कार्तिक पूर्णिमा पर सूर्योदय की बीच लाखों लोगों ने किया स्नान

मन में आस्था, चेहरे पर भक्ति भाव और जुबान पर हर हर गंगा का उल्लास गंगा में डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना की गंगा घाटों पर देर शाम से ही जुटे रहे श्रद्धालु गंगा किनारे लग गया मेला कार्तिक पूर्णिमा पर पटना में मंगलवार को लाखों लोगों ने गंगा में आस्था की डुबकी लगाई और भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया इस दौरान राजधानी पटना में मेले सा माहौल रहा. इस दौरान लगभग गंगा नदी में करीब दो लाख श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई. बाहर से आने वाले श्रद्धालु तो रात से ही गंगा घाटों पर पूरे परिवार के साथ पहुंच गए थे। जहां कार्तिक पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण होने की वजह से कई लोगों ने सोमवार को ही गंगा स्नान कर लिया, मगर अधिकतर श्रद्धालु मंगलवार सुबह डुबकी लगाई. प्रशासन की ओर से पटना में 55 गंगा घाटों पर स्नान करने की व्यवस्था की गई थी. इसके अलावे 183 जगहों पर मजिस्ट्रेट और पुलिस पदाधिकारी की तैनाती की गई. गंगा नदी में गश्ती के लिए दो पालियों में 16 दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी को प्रतिनियुक्त किया गया है. एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 9 टीमें गंगा नदी में पेट्रोलिंग के लिए लगाई गई है . दीघा के मीनार घाट, पाटी पुल घाट, पोस्ट ऑफिस घाट, 92 नंबर घाट, कलेक्ट्रेट घाट, दरभंगा हाउस काली घाट, महेंद्रू घाट, गांधी घाट, गाय घाट, भद्र घाट, महावीर घाट, कृष्णा घाट, पटना कॉलेज घाट, रानी घाट सहित सभी घाटों पर श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जुटी है. बच्चे बूढों और महिलाओं में स्नान को लेकर काफी उत्साह

Read more

चन्द्र ग्रहण में क्या करें और क्या न करें !

पटना, 7 नवंबर (ओ पी पांडेय) . इस साल 8 नवंबर को साल का अंतिम चंद्र ग्रहण है जो शाम 5:35 से 6:19 तक रहेगा. चन्द्रग्रहण के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नही और क्या प्रभाव पड़ेगा किन जातकों पर बता रहे हैं काल भैरव, वाराणसी के वरिष्ठ पुजारी योगी योगेश्वर नाथ. योगी योगेश्वर नाथ के अनुसार ग्रहण का मोक्ष काल 7:27 तक रहेगा. सूतक काल 9 घंटे पहले ही आरंभ हो जाएगा. इस सूतक काल में गर्भवती महिलाएं अत्यंत ही सावधानी बरतें नारियल रखें अपने पास और हनुमान जी का जाप करें. जितना संभव हो सके और अपने लिए और पूरे परिवार के मंगल हेतु गुड़ काला तिल का दान करें. चंद्र ग्रहण में मेष राशि,वृष राशि, कन्या राशि, मकर राशि, विशेष सावधानी बरतें. खास तौर से अपने बोलने में और अपने व्यवहार में और भोजन में भी विशेष सावधानी रखें. यह चंद्रग्रहण मिथुन कर्क वृश्चिक, कुंभ के लिए मंगलकारी होगा. इस ग्रहण काल में समस्त भोजन में या पेय पदार्थ में तुलसी के पत्ते डाल देंगे. तुलसी के पत्ते सूतक काल से पहले ही अपने पास एकत्रित कर लें. देव मूर्तियों को कोई भी स्पर्श ना करें और सूतक काल में भगवान का नाम जपे. ग्रहण काल के मोक्ष के पश्चात श्रीहरि का नाम जपते हुए “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” का जाप करते हुए स्नान करने के पश्चात देव मूर्तियों के माला फूल इत्यादि को बदलेंगे. उन पर जल चेक कर उन्हें नए माला,फूल,फल इत्यादि चढ़ाकर उनका आशीर्वाद लेंगे और अपने स्नान करने के उपरांत अपने धागे

