14 या 15 जनवरी- आप कब मना रहे हैं मकर संक्रांति!

हर साल की तरह इस साल भी लोगों के मन में भ्रम है कि आखिर मकर संक्रांति किस दिन मनाएंं. इस वर्ष 14 जनवरी या 15 जनवरी को है मकर संक्रांति. तो ये पूरी जानकारी हम लेकर आए हैं आपके पास इस वीडियो के जरिए, जिसमें आपको मकर संक्रांति का महत्व और इस वर्ष किस दिन मकर संक्रांति मनाना चाहिए; यह पूरी जानकारी आपके लिए उपलब्ध कराई गई है नीचे दिए गए वीडियो में. pncb

Read more

नए साल में किन राशि वालों को बरतनी है सावधानी है और किसकी होगी बल्ले-बल्ले

नया साल आ गया है. नए साल की शुरुआत के साथ ही लोगों के मन में यह सवाल है कि यह साल उनकी राशि के लिए कैसा रहेगा. पढ़ाई, नौकरी, विवाह से लेकर संपत्ति, घर और परिवार के लिए कैसा रहेगा वर्ष 2021. देखिए इस वीडियो में. pncb

Read more

2021 में गृह प्रवेश मुहूर्त

क्या आप का भी सपना है नए साल में नए घर में प्रवेश का! आप गृह प्रवेश के लिए शुभ मुहूर्त जानना चाहते हैं तो वर्ष 2021 में गृह निर्माण की शुरुआत और गृह प्रवेश के लिए शुभ मुहूर्त की पूरी जानकारी हम आपको उपलब्ध करा रहे हैं एक वीडियो के जरिए. आप नीचे दिए गए वीडियो को क्लिक करके पूरी जानकारी पा सकते हैं. pncb

Read more

छठ और सूर्योपासना के मायने

▪️आज जिसकी पूजा का दिन है, वह उन ऋषियों का सूर्य नहीं जिसने उसे सप्ताश्व, मार्तंड और पूषण जैसे वेदोक्त पर्यायों से पुकारा था। यह उन वैज्ञानिकों का सूर्य भी नहीं जो पृथ्वी से उसकी दूरी उसकी किरणों के यात्रा-समय में मापते हैं और अपनी भौतिक जिज्ञासा से प्रेरित होकर यह जान पाने में सफल हो गए हैं कि सूर्य तरल आग और अणुओं-परमाणुओं के बेहद नियंत्रित टूट की प्राकृतिक प्रयोगशाला है! यह उन पंडितों का भी दिन नहीं जिन्हें हम उनके कर्म से अधिक उनके काण्ड से जानते हैं. ▪️यह उन मनुष्यों का दिन है जिन्होंने रात की जानलेवा सुरंग में अपनों और अपने जैसों को खोया था. जिनके लिए आसमान में उगा सोने का गोला एक चमत्कार था और उसका चाँदी जैसी धूप में बदल जाना आकाश का पृथ्वी से प्यार। यह उन पुरखों का दिन है जिनके पास देह को गर्म करने के लिए आग तक नहीं थी।जंगली जाड़े की बेहद ठंडी रातों में तन-मन से ठंडे पत्थरों की गुफा में जीने भर ऊष्मा के लिए दूसरी मानव देह के सिवा और क्या रहा होगा उनके पास ? और क्या रहा होगा सूर्य की ऊष्मा के सिवा जब छोटे दिनों की ठंडी हवाएँ उनके नंगे बदन को चींथकर रख देती होंगी. तब किसे मालूम था कि पेड़ के पत्ते सूर्य के प्रकाश में अपने और अपने इर्द गिर्द बसे जीवों के लिए खाना बनाते हैं; और यह भी किसे पता था कि ऋतु के चक्र का रिंग मास्टर सूर्य ही है और पृथ्वी का गर्भाधान बीज मात्र

