पूर्व मुख्यमंत्रियों के रिश्तेदारों ने यहां मुकाबले को बनाया दिलचस्प

गोपालगंज सदर सीट पर 3 नवंबर को दूसरे चरण में मतदान होना है. यहां पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की लड़ाई साधु यादव और पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल गफूर के पात्र आसिफ गफूर के मैदान में उतरने से मुकाबला दिलचस्प हो गया है. हालांकि गोपालगंज सदर विधानसभा सीट के चुनावी अखाड़े में जीत की ‘हैट्रिक’ जमा चुके एनडीए के भाजपा प्रत्याशी सुभाष सिंह इस बार फिर सियासी पिच पर ‘चौका’ मारने की फिराक में हैं. उनके विजय रथ को रोकने के लिये बसपा ने अनिरुद्ध प्रसाद उर्फ साधु यादव को और महागठबंन ने कांग्रेस को सीट देते हुए बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल गफूर के पौत्र आसिफ गफूर को चुनावी रणभूमि में उतारा है. जिससे इस सीट पर चुनावी दंगल रोचक हो गया है. चुनाव प्रचार के आखिरी दिन गोपालगंज के विभिन्न इलाकों में कांग्रेस प्रत्याशी आसिफ कपूर ने रोड शो किया जिसमें बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ देखने को मिली. इस सीट पर 21 पुरुष और एक महिला समेत 22 प्रत्याशी चुनावी दंगल में उतरे हैं. साल 2015 में भाजपा के सुभाष सिंह ने राजद के रियाजुल हक उर्फ राजू को 5074 मतों के अंतर से मात दिया था. गोपालगंज से अजीत

Read more

फुलवारी में महागठबंधन और एनडीए उम्मीदवार के के बीच कांटे की टक्कर

जदयू के अरुण मांझी की तीर और माले के गोपाल रविदास के तीन तारा के बीच चुनावी अखाड़ाअतिक्रमण, हाइवे सड़के जाम और पुनपुन में जल जमाव मुख्य मुद्दे फुलवारी शरीफ।। बिहार विधान सभा चुनाव 2020 के चुनावी महासमर में फुलवारी (सुरक्षित) विधानसभा क्षेत्र में जातीय समीकरण का बोलबाला हावी रहा है. फुलवारी (सुरक्षित) विधानसभा क्षेत्र में महागठबंधन और एनडीए उम्मीदवार के के बीच कांटे की टक्कर है. 26 प्रत्याशियों के मैदान में होने के बावजूद जदयू के अरुण मांझी की तीर और माले के गोपाल रविदास के तीन तारा के बीच मुख्य चुनावी अखाड़ा होने जा रहा है. तीर और तीन तारा के अखाड़े में जन अधिकारी पार्टी के उम्मीदवार सत्त्येंद्र पासवान अपनी कैंची चलाकर दोनों ही प्रमुख गठबंधन के मतदताओं को अपने पाले में करने में जी जान से कूद पड़े हैं. वैसे इस बार यहाँ से फुलवारी प्रखंड के दो दो पूर्व प्रमुख राधे रमण पासवान और कमलेश कान्त चौधरी भी मैदान में हैं. पटना के अनीसाबाद से औरंगाबाद के हरिहरगंज तक जाने वाली एनएच 98 सडक और अनीसाबाद बाइपास सहित सिपारा से पुनपुन मसौढ़ी जहानाबाद और गया तक जाने वाली हाईवे किनारे अतिक्रमण के चलते रोजाना हाईवे पर लगने वाले भीषण जाम की गंभीर समस्या , पुनपुन बाजार और फुलवारी के कई इलाके में जल जमाव एवं फुलवारी खगौल मुख्य मार्ग किनारे के मुख्य ड्रेनेज नाला का कई वर्षो बाद भी पूरा नहींं होना मुख्य मुद्दे हैं. पटना से अजीत

