नाटक से सीख सकते हैं स्वयं का विकास-रवींद्र भारती

कार्यशाला के सातवें दिन अभिनय के आयामों पर किया गया कार्य आरा। रेडक्रॉस के बगल में स्थित मंगलम द वेन्यू में चल रहे अभिनव एवं ऐक्ट द्वारा आयोजित 20 दिवसीय निःशुल्क नाट्य कार्यशाला के सातवें दिन नाटक के गुर को सिखाया गया। इस दौरान कार्यशाला के निदेशक रवीन्द्र भारती ने बच्चों को खुद से नाटक तैयार कर प्रस्तुत करने के लिए प्रेरित किया। उसके बाद एक- एक कर बच्चों ने नाटक को तैयार कर अपने अपने प्रस्तुति देकर सबका दिल जीता। किसी ने शोले फ़िल्म को कॉमेडी में दिखाया। तो किसी ने शादी करवाई। उसके बाद समय पर आधारित संगीत पर नृत्य कर के दृश्य को जीवंत करने में कोई कोशिश नहीं छोड़ी । संस्था के मुख्य संरक्षक तारकेश्वर शरण सिन्हा ने बच्चों की कार्यशाला को देखते हुए कहा कि अनुशासन बहुत जरूरी है। अगर कोई भी कलाकार बेहतर अनुशासन में अव्वल आता है, तो उसे पुरस्कृत किया जाएगा। इसको लेकर रवींद्र भारती ने बताया कि सातवें दिन नाटक के विभिन्न आयामों पर कार्य किया गया । एक एक्टर के लिए जरूरी आंगिक, वाचिक, आहार्य और  सात्विक अभिनय के साथ रसों के ऊपर कार्य करने की चुनौती दी गई। जिसमें सभी कलाकारों ने स्तानिस्लावस्की के अभिनय सिद्धांत जो मेथड एक्टिंग के लिए प्रसिद्ध है उस पर एक एक कर सबने अपनी प्रस्तुतियां दी। उसके बाद कई फिल्मी गानों पर साथ ही कई विषयों पर नाटक भी प्रस्तुत किया। कलाकारों में  छठवें दिन की कार्यशाला से सीखने के उपरांत अपने सहयोगियों की तालियां बटोरी। नाट्यकार्यशाला में भाग ले रहीआशी सिंह ने

Read more

क्या आप कर सकते हैं बॉडी ऐक्ट !

नाट्य कार्यशाला : 4th Day यूज ऑफ प्रॉप्स के साथ किया बॉडी एक्ट आरा, 20 जुलाई. अभिनय एवं ऐक्ट द्वारा आयोजित 20 दिवसीय नाट्य कार्यशाला के चौथे दिन बच्चों ने वरिष्ठ रंगकर्मी व नाट्य गुरु चन्द्रभूषण पांडेय से तालीम लिया. रमना मैदान के दक्षिणी रोड में स्थित मंगलम दी वेन्यू में बच्चों को कार्यशाला में प्रशिक्षक चंद्रभूषण पांडेय ने बॉडी ऐक्ट की बारीकियों को बताया. उन्होंने बच्चों को बड़ी सहजता के साथ बतलाया कि वे भी उनसे सीखने आये हैं. ये सहजता बच्चों में आत्मबल को बढ़ाने और उनकी झिझकता को दूर करने के लिए उन्होंने अपनायी. उन्होंने बताया कि फेस एक्सप्रेशन से पहले बॉडी के एक्सप्रेशन की जरूरत होती है और इसके लिए पूरे बॉडी पर एक्टर का कमांड रहना बेहद जरूरी है. उन्होंने कई शारीरिक चाल को प्रैक्टिकल के रूप में कर के दिखाया और फिर यूज ऑफ प्रॉप्स के बारे में बताया. उन्होंने इसके साथ ही तुरन्त 8 तरह के प्रॉप्स का उपयोग करने को बच्चों को दे दिया. सभी ने प्रॉप्स का उपयोग तरह-तरह से अपनी कल्पना के चरित्रों के साथ उसे फिट कर दिखाया. चंद्रभूषण पांडेय: चंद्रभूषण पांडेय जिले के ऐसे चर्चित रंगकर्मी हैं जिन्होंने इस शहर को कई अच्छे अभिनेता और निर्देशक दिए हैं. स्कूल के जमाने मे वे राष्ट्रीय हॉकी प्लेयर भी रह चुके हैं. 4 दर्जन से उपर नाट्य कार्यशालाओं में जहाँ वे हजारों बच्चों को प्रशिक्षण दे चुके हैं वही रश्मि-रथी जैसे काव्य के नाट्य रूपांतरण के लिए भी देश मे प्रचलित हैं. वे बेहद सादे और सहज व्यक्तित्व के धनी