Read more

शारदीय नवरात्र की पूरी जानकारी

दुर्गा पूजा कब से है. नवरात्र में कलश स्थापना 2020 में किस दिन होगी. शारदीय नवरात्र में मां की आराधना कैसे करें. इन तमाम सवालों के जवाब जानने हैं तो क्लिक कीजिए और सुनिए कैसे होती है कलश स्थापना और किस विधि से होती है मां की आराधना. कोरोना महामारी को लेकर इस वर्ष पटना सहित अन्य जगहों पर भी पंडाल और मूर्तियों का निर्माण नहीं हो रहा है. ज्यादातर जगहों पर कलश स्थापना कर मां की पूजा होगी और इस महामारी से लोगों को बचाने की प्रार्थना की जाएगी. OP Pandey

Read more

हरितालिका पूजन-विधि

सुयोग्य वर प्राप्ति और अखंड सौभाग्य की कामना से किया जानेवाला हरितालिका तीज का व्रत इस वर्ष 21 अगस्त, दिन-शुक्रवार को है.तो चलिए जानते हैं कि इस व्रत की विधि क्या है और इस व्रत करने का महत्त्व क्या हैसौभाग्यवती स्त्रियां अपने सुहाग को अखण्ड बनाए रखने और कुंवारी कन्याएं मनोवांछित वर के लिए लिए हरितालिका तीज का व्रत करती हैं.माना जाता है कि सबसे पहले माता पार्वती ने भगवान शंकर को पति रूप में पाने के लिए इस कठिन व्रत को किया था.इसलिए इस दिन विशेष रूप से गौरी−शंकर का ही पूजन किया जाता है. हरितालिका पूजन-विधिव्रत के एक दिन पहले सात्विक भोजन करें.सुबह जल्दी उठ कर स्नान करें.दिन भर पूजा की तैयारी करेंपुनः शाम को स्नान करने के बाद नवीन वस्त्र धारण करेंऔर सोलह श्रृंगार करेंहरितालिका तीज का पूजन प्रदोषकाल में किया जाता है.यह दिन और रात के मिलन का समय होता है.पूजन के लिए भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की बालू या काली मिट्टी की प्रतिमा अपने हाथों से बनाएं.पूजास्थल को फूलों से सजाकर एक चौकी रखें और उस चौकी पर केले के पत्ते रखकर भगवान शंकर, माता पार्वती और भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करें.स्वस्तिवाचन के बाद देश काल का उच्चारण कर ‘उमामहेश्वरसायुज्य सिद्धये हरितालिकाव्रतमहं करिष्ये’ मंत्र से व्रत संकल्प करेंइसके बाद सर्वप्रथम भगवान गणेश का षोडशोपचार पूजन करेंऔर फिर माता-पार्वती और भगवान शिव की एक साथ विधि-विधानपूर्वक पूजा करें.सुहाग की पिटारी में सुहाग की सारी सामग्री सजा कर माता पार्वतीजी को अर्पित करेंभगवान शंकर को भी धोती और अंगोछा चढ़ाएं.इस व्रत के व्रती

Read more

एक तरफ लक्ष्मण, एक तरफ सीता, बीच में जगत के पालनहारी…

साकार हुआ सपना, आज से मंदिर निर्माण शुरू प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व के करोड़ों लोगों की आस्था को साकार रूप देने के लिए अयोध्या पहुंचे. पांच अगस्त को शुभ मुहूर्त में भूमि पूजन के साथ अयोध्या में राम मंदिर का वर्षों पुराना सपना साकार रूप लेने जा रहा है. सीधी तस्वीरें नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करके देख सकते हैं. Live from Ayodhya साभार कुछ ऐसा होगा अयोध्या में श्रीराम का मंदिर PNCB

Read more

कैसे हुई रक्षाबंधन की शुरुआत और क्या है राखी का उपयुक्त समय!

