेटरी को फोन लगा इस मामले को तत्काल देखने का निर्देश दिया. इतना ही नही मुख्यमंत्री ने शिकायतकर्ता को सीनियर अधिकारी के पास भेज दिया.  सरकार भोजपुरी और मगही द्वारा अश्लीलता पर सख्त दिखी.

Read more