Read more

जहाँगीर खान हुए रंग नगरी आरा के मुरीद, नाट्य प्रशिक्षण देने पहुँचे थे जिला मुख्यालय

आरा में 20 दिवसीय थियेटर वर्कशॉप आरंभ, प्रशिक्षक जहाँगीर खान ने गदगद हो कहा – यहाँ असीम सम्भवनाएँ आयोजक ने अतिथियों को उपहार में दिए पौधे आरा,18. किसी भी कार्यक्रम के लिए वह पल तब खास हो जाता है जब वहाँ पहुँचा अतिथि उस कार्यक्रम से प्रभावित हो उसकी तारीफ दूसरों से करने लगे. जी हाँ रविवार को आरा से पटना पहुँचने के बादरंगमंच के जाने-माने रंगकर्मी-निर्देशक जहाँगीर खान ने कुछ ऐसा ही किया. दरअसल मौका था अभिनव एवं ऐक्ट के 20 दिवसीय निःशुल्क नाट्य कार्यशाला के उद्घाटन का जहाँ वे पहले दिन ही बतौर प्रशिक्षक मंगलम द वेन्यू में पहुंचे थे. युवाओं और बच्चों को ट्रेंनिग देने के बाद पटना लौटते ही सोशल मीडिया पर कार्यशाला के बारे में अपने अनुभव को शेयर करते हुए लिखा कि “आरा की धरती के बारे में सुना था, रविवार को काम करने के बाद युवाओं और बच्चों की ऊर्जा को देखकर अच्छा लगा.”ये तारीफें उन्होंने आरा और आरा के युवा नवोदित कलाकारों की उर्जा से प्रभावित हो कहीं. उन्होंने थियेटर वर्कशॉप के पहले दिन बच्चों को टीम कोऑर्डिनेशन और टीम कम्युनिकेशन के बारे में कई गतिविधियों और थियेटर गेम के जरिये बताया. उन्होंने मीडिया से बात करते हुए भी कहा कि बच्चों में काफी संभावनाएं हैं. रंगसंस्था अभिनव एंड एक्टिव क्रिएटिव थिएटर(ऐक्ट) द्वारा आयोजित 20 दिवसीय थियेटर वर्कशॉप का आज से शुभारंभ हो गया. आगामी 6 अगस्त तक चलने वाले इस कार्यक्रम का उद्घाटन बतौर मुख्य अतिथि शहर के डॉ विजय कुमार गुप्ता व डॉ संगीता कुमारी गुप्ता ने मंगलम द वेन्यू