ज्योतिष की नजर में राखी भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक बन चुका रक्षाबंधन का त्योहार श्रावण महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है. रक्षाबंधन भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को और गहरा करने वाला पर्व है. एक ओर जहां भाई अपनी बहन के प्रति अपने दायित्व निभाने का वचन देता है, तो दूसरी ओर बहन भी भाई के सुख और समृद्धि के साथ-साथ लंबी उम्र की कामना करती है. इस दिन भाई की कलाई पर जो राखी बहन बांधती है वह सिर्फ रेशम की डोर या धागा मात्र नहीं होती बल्कि वह बहन-भाई के अटूट और पवित्र प्रेम का बंधन होता है.ज्योतिषशास्त्रियों के अनुसार सोमवार को रक्षाबंधन का संयोग अत्यंत ही शुभ माना गया है. इस बार रक्षाबंधन के दिन 8 बजकर 29 मिनट तक भद्रा है. इसलिए 8 बजकर 29 मिनट के बाद दिन भर रक्षाबंधन के लिए शुभ मुहूर्त्त है.इसमें भी विशेष रूप से सुबह 9 से 10.30 बजे तक शुभदोपहर 1.30 से 3 बजे तक चरदोपहर 3 से 4.30 बजे तक लाभशाम 4.30 से 6 बजे तक अमृतऔर शाम 6 से 7.30 बजे तक चर का चौघड़िया रहेगा.इस दिन जहां बहनें अपने भाइयों की कलाई में रक्षासूत्र बांधकर उनके सुख-समृद्धि और लंबी आयु की कामना करती हैं, वहीं पुरोहित तथा आचार्य भी सुबह-सुबह यजमानों के घर पहुँचकर उन्हें राखी बाँधते हैं और बदले में धन, वस्त्र और भोजन आदि प्राप्त करते हैं. यह पर्व भारतीय समाज में इतनी व्यापकता और गहराई से समाया हुआ है कि इसका सामाजिक महत्त्व तो है ही, धर्म, पुराण, इतिहास, साहित्य और

Read more

देवघर से लाइव दर्शन बाबा बैद्यनाथ

देवघर से सीधा प्रसारण सोमवार के दिन अगर देवघर से बाबा बैद्यनाथ लाइव दर्शन हो जाए तो क्या कहने. आइए देखते हैं सोमवारी पर बाबा भोलेनाथ की पूजा का सीधा प्रसारण. साभार

Read more

देवघर में इस वर्ष नहींं लगेगा श्रावणी मेला

तय समय सीमा में ही होगी पूजादेवघर, और दुमका सीमा में बाहर के किसी भी बसों पर पूर्ण रोक पटना,3 जुलाई. सावन के महीने में देश भर आने वाले शिवभक्त इस वर्ष बाबाधाम में बाबा को जल नही चढ़ा पाएँगे. कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए झारखंड सरकार ने इस साल श्रावणी मेले का आयोजन रदद् कर दिया है. वैसे तो सालोभर बाबा की नगरी देवघर गुलजार रहता है लेकिन श्रावणी मेले में इसकी छँटा देखने लायक होती है. जो इस बार देखने को नही मिलेगी. यहाँ तक कि शिवगंगा में स्नान तक करने पर सरकार ने रोक लगा दी है. सावन के महीने में लगने वाले श्रावणी मेले के आयोजन को लेकर झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने दुमका और देवघर उपायुक्त से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात कर कई निदेश दिए हैं. मंदिर परिसर को पूरी तरह से हाई जेनिक करने के साथ रंग-रोगन कर देवघर व बासुकीनाथ मंदिर को और भव्य बनाने का निर्देश दिया है. सीएम ने निर्देश जारी कर कहा है कि बैरीकेडिंग कर शिवगंगा को अच्छी तरह से धेरा जाए ताकि कोई भी उसमें स्नान न कर सके. मुख्यमंत्री ने सूचना तंत्र को मजबूत करने को कहा है जिससे श्रद्धालु एक जगह जमा न हो सकें. पूरे सावन लगभग एक महीने तक इस अवधि में राज्य सरकार ने किसी भी राज्य से देवघर और दुमका की सीमा में बसों के आने तक पर पाबंदी लगा दी है. सरकार ने पदाधिकारियों से कहा है कि झारखण्ड की सीमा पर सूचना वे जगह-जगह सूचना

Read more