PMC की बैठक में हंगामा | महिला पार्षद ने Mayor पुत्र व दो Ward पार्षदों पर किया FIR

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | मंगलवार को बांकीपुर अंचल कार्यालय में हुई बोर्ड की बैठक के बाद वार्ड नंबर 21 की महिला पार्षद पिंकी कुमारी ने पटना मेयर सीता साहू के पुत्र शिशिर कुमार सहित दो पार्षदों, वार्ड 47 के वार्ड पार्षद सतीश गुप्ता तथा वार्ड 48 के वार्ड पार्षद इंद्रजीत चंद्रवंशी पर अश्लील इशारा करने और गाली-गलौज का आरोप लगाया है. इस बावत महिला पार्षद ने पटना के कदमकुआं थाने में एक एफआईआर भी दर्ज कराई है. महिला पार्षद ने अपने ऊपर हमला करने का भी आरोप लगाया है. पिंकी कुमारी का कहना है कि नगर निगम की बैठक के दौरान मेयर सीता साहू जो योजना लाई थीं, उसका उन्होंने विरोध किया तो सदन में ही मौजूद उनके बेटे शिशिर कुमार ने उनको देखकर अभद्र इशारे किए और आंख मारी. उन्होंने कहा कि वह इस मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से शिकायत करेंगी.पीड़ित महिला पार्षद ने आरोप लगाया है कि मंगलवार को बोर्ड की बैठक में मेयर के पुत्र शिशिर कुमार अनधिकृत रूप से बैठे हुए थे. बैठक में एजेंडों पर चर्चा के दौरान मेयर पुत्र ने गैरकानूनी रूप से विरोध करना शुरू कर दिया. पिंकी के अनुसार शिशिर ने उन्हें अश्लील इशारा करते हुए गाली-गलौज भी की. वार्ड पार्षद इंद्रजीत चंद्रवंशी तथा वार्ड पार्षद सतीश गुप्ता ने मेयर पुत्र का साथ दिया तथा उनपर हमला किया. उनके अनुसार जब वे सदन में मौजूद मेयर से इसकी शिकायत की तो उन्होंने हस्तक्षेप करने की बजाय अपने पुत्र का पक्ष लेते हुए इसका सबूत मांगा. पिंकी कुमारी ने पटना नाउ

Read more

अपराध के खिलाफ छात्र संगठन हुए एकजुट, शिक्षण संस्थानों को बंद करने का किया एलान

‘दुलदुल’ पर हमले के बाद सभी छात्र संगठन हुए एकजुट,भोजपुर SP से भी की मुलाकात विरोध में सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करने का एलान आरा, 19 अगस्त.रविवार को दिनदहाड़े डीएम कोठी के नजदीक NSUI जिलाध्यक्ष मनीष सिंह उर्फ दुलदुल सिंह पर हुए कातिलाना हमले के 24 घण्टे बाद भी अपराधियो के नही पकड़े जाने पर सभी छात्र संगठन अटैकिंग मोड में आ गए हैं. सभी छात्र संगठनों ने इस मुद्दे को ले बैठ की और आज सर्वदलीय प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित किया. इस बैठक की अध्यक्षता NSUI के प्रदेश अध्यक्ष चुन्नू सिंह ने की. उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द से जल्द दोषियों को पुलिस गिरफ्तार कर सजा नहीं देती है तो संगठन पूरे प्रदेश स्तर पर आंदोलन करने को बाध्य होगी. वहीं संचालन करते हुए युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव ने कहा कि शहर के पॉश और VIP इलाके में दिनदहाड़े दर्जनभर गोलियों का चलना यह संकेत है कि प्रशासन के नाक के नीचे यह सबकुछ चल रहा है. बता दें कि घटना वाले जगह पर जिला पदाधिकारी, सीजीएम तथा मुख्य दंडाधिकारी जैसे लोगों का आवास है. उन्होंने कहा कि अपराधियों ने शहर की विधि व्यवस्था को खुली चुनौती दे पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोल दी है. उन्होंने कहाँ की इस घटना से साबित होता है कि शहर में कोई भी सुरक्षित नहीं है. वही आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई CYSS के नेता के एम ठाकुर ने कहा कि निरंतर सुशासन बाबू के सरकार में अपराधियों का मनोबल बढ़ता

Read more

जगन्नाथ मिश्रा के निधन पर जताया शोक| सुशील मोदी ने दिल्ली जाकर श्रद्धा सुमन अर्पित किया

