‌भोजपुरी की आत्मा, “आरा” में रंग भर गए बुद्ध और कबीर

भोजपुरी कला यात्रा के 5 दिवसीय कार्यशाला-सह-प्रदर्शनी के अंतिम दिन युवाओं के नए बैंड “त्रिगुण” ने अपने अंदाज से भोजपुरी में नया रंग भर जगाई नई उम्मीद आरा, 31 दिसम्बर. संभावना आवासीय उच्च विद्यालय, आरा में भोजपुरी कला यात्रा कार्यशाला-सह-प्रदर्शनी के अंतिम दिन कला एवं संस्कृति मंत्री प्रमोद कुमार ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की. उन्होंने बच्चों द्वारा तैयार चित्रों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया और  कहा कि भोजपुरी कला संस्कृति के लिए आने वाला नया साल ढेर सारा सौगात लेकर आनेवाला है. उक्त अवसर पर उन्होंने घोषणा किया कि नई पीढ़ी को भोजपुरी कला से जोड़ने के लिए बिहार सरकार के कला विभाग ने इस पर आधारित कोर्स को तैयार किया है जिसे मधुबनी में स्थापित मिथिला  के पेंटिंग महाविद्यालय में पढ़ाया जाएगा. उन्होंने इस बात की जानकारी दी कि प्रतिवर्ष इस कॉलेज में भोजपुरी भीत्ति-कला की पढ़ाई की जाएगी एवं प्रतिवर्ष कला यात्रा का भी आयोजन किया जाएगा. बता दें कि सर्जना न्यास एवं संभावना विद्यालय के संयुक्त तत्त्वावधान में “आवs रंग भरल जाव” शीर्षक से 24 दिसंबर से मझौवाँ स्थित विद्यालय प्रांगण में यह कार्यशाला आयोजित थी. अंतिम दिन आयोजित इस प्रदर्शनी का उदघाटन  कला संस्कृति मंत्री प्रमोद कुमार, विद्यालय निदेशक कुमार द्विजेन्द्र, प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह, सर्जना ट्रस्ट के अध्यक्ष संजीव सिन्हा, तथा पूर्व विभागाध्यक्ष हिंदी-भोजपुरी विभाग डॉ नीरज सिंह ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया. कला मंत्री ने अपने सम्बोधन में विद्यालय परिवार के प्रति ऐसे आयोजन के लिए आभार व्यक्त किया और प्रतिवर्ष भोजपुरी कला महोत्सव कराए जाने पर विचार

Read more

जनता के नहीं, अफसरों के मुख्यमंत्री हैं नीतीश कुमार

लोगो मे मायूसी, मुख्यमंत्री से नही मिल पाए ग्रामीण प्रशासन ने CM तक आम जनता को पहुँचने ही नही दिया गड़हनी. अपने सुशासन के लिए जनता के बीच चर्चित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब जनता की आवाज ही नही सुन पाए तो इसे क्या माना जाए? क्या जनता के बीच खुद नही गए या किसी ने गुमराह किया? जनता के लिए दरबार लगाने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जनता के बीच कैसे चूक गए कि मुख्यमंत्री को तीन बार से सत्ता में लाकर अपनी आँखों पर बसाने वाले मुख्यमंत्री को जनता ने यह कह किया कि नीतीश कुमार अब जनता के नही अफसरों के मुख्यमंत्री हो गये हैं. क्योंकि अफसरशाही इस कदर है कि क्या कहा जाए. जनता अपने कामों के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट परेशान है और सरकारी अफसरों और बाबुओं का ये हाल है कि न तो पेंशन की राशि का कोई भुगतान कर रहा है और न ही आवास और अन्य योजनाओं की कोई सुध लेने को तैयार है. दरअसल हम बात कर रहे है भोजपुर दौरे पर आए मुख्यमंत्री की. मुख्यमंत्री कार्यक्रम को ले जहाँ भेडरी वासियो समेत आसपास के सभी लोगो के मन मे उत्सुकता थी कि मुख्यमंत्री से अपनी बात रखूंगा या मिल कर अफसरशाही के शिकायत करूँगा. वही इस उत्सुकता पर जिला प्रसाशन ने पानी फेर डाला. मुख्यमंत्री के हेलीकॉप्टर उड़ जाने के बाद आम लोगो को आने की अनुमति दी गई. मुख्यमंत्री से मिलने आई भेडरी निवासी नीलम कुँवर,लखपतो कुँवर,सिमा देवी,मिना देवी बताती हैं कि पेंशन के लिए रोजाना प्रखण्ड कर्यालय व