Read more

छठ के लिए नदी किनारे जा रहे हैं तो इन बातों का रखें ख्याल

पटना जिला प्रशासन महापर्व छठ के लिए तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगा है. जिला प्रशासन की ओर से विशेष तौर पर सुरक्षित और खतरनाक घाट चिन्हित किए गए हैं. सुरक्षित घाटों पर छठ व्रतियों के लिए सभी तरह के इंतजाम किए गए हैं. इन सब के बीच जिला प्रशासन ने छठ व्रतियों से खास अपील की है. पटना के प्रमंडलीय आयुक्त कुमार रवि ने कहा कि ज़िला प्रशासन द्वारा नदी एवं तालाब पर कई सुरक्षित और सुविधायुक्त घाटों का निर्माण किया गया है. लेकिन यह ध्यान रखा जाए कि गंगा का जल-स्तर बढ़ा हुआ है. कुमार रवि ने कहा कि कई नदी घाट ख़तरनाक घोषित हैं. छठव्रतियों एवं श्रद्धालुओं से अनुरोध है कि सावधानीपूर्वक सुरक्षित नदी घाटों पर ही पूजा के लिए जाएँ. नदी घाट के जो हिस्से पीले रंग के कपड़े से घिरे हैं उसी हिस्से का इस्तेमाल करें. लाल कपड़े से घिरे हिस्से में नहीं जायें. प्रमंडलीय आयुक्त कुमार रवि ने कहा कि प्रशासन के द्वारा कृत्रिम तालाब भी बनाये गए हैं उसका इस्तेमाल करें. श्रद्धालु घर की छत पर पूजा कर सकते हैं. प्रशासन द्वारा सभी वार्डों में गंगा जल भी भेजा रहा है. उन्होंने कहा कि छठ के दिन ट्रैफिक की व्यवस्था के लिए कई पार्किंग स्थल चिन्हित किए गए हैं. वहाँ पार्किंग के लिए उसी का इस्तेमाल करें. पटना के प्रमंडलीय आयुक्त कुमार रवि ने सभी छठव्रतियों को छठ की शुभकामनाएँ दी हैं . pncb

Read more

आपके शहर में क्या है अर्घ्य का समय!

चार दिवसीय महापर्व में नहाय खाय के बाद खरना और उसके बाद सबसे महत्वपूर्ण है सूर्यास्त और सूर्योदय का अर्ध्य. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि सूर्यास्त और सूर्योदय अर्घ्य का समय क्या है. आइये जानते हैं बिहार के विभिन्न शहरों में अर्घ्य का समय-जिला 30 अक्टूबर 31 अक्टूबर पटना शाम 5.10 सुबह 5.57 भोजपुर शाम 5.12 सुबह 5.59गया शाम 5.11 सुबह 5.56 जहानाबाद शाम 5.11 सुबह 5.57 अरवल शाम 5.12 सुबह 5.58 पूर्वी चम्पारण शाम 5.10 सुबह 5.59 पश्चिम चम्पारण शाम 5.11 सुबह 6.01 सारण शाम 5.11 सुबह 5.59 सीवान शाम 5.12 सुबह 6.01 वैशाली शाम 5.09 सुबह 5.56 नालंदा शाम 5.09 सुबह 5.55 नवादा शाम 5.09 सुबह 5.54 मुजफ्फरपुर शाम 5.08 सुबह 5.57 भागलपुर शाम 5.03 सुबह 5.49 दरभंगा शाम 5.06 सुबह 5.55 मधुबनी शाम 5.05 सुबह 5.54 सुपौल 5.03 5.52 अररिया 5.00 5.48 रोहतास 5.15 6.01 शेखपुरा 5.08 5.53 गोपालगंज 5.12 6.01 जमुई 5.06 5.52 बक्सर 5.15 6.01 शिवहर 5.08 5.57 समस्तीपुर 5.07 5.55 औरंगाबाद 5.14 5.59 बेगूसराय 5.06 5.53खगड़िया 5.05 5.51 बांका 5.04 5.48 कटिहार 5.00 5.47 भभुआ 5.17 6.02किशनगंज 4.58 5.46 पूर्णिया 5.00 5.48 लखीसराय 5.07 5.53 मधेपुरा 5.03 5.51 सहरसा 5.04 5.51 मुंगेर 5.05 5.51 pncb

Read more

मनोकामना मंदिर में प्रथम चित्रगुप्त पूजनोत्सव का आयोजन, हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने की भगवान श्री चित्रगुप्त की पूजा

