DL, परमिट और रजिस्ट्रेशन जैसे दस्तावेजों की वैधता 30 जून तक बढ़ाई गई

कोरोना वायरस  के कारण हुए लॉक डाउन के कारण परिवहन विभाग ने दी राहत देशभर में 14 अप्रैल तक लगे लॉकडाउन को देखते हुए ड्राइविंग लाइसेंस, परमिट, रजिस्ट्रेशन जैसे दस्तावेजों की वैधता बढ़ा दी गई है. जिनका ड्राइविंग लाइसेंस, परमिट आदि जैसे डॉक्यूमेंट 1 फरवरी 2020 को एक्सपायर हो गया था उन्हें  30 जून तक कि मोहलत दी गई है. बिहार सरकार के द्वारा इसके लिए आदेश निर्गत कर दिए गए हैं तथा सभी जिला परिवहन पदाधिकारियों को इसके अनुपालन का निर्देश दिया गया है . परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि कोरोना वायरस  के कारण हुए लॉक डाउन के कारण लोगों को हो रही चिंताओं के दृष्टिकोण से यह निर्णय लिया गया है ताकि वे अपने वाहनों के फिटनेस परमिट तथा अन्य कागजातों के लिए अनावश्यक रूप से परेशान ना हों. लॉक डाउन  समाप्ति के बाद परिवहन विभाग विशेष शिविर आयोजित कर इसके लिए चरणबद्ध तरीके से कार्य करेगा तथा कई सुविधाएं ऑनलाइन भी प्रदान करेगा ताकि लोगों को काम में किसी प्रकार की परेशानी ना हो. परिवहन सचिव द्वारा सभी ट्रैफिक पुलिस एवं सभी परिवहन पदाधिकारियों को इस इसके लिए अनावश्यक रूप से किसी को परेशान ना करने का निर्देश दिया है. परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि इस संबंध में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने सभी राज्यों को एक एडवाइजरी भी जारी कर दी है. एडवाइजरी के अनुसार मोटर वाहन कानून के तहत मान्य गाड़ी के सभी कागजात, ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन व अन्य दस्तावेज जिनकी वैधता 1 फरवरी 2020 को समाप्त हो

Read more

कोरोना के कारण माप तौल उपकरणों की सत्यापन अवधि बढ़ाई गई

बिहार के कृषि विभाग ने राज्य के व्यवसायियों को बड़ी राहत देते हुए लॉकडाउन की स्थिति में वाट-बटखारों एवं अन्य माप-तौल उपकरणों की सत्यापन अवधि को बढ़ा दिया है. कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया कि विभाग द्वारा कोरोना संक्रमण के कारण माप-तौल उपकरणों की विधि मान्यता अवधि को अगली तिमाही के लिए बढ़ा दिया गया है. उन्होंने कहा कि जिन माप-तौल उपकरणों की विधि मान्यता 31 मार्च, 2020 तक थी, उनका वार्षिक/ द्विवार्षिक/पंचवर्षीय पुनः सत्यापन अगली तिमाही यानि 1 अप्रैल से 30 जून, 2020 तक कराया जा सकेगा. जनहित में यह भी निदेशित किया गया है कि संबंधित माप-तौल उपकरणों यथा पेट्रोल पम्प, धर्मकाँटा तथा अन्य उपकरणों के उपयोगकर्त्ता के विरूद्ध सत्यापन को लेकर इस अवधि में किसी तरह की कानूनी कार्रवाई नहीं की जायेगी. यह व्यवस्था सिर्फ 1 जनवरी, 2020 से 31 मार्च, 2020 तक सत्यापन/पुनः सत्यापन के निमित माप-तौल उपकरणों के लिए ही लागू होगा. मंत्री ने कहा कि कृषि विभाग द्वारा कोरोना संक्रमण के विस्तार को रोकने के क्रम में विधिक माप विज्ञान अधिनियम, 2009 की धारा  14(4) में प्रदत शक्तियों का प्रयोग करते हुए सभी निरीक्षक, विधिक माप विज्ञान को इस बाबत निदेशित कर दिया गया है.  डॉ प्रेम कुमार ने कहा कि सरकार द्वारा माप-तौल उपकरणों का वार्षिक/द्विवार्षिक/ पंचवर्षीय पुनः सत्यापन के कार्य में एक साथ अधिक भीड़ इकट्ठा नहीं होने के मद्देनजर ऐसा निर्णय लिया गया है.

