पहले चरण में 53 फीसदी रही वोटिंग

बिहार में पहले चरण के चुनाव में जमकर वोटिंग हुई. पिछली बार से 2.25 फीसदी ज्यादा लोगों ने इस बार अपने मताधिकार का प्रयोग किया. सबसे ज्यादा पोलिंग गया में जबकि सबसे कम वोटिंग औरंगाबाद में हुई. फिर भी हर जगह पोलिंग परसेंटेज पिछले (2014) लोकसभा चुनाव से ज्यादा रहा. कहां कितनी हुई वोटिंग औरंगाबाद 51.5% नवादा 52.5% जमुई 54% गया 56.5%

Read more

राजद का घोषणा पत्र जनता के छलावा

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | जनता दल (यू) के प्रदेश प्रवक्ता अरविंद निषाद ने राष्ट्रीय जनता दल के घोषणा पत्र पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि राजद अपने 15 वर्षों के शासनकाल में पंचायत चुनाव में वंचित वर्ग (अतिपिछड़ा वर्ग) को आरक्षण देने का निर्देश दिया था. लालू राबड़ी की सरकार ने न्यायालय के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एल पी ए दायर कर दिया जिसके फलस्वरूप बिहार के सबसे बड़ी आबादी को आरक्षण से महरूम होना पड़ा. पंचायत चुनाव में अतिपिछड़ा समाज को कैसे वंचित किया गया आज नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को स्थिति स्पष्ट करना चाहिये था. राजद को बताना चाहिए कि इस लोकसभा चुनाव में वंचित समाज को कितना उम्मीदवार बनाया है?  निषाद ने कहा कि सब्जीबाग दिखाकर दलितों/पिछड़ो का वोट लेने के लिए सत्तर प्रतिशत आरक्षण का राग अलापा जा रहा है. जब लालू प्रसाद संयुक्त मोर्चा की सरकार बनाने में किंग मेकर की भूमिका में थे उस समय जाति आधारित जनगणना कराने में अपनी महती भूमिका निभा सकते थे किंतु उन्होंने इसे मुद्दा नहीं बनाया, श्री निषाद ने तेजस्वी यादव को चुनौती दिया की सरकार बनने पर जातीय जनगणना कराने को लेकर राहुल गांधी से 11 अप्रैल को गया में सार्वजनिक रूप से घोषणा कराये क्या?                                       

Read more

आरजेडी ने जारी किया घोषणा-पत्र | ताड़ी पर से हटेगा प्रतिबंध

पटना (राजेश तिवारी की रिपोर्ट)| आरजेडी ने आज लोकसभा  चुनाव से पहले अपना घोषणापत्र जारी किया. घोषणापत्र जारी करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि यह घोषणा-पत्र पार्टी का प्रतिबद्धता पत्र है. तेजस्वी यादव ने पटना स्थित आरजेडी कार्यालय में घोषणा-पत्र जारी किया. हर हाथ में रोटी और कलम – घोषणा-पत्र जारी करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि हमारी कोशिश होगी कि हर थाल में रोटी और हर हाथ में कलम हो .साथ ही उन्होने कहा कि हर घर में विकास पहुंचे यही हमारा लक्ष्य है. इस दौरान तेजस्वी यादव ने कहा कि हमारा देश किसी की बपौती नहीं है.सातवीं पास होंगे सिपाहीघोषणा-पत्र जारी करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि जब हमारी केंद्र और राज्य में सरकार बनेगी तो बिहार में सातवी पास भी सिपाही की बहाली में शामिल होगा. यहीं नहीं अभी तक जितनी भी रिक्तियां खाली है उसे जल्द से जल्द भरने का काम करेंगी. आबादी के हिसाब से आरक्षण – आरजेडी ने घोषणा-पत्र जारी करते हुए कहा कि हम देश में सवर्णों के खिलाफ न आबादी के हिसाब के आरक्षण होना चाहिए..साथ ही सरकारी नौकरियों में प्रमोशन में आरक्षण का प्रस्ताव लाया जाएगा. सवर्ण आरक्षण पर भी बयान देते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि स्वर्ण अमीरों को आरक्षण मिला है न कि स्वर्ण गरीबों के लिए आरक्षण दिया गया. मुख्य मुद्दा गरीबी है, जो गरीब हैं फिर चाहे वो सवर्ण हो या दलित उन्हें आरक्षण मिलना चाहिए. ताड़ी पर से हटेगा रोक – आरजेडी ने घोषणा-पत्र में कहा है कि अगर बिहार में आरजेडी