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट)| बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के कद्दावर नेता डॉ जगन्नाथ मिश्रा के निधन पर बिहार विधान परिषद के कार्यकारी सभापति मो. हारुण रशीद ने गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि डॉ साहब बिहार के तीन बार मुख्यमंत्री रहे और मिथिलांचल के सर्वमान्य राजनीतिज्ञ थे. वह 90 के दशक में केंद्रीय कैबिनेट के ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री भी रहे थे. बिहार में डॉ मिश्र का नाम बड़े नेताओं के तौर पर जाना जाता है.डॉ जगन्नाथ मिश्रा ने प्रोफेसर के रूप में अपना कैरियर शुरू किया था. उनकी रुचि राजनीति में बचपन से ही थी. उनके बड़े भाई स्व ललित नारायण मिश्रा राजनीति में थे और देश के रेल मंत्री थे. उनकी कमी हमें खलेगी और यह अपूरणीय क्षति है. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. जगन्नाथ मिश्रा के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर उनके पार्थिव शरीर पर श्रद्धा सुमन अर्पित किया. बिहार के पूर्व सीएम डॉ जगन्नाथ मिश्र के निधन पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गहरा दुख व्यक्त किया है.सुशील मोदी ने अपने शोक संदेश में डॉ जगन्नाथ मिश्र के निधन को बिहार और देश की राजनीति की अपूरणीय क्षति बताते हुए कहा है कि निकट भविष्य में इसकी भरपाई सम्भव नहीं है. तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री और केंद्र की सरकार में भी मंत्री पद का दायित्व निभा चुके डॉ मिश्र को भूला पाना बिहारवासियों के लिए सम्भव नहीं होगा.मोदी ने दिवंगत आत्मा की शांति व दुख की इस घड़ी में शुभचिंतकों, समर्थकों और परिजनों को धैर्य प्रदान करने

Read more

नहीं रहे बिहार के पूर्व CM जगन्नाथ मिश्रा | मुख्यमंत्री ने जताया शोक

पटना, 19 अगस्त. लंबे समय से बीमार चल रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का आज दिल्ली में निधन हो गया. वे 82 वर्ष के थे. वे बिहार के तीन बार मुख्यमंत्री रहे. अपने राजनीतिक जीवन मे पहली बार 1975 में मुख्यमंत्री बने और अप्रैल 1977 तक रहे. उसके बाद 1980 में उन्होंने तीन साल के लिए मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली. फिर 1989 में तीन महीने के लिए सीएम रहे. उनपर चारा घोटाले का भी दाग रहा जिसकी वजह से कई महीने उन्हें जेल में बितानी पड़ी. जगन्नाथ मिश्रा लंबे समय तक कांग्रेस में रहे. भाई एलएन मिश्रा की हत्या के बाद 80 के दशक में वह राजनीति के केंद्र में आए थे. उनका पुत्र नीतीश मिश्रा अब भारतीय जनता पार्टी में शामिल है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताया शोकडॉ मिश्रा के निधन पर नीतीश कुमार ने गहरा शोक व्यक्त किया है. मुख्यमंत्री ने अपने शोक-संदेश में कहा है कि डाॅ जगन्नाथ मिश्रा एक प्रख्यात राजनेता एव शिक्षाविद् थे. बिहार के साथ-साथ देश की राजनीति में उनका बहुमूल्य योगदान रहा है. उनके निधन से न केवल बिहार बल्कि पूरे देश की राजनीतिक, सामाजिक एव शिक्षा के क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है. मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर-शान्ति तथा उनके परिजनों एव प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है. डाॅ जगन्नाथ मिश्रा के निधन पर राज्य में तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की गयी है. उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ

Read more

NSUI जिलाध्यक्ष गोलीकांड में नया खुलासा… पहले से थी जानकारी

दुलदुल को पहले से ही थी किसी अनहोनी का शक अपनी सुरक्षा के लिए पहले से किया था NSUI जिलाध्यक्ष ने पुलिस को आगाह, पर नही रुकी वारदात Patna now Exclusive आरा,18 अगस्त. भोजपुर में अपराधी बेलगाम हो गए हैं. निडर ऐसे जैसे ये जैसे जांबाज जवान हो. इन अपराधियों का कहर ऐसा बढ़ गया है जिसे जहाँ और जब मन करता है गोलियां बरसा चल देते हैं. पिछले कुछ दिनों में भोजपुर जिले में फिर से अपराधियों की हनक बढ़ी है. आज सुबह तड़के डीएम कोठी के समीप अपराधियों ने NSUI जिलाध्यक्ष समेत दो को गोली मार दी और फरार हो गए. डीएम कोठी जैसे VIP एरिया में अपराधियों का गोली मारकर भाग जाना पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान है. जब इतने VIP एरिया में ऐसी घटना पर लगाम नही लग सकता तो शहरवासियों की सुरक्षा क्या भोजपुर पुलिस कर सकती है? घटना के बारे मिली सूचना के अनुसार अपराधी बाइक पर सवार थे जिनकी संख्या तीन थी. अपराधियों ने बिना कुछ कहे सुने NSUI जिलाध्यक्ष मनीष सिंह उर्फ दुलदुल सिंह और उनके साथ उस वक्त गाड़ी पर सवार उनके मित्र अप्पू सिंह पर दनादन गोलियां बरसा दी और चलते बने. अपराधियों द्वारा दागी गयी गोलियों में दुलदुल सिंह को 3 गोली और अप्पू को 4 गोलियां लगी. गोली लगने के बावजूद दुलदुल सिंह ने बहादुरी दिखाई और घटना स्थल से दोनों बाइक पर सवार डॉक्टर के पास आये. उनका इलाज डॉ विकास सिंह के क्लीनिक में हुआ जहाँ दोनों की हालत क्रिटिकल थी लेकिन डॉ विकास ने