Read more

CM ने भी नहीं सुनी लाचार बिटिया की शिकायत, 8 किमी दूर से आयी थी दिव्यांग

पेंशन की शिकायत लेकर बड़े बैनर के साथ पहुंची विकलांग बच्ची की CM ने नही सुनी शिकायत DM ने कहा फ़ोन से सूचना दिया जयेगा फिर आना गड़हनी. मुख्यमंत्री आगमन को सुन कई वर्षों से पेंशन की ताक में आस लगाई बच्ची कल भेडरी के मैदान में पहुंच गईं हालांकि मुख्यमंत्री की नजर उस बच्ची पर गई तो उन्होंने कहा कि डीएम साहब समझ लेंगे. बता दें कि गड़हनी शांति नगर निवासी अक्षय लाल साह के 12 वर्षीय पुत्री अन्नी कुमारी के पिता बचपन से प्रयासरत हैं कि बच्ची को विकलांगता का पेंशन मिले लेकिन जब बच्ची 4 वर्ष की हुई तो उसे विकलांगता का सर्टिफिकेट मिला. सारी प्रक्रिया से गुजरने पर वर्ष 2016-17 में पेंशन की भी स्वीकृति मिल गई लेकिन आज तक उसे कोई सरकारी लाभ नसीब नही हुआ. पिता ने सोचा कि महज 6-7 किलोमीटर की दूरी पर मुख्यमंत्री आ रहे हैं ये मौका अच्छा हैं अफ़सरशाही का शिकायत करने का. उन्होंने बड़े बैनर दो-चार नारे के साथ बनवाया और कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए. वहां पहुंचते ही लोगो की हुजूम देखने के लिए उमड़ पड़ा. लोगो मे चर्चा का विषय बन गया,वही मुख्यमंत्री के जाने के बाद पिता अक्षयलाल डीएम रौशन कुशवाहा से मिल इसकी शिकायत की तो डीएम ने बोला कि कल आपको फोन कर बुलाया जाएगा और जो उचित लाभ होगा दिलवाया जाएगा. गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट

Read more

भोजपुरी कला को सहेजता ‘भोजपुरी कला-यात्रा’

24-28 दिसम्बर तक चलेगा भोजपुरी कला यात्रा आरा,25 दिसम्बर. भोजपुरी कला यात्रा का शुभारंभ मंगलवार को हुआ. 24- 28 दिसम्बर तक चलने वाले इस कला यात्रा का आयोजन सर्जना न्यास एवं संभावना विद्यालय के संयुक्त तत्त्वाधान में हुआ है. संभावना आवासीय उच्च विद्यालय के प्रांगण में चलने वाले इस पांच दिवसीय कला यात्रा का विधिवत उदघाटन विद्यालय के प्रबंध निदेशक कुमार द्विजेन्द्र, प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह, साहित्यकार जनार्दन मिश्र, भोजपुरी रंगकर्मी कृष्णेन्दु यादव, चित्रकार राकेश कुमार दिवाकर, प्रशिक्षक-चित्रकार संजीव सिन्हा और संस्कृतिकर्मी सुनील पांडेय द्वारा संयुक्त रूप से किया. विद्यालय के बच्चों ने उदघाटन के मौके पर भोजपुरी मंगलाचरण गाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया. ‌स्वागत संबोधन में प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह ने कहा कि भोजपुरी कला यात्रा का विद्यालय में आयोजन भोजपुरी संस्कृति के प्रोत्साहन में मील का पत्थर साबित होगी. क्योंकि वही समाज विकसित और प्रगतिशील हो सकता है जो अपनी संस्कृति और भाषा के संरक्षण में सक्षम हैं. उदघाटन सम्बोधन में निदेशक कुमार द्विजेन्द्र ने बताया कि संभावना विद्यालय अपने स्थापना काल से ही ऐसी कार्यशालाएं और कार्यक्रम का आयोजन करता रहा है जो भाषा-संस्कृति का संवर्धन करती हो और यह कार्यशाला भी बच्चों के रचनात्मक विकास में सहयोग के साथ-साथ भोजपुरी संस्कारों से भी परिचय कराएगी. जनार्दन मिश्र ने मंच से बच्चों का उत्साहवर्धन किया और भोजपुरी कला पर आधारित कार्यशाला के आयोजन के लिए सर्जना ट्रस्ट और संभावना विद्यालय के प्रति साधुवाद प्रगट किया. विषय प्रवेश करते हुए संस्कृतिकर्मी सुनील पांडेय ने प्रतिभागियों को भोजपुरी कला से परिचय करवाते हुए कहा कि भोजपुरी चित्रकला दरअसल