Read more

गड़बड़ी करने वाले PDF डीलरों के बारे में आयोग को बताएं

बिहार राज्य खाद्य आयोग के अध्यक्ष विद्यानंद विकल ने लोगों से अपील की है कि वे लॉक डाउन के दौरान खाद्य पदार्थो की कीमतों में बढ़ोतरी करने वाले कालाबाजारियों, जनवितरण के राशन वितरण में गड़बड़ी करने वाले पीडीडीएफ डीलरों पर नजर रखे और उनके गोरखधंधा को उजागर करे. उन्होंने कहा कि एक तरफ पूरा सरकारी तंत्र जहाँ एक एक व्यक्ति के लिए सुविधा पहुंचाने के लिए प्रयासरत है वही मुठी भर लोग माल बनाने में लगे हुए हैं. बिहार राज्य खाद्य आयोग भी सरकार की जनहितकारी योजनाओं और  इस अभियान को 100 प्रतिशत लागू करने के लिए कृतसंकल्पित है. उन्होंने कहा कि हमारी टीम सोशल मीडिया के जरिए लगातार  सक्रिय है. हमारे साथ अब तक सैकड़ो लोगो ने विभिन्न जिलों से सम्पर्क कर चुके है. इसमें सामाजिक कार्यकर्ता,पत्रकार, मीडियाकर्मी आदि शामिल है. उन्होंने कहा कि क्योंकि अप्रैल से सरकार सभी राशन कार्डधारियों को एक माह का मुफ्त राशन एवं 100 नगद देने जा रही है . सरकार की यह स्कीम सभी तक पहुंच जाए इसका गारंटी सिर्फ डीलरों के सहारे संभव नहीं है बल्कि इसमें सभी तरह के सामाजिक कार्यकतार्ओं को सक्रिय रहना अनिवार्य है. उन्होंने लोगों से अपेक्षा की है कि वे सतर्क रहें सुरक्षित रहकर सहयोग भी करें. उन्होंने कहा कि यदि कही किसी तरह का मंडी के व्यापारी द्वारा कालाबाजारी, जनवितरण के डीलर की गड़बड़ी दिखाई पड़े उसका डिटेल सादे कागज पर लिखकर आयोग के पता पर भेजे या 9771884821 पर वाट्सअप कर दे. आयोग उस पर त्वरित करवाई करेगा.                 

Read more

देखिए, रविवार को बिहार में कहां हुई सबसे ज्यादा बारिश

बारिश ने पटना समेत कई जिलों में तबाही मचा रखी है. पटना में तो जलप्रलय की स्थिति है. पूरी राजधानी डूब चुकी है. गंगा की लहरें भी अब उफान पर हैं. ऐसे में एक नया खतरा मंडरा रहा है. हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों से संयम बरतने की अपील की है. रविवार को भी पूरे बिहार में बदरा खूब बरसे. मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक रविवार को सबसे ज्यादा 290 मिमी बारिश समस्तीपुर के रोसड़ा में दर्ज हुई. मौसम विभाग ने सोमवार को भी पटना, गया और भागलपुर समेत कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है.

Read more

29 को इन जिलों के लिए अलर्ट जारी

28 सितंबर को पटना समेत कई जिलों में भारी बारिश ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया. पटना में तो इस बार बारिश ने कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. हर तरफ पानी ही पानी दिख रहा है और समाचार लिखे जाने तक भारी बारिश जारी है. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक फिलहाल भारी बारिश से पटना समेत पूरे बिहार को राहत मिलने के कोई आसार नहीं हैं. 29 सितंबर को सुपौल, अररिया, किशनगंज, बांका, समस्तीपुर, मधेपुरा, सहरसा, दरभंगा, भागलपुर, खगड़िया, वैशाली और मुंगेर जिले में मौसम विभाग ने भारी बारिश (21 सेमी से ज्यादा) का रेड अलर्ट जारी किया है. जबकि सारण, शिवहर, सीतामढ़ी, बेगूसराय, भोजपुर, बक्सर, जमुई, मधुबनी और मुजफ्फरपुर में भारी बारिश (12-20 सेमी) का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है. वहीं पटना, शेखपुरा, लखीसराय, नालंदा, नवादा, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज और सीवान में भी भारी बारिश(7-11 सेमी) का येलो अलर्ट जारी किया गया है. शनिवार को कहां कितनी बारिश हुई- Rainfall Report till 5.30pm (28.09.2019)Gaya 63.6 mm Patna 60.1mm Bhagalpur 24.1mmPurnea 25.4 mm