Read more

भारतीय राजनीति का सितारा अस्त

कोइलवर/पटना (आमोद कुमार की रिपोर्ट)| भारतीय राजनीति में अपनी चमक बिखरने वाली विदुषी, अपने ओजस्वी, मृदुभाषी वक्तव्य से सामने वाले को मात देने वाली, भारत की विदेशी नीति को धार देने वाली, देश की पूर्व विदेश मंत्री तथा दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री के पद पर रहते हुए राजनीति में अपने कार्यों की अमिट छाप छोड़ने वाली सुषमा स्वराज का आज तड़के दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया.सुषमा स्वराज के निधन का समाचार मिलते ही पूरा देश शोक में डूब गया. ऐसा लगा जैसे देश ने एक अनमोल हीरा खो दिया. वाकई यह दुखद समाचार देश के लिए असहनीय है. उनके मृत्यु की सूचना देश के हर कोने में आग की तरह फैल गई और हर तरफ से शोक-श्रद्धांजलि अर्पित किया जाने लगा. कोईलवर प्रखंड के सभी प्राथमिक, मध्य, उच्च एवं निजी विद्यालयों में शोक- सभा का आयोजन किया गया जिसमें विद्यालय के छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों ने दो मिनट का मौन रखकर अपने दिवंगत नेत्री को श्रद्धा- सुमन अर्पित किया. कोईलवर प्रखंड के मध्य विद्यालय, काजीचक, महम्मदपुर, पचैना बाजार, नया हरिपुर, कायम नगर, भदवर, धनडीहां, राजापुर,कुल्हड़िया, सकड्डी, गिधा में दिवंगत नेत्री को श्रद्धांजलि अर्पित किया गया जिसमें राजाराम सिंह ‘प्रियदर्शी’, इन्द्रमोहन,रमेश कुमार राम,विष्णु देव,अजय कुमार, राजेश कुमार, राम एकबाल,डा. राजेंद्र प्रसाद, मो.सुधीर सिंह, अरुण कुमार, मोइनुलुल्लाह सहित हजारों छात्र-छात्राएं एवं शिक्षक सम्मिलित हुए.

Read more

सुषमा स्वराज का निधन

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन, दिल्ली के एम्स अस्पताल में ली आखिरी सांस. सुषमा स्वराज देश की पहली महिला विदेश मंत्री थीं. बीजेपी के शासन के दौरान सुषमा दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रही थींं. उन्हें दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनने का गौरव प्राप्त हुआ था. सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 को हुआ था. उन्होंने अंबाला में एसडी कॉलेज अम्बाला छावनी से बीए किया और पंजाब यूनिवर्सिटी से चंडीगढ़ से लॉ की पढ़ाई की थी.वे लंबे अर्से से बीमार चल रही थीं और उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था. बीमारी की वजह से ही उन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव से खुद को अलग रखा था.

Read more

जनसंघ ने केंद्र सरकार का क्यों किया अभिनन्दन ?

जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को न्याय देने के लिए केन्द्र सरकार का अभिनन्दन- जनसंघ आरा, 5 अगस्त. जिस जम्मू कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाने के लिए कोलकाता से जम्मू तक पैदल यात्रा जनसंघ के संस्थापक स्वर्गीय श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने की थी और जिस यात्रा के बाद वहां पहुंचते ही उन्हें नजरबंद कर दिया गया था. कहते हैं कि उस नजरबंद से छूटने के बाद कुछ ही दिनों बाद उनकी मौत भी हो गयी थी. आज उस जम्मू-कश्मीर में धारा 370 के हटाने के ऐलान के साथ ही उनके सपने साकार हो गए. उनके सपने को साकार करने के लिए जनसंघ ने केंद्र सरकार को अभिनन्दन किया है. अखिल भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य भारतभूषण पाण्डेय ने जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाख के नागरिकों को न्याय देने के लिए केन्द्र सरकार का अभिनन्दन किया है. उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद ३७०के भेदभाव और राष्ट्रघाती प्रावधानों तथा अनुच्छेद ३५अ के नागरिकता विभेदकारी उपबंधों को निरस्त करने के लिए भारत सरकार विशेषकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का जनसंघ हृदय से अभिनंदन करता है. आज से ६६वर्ष पूर्व जनसंघ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने जो संघर्ष किया तथा श्रीनगर जेल में अपना बलिदान किया वह आज सार्थक होता दिख रहा है. जनसंघ संस्थापक प्रो. बलराज मधोक ने कश्मीर समस्या का जो समाधान सुझाया था और जनसंघ कार्यसमिति ने उसे पारित किया था उसकी भावना के अनुरूप दृढ़ कदम उठाने के लिए भारत सरकार बधाई की पात्र है. कश्मीर घाटी, जम्मू और लद्दाख के नागरिकों के लिए