Read more

पैक्स चुनाव में भी मतदाताओं ने किया वोट बहिष्कार का निर्णय

देवचन्दा के मतदाता नही करेंगे पैक्स चुनाव में वोट Patna now Special आरा. चुनाव के वक्त वोट बहिष्कार तो आपने अक्सर सुना होगा क्योंकि राजनेता विकास का वादा करने के बाद उस क्षेत्र में झांकी मारने तक नही जाते है. तब जनता चुनाव के वक्त उनको अपनी औकात दिखाती है. लेकिन क्या आपने कभी पैक्स चुनाव में भी वोट बहिष्कार के बारे में सुना है?नही! तो आइए बताते हैं कि तिलाठ पंचायत के देवचन्दा गाँव के सभी पैक्स मतदाताओ ने एक स्वर में पैक्स चुनाव का बहिष्कार किया है. देवचन्दा भोजपुर जिले के पीरो प्रखंड में पड़ता है. पीरो प्रखंड में BDO मनेंद्र कुमार की दबंगो से ऐसी सांठगांठ है कि अधिकांश जगह उनके दबंग लोग ही चुनाव में खड़े है. BDO साहब किसी बात पर बात ही नही करते और दबंगई के साथ सवाल पूछने पर कहते हैं कि आपको हम नही बतलायेंगे. वोट बहिष्कार क्यों ? पैक्स चुनाव का बहिष्कार कर रहे मतदाताओ का आरोप है कि देवचन्दा गांव मे पहले पैक्स चुनाव के लिये मतदान होता था. जो 2001 के नए परिसीमन के बाद बिना किसी नोटिफिकेशन के ही देवचन्दा गांव से पैक्स के बूथ को हटा कर तिलाठ गांव में कर दिया गया. तब से वहां के दबंग लोग अपनी दबंगई दिखा वोटरों को वोट देने से वंचित करते आ रहे है. ग्रामीणों ने बताया कि सरकार एक तरफ मताधिकार के लिए जागरूक करने में लाखों-करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, वही दूसरी तरफ जिला प्रशासन की लापरवाही और कुछ सफेदपोशों के सह पर उनके गाँव

Read more

टिक-टॉक वीडियो बना मुसीबत, नौकरी पर आयी शामत

आरा,14 दिसंबर. खबरदार!होशियार! अगर आप टिक टॉक वीडियो कहीं भी बनाने के आदि हैं तो सचेत हो जाइए क्योंकि यह आपको मुश्किल में डाल सकता है. जी हाँ लाइट मूड के लिए बनने वाले ये वीडियो आपके आखों से आंसू निकाल सकते हैं इसलिए अगली बार से वीडियो बनाने से पहले जगह का ख्याल जरूर रखें. बिहार के आरा में ऐसा ही मामला सामने आया है.  सदर अस्पताल, आरा के इमरजेंसी वार्ड के ऑपरेशन थिएटर में तीन युवको ने अश्लील भोजपुरी गानों पर डांस कर टिकटॉक वीडियो बनाया है, जो वायरल हो गया है. वीडियो में युवक भोजपुरी के “पहिले पहिले प्यार भईल बा, तोहरे से दिलवा लगइनी और वादा रहे प्यार के ई जीवन भर निभावे के,” पर डांस करते नजर आ रहे हैं. यह वीडियो सोशल मीडिया में इतना वायरल हुआ कि बहस छिड़ गई. पता चला है कि वीडियो में डांस कर रहे युवक अस्पताल के ही कर्मचारी हैं. सामाजिक कार्यकर्ताओं और मरीज के परिजनों ने ऐसे वीडियो पर आपत्ति जताई है. लोगों की माने तो इस तरह के वीडियो अस्पताल में बनाना उचित नही है क्योंकि अस्पताल में इलाज के लिए आये मरीजो का ध्यान रखना सर्वोपरि है. ऐसे टिकटोक वीडियो बनने लगे तो सभी वार्ड में वीडियो बनाने की ही होड़ मच जाएगी फिर अस्पताल किसी स्टूडियो की तरह दिखने लगेगा. इस वायरल वीडियो की खबर मिलते ही आरा सदर अस्पताल के सिविल सर्जन ललितेश्वर प्रसाद झा ने आपत्ति जताई है और दोषी कर्मचारियों को चिन्हित कर कठोर कार्रवाई करने को कहा है. आरा से