भगवान श्री चित्रगुप्त का पूजनोत्सव पूरे पटना में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इसी क्रम में कंकड़बाग, विकर सेक्शन के मनोकामना मंदिर में चित्रगुप्त पूजा समिति ने समस्त प्राणियों का लेखा-जोखा रखने वाले भगवान श्री चित्रगुप्त का पूजनोत्सव पूरे धूमधाम के साथ मनाया गया. गौरतलब है कि इसी वर्ष मई महीने में स्थापित भगवान श्री चित्रगुप्त की स्थायी प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा करायी गई थी.पूजनोत्सव कार्यक्रम में मुख्य रूप से भारत सरकार के पूर्व मंत्री रविशंकर प्रसाद, बिहार सरकार के पूर्व मंत्री नितिन नवीन, विधायक अरुण कुमार सिन्हा, जीकेसी के अध्यक्ष और जेडीयू नेता राजीव रंजन प्रसाद, प्रख्यात चिकित्सक डॉ गोपाल प्रसाद सिन्हा, दूरदर्शन की पूर्व निर्देशिका डॉक्टर रत्ना पुरकायस्थ, समाजसेवी राजेश कुमार डब्लू, डॉक्टर सुधाकर, डॉक्टर अनूप कुमार, डॉक्टर एच एन दिवाकर, डॉक्टर दिवाकर तेजस्वी, सुजय सौरभ, निवर्तमान पार्षद माला सिन्हा, अमिताभ वर्मा, राकेश रौशन बबलू आदि उपस्थित थे.पूजन उत्सव कार्यक्रम की अध्यक्षता समिति के अध्यक्ष राजीव कुमार कर्ण और संचालन महासचिव अमर कुमार सिन्हा ने किया. आगत अतिथियों का स्वागत निवर्तमान वार्ड पार्षद कुमार संजीत बबलू और समिति के उपाध्यक्ष मधुप मणि “पिक्कू” ने किया.समारोह के सफल संचालन में सौरभ जयपुरियार, राजकमल, एस के वर्मा, रितेश कुमार आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा. pncb

Read more

अशोक नगर में कायस्थ समाज ने हर्षोल्लास के साथ मनाया चित्रगुप्त पूजनोत्सव

चित्रगुप्त पूजा के अवसर पर आज कायस्थ समाज के लोगों ने पूरी श्रद्धा के साथ भगवान चित्रगुप्त की पूजा की. पटना के अशोकनगर चित्रगुप्त परिषद ने अपनी स्थापना के 53वें वर्ष में श्री चित्रगुप्त पूजानोत्सव का कार्यक्रम चित्रगुप्त मंदिर अशोक नगर में हर्षोल्लास के साथ मनाया. आज सुबह 11:00 बजे से मंदिर परिसर में सैकड़ों की संख्या में चित्रांश समाज के लोगों ने कलम के देवता भगवान श्रीचित्रगुप्त की पूजा अर्चना की और अपने इष्ट देवता के समक्ष साल भर के आय-व्यय का लेखा जोखा रखा. परिषद के पूजन कार्यक्रम में यजमान के रूप में अशोकनगर चित्रगुप्त परिषद के अध्यक्ष राजीव रंजन थे. इस अवसर पर सामूहिक का भी अयोजन किया गया जिसमें हजारों की संख्या में सभी वर्ग एवम् समाज के लोगों ने लजीज व्यंजन का भरपूर लुत्फ उठाया. संध्या काल में अशोकनगर चित्रगुप्त परिषद के महिला मंच द्वारा भजन कीर्तन किया गया. अशोकनगर चित्रगुप्त परिषद के समस्त कार्यक्रमों में कई गणमान्य लोगों ने शिरकत की. अशोकनगर चित्रगुप्त परिषद के अध्यक्ष राजीव रंजन ने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री सह सांसद, पटना रविशंकर प्रसाद, पूर्व केंद्रीय मंत्री सह सांसद, पाटलिपुत्र रामकृपाल यादव, पूर्व राज्यसभा सांसद आर के सिन्हा, राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी, स्थानीय विधायक अरुण कुमार सिन्हा, बीजेपी विधायक नितिन नवीन, पूर्व विधान पार्षद कुमार राकेश रंजन, प्रख्यात चिकित्सक डॉ नरेंद्र प्रसाद, डॉ गोपाल प्रसाद सिन्हा, जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई और भगवान चित्रगुप्त की पूजा अर्चना की. अशोकनगर चित्रगुप्त परिषद के उपाध्यक्ष राकेश रौशन बबलू, सचिव त्रिपुरारी शरण, अमिताभ ने पूजा कार्यक्रम

