हेडमास्टर बहाली परीक्षा में फेल हो गए 93 फीसदी शिक्षक

बिहार लोक सेवा आयोग हेड मास्टर बहाली परीक्षा में 90 फ़ीसदी से ज्यादा अभ्यर्थी फेल हो गए हैं. महज 6.55 फ़ीसदी अभ्यर्थियों को सफलता मिली है जो नवसृजित/उत्क्रमित उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाचार्य बनेंगे. बाल्मीकि प्रसाद मेधा सूची में पहले नंबर पर हैं. टॉप 25 पर नजर डालें तो इसमें सिर्फ तीन महिलाओं को सफलता मिली है. आपको बता दें कि इसी साल 31 मई को बिहार लोक सेवा आयोग ने उच्च माध्यमिक स्कूलों के 6421 पदों पर प्रधानाध्यापक की बहाली के लिए परीक्षा का आयोजन किया था. कुल 13055 अभ्यर्थी इस प्रतियोगिता परीक्षा में शामिल हुए थे. बिहार लोक सेवा आयोग की इस प्रतियोगिता परीक्षा में पूछे गए सवालों को लेकर कई तरह के सवाल उठे क्योंकि सवाल अत्यंत कठिन थे और तभी से यह कयास लगाए जा रहे थे कि इसमें सफलता मिलनी मुश्किल है. आखिरकार आज बिहार लोक सेवा आयोग ने जो रिजल्ट जारी किया है उसमें सिर्फ 421 अभ्यर्थियों को सफलता मिली है जबकि कुल पद 6421 हैं. आयोग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक 87 अभ्यर्थियों ने ओएमआर में क्वेश्चन बुकलेट नंबर नहीं लिखा जिसकी वजह से उनका आंसर शीट रद्द कर दिया गया. इसके अलावा 12547 अभ्यर्थी निर्धारित मिनिमम क्वालीफाइंग मार्क्स (48) भी हासिल नहीं कर सके. रिजल्ट को देखते हुए अब शिक्षा विभाग की ओर से आधिकारिक प्रतिक्रिया का इंतजार है. pncb

Read more

पटना के तीन नगर निकायों को मिले 29 शिक्षक

छठे चरण माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षक नियोजन के क्रम पटना की तीन नगर निकायों को कुल 29 नये शिक्षक मिल गये हैं. नगर परिषद मसौढ़ी, नगर पंचायत खुशरूपुर एवं फतुहा अंतर्गत चयनित 19 माध्यमिक शिक्षक एवं 10 उच्च माध्यमिक शिक्षक अभ्यर्थियों को 30-07-2022 को टी. के.घोष अकादमी राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय,अशोक राजपथ, पटना में शिक्षक नियोजन नियमावली के अनुसूची 02 के तहत विद्यालय आवंटित करते हुए नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया. इस अवसर नगर कार्यपालक पदाधिकारी, मसौढ़ी, फतुहा एवं खुसरूपुर और श्यामनंदन, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी,माध्यमिक शिक्षा, पटना उपस्थित थे. pncb

Read more

बेहतरीन मौका: छठे चरण के लिए फिर निकला शेड्यूल

सातवें चरण की बहाली की चर्चा के बीच एक बार फिर छठे चरण की बाकी बचे नियोजन इकाइयों में काउंसलिंग के लिए शेड्यूल जारी हो गया है. ये बिहार के शिक्षक अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. शिक्षा विभाग ने एक बार फिर छठे चरण के तहत नियोजन का शेड्यूल जारी किया है. यह उन शिक्षक अभ्यर्थियों के लिए बेहतरीन मौका है जो किसी कारणवश छठे चरण में काउंसलिंग कराने से चूक गए या किसी कारणवश वे शिक्षक नहीं बन सके. शिक्षा विभाग ने उन तमाम नगर निकायों के लिए शेड्यूल जारी किया है जहां छठे चरण में एक बार भी काउंसलिंग नहीं हो पाई. दरअसल इस वर्ष सरकार ने डेढ़ सौ से ज्यादा नगर निकायों का पुनर्गठन किया है या उनमें बदलाव किया गया है जिसकी वजह से ऐसे नगर निकायों में एक बार भी काउंसलिंग नहीं हो पाई. अब उन सभी नगर निकायों में काउंसलिंग के लिए शिक्षा विभाग ने 8 अगस्त से 10 सितंबर के बीच नये शेड्यूल के तहत बहाली पूरा करने का निर्देश जारी किया है यह उन तमाम शिक्षक अभ्यर्थियों के लिए बेहतरीन मौका होगा जो किसी कारणवश छठे चरण में बहाली से चूक गए थे. छठे चरण के इस नए शेड्यूल की वजह से यह तय है कि इन सभी जगहों पर सातवें चरण के लिए प्राथमिक शिक्षक नियोजन शेड्यूल भी लेट से जारी होगा. हालांकि बाकी अन्य जगहों के लिए शेड्यूल अगस्त के आखिरी हफ्ते तक जारी होने की संभावना है क्योंकि इससे पहले नए नियमावली के लिए शिक्षा विभाग कैबिनेट से

