अब दरभंगा एवं मुजफ्फरपुर से भी चलेंगी 04 जोड़ी मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनें

हाजीपुर,14 जुलाई. पूर्व मध्य रेल द्वारा यात्रियों की सुविधा हेतु कोविड-19 के कारण पूर्व में स्थगित 04 जोड़ी मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेन का परिचालन पुनर्बहाल किया जा रहा है. दिनांक 16 जुलाई, 2021 से प्रारंभ होने वाले इन मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनों का परिचालन अगली सूचना तक जारी रहेगा. ये मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेनें मुजफ्फरपुर से पाटलिपुत्र, नरकटियागंज, समस्तीपुर तथा दरभंगा से पाटलिपुत्र के मध्य प्रतिदिन चलेंगी. इन पैसेंजर ट्रेनों से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए कोविड-19 से बचाव एवं रोकथाम हेतु जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना आवश्यक होगा. विदित हो कि इसके पूर्व पटना से गया, पंडित दीन दयाल उपाध्याय जं. तथा आरा के मध्य 03 जोड़ी मेमू पैसेंजर स्पेशल ट्रेन का परिचालन 14.07.2021 से प्रारंभ किया जा चुका है. 05255 समस्तीपुर-मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल : 05255 समस्तीपुर- मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल 16.07.2021 से समस्तीपुर से प्रतिदिन 06.33 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 07.50 बजे मुजफ्फरपुर जं. पहुंचेगी. 2.05256 मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05256 मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल 17.07.2021 से मुजफ्फरपुर जंक्शन से प्रतिदिन 21.40 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकते हुए 23.26 बजे समस्तीपुर पहुंचेगी. 3.05257 मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05257 मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज मेमू पैसेंजर स्पेशल 16.07.2021 से मुजफ्फरपुर से प्रतिदिन 12.20 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 17.00 बजे नरकटियागंज पहुंचेगी. 4.05258 नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05258 नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर मेमू पैसेंजर स्पेशल 17.07.2021 से नरकटियागंज से प्रतिदिन 09.45 बजे खुलकर सभी छोटे-बड़े स्टेशन पर रुकते हुए 14.35 बजे मुजफ्फरपुर पहुंचेगी. 5.05253 मुजफ्फरपुर-पाटलिपुत्र मेमू पैसेंजर स्पेशल: 05253 मुजफ्फरपुर-पाटलिपुत्र मेमू पैसेंजर स्पेशल 16.07.2021 से

Read more

बाढ़ के कारण इन ट्रेनों के परिचालन में किया गया बदलाव

हाजीपुर,14 जुलाई. हाजीपुर मुख्यालय रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया किसमस्तीपुर मंडल के दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड के मुक्तापुर-समस्तीपुर स्टेशन (डाउन लाइन) के मध्य रेल पुल सं. 01 पर बाढ़ के पानी के बढ़ते स्तर को देखते हुए संरक्षा एवं यात्री सुरक्षा के मद्देनजर समस्तीपुर-मुक्तापुर के मध्य दिनांक 15 जुलाई से कुछ ट्रेनों के मार्ग को रद्द और आंशिक परिवर्तन किया गया है.  ट्रेनो की रूटों में बदलाव व रद्द करने का फैसला निम्न गाड़ियों में लिया गया है-1. 15.07.2021 को जयनगर से खुलने वाली गाड़ी संख्या 03225 जयनगर-राजेंद्रनगर टर्मिनल स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.2. 15.07.2021 को राजेंद्रनगर टर्मिनल से खुलने वाली 03226 राजेंद्रनगर टर्मिनल-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.3. 15.07.2021 को सहरसा से खुलने वाली 03227 सहरसा-बरौनी-राजेंद्रनगर टर्मिनल स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.4. 15.07.2021 को राजेंद्रनगर टर्मिनल से खुलने वाली 03228 राजेंद्रनगर टर्मिनल-बरौनी-सहरसा स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.5. 15.07.2021 को जयनगर से खुलने वाली गाड़ी संख्या 05554 जयनगर-भागलपुर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.6. 15.07.2021 को भागलपुर से खुलने वाली गाड़ी संख्या 05553 भागलपुर-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.7. 15.07.2021 को मनिहारी से खुलने वाली 05283 मनिहारी-जयनगर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.8. 15.07.2021 को जयनगर से खुलने वाली 05284 जयनगर-मनिहारी स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा.9. 15.07.2021 को समस्तीपुर से खुलने वाली 05589 समस्तीपुर-दरभंगा स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा ।10. 15.07.2021 को दरभंगा से खुलने वाली 05590 दरभंगा-समस्तीपुर स्पेशल ट्रेन का परिचालन रद्द रहेगा . मार्ग परिवर्तन : 1. 15.07.2021 को दरभंगा से खुलने वाली 02569 दरभंगा-नई दिल्ली स्पेशल ट्रेन अपने