Read more

मधुबनी में राजद ने दिया वीआइपी को प्रत्याशी

मधुबनी लोकसभा सीट से ई. बद्री कुमार पूर्वे होंगे महागठबंधन के उम्‍मीदवार वीआईपी प्रमुख सन ऑफ मल्‍लाह मुकेश सहनी ने किया एलान कहा – राजनीतिक अनुभव रखने वाले व्‍यक्ति हैं ई. बद्री कुमार पूर्वे मधुबनी लोकसभा सीट से महागठबंधन ने ई. बद्री कुमार पूर्वे अपना उम्‍मीदवार बनाया है. पूर्वे विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे. इसकी आधिकारिक घोषणा आज वीआईपी पार्टी के पटना स्थित कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन में पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सह खगडि़या लोकसभा सीट से महागठबंधन के उम्‍मीदवार सन ऑफ मल्‍लाह मुकेश सहनी ने की. इस दौरान पत्रकारों को संबोधित करते हुए सन ऑफ मल्‍लाह मुकेश सहनी ने कहा कि महागठबंधन में हमारी पार्टी को तीन सीटें मिलीं हैं. इनमें खगड़िया, मुजफ्फरपुर और मधुबनी की सीटें शामिल हैं. दो सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा हम पहले कर चुके थे. अब तीसरी सीट मधुबनी की थी, जिसकी घोषणा आज हमने कर दी है. इस सीट पर एक राजनीतिक अनुभव रखने वाले व्यक्ति ई. बद्री कुमार पूर्वे चुनाव लड़ेंगे. उन्‍होंने कहा कि पूर्वे सिविल इंजीनियर हैं और छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय रहे हैं. वर्तमान में राजद के प्रदेश महासचिव के पद पर कार्यरत थे. उनके सामाजिक अनुभव, राजनीतिक समर्पण और सामाजिक विचारधारा को देखकर मुधबनी लोकसभा सीट के लिए हमने टिकट देने का काम किया है. पूर्वे बद्रीनगर एनएच – 57 मधुबनी रोड, वासुदेवपुर के निवासी हैं. मुकेश सहनी ने आगे कहा कि बद्री कुमार पूर्वे मधुबनी में पार्टी के हित में काम करेंगे. हमें पूरा भरोसा है कि वो पार्टी के लिए मजबूती

Read more

वादों को पूरा करने में विफल रही मोदी सरकार

2014 में किये वादों को पूरा करने में पूरी तरह विफल रही मोदी सरकार : रंजीत रंजन सुपौल से कांग्रेस की उम्‍मीदवार व सांसद रंजीत रंजन किया नामांकन प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष मदन मोहन झा ने कहा – देश बचाने के लिए करें कांग्रेस को वोट सुपौल. लोकसभा चुनाव में सुपौल से कांग्रेस की उम्‍मीदवार सह सांसद रंजीत रंजन ने जिला समाहरणालय में निर्वाचन पदाधिकारी के समक्ष अपना नामांकन कर दिया है. नामांकन के लिए घर से निकलते वक्‍त उन्‍हें सास – ससुर और पति पप्‍पू यादव ने तिलक लगाकार शुभकामनाएं दी. इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ वे सुपौल जिला समाहरणालय पहुंची और अपना पर्चा दाखिल किया. नामांकन के बाद सुपौल के गांधी मैदान में एक विशाल जन सभा का आयोजन भी किया गया, जिसमें बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्‍यक्ष मदन मोहन झा समेत महागठबंधन के अन्‍य नेता मौजूद रहे. रंजीत रंजन को मदन मोहन झा का आशीर्वाद भी मिला. इसके बाद रंजीत रंजन ने केंद्र की मोदी सरकार और राज्‍य की नीतीश सरकार को जमकर निशाना बनाया. रंजीत रंजन ने कहा कि कांग्रेस वादे पूरे करने में विश्‍वास करती है, जबकि भाजपा खुद अपने वादों को चुनाव के बाद जुमले बता देती है।.उन्‍होंने 2014 के चुनाव में जितने भी वादे किये, उसका 10 प्रतिशत भी वे पूरा नहीं कर पाये. कहा काला धन लायेंगे, युवाओं को रोजगार देंगे, बेटियों को सुरक्षा देंगे, गैस सिलिंडर का दाम कम करेंगे, महंगाई कम करेंगे, ऐसे कई वादे किये, लेकिन जब काम करने की बारी आयी, तो देश को नफरत की आग में