Read more

पुलित्ज़र पुरस्कार से सम्मानित पत्रकार की कंधार में मौत

बहादुरी को कैमरे में कैद करने वाले जर्नलिस्ट की जंग के मैदान में मौत!पटना,16 जुलाई. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के लिए काम करने वाले भारतीय मूल के फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की कंधार में मौत की खबर ने सबको हैरान कर दिया है.  उनकी मौत उस वक्त हुई जब वे अफगानिस्तान के कंधार में तालिबानियों और सिक्योरिटी फोर्सेस के मुठभेड़ के दौरान फंस गए.  स्पिन बोल्डक जिले में दानिश पिछले कई दिनों से मौजूदा हालात को कवर कर रहे थे. अफगानिस्तान की स्पेशल फोर्सेस जब एक रेस्क्यू मिशन पर थी, तब दानिश उनके साथ मौजूद थे. उनकी बॉडी कंधार के स्पिन बोल्डक से रिकवर की गई. दानिश के सिर और पसलियों में गनशॉट दिखाई पड़ रहे हैं. 2018 में उन्हें बेस्ट फोटोग्राफी के लिए पुलित्जर अवॉर्ड रोहिंग्या कवरेज के लिए मिला था.  दानिश मुंबई के रहने वाले थे. उन्हें रॉयटर्स के फोटोग्राफी स्टाफ के साथ पुलित्जर अवॉर्ड दिया गया था. उन्होंने दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में ग्रैजुएट किया था. 2007 में उन्होंने जामिया के मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर से मास कम्युनिकेशन की डिग्री ली थी. उन्होंने टेलीविजन से अपना करियर शुरू किया और 2010 में रॉयटर्स से जुड़े. इसी हफ्ते जब तालिबान ने कंधार के स्पिन बोल्डक पर कब्जा किया तो स्पेशल फोर्सेस के साथ लगातार उसकी मुठभेड़ शुरू हो गईं. पिछले कई दिनों से दोनों के बीच भीषण संघर्ष जारी है. दानिश इसी मिशन को कवर कर रहे थे. दानिश सिद्दीकी ने  2 दिन पहले आखिरी बार अपने पिता प्रोफेसर अख्तर सिद्दकी से बात की थी.

Read more

जॉइन कीजिये थियेटर की 20 दिवसीय मुफ्त कार्यशाला

“अभिनव एवं ऐक्ट” आयोजित करेगा 20 दिवसीय मुफ्त नाट्य कार्यशाला रविवार 18 जुलाई से प्रारंभ होगी 20 दिवसीय नाट्य कार्यशाला आरा, 16 जुलाई. भोजपुर जिले की थियेटर में अग्रणी रँग संस्था अभिनव और ऐक्ट आरा आगामी 18 जुलाई से 6 अगस्त तक एक नाट्य कार्यशाला का आयोजन करने जा रही है. संस्था 20 दिनों तक चलने वाले इस कार्यशाला में 6 साल से 14 साल और 15साल और उससे अधिक दो श्रेणियों के लोगों के लिए नाट्य कार्यशाला का आयोजन करने जा रही है. इस कार्यशाला में देश के नामी कई थियेटर दिग्गजो के शरीक होने की खबर है. थियेटर के दिग्गजों के साथ पेंटिंग, क्राफ्ट,मेकअप,संगीत,नृत्य और कैमरा फेसिंग के भी कई दिग्गज कार्यशाला में आने वाले थियेटर प्रेमियों को अपने हुनर को उनमें भरेंगे. बाहर के वैसे लोग जो फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े हैं वे भी इन बच्चों को ऑनलाइन के जरिये अपना हुनर इनमें भरेंगे. पहले दिन प्रशिक्षण में बतौर प्रशिक्षक जहांगीर खान आएंगे और थियेटर की बारीकियों को बताएंगे. कार्यशाला पूरी तरह से निः शुल्क है जो रेडक्रॉस के बगल में स्थित मंगलम द वेन्यू में आयोजित होगा. आयोजक ने बताया कि कोविड गाइडलाइंस का सभी कार्यशाला में मौजूद लोगों को सख्ती से पालन करना अनिवार्य है. कार्यशाला के निर्देशक वरिष्ठ रंगकर्मी, निर्देशक व पत्रकार रविन्द्र भारती हैं वही कार्यशाला के संयोजक ओ पी पांडेय को बनाया गया है. रविंद्र भारती ने अभिभवकों और स्कूल के शिक्षकों के साथ प्रबन्धकों से आग्रह किया कि कोरोना काल की वजह से मानसिक स्थिति से गुजर रहे सभी लोगों को