Read more

जानिए क्यों बदल गया लोकल ट्रेनों का समय

त्यौहारों में हुए रेल परिचालन में ये बदलाव आरा, 28 सितंबर. त्यौहारों को लेकर 27 सितंबर से दानापुर रेल मंडल ने आरा जंक्शन पर आने वाली लोकल पैसेंजर ट्रेनों के समय में परिवर्तन कर दिया है. ये हुए हैं बदलाव हाजीपुर रेलवे जोन के CPRO राजेश कुमार के अनुसार पटना-आरा मेमो पैसेंजर 63213 अब आरा में 19:15 के बजाए 19:35 में पहुंचेगी. वही गाड़ी संख्या 63223 पटना आरा मेमो पैसेंजर आरा में 12:10 के बजाय 12:35 पर पहुंचेगी. वहीँ 24 अक्टूबर से 6 नवंबर तक लोकमान्य तिलक टर्मिनल बरौनी लोकमान्य तिलक टर्मिनल स्पेशल ट्रेन का परिचालन किया जा रहा है. क्योकि दीपावली और छठ को लेकर यात्रियों की भीड़ अन्य दिनों से ज्यादा होने की संभावना रहती है. यात्रियों को यात्रा करने में परेशानी न हो इसलिए पाटलिपुत्र-आरा के रास्ते लोकमान्य तिलक टर्मिनल और बरौनी के बीच परिचालन किया जा रहा है. जिसमें यह सप्ताहिक ट्रेन बरौनी से खुलकर लोकमान्य तिलक टर्मिनल स्पेशल सप्ताहिक ट्रेन प्रत्येक शुक्रवार बरौनी से 19:30 मिनट में खुलेगी जो हाजीपुर के रास्ते पाटलिपुत्र होते हुए आरा जंक्शन पर रात्रि 1:45 में आएगी. वही लोकमान तिलक से बरौनी को जाने वाली स्पेशल ट्रेन आरा जंक्शन पर सुबह 9:35 पर आरा जंक्शन आएगी. आरा से सावन कुमार की रिपोर्ट

Read more

सरकारी गाड़ियों के ड्राइवरों को दी जाएगी सड़क सुरक्षा की ट्रेनिंग

– विभागीय मंत्री से लेकर अधिकारियोें व पदाधिकारियों के ड्राइवरों को मिलेगी ट्रेनिंग – ड्राइवर यातायात नियमों को जानें इस बारे में विशेष तौर से किया जाएगा प्रशिक्षित – नियमों का उल्लंघन करने पर क्या-क्या हो सकती है कार्रवाई और किन किन कागजातों को साथ  रखना है अनिवार्य इस बारे में दी जाएगी जानकारी – परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि ट्रेनिंग के बाद नियमों का उल्लंघन करने वाले  ड्राइवरों पर की जाएगी कार्रवाई – मुख्य सचिवालय से लेकर सभी विभागीय मंत्री व पदाधिकारियों के ड्राइवरों को ट्रेनिंग किया गया है अनिवार्य सरकारी गाड़ियां चलाने वाले सभी ड्राइवरों को सड़क सुरक्षा नियमों से अवगत कराते हुए उन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा। गाड़ी चलाते समय किन किन नियमों का पालन करना है. गाड़ी चलाने के दौरान कौन-कौन से कागजात साथ में रखना अनिवार्य है तथा किस नियम के उल्लंघन करने पर क्या कार्रवाई की जा सकती है. इन तमाम बातों की जानकारी उन्हें ट्रेनिंग देकर बताई जाएगी. इसके लिए जागरुकता सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया है. परिवहन विभाग सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि सरकारी गाड़ियां चलाने वाले सरकारी व प्राइवेट सभी तरह के ड्राइवरों को नए मोटर व्हीकल (संशोधन) अधिनियम 2019 की जानकारी दी जाएगी साथ ही उन्हें सड़क सुरक्षा नियमों की जानकारी के लिए एक दिवसीय विशेष ट्रेनिंग दी जाएगी. यह ट्रेनिंग हर ड्राइवर के लिए अनिवार्य होगा. ट्रेनिंग के बाद भी यातायात नियमों का उल्लंघन किये जाने पर वैसे ड्राइवरों से जुर्माना वसूला जाएगा. प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत सोमवार से की जा रही है.

Read more

एनआइओएस डीएलएड से जुड़ी बड़ी खबर आई सिक्किम से

NIOS से D EL ED करने वाले शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खबर आ रही है सिक्किम से. जहां राज्य सरकार ने 31 अगस्त तक सिक्किम शिक्षक पात्रता परीक्षा में आवदेन की तारीख तय की थी. लेकिन बाद में इसे 15 दिनों के लिए बढ़ा दिया गया. सिक्किम सरकार ने इसे एनआइओएस शिक्षकों के लिए बढ़ा दिया ताकि वे भी इसमें आवदेन कर सकें. बता दें कि सिक्किम में भी दो वर्षीय डीएलएड करने वाले को ही शिक्षक पात्रता परीक्षा में बैठने की छूट मिलती है. ऐसे में ये साफ है कि सिक्किम सरकार एनआइओएस से डीएलएड करने वाले शिक्षकों के कोर्स को दो साल का मानती है. जबकि बिहार सरकार ने अपने राज्य में इस डिग्री की मान्यता को ही नये बहाली में अमान्य कर दिया है. आप इस लिंक को क्लिक कर सिक्किम के शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर देख सकते हैं- http://sikkimhrdd.org/GeneralSection/NewsEventDetails.aspx?ID=40169