Read more

मिथिलांचल में महागठबंधन : क्यों हाशिये पर हैं ब्राह्मण

पटना (निखिल के डी वर्मा की रिपोर्ट) | बात शुरू करता हूं जेपी आन्दोलन की. यह आन्दोलन देश में हावी हो रही कथित कानूनी अराजकता और संवैधानिक संकट के विरोध में हुआ था. नतीजा भी बेहतर रहा. केन्द्र से लेकर राज्यों तक सत्ता बदल गई. नई मानसिकता के साथ शासन की शुरुआत हुई. नब्बे के दशक के शुरुआती दिनों तक सब ठीक रहा. बाद के दिनों में राजनीतिक सोच जाति और धर्म के इर्द-गिर्द घूमने लगा. बिहार में लालू को सत्ता मिली. सामाजिक ताना बाना बदलने लगा. पिछड़ों को पहचान मिली लेकिन समाज में जातीय तनाव फन उठाना शुरू किया. नतीजे के तौर पर सूबे में कई नरसंहार हुए. जातियों को आधार बना कर वोटों का ध्रुवीकरण शुरू हुआ, बल्कि कुछ पार्टियां जाति विशेष के तौर पर पहचान बनाने में कामयाब रही. इन पार्टियों के नेता राज्यहित को दरकिनार करते हुए खुद के लिए जाति के नाम पर गोलबंदी किया. यह दौर भी लम्बा चला, कई अहित हुए, कई जातीय समीकरण बदले. लेकिन एक-दो जातियों के प्रति राजनीतिक पार्टियों का एप्रोच आज भी नहीं बदला है. यहां बात की जा रही है महागठबंधन में लीड रोल में शामिल राजद की. राजद के शुरुआती दौर में वरीय ब्राह्मण नेताओं के तौर पर शिवानंद तिवारी (जो खुद भी जाति के नेता के तौर पर अपनी पहचान नहीं मानते) और रघुनाथ झा का उल्लेख किया जा सकता है. रघुनाथ झा अब नहीं रहे और शिवानंद बाबा कभी भी जातीय हित की बात करना मुनासिब नहीं समझा. आज समय बदल गया है. लालू और

Read more

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद दे सकते हैं किसी पत्रकार को पहली बार तबज्जो

पटना / झंझारपुर (ब्यूरो रिपोर्ट) | 2019 के लोकसभा चुनाव का विगुल फूंका जा चुका है. सभी पार्टियां अपनी जीत का समीकरण बैठाने में लगी हैं. ऐसे में बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में एनडीए प्रत्याशियों का एलान कर दिया गया है. एक सीट को छोड़ 39 उम्मीदवारों की सूची भी जारी कर दी गई है. महागठबंधन ने भी सीट शेयरिंग के तहत सीटों का ऐलान कर दिया है. आरजेडी को 20, कांग्रेस को नौ, मांझी की पार्टी को तीन, कुशवाहा की पार्टी को पांच और वीआईपी को तीन सीटें दी गई हैं. शरद यादव आरजेडी के चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरेंगे. जहां एक तरफ एनडीए ने झंझारपुर लोकसभा सीट जेडीयू को दिया है वहीं महागठबंधन की ओर से यह सीट राजद के खाते में है. जदयू ने यहां से रामप्रीत मंडल को उम्मीदवार बनाया है.रामप्रीत मंडल पहले राजद में थे और अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष थे. सितम्बर 2017 में वे जदूय में शामिल हुए थे. अब देखना है कि जदयू इस फैसले को सही साबित करता है कि नहीं. अपनी छवि को सुधारने की कवायत के तहत राजद अच्छे उम्मीदवारों को मैदान में उतारने में लगा है. इसी कड़ी में, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पहली बार किसी पत्रकार को तबज्जो देते हुए मिथिलांचल के प्रतिष्ठित मिश्रा परिवार में जन्मे तथा प्रसिद्ध पत्रकार राजीव मिश्र को झंझारपुर सीट से उम्मीदवार बना सकते हैं. ये वही राजीव मिश्र हैं जिनके परिवार का झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र से पुराना रिश्ता है. राजीव मिश्र के चाचा पूर्व केंद्रीय रेल