Read more

रेडक्रॉस के पूर्व वाइस चेयरमैन की पहली वर्षगाँठ पर श्रद्धांजलि के साथ रक्तदान हुआ सम्पन्न

आरा,13 जुलाई. मंगलवार को रेड क्रॉस के पूर्व वाइस चेयरमैन स्वर्गीय सुनील कुमार सिंह की प्रथम पुण्यतिथि उनके परिवार के सदस्यों द्वारा रेड क्रॉस भवन में आयोजित की गयी.कार्यक्रम की अध्यक्षता चेयरमैन डॉक्टर विवेकानंद यादव ने की. कार्यक्रम का शुभारंभ को-ऑपरेटिव बैंक के चेयरमैन सत्येंद्र सिंह द्वारा माल्यार्पण कर किया गया. अपनी संवेदना श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि रेड क्रॉस भवन के सभागार का सौंदर्यीकरण तथा दो स्प्लिट एसी सुनील सिंह की याद में कॉपरेटिव बैंक की तरफ से अनुदानित किया जाएगा. चेयरमैन डॉ बी एन यादव ने अपने संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि, हम सबों ने रेड क्रॉस के कर्णधार को खो दिया है, जिसकी भरपाई करनी करना मुश्किल है. वाइस चेयरमैन डॉ निर्मल कुमार सिंह ने अपने वक्तव्य में कहा कि, स्वर्गीय सुनील जी के जीवन वृत्त को अपनाकर और उनके रेड क्रॉस में दिए हुए योगदान को याद कर पूरी निष्ठा की भावना, जो उनमें थी उसी के अनुरूप रेड क्रॉस में हमें समर्पण भाव से काम करना है. इस अवसर पर डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा ने अपनी स्वरचित कविता के माध्यम से स्वर्गीय सुनील सिंह के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला. कार्यक्रम में स्वर्गीय सुनील कुमार सिंह के बड़े भाई अनिल कुमार सिंह ने आगत अतिथियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए स्वागत किया. डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा की स्वरचित कविता: श्रद्धेय सुनील बाबू कोप्रथम पुण्यतिथि पर समर्पितशब्दांजलिपटनारात्रि का सूनापनमुक्ति दायिनी का तटप्रकृत का फैला आंचलमां गंगा की गोद मेंचिर निद्रा में सो गएनैनों से ओझल हो गएस्मृति शेष रह गएओह! सुनील बाबू नहीं

Read more

नियमित फिजिकल कोर्ट शुरू करने के लिए हाईकोर्ट से गुहार, सुझाये उपाय भी

आरा ।। अदालतों में एक सुरक्षात्मक तंत्र के माध्यम से अधिवक्ताओं के प्रवेश को सुनिश्चित और नियमित करते हुए न्यायालय कार्य शुरू करवाने के लिए बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति पटना के अधिवक्ता नितीश कुमार सिंह ने मननीय उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को पत्र भेजा है. नीतिश कुमार सिंह सिवील कोर्ट,आरा सह शाहाबाद प्रमंडल के संगठन मंत्री भी हैं बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति के. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि यह एक तथ्य है कि देश कोविड -19 के प्रसार के कारण बहुत भयावह दौर से गुजर रहा है. इन दिनों का अनुभव बहुत उत्साहजनक नहीं है, न्यायालय में अधिवक्ताओं के प्रवेश को रोक देने के बाद से, उच्च न्यायालय और जिला न्यायालयों में अधिसंख्य अधिवक्ताओं के बहुमत, जो कंप्यूटर के जानकार नहीं हैं जिसके कारण वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुविधा का लाभ नहीं उठा सकते हैं, जिससे माननीय से संपर्क करने में विफल रहे हैं. अधिसंख्य हाइकोर्ट अपने यहाँ फिजिकल सुनवाई करने जा रही है. बिहार में कोरोना के केसेज बहुत ही कम आ रहे हैं इस कारण, कुछ व्यापक मापदंडों और पर्याप्त सुरक्षा उपायों को पेश किया जा सकता है, जो कि अदालतों में एक सुरक्षात्मक तंत्र के माध्यम से अधिवक्ताओं के प्रवेश को चालू और नियमित किया जा सकता है. उन्होंने न्यायालय से अपील किया है कि न्यूनतम संभव कार्य को सुचारू रूप से शुरु कराया जाय जिससे कोर्ट से सम्बंधित सभी लोगों का काम चल सके. इसमें कोई संदेह नहीं है, घर में बेकार बैठना एक मजबूरी है, लेकिन इससे भी अधिक, मुकदमों के