Read more

कौन है संविधान का हत्यारा, और किसने कहा सोमवार को काला दिन

BJP संविधान का हत्यारा-गुलाम नबी आजाद आज़ाद भारत के लिए आज का दिन “काला दिन”- HAM पटना, 5 अगस्त. धारा 370 संशोधन विधेयक पर तरह तरह की प्रतिक्रियाये मिल रही हैं. जहाँ आम जनता में खुशी की लहर है वही विपक्षियों के चेहरे गुस्से से लाल है. राजनीति से जुड़े विपक्षियों में खासा नाराजगी है इस विधेयक को लेकर. कोई आज के दिन को ही काला दिवस घोषित कर रहा है तो कोई बीजेपी को कानून का हत्यारा.  राज्यसभा में गुलाम नबी आजाद ने कहा कि अनुच्छेद 370 के तहत ही जम्मू कश्मीर को भारत के साथ जोड़ा गया था और इसके पीछे लाखों लोगों ने कुर्बानियां दी है. उन्होंने कहा कि हजारों नेताओं ने अपने नेता और कार्यकर्ता खो दिए हैं. आजाद ने कहा कि 1947 से हजारों आम नागरिकों की जान गई हैं. जम्मू कश्मीर को भारत के साथ रखने के लिए हजारों बलिदान हुए हैं. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख के लोग हर हालत में भारत के साथ खड़े रहे. आजाद ने कहा कि यह ऐतिहासिक दिन है और यह कोई आम बात नहीं है. उन्होंने कहा कि मैं इस कानून का कड़े शब्दों में विरोध करता हूं और हम भारत के संविधान की रक्षा के लिए अपनी जान की बाजी लगा देंगे लेकिन हम उस एक्ट का विरोध करते हैं जो हिन्दुस्तान के संविधान को जलाते हैं. बीजेपी ने इसी संविधान की हत्या की है. वही इस विधेयक पर हिन्दूस्तानी आवाम मोर्चा के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि आज़ाद भारत के लिए आज

Read more

70 सालों बाद मिली आजादी…अब हुआ एक भारत

राज्यसभा में जोरदार हंगामे के साथ हुआ मोदी सरकार का सबसे बड़ा फैसला. मोदी सरकार ने हटाई जम्मू-कश्मीर से धारा 370, दो टुकड़ों में बंटा राज्य, जम्मू-कश्मीर अब केंद्र शासित प्रदेश, लद्दाख अलग नई दिल्ली. 5 अगस्त. आजादी के बाद भी भारत मे जम्मू-काश्मीर स्वतंत्र राज्य के रूप में रह भारत की एकता को हमेशा मुँह चिढ़ाता था. जसको लेकर पड़ोसी देश से हमेशा तीखी नोक-झोंक होती रहती थी. लेकिन आजाती के 70 सालों बाद सरकार के एक अहम फैसले ने इसे स्वतंत्र भारत की आबोहवा में इसे भी स्वतंत्रता दे असली जिंदगी दी है. जम्मू-कश्मीर पर भारत सरकार का जबरदस्त एक्शन प्लान आज भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में धारा 370 को लेकर संकल्प पेश किया. साथ ही साथ जम्मू कश्मीर में 10% आरक्षण संशोधन बिल भी पेश किया. बिल पेश करने से पहले राष्ट्रपति ने इस बिल को मंजूरी दे दी थी. गृह मंत्री अमित शाह ने संकल्प पेश करते हुए कहा की 370 के एक खंड को छोड़कर बाकी सभी खंड को समाप्त कर दिया गया है. अब जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया जाएगा. यही नहीं जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग राज्य बनाया जाएगा इससे साफ जाहिर हो गया कि मोदी राज में कश्मीर की एक अलग नीति बन गई है. संकल्प पेश करने के दौरान विपक्षी पार्टियों ने राज्यसभा में जबरदस्त हंगामा किया. लद्दाख को किया जम्मू कश्मीर से अलग जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश का मिला दर्जा क्या मिशन कश्मीर पर अब चलेगी मोदी नीति! आजादी के 70 साल

Read more