Read more

वेब जर्नलिस्ट्स की सुलझेंगी समस्याएं, सरकार जल्द बुलाएगी बैठक

वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया की कार्यशाला सम्पन्न पटना, 29 जुलाई. समाज में सूचना क्रांति लाने वाले वेब पत्रकारिता की महत्ता को नकारा नहीं जा सकता है. यदि वेब पत्रकारिता अपनी विश्वसनीयता को भरोसे लायक बना ले तो समाज का बहुत भला होगा. जनसंपर्क विभाग वेब पत्रकारों की समस्याओं के समाधान के लिए जल्द ही एक मीटिंग बुलाएया. उक्त बातें बिहार सरकार के जल संसाधन और सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री संजय झा ने वेब जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (WJAI) की पटना इकाई द्वारा आयोजित सेमिनार सह कार्यशाला के उद्घाटन के मौके पर कही. उन्होंने कहा कि आज सूचना क्रांति के दौर में हर गाँव में हर व्यक्ति मोबाइल फोन से जुड़ा है. हर खबर एक-एक मिनट में लोगों तक पहुँच जाता है. ये सब वेब मीडिया की वजह से ही है. उन्होंने कहा पहले लोग अख़बार पढ़ते थें, फिर टीवी देखना शुरू किया और अब मोबाइल पर ख़बरों से अपडेट होते हैं. श्री झा ने कहा कि एक सर्वे में उन्होंने पाया कि जितने लोग वर्तमान समय में टीवी देखते हैं उतने ही लोग वेब मीडिया पर भी नज़र रखते हैं और उनके व्यूअर हैं. उन्होंने वेब पत्रकारों को सलाह देते हुए कहा कि आप ख़बरों के अनुसार हेडिंग बनाइये सिर्फ सनसनीखेज हेडिंग बनाना और भ्रामक ख़बरों को दिखाना आपकी पत्रकारिता के महत्व को कम करती है. उन्होंने कहा कि सरकार के बेहतर कार्यों को आप अपने मीडिया के माध्यम से आम जन तक पहुँचाने का कार्य करें. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल का यह प्रतिफल है

Read more

केंद्रीय विभागों में खाली पड़े करीब 10 लाख पदों पर जल्द होगी भर्ती

सरकारी नौकरी की चाहत रखने वालों का सपना होगा पूरारिक्त पदों को भरने के लिए मिशन मोड में काम होगा देश के केंद्रीय विभागों में बड़ी संख्या में पद खाली पड़े हैं. यह जानकारी केंद्रीय कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में दी है. उन्होंने बताया कि एक मार्च 2021 तक देश के तमाम केंद्रीय विभागों और मंत्रालयों में करीब 9.79 लाख रिक्त थे. इन विभागों और मंत्रालयों के लिए स्वीकृत पदों की संख्या 40.35 लाख के करीब है. व्यय विभाग की वेतन अनुसंधान इकाई की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों/विभागों में एक मार्च 2021 तक 40,35,203 स्वीकृत पद थे. जिनमें से करीब 9.79 लाख रिक्त थे और करीब 30,55,876 कर्मचारी पदों पर तैनात थे. केंद्रीय कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने यह जानकारी लिखित जवाब के रूप में लोकसभा में दी. साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्रीय विभागों में पदों पर नियुक्तियां संबंधित विभाग की जिम्मेदारी है और यह एक सतत प्रक्रिया है. जितेंद्र सिंह ने बताया कि केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के साथ संबद्ध और अधीनस्थ कार्यालयों में रिक्तियां रिटायरमेंट, प्रमोशन, इस्तीफा और मृत्यु आदि के कारण पैदा होती हैं. इस दौरान उन्होंने संबंधित मंत्रालयों और विभागों से अनुरोध किया कि समयबद्ध तरीके से रिक्त पदों को भरने के लिए मिशन मोड में काम किया जाए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते दिनों तमाम सरकारी विभागों और मंत्रालयों से अगले डेढ़ साल में खाली पड़े 10 लाख पदों पर नियुक्तियां करने के लिए कहा था. प्रधानमंत्री ने इस पूरी भर्ती प्रक्रिया

Read more

बीपीएससी ने फिर स्थगित की बहाली परीक्षा

BPSC ने एक बार फिर बिहार के प्राथमिक स्कूलों में हेड टीचर की बहाली के लिए होने वाली परीक्षा को स्थगित कर दिया है. आयोग की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक 28 जुलाई को होने वाली परीक्षा अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दी गई है. अब इस परीक्षा का आयोजन सितंबर 2022 में संभावित है जिसकी तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी. यह दूसरी बार है जब बिहार लोक सेवा आयोग ने हेड टीचर बहाली परीक्षा स्थगित की है. इसके पहले यह परीक्षा जून महीने में प्रस्तावित थी जिसे स्थगित कर जुलाई महीने में किया गया और अब जुलाई महीने में भी परीक्षा को स्थगित कर सितंबर में कराने की बात कही जा रही है. 40518 पदों के लिए हेड टीचर बहाली परीक्षा का आयोजन सबसे पहले 25 जून को होने वाला था. इस परीक्षा के लिए कुल एक लाख सात हजार शिक्षकों ने आवेदन किया है. इस परीक्षा में 150 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे और गलत उत्तर पर 0.25 अंक कटेंगे. pncb