Read more

मुंगेर हंगामा मामले में बड़ा अपडेट

मुंगेर में मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए हंगामे के बाद एक तरफ जहां सरकार की जमकर किरकिरी हुई है दूसरी तरफ वहां पुलिस और प्रशासन के खिलाफ लोगों की जबरदस्त नाराजगी को देखते हुए चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई की है. मुंगेर में 26 अक्टूबर को दशहरा के दिन मूर्ति विसर्जन के दौरान भगदड़ मच गई थी. इस दौरान पुलिस पर लाठीचार्ज करने और फायरिंग में एक युवक की मौत का मामला सामने आया. इस पूरे मामले का एक वीडियो वायरल होने के बाद लोगों में जबरदस्त नाराजगी देखने को मिली. 28 अक्टूबर को मुंगेर में सबसे कम वोटिंग दर्ज हुई और 29 अक्टूबर की सुबह से ही लोग सड़क पर उतर गए और वहां से एसपी और डीएम को हटाने की मांग करने लगे. भारी हंगामे के बाद चुनाव आयोग ने तुरंत प्रभाव से मुंगेर की एसपी और वहां के डीएम को हटाने का आदेश दिया है और आज ही नए डीएम और एसपी की नियुक्ति का निर्देश भी जारी कर दिया है. साथ ही चुनाव आयोग ने पूरे मामले की जांच मुंगेर के डिविजनल कमिश्नर से कराने का आदेश देते हुए 7 दिन में इसकी रिपोर्ट मांगी है. pncb

Read more

पीएम मोदी पर जमकर बरसे राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बाल्मीकिनगर के दौनाहा में एक चुनावी सभा मेंं प्रधानमंत्री पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कृषि एवं रोजगार में क्षेत्र में मोदी और नीतीश को विफल बताया. राहुल गांधी ने कहा कि दशहरा में अमूमन रावण का पुतला दहन किया जाता रहा है लेकिन मुझे दुःख है की इस बार के दशहरा में पंजाब के किसानों के पीएम नरेंद्र मोदी का पुतला दहन किया क्योंकि देश में बड़े उद्योगपतियों में अडानी और अंबानी जैसे लोगों को एनडीए सरकार में तरजीह दी गई है और आम किसानों को उनके फसल का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है जिससे किसान त्रस्त हैं. उन्होंने मजदूरों और युवाओं से इस चुनाव में हिसाब चुकता करने का अपील की. लोग पलायन ख़ुशी से नहीं कर रहे हैं इसलिए लोग बाहर जा रहे हैं क्योंकि बिहार को नष्ट कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि जब महात्मा गांधी दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति इंग्लैंड से लड़ने जा रहे थे तब हरियाणा केरल यूपी नहीं गए गांधी जी चंपारण आए बिहार आए क्योंकि गांधी जी हिन्दुस्तान को समझते थे उन्हें मालूम था कि लड़ाई बिहार से शुरू होगी ये आपकी जगह है चंपारण. आंदोलन और सत्याग्रह की धरती है चंपारण जिसको मैं नमन करता हूं. राहुल गाांधी ने बिहार में बदलाव के लिए महागठबंधन को समर्थन और वोट की अपील की.वाल्मीकि नगर से परवेज

Read more

देखिए, पहले फेज में कहां हुई सबसे ज्यादा वोटिंग

बिहार में पहले चरण का मतदान 71 विधानसभा सीटों पर शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गया. बिहार निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच आर श्रीनिवास ने बताया कि पहले चरण में 53.53% मतदान हुआ है. हालांकि अंतिम आंकड़े आने पर इसमें कुछ फेरबदल भी हो सकता है. चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक सबसे कम मुंगेर में 47.36 फीसदी मतदान जबकि बांका में सबसे अधिक 59.57 प्रतिशत वोटिंग हुई है. पटना की पांच विधानसभा सीटों पर वोटिंग प्रतिशत मोकामा 51%, बाढ़ 52.02%, मसौढ़ी 53%, पालीगंज 53% और बिक्रम 53.33%. एक नजर पहले चरण के मतदान प्रतिशत पर- बांका – 59.57% जमुई- 57.41% गया – 57.05% कैमूर – 56.20% भागलपुर – 54.20%मुंगेर – 47.36%लखीसराय – 55.44%शेखपुरा – 55.96%पटना – 52.51%भोजपुर – 48.29%बक्सर – 54.07%रोहतास – 49.59%अरवल – 53.85%जहानाबाद – 53.93%औरंगाबाद – 52.85%नवादा – 52.34% pncb