Read more

फूहड़ गाने वालों सावधान! नीतीश सरकार ने अश्लीलता पर लिया संज्ञान

भोजपुरी और मगही में अश्लील गाने वालों पर चलेगा कानून का चाबुक पटना,12 जुलाई. भोजपुरी और मगही में अश्लीलता फैलाने वाले सावधान! नीतीश सरकार ने लॉक डाउन के टूटते ही अपने पहले जनता दरबार में आये एक शिकायतकर्ता की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए अश्लीलता फैलाने वालों को अपने रडार पर ले लिया है और इससे सम्बंधित वरीय अधिकारियों के साथ मुख्य सचिव के जिम्मे लगा दिया है. बिहार में इन दिनों भोजपुरी और मगही में फूहड़ गानों की बाढ़ आ गई है. आये दिनों यू ट्यूब पर नए से लेकर नामी गायकों द्वारा यह सिलसिला शुरू है. नया  IT एक्ट जरूर लागू हो गया है लेकिन  इसके बाद भी सरकार द्वारा ऐसे गायकों या कम्पनी वालों पर कोई कार्रवाई नही हुई है. ऐसे फूहड़ और अश्लील गीतों से तंग आम जनता में से एक ने अपनी फरियाद को जनता दरबार मे पहुंचा दिया. सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में एक फरियादी ने भोजपुरी और मगही में अश्लीलता पर रोक लगाने की अपील की. अश्लीलता के खिलाफ अपनी शिकायत लेकर पहुंचे शिकायतकर्ता ने मुख्यमंत्री से मिल कहा कि इन दिनों भोजपुरी और मगही गानों में अश्लीलता को खुलेआम परोसा जा रहा है,जो सभ्य समाज के लिए घातक है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने युवक की बात को सुनने के बाद त्वरित एक्शन लेते हुए तुरन्त चीफ सेक्रेटरी को फोन लगा इस मामले को तत्काल देखने का निर्देश दिया. इतना ही नही मुख्यमंत्री ने शिकायतकर्ता को सीनियर अधिकारी के पास भेज दिया.  सरकार भोजपुरी और मगही द्वारा अश्लीलता पर सख्त दिखी.

Read more

शिक्षण संस्थानों को लौटाने पड़ेंगे सामान्य महिला व SC/ST उम्मीदवारों से लिए गए शुल्क

जनहित याचिका पर पटना हाईकोर्ट में सुनवाई पटना, 12 जुलाई. जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पटना हाईकोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला दिया है.अपने दिए फैसले में पटना हाईकोर्ट ने सामान्य महिला, SC और ST उम्मीदवारों से शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश,शिक्षण व अन्य लिए गए शुल्कों को एक सप्ताह के भीतर लौटाने का निर्देश राज्य के मुख्य सचिव को दिया है. बता दें कि जनहित याचिका रंजीत पंडित द्वारा दायर की गई थी जिसपर सुनवाई चीफ जस्टिस संजय करोल की खंडपीठ ने की. याचिका में यह कहा गया कि महिला, SC, STउम्मीदवारों से स्नातकोत्तर स्तर तक प्रवेश, शिक्षण व अन्य शुल्क नहीं लिए जाने का निर्णय लिया गया था. याचिका के अनुसार यह निर्णय राज्य सरकार ने 24 जुलाई,2015 को लिया था, लेकिन राज्य सरकार के निर्णय का उल्लघंन करते हुए विश्वविद्यालयों व कालेजों ने इन श्रेणी के उम्मीदवारों से सभी प्रकार के शुल्क लिया. इस पर पटना हाईकोर्ट ने इन श्रेणी के उम्मीदवारों को सारे लिए गए शुल्कों को एक सप्ताह में लौटाने का निर्देश राज्य सरकार को दिया है.  माननीय हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को यह भी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि आगे से इन श्रेणियों के उम्मीदवारों से प्रवेश, शिक्षण व अन्य किसी तरह के शुल्क स्नातकोत्तर स्तर तक नहीं लिए जाए. इस मामले पर अगली सुनवाई अगले सप्ताह बाद की जाएगी. PNCB