Read more

माले ने मृतक के परिजनों के साथ किया सीओ के समक्ष प्रदर्शन

कोइलवर(भोजपुर).भाकपा-माले ने स्वस्थ बिहार हमारा अधिकार आंदोलन के तहत कोरोना लक्षण वाले सभी मृतक के परिजन को 4 लाख मुआवजा देने के सवाल पर कोइलवर प्रखंड मुख्यालय में सीओ के समक्ष सैकड़ो लोगों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान मृतक परिजनों ने मुआवजा के लिए सीओ को 58 आवेदन दिया। मौके पर माले नेताओं ने कहा कि मोदी-नीतीश की सरकार असंवेदनशील हो गईं है। सरकार कोविड19 महामारी में जनता को अपने भरोसे छोड़ दिया। कोविड के पहले चरण से सबक नही लिया। दूसरे चरण के महामारी से बचाव के उपाय करने के बजाए केवल इधर-उधर की बाते करती रही। अस्पतालों में डॉक्टर, नर्स, जीवनरक्षक दवाओं की घोर किल्लत रही। कोविड जांच की कोई समुचित व्यवस्था नही किया गया। लोग अपने स्तर से देहाती डॉक्टरों से इलाज करा रहे थे। जिसका परिणाम हुआ कि हर गांव से कई लोगों की मृत्यु हो गई। सरकार मुआवजा नही देने के नियत से मृतकों की संख्या छुपा रही है। नेताओं ने कहा कि कोरोना लक्षण वाले सभी मृतक के परिजन को 4 लाख मुआवजा दें सरकार। अगर सरकार नही सुनती है तो भाकपा-माले इस मुद्दे पर सड़क से लेकर सदन तक जन आंदोलन करेगी।धरना-प्रदर्शन के दौरान प्रमुख रूप से भाकपा माले कोईलवर बड़हरा प्रभारी नंद जी, भाकपा माले प्रखंड सचिव विष्णु ठाकुर, चंदेश्वर राम, निर्मल शर्मा, कन्हैया सिंह, मुखदेव राम, विजेंद्र राम, मुन्ना चौधरी, कन्हैया राम, विशाल कुमार, सहित मृत परिवार के सदस्य उपस्थित थे। कोइलवर से आमोद कुमार की रिपोर्ट

Read more

अब दरभंगा एवं मुजफ्फरपुर से भी चलेंगी 04 जोड़ी मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनें

हाजीपुर,14 जुलाई. पूर्व मध्य रेल द्वारा यात्रियों की सुविधा हेतु कोविड-19 के कारण पूर्व में स्थगित 04 जोड़ी मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेन का परिचालन पुनर्बहाल किया जा रहा है. दिनांक 16 जुलाई, 2021 से प्रारंभ होने वाले इन मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनों का परिचालन अगली सूचना तक जारी रहेगा. ये मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनें मुजफ्फरपुर से पाटलिपुत्र, नरकटियागंज, समस्तीपुर तथा दरभंगा से पाटलिपुत्र के मध्य प्रतिदिन चलेंगी. इन पैसेंजर ट्रेनों से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए कोविड-19 से बचाव एवं रोकथाम हेतु जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना आवश्यक होगा. विदित हो कि इसके पूर्व पटना से गया, पंडित दीन दयाल उपाध्याय जं. तथा आरा के मध्य 03 जोड़ी मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेन का परिचालन 14.07.2021 से प्रारंभ किया जा चुका है. 05255 समस्तीपुर-मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल : 05255 समस्तीपुर- मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल 16.07.2021 से समस्तीपुर से प्रतिदिन 06.33 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 07.50 बजे मुजफ्फरपुर जं. पहुंचेगी. 2.05256 मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05256 मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल 17.07.2021 से मुजफ्फरपुर जंक्शन से प्रतिदिन 21.40 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकते हुए 23.26 बजे समस्तीपुर पहुंचेगी. 3.05257 मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05257 मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज मेमू पैसेंजर स्पेशल 16.07.2021 से मुजफ्फरपुर से प्रतिदिन 12.20 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 17.00 बजे नरकटियागंज पहुंचेगी. 4.05258 नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05258 नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल 17.07.2021 से नरकटियागंज से प्रतिदिन 09.45 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 14.35 बजे मुजफ्फरपुर पहुंचेगी. 5.05253 मुजफ्फरपुर-पाटलिपुत्र मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05253 मुजफ्फरपुर-पाटलिपुत्र मेमू पैसेंजर स्पेशल 16.07.2021 से