Read more

स्नातक ग्रेड में प्रोन्नति की मांग, रिक्तियां निर्धारित करे शिक्षा विभाग

स्नातक ग्रेड में प्रोन्नति के लिए प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश से मिला परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ का प्रतिनिधिमंडल नियोजन के लिए नहीं बल्कि प्रमोशन के लिए हो स्नातक शिक्षक पद की रिक्तियों का निर्धारण. यह मांग परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ ने राज्य सरकार से की है. संघ के प्रतिनिधिमंडल ने प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश से मिलकर स्नातक ग्रेड के पदों की रिक्तियों का निर्धारण निदेशालय स्तर पर ही तय करने का अनुरोध किया है . संघ के प्रदेश अध्यक्ष वंशीधर ब्रजवासी ने कहा है कि निदेशालय द्वारा पूरे राज्य में सातवें चरण के नियोजन के पूर्व स्नातक ग्रेड के पद की रिक्तियों के निर्धारण हेतु सभी जिलों को निर्देश दिया गया है किंतु, इसका समुचित तरीके से निर्धारण नहीं किया जा रहा है. शिक्षा का अधिकार अधिनियम के प्रावधानों के तहत प्रत्येक मध्य विद्यालय में कक्षा 6 से 8 के लिए हिंदी, संस्कृत, अंग्रेजी, उर्दू, विज्ञान, गणित और सामाजिक विज्ञान सात विषयों के शिक्षकों की आवश्यकता है. प्रावधानों के अनुसार राज्य में अवस्थित 29241 मध्य विद्यालयों में इतनी ही संख्या में प्रत्येक विषय के शिक्षकों की आवश्यकता है. अर्थात, 29243 मध्य विद्यालयों में 29243×7= 2,04,701 शिक्षकों की आवश्यकता है इसके निर्धारण के लिए जिलों से रिक्तियां निर्धारित कराने की कोई आवश्यकता नहीं है बल्कि यह काम निदेशालय स्तर से ही आसानी से किया जा सकता है. इसके लिए जिलावार प्रत्येक विषय में कार्यरत शिक्षकों का संख्यात्मक विवरण प्राप्त करने की आवश्यकता है और कुल आवश्यक स्नातक शिक्षकों की संख्या 2,04,701 में से घटाकर जितना पद रिक्त बचता है

Read more

ऑनलाइन आवेदन तो ठीक लेकिन काउंसलिंग में फर्जीवाड़े पर कैसे लगेगी रोक!

बिहार के हजारों शिक्षक अभ्यर्थी सातवें चरण के शिक्षक नियोजन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. शिक्षा विभाग ने सभी जिलों से रिक्तियां मांगी हैं जिन पर इसी महीने रोस्टर क्लीयरेंस के साथ मुहर लगने की संभावना है और अगले महीने सातवें चरण की बहाली का विज्ञापन जारी हो सकता है. हालांकि इस पर काफी कुछ काम बाकी है क्योंकि माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षकों के छठे चरण का नियोजन अब तक पूरा नहीं हुआ है. छठे चरण का माध्यमिक उच्च माध्यमिक शिक्षकों का नियोजन 31 जुलाई तक पूरा होने की संभावना है जिसके बाद प्राथमिक, मध्य और माध्यमिक- उच्च माध्यमिक स्कूलों की रिक्तियों की गणना करते हुए एक साथ प्राइमरी और हाई स्कूल टीचर की बहाली का विज्ञापन जारी होने की बात कही जा रही है. एक बार फिर शिक्षक नियोजन में जमकर होगा भ्रष्टाचार शिक्षा विभाग ने यह स्पष्ट किया है कि सातवें चरण में अभ्यर्थियों से आवेदन ऑनलाइन लिए जाएंगे जो पूरी तरह सेंट्रलाइज होगा. इसके बाद मेरिट लिस्ट जारी करते हुए काउंसलिंग की जिम्मेदारी पहले की तरह नियोजन इकाइयों को दे दी जाएगी. लेकिन इस प्रक्रिया में एक बार फिर धांधली होने के पूरे आसार हैं क्योंकि पहले के अनुभव यह बताते हैं कि सबसे ज्यादा धांधली काउंसलिंग के वक्त होती है जब सीधे-सीधे स्थानीय निकाय में मुखिया या प्रखंड अध्यक्ष खुलकर मनमानी करते हैं. ऐसा कई बार हुआ जब धांधली की वजह से योग्य अभ्यर्थी पीछे छूट गए और उनकी जगह कम मेरिट वाले अभ्यर्थियों का चयन हुआ. शिकायत और जांच के बाद कई

Read more