Read more

सूर्यग्रहण: सावधानी और उपाय

आज इस वर्ष के अंतिम सूर्य ग्रहण को लेकर राज मिश्रा (राज्याधिकारी पुरोहित,सदस्य विंध्य विकास परिसद) विंध्याचल,मिर्जापुर ने पटना नाउ को बताया कि मंगलवार को वर्ष का अंतिम सूर्य ग्रहण भारत के अतिरिक्त अफ्रीका, एशिया, यूरोप, यूनाइटेड किंगडम में भी आंशिक रूप से दिखाई देगा इस कारण 12 घंटे पूर्व 25 अक्टूबर 2022 प्रातः 4:42 मिनट से सूतक काल प्रारंभ हो जाएगा एवं मंदिर के कपाट भी बंद हो जाएंगे. सूर्य ग्रहण तुला राशि और स्वाती नक्षत्र में होगा इस ग्रहण में सूर्य का संयोग केतु से बनने जा रहा है साथ ही इस ग्रहण में चंद्रमा और शुक्र का योग भी सूर्य और केतु के साथ होने से दुर्घटनाएं होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं. स्वर्ण के दामों में बढ़ोतरी होगी। व्यापारी वर्ग को धन हानि होने की संभावना. इस सूर्य ग्रहण से राजनीतिक उथल-पुथल भी आप लोगों को देखने को मिल सकती हैं. इसके अतिरिक्त आकस्मिक दुर्घटनाएं, बीमारियां होने की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं. जिन जातकों की कुंडली में सूर्य+राहु की युति हो या सूर्य+केतु की युति हो उन्हें विशेष सावधान रहने की आवश्यकता है. ग्रहण कालसूर्य ग्रहण का प्रारंभ 25 अक्टूबर 2022 को दिन में 2:29 से होगा परंतु भारत में 4:42 से प्रारंभ होकर 5:25 सूर्यास्त के साथ समाप्त हो जाएगा. अन्य देशों में 6:32 पर सूर्य ग्रहण समाप्त होगा. उपायराज मिश्रा ने कहा कि ग्रहण काल में गर्भवती महिलाएं विशेष सावधानियां बरतें.ग्रहण प्रारंभ होने से पूर्व ही भोजन कर ले. ग्रहण प्रारंभ होने के उपरांत किसी धारदार हथियार का प्रयोग ना करें, सुई का

Read more

धनतेरस पर नमक जरूर खरीदें, दूर होगी दरिद्रता, चमकेगी किस्मत

धनतेरस को त्रयोदशी और धन्वंतरि जंयती भी कहते हैं. मान्यताओं के अनुसार, भगवान धन्वंतरि की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुई थी. जब वे प्रकट हुए थे तो उनके हाथ में अमृत से भरा कलश भी मौजूद था. इसी कारण धनतेरस के दिन बर्तन खरीदने की परंपरा है, जो बेहद शुभ भी माना जाता है. धनतेरस के दिन से ही रोशनी के त्योहार दीपावली की भी शुरुआत हो जाती है. धनतेरस पर सोना, चांदी, कई तरह के शुभ धातुओं जैसे पीतल, तांबा आदि के बर्तन, धनिया, झाड़ू, गोमती चक्र आदि खरीदना तो शुभ माना ही गया है, लेकिन इस दिन नमक भी अवश्य खरीदना चाहिए. आइए जानते हैं क्यों खरीदना चाहिए धनतेरस पर नमक और इससे क्या-क्या उपाय किए जाते हैं. धनतेरस पर नमक खरीदने का महत्व श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ. मृत्युञ्जय तिवारी के अनुसार, धनतेरस के दिन नमक खरीद कर घर लाने से धन लाभ होता है. घर में मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है. यदि आप धनतेरस के लिए शॉपिंग करने वाले हैं तो एक पैकेट नमक का भी अवश्य खरीदें. इस नमक को ही भोजन में इस्तेमाल करें. ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं. मान्यता है कि यदि दीपावली के दिन घर में नमक वाले पानी से पूरे घर में पोछा लगाया जाए, तो दुख, गरीबी, दरिद्रता, नकारात्मकता दूर होती है. धनतेरस पर नमक से करें ये उपाय -धनतेरस के शुभ अवसर पर आप नमक का नया पैकेट खरीदें और उसका ही इस्तेमाल करें. इससे घर की आर्थिक स्थिति अच्छी