Read more

चुनाव से पहले यहां पैक्स अध्यक्ष ने पक्की कर ली जीत

शिकायत करने पर कार्रवाई नहीं, BDO ने कहा नहीं बताऊंगा कार्रवाई क्यों नही हुई Patna now special Report आरा,13 दिसम्बर. बिहार में पहले चरण के मतदान संपन्न हो गए हैं और अब दुसरे चरण के मतदान के लिए तैयारियां जोरो पर हैं. इन तैयारियों के बीच कई जगहों से मतदाता सूची में नाम हटाने से लेकर नाम को सदस्य से सह-सदस्य में बदलने तक का मामला जोर पकड़ रहा है. भोजपुर जिले के पीरो प्रखंड के अमेहता गांव में ऐसा ही मामला सामने आया है जहाँ स्थानीय नागरिकों ने ये आरोप लगाया कि पूर्व पैक्स अध्यक्ष मुनिनाथ तिवारी ने अपने पद का दुरूपयोग करते हुए सदस्यों का नाम सह-सदस्य में कन्वर्ट करवा दिया है जिससे कोई भी सदस्य चुनाव में खड़े भी नही हो पाए हैं. पैक्स चुनाव में यह नियम है कि केवल सदस्य ही अध्यक्ष पद के लिए नामांकन कर सकते हैं, सह-सदस्य को वोट देने के अलावा कोई अधिकार नही है. इस सम्बंध में BDO से लेकर DM तक शिकायत करने के बाद भी अबतक कोई कार्रवाई नही हुई है. इस मामले में जब पटना नाउ ने पीरो BDO मनेंद्र कुमार से बात कर शिकायत पर कार्रवाई की वजह जानने की कोशिश की तो BDO ने उदंडता के साथ कहा कि “इसके बारे में मैं नही बताऊंगा” और फोन काट दिया. इस तरह का जवाब साफ संकेत है कि सदस्यों को सह-सदस्य में कन्वर्ट करने में BDO कहीं न कहीं शामिल हैं. पूर्व पैक्स प्रत्याशी भी सह-सदस्य की सूची में अमेहता पंचायत के बसडीहाँ निवासी चंद्र कुमार

Read more

संविधान दिवस पर पढ़ी गई संविधान की प्रस्तावना

आरा. देश का संविधान जनता की भावनाओं का दर्पण है जिसमें जनता की इच्छाओं एवं आकांक्षाओं की अभिव्यक्ति होती है. साथ ही, प्रस्तावना संविधान की आत्मा होती है. प्रस्तावना में संविधान की मौलिक बातों का उल्लेख है. अपने संविधान के प्रति सम्मान प्रकट करने तथा उनमें निहित मौलिक तथ्यों की जानकारी से अवगत होने एवं उसके अनुरूप आचरण प्रदर्शित करने हेतु 26 नवंबर को संविधान दिवस का आयोजन जिला मुख्यालय सहित अनुमंडल एवं प्रखंड स्तरीय सभी कार्यालयों में संपन्न हुआ. जिला स्तरीय मुख्य कार्यक्रम का आयोजन कृषि भवन सभागार में उप विकास आयुक्त सह प्रभारी जिला पदाधिकारी अंशुल अग्रवाल की अध्यक्षता में संपन्न हुआ. इस कार्यक्रम में सभी अधिकारियों एवं कर्मियों ने संविधान की प्रस्तावना को पढा. इसी तरह का कार्यक्रम अनुमंडलीय एवं प्रखंड कार्यालयों में संपन्न होने की खबर है जहां सभी अधिकारियों एवं कर्मियों ने संविधान की प्रस्तावना को पढ़ा. प्रस्तावना: हम ,भारत के लोग ,भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न, समाजवादी ,पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक, गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिए तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढ़ाने के लिए दृढ़ संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज तारीख 26 नवंबर 1949 ईस्वी को एतद् द्वारा इस संविधान को अंगीकृत अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं. पटना नाउ ब्यूरो रिपोर्ट