Read more

जहां विघ्नहर्ता हरते हैं विघ्न

जहाँ सिर्फ फूलों से सजा है गणपति का मंदिर फूलों से पटा सिद्धिविनायक मंदिर, विघ्नहर्ता के द्वार पहुँचे लाखो लोग मुंबई, 2 सितंबर. देश मे आज से गणेश चतुर्थी की पूजा प्रारम्भ हो गयी है जिसे पूरे धूमधाम से मनाया जा रहा है. देवताओं में विघ्नहर्ता के नाम से जाने जाने वाले भगवान गणेश की पूजा सभी देवाताओं की पूजा से पहले की जाती है और इसकी भव्यता महाराष्ट्र में अलग ही दिखती है. हर घर मे भगवान गणपति की पूजा अर्चना की जाती है. लेकिन सिद्धिविनायक मंदिर में गणपति का दर्शन अलग ही महत्व रखता है. मुंबई के प्रभादेवी इलाके में स्थित इस मंदिर की स्थापना 1801 में हुई थी. इस मंदिर को एक मशहूर बिल्डर ने बनवाया था. इस मंदिर में ऐसी मान्यता है कि भक्तों की मनोकामना पूरी होती है. मंगलवार के दिन खास भीड़ होती है. लोग अपने घरों से खाली पैर मनोकामना पूर्ण होने के बाद यहाँ आते अक्सर दिखते हैं. गणेश चतुर्थी के अवसर पर मंदिर को बड़े ही भव्य रूप में सजाया गया है. सूर्यमुखी,डहेलिया,ट्यूलिप, गुलाब और गेंदा के फूलों से मंदिर का हर कोना अपने अनोखे रउआ से आनेवाले लोगों को आकर्षित कर रहा है. मंदिर के भीतरी मंडप का एरिया हो या पिलर या दिवाल सभी फूलों से सजकर तैयार हैं. दर्शन के लिए भले सुबह से भरी भीड़ सुबह की आरती के लिए इक्कठी दिखी. वैसे तो आम दिनों में भी यहाँ देश विदेश से श्रद्धालुओ का तांता लगा रहता है लेकिन गणेश चतुर्थी के वक्त दस दिनों तक भीड़

Read more

दुनिया के सबसे बड़े अध्‍यापक शिक्षा कार्यक्रम की होगी शुरुआत

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ने शनिवार को नई दिल्‍ली में अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन, ‘जर्नी ऑफ टीचर एजुकेशन: लोकल टू ग्‍लोबल’का उद्घाटन किया. इस दो दिवसीय सम्‍मेलन का आयोजन राष्‍ट्रीय अध्‍यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के रजत जयंती समारोह के अंतर्गत किया गया है. भारत और अन्‍य देशों के 40 से अधिक विशेषज्ञ, अध्‍यापक शिक्षा की वर्तमाान स्थिति, शिक्षण में नवाचार, शिक्षण में सूचना और संचार प्रौ़द्योगिकी का समावेश, अध्‍यापक शिक्षा का अंतरराष्‍ट्रीयकरण जैसे विषयों पर विचार-विमर्श करेंगे. स्‍कूली शिक्षा और साक्षरता के विभाग की सचिव सुश्री रीना रे, उच्‍च शिक्षा विभाग के सचिव आर. सुब्रह्मण्‍यम, नीति आयोग के विशेष सचिव यदुवेन्‍द्र माथुर, एनसीटीई के चेयरपर्सन डॉ. सतबीर बेदी, एनसीटीई के सदस्‍य सचिव संजय अवस्‍थी जैसे नीति निर्माताओं ने प्रतिभागियों को संबोधित किया. इस अवसर पर मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि भारत पारंपरिक रूप से शिक्षा और अध्‍यापन के क्षेत्र में नेतृत्‍व की भूमिका निभाता रहा है. हजारों साल से भारत के शिक्षक को विश्‍व गुरू का दर्जा दिया गया है. प्राचीन भारतीय शिक्षा पद्धति की उपलब्धियां असाधारण रही हैं. किसी भी प्रगतिशील राष्‍ट्र के लिए स्‍कूली शिक्षा नींव होती है. शिक्षक छात्रों के भविष्‍य का निर्माण करते हैं और उनमें सकारात्‍मक सोच की प्रेरणा देते हैं, ताकि वे समाज के विकास में महत्‍वपूर्ण योगदान दे सकें. स्‍कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग की सचिव सुश्री रीना रे ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय 22 अगस्‍त, 2019 को दुनिया के सबसे बड़े अध्‍यापक शिक्षा कार्यक्रम की शुरुआत करेगा. इस कार्यक्रम का नाम निष्‍ठा (नेशनल इनिशिएटिव ऑन स्‍कूल टीचर्स हेड

Read more