Read more

पीएचडी में अनियमितता, राजभवन पहुंचा मामला

सीटों से ज्यादा हैं स्टूडेंट,नेट-जेआरएफ उत्तीर्ण छात्रों को कोर्स वर्क में किया गया है फेलविभाग हेड प्रो रणविजय को कारण बताओ नोटिस के बाद भी कार्यशैली में सुधार नहीं4 पेपर के एग्जाम को 12 दिनों में पूरा कियापरेशान छात्रों ने बीच में ही छोड़ा कोर्स, बाहर राज्यों में लिया नामांकन आरा, 11 जुलाई. पीजी हिंदी विभाग के पीएचडी सत्र 2019 में दाखिला लिए हुए छात्रों की परेशानियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. कुलपति प्रो राजेन्द्र प्रसाद के पास छात्रों तथा प्रोफेसरों की शिकायत पहुंचने के बाद विभाग के हेड प्रो रणविजय को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया था. हालांकि उसके बाद भी विभाग की कार्यशैली में सुधार नहीं हुआ है और हाल ही में कुलपति द्वारा जवाब-तलब किये जाने के बाद बिना पीजीआरसी की बैठक नियमपूर्वक सम्पन्न कराए ही सम्बंधित संचिका पर कमिटी सदस्यों द्वारा गुपचुप तरीके से हस्ताक्षर कराए जाने का मामला प्रकाश में आया है. जिसकी शिकायत विभाग के प्राध्यापक और सीनेटर प्रो दिवाकर पांडेय ने कुलपति और राजभवन लिखित रूप में भेजकर कुलाधिपति और राज्यपाल से हस्तक्षेप करने की मांग की है. उन्होंने पत्र में लिखा है कि विभाग का स्थायी सदस्य होने के बावजूद कोई सूचना उन्हें नहीं दी जाती है ना ही किसी प्रक्रिया में पारदर्शिता अपनायी जाती है. ज्ञात हो कि पूर्व में पीएचडी रेगुलेशन 2009 के तहत हिंदी विभाग में बहुत से छात्रों का नामांकन करवा लिया गया लेकिन ना ही कोर्स वर्क पूरा हुआ ना ही उनकी परीक्षा ली गयी. बाद में विद्वत परिषद में मामला उठने

Read more

रेलवे के फ्यूचर प्लानिंग का हिस्सा बनी भोजपुरी पेंटिंग

भोजपुर के कलाकारों की छोटी मगर ऐतिहासिक जीत, भोजपुरी पेंटिंग को रेलवे ने दिया सम्मान भोजपुरी पेन्टिंग का चित्रांकन पूर्व मध्य रेलवे के अन्तर्गत आने वाली भोजपुरी भाषी रेलवे स्टेशनों एवं ट्रेनों पर भविष्य के लिए विचाराधीन 39वें दिन रेलवे ने दिया मोर्चा को दिया पेंटिंग कराने के लिए लिखित आश्वासन आरा,9 जुलाई. 39 दिनों से भोजपुरी पेंटिंग के सम्मान के लिए रेलवे परिसर में आंदोलकारी कलाकारों के लिए आज का ऐतिहासिक तो साबित हुआ लेकिन रेलवे द्वारा इस मांग को भविष्य के लिए विचारणार्थ लिखित आदेश किसी लॉलीपॉप से कम नही. लिखित आदेश जहाँ रेलवे पर विश्वास करने का आंदोलनकारियों के लिए एक मोहरा है वही रेलवे के लिए भी यह आंदोलन समाप्त करने की रणनीति जरूर है पर आश्वासन उसके गले की हड्डी बन सकती है. निर्धारित समय के अनुसार रोजाना की तरह गुरुवार को 39वें दिन भी सुबह से ही आरा रेलवे स्टेशन पर कलाकारों एवं संस्कृतिकर्मियों का भारी जमावड़ा आंदोलन को तीव्र धार देने के लिए जमा था. जहाँ आन्दोलनकारी कलाकारों ने रेलवे परिसर में 9.30 बजे से आन्दोलन अपने रंगारंग कार्यक्रम के साथ जारी रखा. लोकगीतों,जनगीतों और नुक्कड़ नाटक के जरिये रेलवे स्टेशन पर आने-जाने वालों का,कलाकारों ने उनके ट्रेन आने तक उन्हें धरना-स्थल पर जरूर रोके रखा. दोपहर 12.30 बजे रेलवे अधिरकरियो का सबको बेसब्री से इंतजार था. वरीय मंडल अभियंता अमित गुप्ता को मोर्चा की ओर से पुनः भोजपुरी पेंटिंग को रेलवे स्टेशन पर अंकन के लिए एक लिखित आवेदन दिया गया जिसके बाद उसके प्रतिउत्तर में रेलवे ने एक पत्र मोर्चा के