Read more

धनतेरस पर झाड़ू खरीदना है तो भूलकर भी न करें ऐसी गलतियां

नई झाड़ू को किचन या बेडरूम के अंदर न रखें पलंग के नीचे या पैसों की अलमारी के आस-पास न रखें धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी, धन कुबेर और धनवंतरी की पूजा का विधान है. इस दिन सोना-चांदी, बर्तन धनिया और गोमती चक्र जैसी चीजों खरीदने शुभ माना जाता है. इसके अलावा, धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदना भी बहुत अच्छा माना जाता है. कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस मनाया जाता है. धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी, धन कुबेर और धनवंतरी की पूजा का विधान है. इस दिन सोना-चांदी, बर्तन धनिया और गोमती चक्र जैसी चीजों को खरीदना शुभ माना जाता है. इसके अलावा, धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदना भी बहुत अच्छा होता है. कहते हैं कि धन त्रयोदशी पर झाड़ू खरीदने से देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं. इस दिन झाड़ू खरीदते वक्त कुछ विशेष गलतियां करने से बचना चाहिए. कैसी झाड़ू खरीदें- धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदने से आर्थिक संपन्नता बढ़ती है. लेकिन इस दिन यूं ही कोई भी झाड़ू न खरीद लाएं. इस दिन केवल और केवल सीक या फूल वाली झाड़ू ही खरीदें. नई झाड़ू को किचन या बेडरूम के अंदर न रखें. इसे पलंग के नीचे या पैसों की अलमारी के आस-पास न रखें. घनी झाड़ू खरीदें- झाड़ू खरीदते वक्त ध्यान रहे कि वो पतली या मुरझाई सी न हों. उसकी तीलियां अच्छी कंडीशन में होनी चाहिए और ये जितनी ज्यादा घनी होगी, उतना अच्छा होगा. इसकी तीलियां टूटी नहीं होनी चाहिए. इसकी तीलियां साफ-सुथरी और मजबूत होनी चाहिए. लाभ प्लास्टिक वाली

Read more

25 को लगने वाला सूर्य ग्रहण पांच राशियों की सोई किस्मत जगा देगा

सूर्य ग्रहण का धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों ही महत्व है. जब भी सूर्य या चंद्र ग्रहण लगता है, उसका असर राशियों पर शुभ और अशुभ दोनों तरह से देखने को मिलता है. दिवाली के अगले दिन 25 अक्टूबर 2022 को साल का दूसरा सूर्य ग्रहण लगने वाला है. जानकारों के मुताबिक यह आंशिक सूर्य ग्रहण होगा. इसका शुभ असर 5 राशियों पर देखने को मिलेगा. इन राशि के जातकों का सोया भाग्य जाग उठेगा. सूर्य ग्रहण 2022 समय 25 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 28 मिनट से प्रारंभ होगा और शाम 05 बजकर 30 मिनट पर समाप्त होगा. ग्रहण का सूतक काल 12 घंटा पहले ही शुरू हो जाएगा. मेष राशि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मेष राशि के जातकों का आर्थिक पक्ष मजबूत होने वाला है. मेष राशि के जातकों का इस समय निवेश करना लाभदायक होगा. परिवार में सुख शांति का माहौल रहेगा. मां लक्ष्मी की कृपा से जीवन में आनंद के मौके प्राप्त होंगे. खर्चों में कमी आएगी, ये समय लेन-देन के लिए उत्तम माना गया है. सिंह राशि सिंह राशि के जातक नया घर खरीद सकते हैं. इनके ऊपर मां लक्ष्मी की विशेष कृपा बनी रहेगी. साथ ही दांपत्य जीवन सुखमय बीतेगा, यदि सिंह राशि के जातक कोई नया काम शुरू करना चाहते हैं तो यह समय उनके लिए शुभ है परंतु लेनदेन करने से पहले अच्छी तरह सोच विचार कर लें. आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर हो जाएगी. कन्या राशि कन्या राशि के जातकों के ऊपर मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी, जिसकी वजह से उनके

Read more