Read more

बिहार: किस डेट पर किन किन सीटों पर होंगे चुनाव

बिहार इस बार उन तीन विशेष राज्यों में से है जिनमें सभी सात चरणों में वोट डाले जाएंगे. बिहार के अलावा यूपी और पश्चिम बंगाल में भी सभी सात चरणों में मतदान होगा. पहला चरण 11 अप्रैल को होगा जिसमें बिहार की 4 सीटों पर वोटिंग होगी – औरंगाबाद, गया, नवादा, जमुई दूसरा चरण 18 अप्रैल को होगा जिसमें बिहार की 5 सीटों पर वोटिंग होगी – किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर, बांका तीसरा चरण 23 अप्रैल को होगा जिसमें बिहार की 5 सीटों पर वोटिंग होगी – सुपौल, झंझारपुर, मधेपुरा, खगड़िया, अररिया चौथा चरण 29 अप्रैल को होगा जिसमें बिहार की 5 सीटों पर मतदान होगा – दरभंगा, समस्तीपुर, बेगूसराय, उजियारपुर, मुंगेर पांचवां चरण 6 मई को होगा जिसमें बिहार की 5 सीटों पर वोटिंग होगी – सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर, हाजीपुर, मधुबनी, सारण छठा चरण 12 मई को होगा जिसमें बिहार की 8 सीटों पर मतदान होगा – शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, बाल्मीकिनगर, सिवान, महाराजगंज सातवां चरण 19 मई को होगा जिसमें बिहार की 8 सीटों पर वोटिंग होगी – पटनासाहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, जहानाबाद, काराकाट, नालंदा, सासाराम 23 मई को 17वीं लोकसभा के चुनाव के नतीजे आएंगे.

Read more

बिहार में सात चरणों में होंगे चुनाव

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव की घोषणा कर दी है. कुल सात चरणों में चुनाव होंगे, 17वीं लोकसभा के लिए चुनाव की घोषणा मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने की .इसके साथ ही देशभर में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है. सात चरणों में चुनाव होंगे और चुनाव के नतीजे 23 मई को आएंगे. बिहार में इस बार सभी सात चरणों में चुनाव आएंगे. यानि हर चरण में बिहार की 4 – 5 से लेकर आठ सीटों पर वोटिंग होगी. बिहार में लोकसभा चुनाव की तारीख – 11 अप्रैल को 4 सीटों पर चुनाव18 अप्रैल को 5 सीटो पर चुनाव23 अप्रैल को 5 सीटों पर चुनाव29 अप्रैल को 5 सीटों पर चुनाव06 मई को 5 सीटों पर चुनाव12 मई को 8 सीटों पर चुनाव19 मई को 8 सीटों पर चुनाव 11 अप्रैल और 18 अप्रैल को पहला और दूसरा चरण23 अप्रैल को तीसरा चरण, 29 अप्रैल को चौथा चरण6 मई को पांचवां चरण, 12 मई को छठा चरण19 मई को आखिरी चरण का चुनावपहले चरण में 91 सीटों के लिए 20 राज्यों में चुनाव दूसरे चरण में 97 सीटों पर 13 राज्यों में होंगे चुनावतीसरे चरण में 14 राज्यों की 115 सीटों पर होंगे चुनावचौैथे चरण में 9 राज्यों की 71 सीटों पर मतदानपांचवें चरण में सात राज्यों की 51 सीटों पर मतदानछठे चरण में सात राज्यों की 59 सीटों पर होगी वोटिंगआखिरी चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंगआंध्रप्रदेश, अरुणाचल, गोवा, गुजरात, केरल में एक फेज में चुनावतमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड में एक

Read more

लोकसभा चुनाव की घोषणा

17वीं लोकसभा के लिए चुनाव की घोषणामुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने किया एलान सात चरणों में होंगे चुनाव आंध्रप्रदेश, अरुणाचल, गोवा, गुजरात, केरल में एक फेज में चुनाव 11 मई को पहला चरण बिहार में सात चरणों में होंगे चुनाव दूसरा चरण 18 मई को होगामतगणना 23 मई को होगी 11 अप्रैल और 18 अप्रैल को पहला और दूसरा चरण 23 अप्रैल को तीसरा चरण, 29 अप्रैल को चौथा चरण 6 मई को पांचवां चरण, 12 मई को छठा चरण 19 मई को आखिरी चरण का चुनाव 17वीं लोकसभा के लिए चुनाव की घोषणा मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने किया एलान आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू PAN नंबर नहीं देने पर उम्मीदवारी रद्द होगी पूरी चुनावी प्रक्रिया की होगी वीडियोग्राफीचुनाव आयोग का हेल्पलाइन नंबर- 1950 सभी प्रत्याशियों को सोशल मीडिया अकाउंट्स की जानकारी देनी होगी लोकसभा के साथ कई राज्यों के भी होंगे चुनाव2014 के बाद अबतक 8.4 करोड़ मतदाता बढ़ेसभी बूथ पर VVPAT मशीनें होंगे चुनाव आचार संहिता लागूचरणों में होंगे लोकसभा चुनावलोकसभा के साथ कई राज्यों के भी होंगे चुनाव 2014 के बाद अबतक 8.4 करोड़ मतदाता बढ़े

Read more