Read more

भोजपुरी पेंटिंग के लिए आज हो सकता है गोल्डन दिन, रेलवे की ओर से आज वार्ता

38 दिनों से चल रहे कलाकरों का आन्दोलन आज हो सकता है समाप्त आरा, 9 जुलाई. भोजपुरवासियों के लिए आज का दिन गोल्डन दिन साबित हो सकता है. कारण है आज रेलवे द्वारा पेश की भोजपुरी पेंटिंग को लेकर आंदोलनकारियों के साथ अहम बैठक जो दोपहर होने वाली है. बैठक में भोजपुरी पेंटिंग को लेकर रेलवे द्वारा क्या स्वीकारोक्ति होती है यह तो बैठक के बाद ही पता चलेगा. लेकिन एक बात तो साफ है कि भोजपुरी पेंटिंग को उचित सम्मान दिलाने के लिए संघर्षरत भोजपुरी कला संरक्षण मोर्चा द्वारा 38 दिनों से लगातार आन्दोलन इस बार आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं. रेलवे द्वारा दो बार पहले भी बैठक हो चुका है लेकिन कलाकारों की मांगों पर अबतक रेलवे द्वारा कोई लिखित आदेश न मिलने का कारण कलाकार लगातार लोकतांत्रिक तरीके से अपनी मांगों के लिए रेलवे परिसर में ही अड़े हुए हैं. जिन्हें अब न सिर्फ विभिन्न दलों का समर्थन मिल रहा है बल्कि आम जनता का भी भरपूर समर्थन मिल रहा है. आन्दोलनकारियों ने गुरुवार को 38वें दिन भी आरा रेलवे स्टेशन पर जनता से संवाद करते हुए पूर्व मध्य रेलवे प्रशासन को जगाने के लिए शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन किया. मनोवैज्ञानिक अरविंद राय ने कहा कि भोजपुरी संस्कृति प्रत्येक भोजपुरिया लोगों के रोम-रोम में बसी हुई है. वह लोकगायन हो या लोक चित्रांकन. मोर्चा के कोषाध्यक्ष सह चित्रकार कमलेश कुंदन ने आक्रोश के साथ कहा कि असली संघर्ष तो सच को ही करना होता है. झूठ तो हर कदम पर बिक जाता है. मंच

Read more

सोशल डिस्टेंसिंग ताख पर रख 486 को लगा कोरोना का टीका

गड़हनी,9 जुलाई. स्थानीय प्रखंड के गड़हनी अवस्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत क्षेत्र में गुरुवार को पत्रकार मुरली मनोहर जोशी एवं अविनाश कुमार राव समेत 486 लोगों ने कोरोना का वैक्सीन लिया. हेल्थ मैनेजर अनिल कुमार ने बताया कि बीआरसी गड़हनी, राम दहिन इंटर स्कूल एवम बँगवा पंचायत के बहादुरपुर गांव में कैम्प लागाकर लोगों को कोवीड 19 का वैक्सीन  दिया गया. वैक्सीन लेने के लिए लोगों में काफी उत्साह देखने को मिला. स्वास्थ्य कर्मी के समझाने के बावजूद लोग सोसल डिस्टेंसिग की धँज्जिया उड़ा रहे थे. अधिकतर लोगों ने मास्क नहीं पहना था. पीएचसी प्रभारी का कार्यालय था खुला लेकिन प्रभारी गायब गड़हनी स्वास्थ्य केंद्र पर आए लोगों ने बताया कि गड़हनी पीएसची प्रभारी डाक्टर रीता शर्मा अक्सर गायब ही रहती हैं. गुरुवार को भी उनका चेम्बर तो खुला था लेकिन वो नहीं थी. उनसे दूरभाष पर सम्पर्क करने की कोशिश की गई लेकिन उनसे बात नहीं हो पाई. लोगो का कहना हैं कि जब अस्पताल का मुखिया ही अक्सर गायब रहे तो घर की स्थिति कैसी होगी इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. कहाँ कितना लगा कोविड का टीका गड़हनी प्रखंड क्षेत्र में कोवीड 19 का ज्यादा से ज्यादा टीकाकारण हो इसको ले तीन जगहों पर टीकाकारण किया जा रहा था. उस दौरान बीआरसी गड़हनी में 186, रामदहिन इंटर स्कूल में 150 एवम बँगवा पंचायत के बहादुरपुर गांव में 150 लोगों को कोवीड 19 का वैक्सीन दिया गया. दो गार्ड के भरोसे अस्पताल की सुरक्षा पीएचसी गड़हनी में दो गार्ड पर अस्पताल की सुरक्षा को छोड़ दिया गया हैं.

Read more