Read more

बाढ़ के कारण इन ट्रेनों के परिचालन में किया गया बदलाव

हाजीपुर,14 जुलाई. हाजीपुर मुख्यालय रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया किसमस्तीपुर मंडल के दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड के मुक्तापुर-समस्तीपुर स्टेशन (डाउन लाइन) के मध्य रेल पुल सं. 01 पर बाढ़ के पानी के बढ़ते स्तर को देखते हुए संरक्षा एवं यात्री सुरक्षा के मद्देनजर समस्तीपुर-मुक्तापुर के मध्य दिनांक 15 जुलाई से कुछ ट्रेनों के मार्ग को रद्द और आंशिक परिवर्तन किया गया है.  ट्रेनो की रूटों में बदलाव व रद्द करने का फैसला निम्न गाड़ियों में लिया गया है-1. 15.07.2021 को जयनगर से खुलने वाली गाड़ी संख्या 03225 जयनगर-राजेंद्रनगर टर्मिनल स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.2. 15.07.2021 को राजेंद्रनगर टर्मिनल से खुलने वाली 03226 राजेंद्रनगर टर्मिनल-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.3. 15.07.2021 को सहरसा से खुलने वाली 03227 सहरसा-बरौनी-राजेंद्रनगर टर्मिनल स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.4. 15.07.2021 को राजेंद्रनगर टर्मिनल से खुलने वाली 03228 राजेंद्रनगर टर्मिनल-बरौनी-सहरसा स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.5. 15.07.2021 को जयनगर से खुलने वाली गाड़ी संख्या 05554 जयनगर-भागलपुर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.6. 15.07.2021 को भागलपुर से खुलने वाली गाड़ी संख्या 05553 भागलपुर-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.7. 15.07.2021 को मनिहारी से खुलने वाली 05283 मनिहारी-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.8. 15.07.2021 को जयनगर से खुलने वाली 05284 जयनगर-मनिहारी स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.9. 15.07.2021 को समस्तीपुर से खुलने वाली 05589 समस्तीपुर-दरभंगा स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा ।10. 15.07.2021 को दरभंगा से खुलने वाली 05590 दरभंगा-समस्तीपुर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा . मार्ग परिवर्तन : 1. 15.07.2021 को दरभंगा से खुलने वाली 02569 दरभंगा-नई दिल्ली स्पेशल ट्रेन अपने

Read more

रेडक्रॉस के पूर्व वाइस चेयरमैन की पहली वर्षगाँठ पर श्रद्धांजलि के साथ रक्तदान हुआ सम्पन्न