Read more

रोजगार के लिए क्या करेंगे नीतीश कुमार, सुनिए

Click Here For Cm Live https://www.facebook.com/NitishKumarJDU/videos/1005027443298015/ जबसे राष्ट्रीय जनता दल ने रोजगार को चुनावी मुद्दा बनाया है, जदयू और बीजेपी के लिए यह गले की फांस बन गया है. अब मुख्यमंत्री भी अपनी सभाओं में ‘रोजगार कैसे देंगे’, इसकी दलील पेश कर रहे हैं. राजेश तिवारी

Read more

पटना में पीएम मोदी पर बरसे भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा पीएम मोदी ने कल बिहार में रैली के दौरान कहा था कि कुछ राजनीतिक दल दलालों की तरह बात कर रहे हैं. वो झूठ बोल रहे हैं। यह बिल किसान विरोधी बिल है. कांग्रेस नेता ने कहा कि प्याज की कीमत अब देश में 70-80 रुपये हो गया है. कानून बने अभी 2 महीने भी नहीं हुए हैं. और इसका असर देखने को मिल रहा है. पीएम मोदी की सरकार दलालों की सरकार है. और हम पर आरोप लगा रहे है. ये कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हैं. असल में देश में कांग्रेस ने जो-जो बनाया उसे खत्म करने में लगे हैं. ये लोग रेलवे स्टेशन नहीं बनाते हैं. बल्कि रेलवे को बेचने का काम कर रहे हैं. भूपेश बघेल ने कहा कि पीएम और सीएम कह रहे थे कि हम रोजगार देंगे. लेकिन जो लोग लॉकडाउन में बिहार लौटे मजदूरों को रोजगार नहीं दे पाए. बीजेपी के लोग चिराग की पार्टी में जाकर उम्मीदवार बनाए गए हैं और ये लोग जेडीयू के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. एनडीए से चिराग पासवान को क्यों बाहर नहीं किया गया. पीएम मोदी अपने बिहार दौरे पर चिराग पासवान पर क्यों नहीं बोले हैं. https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=418215559578044&id=160667311414916 pncb

Read more

PM मोदी की रैली को लाइव देखने के लिए क्लिक करें

PM मोदी की रैली को लाइव देखने के लिए क्लिक करें साभार पीएम मोदी आज रोहतास, गया और भागलपुर में चुनावी रैली करेंगे. pncb