Read more

थाने में ऐसे सुलझे कई मामले

गडहनी थाना के जनता दरबार में सुलझाए गए कई मामले गड़हनी. प्रंखड के गडहनी थाना परिसर में शनिवार को अंचलाधिकारी नन्द किशोर सिंह व थानाध्यक्ष साजिद हुसैन के नेतृत्व में जनता दरबार का आयोजन किया गया. जनता दरवार में थाना के एएसआई अखिलेश प्रसाद सिंह सीआई व राजस्व कर्मचारी शाहिद एकवाल व रविन्द्र कुमार सिंह मौजूद थे. जनता दरबार मे कुल तीन मामले आए जिसमे गडहनी का दो और चारपोखरी का एक विवाद भूमि से संबंधित था. जिसमें एसआई अखिलेश प्रसाद को जाँच के लिए दिया गया तो दुसरा मामला व्यवहार न्यायालय आरा मे होने के कारण उस पर सुनवाई नही की गई. वहीं तीसरा मामला चारपोखरी थाना अन्तर्गत पथार गाँव निवासी राम पुलिस पण्डित का था जिसमे दुसरे पक्ष की अनुपस्थिति के कारण 30 नवम्बर का समय दिया गया. सीईओ ने कहा कि प्रखंड में जिनका भी भूमि संबंधित आपसी विवाद चल रहा है वह सभी लोग आपस में पारिवारिक बंटवारा के लिए आवेदन करें उनका परिवारिक बंटवारा किया जाएगा. पारिवारिक बंटवारा नहीं होने की वजह से अधिकांश विवाद हो रहा है जिसे सभी लोग आपसी सहमति से दूर कर सकेंगे परिवारिक बंटवारा होने से लोगों को जमीन से संबंधित विवाद नहीं रहेगी. तकरीबन सभी मामले सुलझ जाएंगे. इस दौरान कुल तीन मामलों की सुनवाई की गई. शेष मामलों मे अगली तिथि दी गई तथा दोनो पक्षो की मौजुदगी एवं साक्ष्य की मांग की गई. जनता दरबार में सरफुदीन अंसारी अब्दुल अंसारी नीरज कुमार नन्द किशोर सिंह सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे. गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट

Read more

पटना जू के शौचालयों की हालत खराब

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | संजय गांधी जैविक उद्यान यानि पटना जू बिहार की राजधानी के हृदय में बसा एक सुन्दर और लोगों के मनोरंजन का एक महत्वपूर्ण केंद्र है. यहां पेड़-पौधे, तमाम जड़ी बूटियां और झाड़ियों की तीन सौ से ज्यादा प्रजातियां हैं. बच्चें, बूढ़े, जवान, सभी इस हरियाली से युक्त जंगली जानवरों के उद्यान का भरपूर फायदा उठाते हैं. उद्यान में जहां एक तरफ झील है तो दूसरी तरफ बैटरी से चलने वाला टॉय ट्रेन है.इस उद्यान में लोग मनोरंजन के अलावा मौर्निंग वॉक के लिए भी आते हैं. दूषित हो रहे इस पर्यावरण में पटना जू सेहत बनाने में भी लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण और अच्छा स्थान माना जाता है. ज़ू में घूमने आने वालों के साथ साथ मौर्निंग वॉक पर आने वालों से ज़ू प्रशासन एंट्री शुल्क लेता है. इन शुल्कों से उद्यान का मेंटेनेंस किया जाता है.इस ज़ू में कई शौचालय बने हैं जिनका उपयोग यहां घूमने आने वाले करते हैं. पिछले कुछ महीनों से इन शौचालयों की देखभाल ठीक ढंग से नहीं हो पा रही है. इस कारण लोगों में, खासकर मौर्निंग वॉक में आने वाले लोगों में आक्रोश व्याप्त है. उनका कहना है कि शुरुआत में उद्यान के शौचालयों की देखभाल काफी ढंग से होती थी, लेकिन अब इसकी हालत खराब हो रही है.

Read more