आरा,13 जुलाई. मंगलवार को रेड क्रॉस के पूर्व वाइस चेयरमैन स्वर्गीय सुनील कुमार सिंह की प्रथम पुण्यतिथि उनके परिवार के सदस्यों द्वारा रेड क्रॉस भवन में आयोजित की गयी.कार्यक्रम की अध्यक्षता चेयरमैन डॉक्टर विवेकानंद यादव ने की. कार्यक्रम का शुभारंभ को-ऑपरेटिव बैंक के चेयरमैन सत्येंद्र सिंह द्वारा माल्यार्पण कर किया गया. अपनी संवेदना श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि रेड क्रॉस भवन के सभागार का सौंदर्यीकरण तथा दो स्प्लिट एसी सुनील सिंह की याद में कॉपरेटिव बैंक की तरफ से अनुदानित किया जाएगा. चेयरमैन डॉ बी एन यादव ने अपने संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि, हम सबों ने रेड क्रॉस के कर्णधार को खो दिया है, जिसकी भरपाई करनी करना मुश्किल है. वाइस चेयरमैन डॉ निर्मल कुमार सिंह ने अपने वक्तव्य में कहा कि, स्वर्गीय सुनील जी के जीवन वृत्त को अपनाकर और उनके रेड क्रॉस में दिए हुए योगदान को याद कर पूरी निष्ठा की भावना, जो उनमें थी उसी के अनुरूप रेड क्रॉस में हमें समर्पण भाव से काम करना है. इस अवसर पर डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा ने अपनी स्वरचित कविता के माध्यम से स्वर्गीय सुनील सिंह के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला. कार्यक्रम में स्वर्गीय सुनील कुमार सिंह के बड़े भाई अनिल कुमार सिंह ने आगत अतिथियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए स्वागत किया. डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा की स्वरचित कविता: श्रद्धेय सुनील बाबू कोप्रथम पुण्यतिथि पर समर्पितशब्दांजलिपटनारात्रि का सूनापनमुक्ति दायिनी का तटप्रकृत का फैला आंचलमां गंगा की गोद मेंचिर निद्रा में सो गएनैनों से ओझल हो गएस्मृति शेष रह गएओह! सुनील बाबू नहीं

Read more

नियमित फिजिकल कोर्ट शुरू करने के लिए हाईकोर्ट से गुहार, सुझाये उपाय भी

आरा ।। अदालतों में एक सुरक्षात्मक तंत्र के माध्यम से अधिवक्ताओं के प्रवेश को सुनिश्चित और नियमित करते हुए न्यायालय कार्य शुरू करवाने के लिए बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति पटना के अधिवक्ता नितीश कुमार सिंह ने मननीय उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को पत्र भेजा है. नीतिश कुमार सिंह सिवील कोर्ट,आरा सह शाहाबाद प्रमंडल के संगठन मंत्री भी हैं बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति के. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि यह एक तथ्य है कि देश कोविड -19 के प्रसार के कारण बहुत भयावह दौर से गुजर रहा है. इन दिनों का अनुभव बहुत उत्साहजनक नहीं है, न्यायालय में अधिवक्ताओं के प्रवेश को रोक देने के बाद से, उच्च न्यायालय और जिला न्यायालयों में अधिसंख्य अधिवक्ताओं के बहुमत, जो कंप्यूटर के जानकार नहीं हैं जिसके कारण वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुविधा का लाभ नहीं उठा सकते हैं, जिससे माननीय से संपर्क करने में विफल रहे हैं. अधिसंख्य हाइकोर्ट अपने यहाँ फिजिकल सुनवाई करने जा रही है. बिहार में कोरोना के केसेज बहुत ही कम आ रहे हैं इस कारण, कुछ व्यापक मापदंडों और पर्याप्त सुरक्षा उपायों को पेश किया जा सकता है, जो कि अदालतों में एक सुरक्षात्मक तंत्र के माध्यम से अधिवक्ताओं के प्रवेश को चालू और नियमित किया जा सकता है. उन्होंने न्यायालय से अपील किया है कि न्यूनतम संभव कार्य को सुचारू रूप से शुरु कराया जाय जिससे कोर्ट से सम्बंधित सभी लोगों का काम चल सके. इसमें कोई संदेह नहीं है, घर में बेकार बैठना एक मजबूरी है, लेकिन इससे भी अधिक, मुकदमों के

Read more