Read more

घोषणा पत्र में 2020 से 2025 तक का रोड मैप

भाजपा है तो भरोसा है और इसी भरोसे के साथ भाजपा ने बिहार को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लेते हुए 2020 से 2025 तक का रोड मैप यानी अपना संकल्प पत्र जारी किया.  घोषणा पत्र को 5 सूत्र, एक लक्ष्य 11 संकल्प के विजन के साथ जारी किया गया है. पटना में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पार्टी का घोषणा पत्र जारी करते हुए कहा कि बिहार के लिए संकल्प पत्र पेश करते हुए कहा कि मुझे खुशी हो रही है. बिहार एक ऐसा प्रदेश है जहां के लोग राजनीतिक रुप से काफी संवेदनशील और जागरुक हैं. बिहार के लोगों को संकल्प पत्र पर भरोसा दिलाना इतना आसान नहीं है लेकिन भरोसे को आधार बनाते हुए हमने इसे जारी किया है क्योंकि गत वर्षों में संकल्प पत्र के हर वादे को हमने पूरा किया. हमे पूर्ण आत्मविश्वास है कि इन वादों को पूरा कर पाएंगे. पांच सूत्र शिक्षित बिहार आत्मनिर्भर बिहार, स्वस्थ समाज आत्मनिर्भर बिहार, गांव-शहर सबका विकास, सशक्त कृषि समृद्ध किसान तथा उद्योग आधार सबल समाज एक लक्ष्य आत्मनिर्भर बिहार 11 संकल्प 1.    हर बिहारवासी को कोरोना वैक्सीन का मुफ्त टीकाकरण करवाएंगे। 2.    अगले एक वर्ष में सभी शिक्षण संस्थानों  में तीन लाख नए शिक्षकों की नियुक्ति करेंगे। 3.    बिहार को नेक्स्ट जेनरेशन आईटी हब के रुप में विकसित करके अगले 5 वर्षों में 5 लाख से ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएंगे 4.    स्वयं सहायता समूहों तथा माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं के माध्यम से 50 हजार करोड़ की माइक्रो फाइनेंस से 1 करोड़ महिलाओं को स्वावलंबी बनाएँगे। 5.    10 हजार चिकित्सक, 50 हजार पैरामेडिकल कर्मियों सहित राज्य में कुल एक लाख लोगों स्वास्थ्य विभाग में नौकरी के अवसर प्रदान करेंगे, दरभंगा एम्स को 2024 तक चालू करेंगे। 6.    धान तथा गेंहू के बाद अब दलहन की भी खरीद एमएसपी की निर्धारित दरों पर ही करेंगे। 7.    बिहार के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों के और 30 लाख लोगों को वर्ष 2022 तक पक्के मकान देंगे। 8.    मेडिकल, इंजिनियरिंग समेत सभी तकनीकी शिक्षा को हिंदी भाषा में उपलब्ध कराएंगे। 9.    अगले 2 वर्षों में निजी एवं कोम्फेड आधारित 15 नए प्रोसेसिंग उद्योग खड़े करेंगे। 10.  अगले दो वर्षों में इनलैंड यानी मीठे पानी में पलने वाली मछलियों के उत्पादन में राज्य को देश का नंबर एक राज्य बनाएँगे। 11.  बिहार के एक हजार नए किसान उत्पादन संघों (एफपीओ) को आपस में जोड़कर राज्य भर के विशेष फसल उत्पाद जैसे मक्का, फल, सब्जी, चुड़ा, मखाना, पान, मसाला, शहद, मेंथा, औषधीय पौधों का सप्लाई चेन विकसित करेंगे। इससे प्रदेश मे् रोजगार के अवसर सृजित होंगे। संकल्प पत्र को पेश करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने कहा कि भाजपा है तो भरोसा है और इसी भरोसे के साथ हमने घोषणापत्र लाया है. हमारा दो सबसे प्रमुख कार्य राष्ट्रवाद और विकास है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश को गरीब-कल्याण और आधार भूत संरचना के विकास तथा आर्थिक उन्नति के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लेते हए प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने का फैसला किया है.  pncb

Read more

बड़ा सवाल: 10 लाख रोजगार के लिए पैसे कहां से आएंगे!

अतिरिक्त 58 हजार करोड़ कहां से लाएगा विपक्ष उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आरजेडी के दावे पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि तेजस्वी यादव यह बताएं कि वर्तमान कर्मियों के वेतन मद में 52,734 करोड़ का व्यय होता है. ऐसे में 10 लाख और बहाली हो तो वेतन परही 1 लाख 11 हजार करोड़ से ज्यादा खर्च होगा. विकास के सारे काम को बंद करना चाह रहा है विपक्ष उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि विपक्ष की घोषणा डपोरशंखी है यदि वास्तव में दस लाख लोगों को सरकारी नौकरी दिया जाए तो राज्य के खजाने पर 58,415.06 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा. इसके अलावा पूर्व से कार्यरत 12 लाख से ज्यादा कर्मियों के वेतन मद में होने वाले खर्च 52,734 करोड़ को इसमें जोड़ लें तो यह राशि 1,11,189.06 करोड़ होती है. सुशील मोदी ने सवाल किया है कि जब विपक्ष वेतन पर ही बजट का अधिकांश भाग खर्च करेगा, तो फिर पेंशन, छात्रवृत्ति, साइकिल, पोशाक, मध्याह्न भोजन, कृषि अनुदान, फसल सहायता,पुल-पुलिया, सड़क, बिजली आदि तमाम योजनाओं के लिए पैसे कहां से आयेंगे? वर्तमान में बजट का आकार 2,11,761 करोड़ का है, अगर वेतन में ही 1 लाख 11 हजार करोड़ रु. खर्च होगा तो फिर ब्याज, पुराने कर्ज के भुगतान सहित अन्य 1,28,979 करोड़ के प्रतिबद्ध व्यय के लिए राशि कहां से आयेंगी? उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि विपक्ष के झूठे वायदों के अनुसार अगर 1.25 लाख चिकित्सक और 2.50 लाख पारा मेडिकल स्टाफ की नियुक्ति होती है तो वेतन पर 22,270.95

Read more