टूटा ट्रैक्शन तार, बाधित हुआ रेल परिचालन

आरा एवं कारीसाथ के बीच टूटा ट्रैक्शन तार आरा. शनिवार की रात्रि दानापुर मंडल के आरा तथा कारीसाथ रेलवे स्टेशन के बीच ट्रैक्शन तार टूट जाने के कारण रेल परिचालन बाधित हो गया,जिसके कारण अप एवं डाउन में रेल परिचालन बाधित हो गया. रेल परिचालन बाधित होने से कई महत्वपूर्ण ट्रेनें विभिन्न स्टेशनों पर खड़ी हो गई. इससे यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा. जानकारी के अनुसार शनिवार की रात्रि 9 बजकर 50 मिनट पर आरा व कारीसाथ स्टेशन के बीच मिशन स्कूल के समीप ट्रैक्शन तार (ओवरहेड तार) टूटकर गिर गया. इससे रेल परिचालन बाधित हो गया. सरपट दौडने वाली ट्रेन जहां-तहां खडी हो गयी. रेल परिचालन बाधित होने से 63231 अप सवारी गाड़ी ट्रेन आरा स्टेशन पर खड़ी रही. वहीं डाउन की ओर जाने वाली ट्रेन भी विभिन्न स्टेशनों पर रुकी रही. आरा पैनल रुम में डियूटी कर रहे पदाधिकारी ने बताया कि ट्रैक्शन तार को दुरुस्त करने का कार्य युद्धस्तर पर जारी है. जल्दी रेल परिचालन बहाल कर लिया जाएगा. आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट

Read more

वो प्रधानमंत्री, जिनकी कविताओं से आंदोलित होता था समाज

संभावना आवासीय उच्च विद्यालय में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन विद्यालय से जुड़े हर लोगों ने दी श्रद्धांजलि आरा,18 अगस्त. पूर्व प्रधानमंत्री और अपने इरादों के लिए अटल रहने वाले भारत रत्न अटल बिहारी बाजपेयी के निधन के बाद पुरुआ राष्ट्र शोकाकुल है. शोक की इस घड़ी में शहर के शुभ नारायण नगर, मझौवां स्थित संभावना आवासीय उच्च विद्यालय में शनिवार को एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसमें छात्रों के साथ विद्यालय के शिक्षक,कर्मचारी, प्राचार्य एवं निदेशक ने भाग लिया. विद्यालय परिवार के सभी लोगों ने दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की. विद्यालय के निदेशक कुमार द्विजेंद्र ने इस मौके पर दिवंगत भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वाजपेयी के निधन से एक युग का समापन हो गया. जननायक वाजपेयी न सिर्फ सफल प्रधानमंत्री रहे बल्कि अपनी राष्ट्रवादी कविताओं मे भारतीय समाज को आंदोलित करते रहे. श्रद्धांजलि सभा में छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों को संबोधित करते हुए विद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर अर्चना सिंह ने कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में पोखरण परमाणु परीक्षण कर पूरे विश्व में यह संदेश दे दिया कि भारत अब शक्तिशाली देश बन कर उभर चुका है. उन्होंने कहा कि स्वर्गीय वाजपेयी सही मायने में अजातशत्रु थे. आरा से अपूर्वा की रिपोर्ट

Read more

CBI ने खंगाले पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के ठिकाने

पटना समेत कई जगहों पर शुक्रवार को मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न कांड में सीबीआई ने छापेमारी की. मंजू वर्मा के पटना स्थित सरकारी आवास 6 स्टैंड रोड सहित बेगूसराय स्थित कुल पांच ठिकानों पर CBI ने छापेमारी की. पटना के अलावा सीबीआई की टीम मंजू वर्मा के कुल 5 ठिकानों पर छापेमारी की. जिसमें बेगूसराय स्थित चेरिया बरियारपुर विधानसभा क्षेत्र के अंदर आने वाला उनके पैतृक गांव श्रीपुर का घर भी शामिल है. माना जा रहा है कि CBI को मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में मंजू वर्मा के खिलाफ ठोस इनपुट मिला है, जिसके बाद तकरीबन दर्जनभर CBI अधिकारियों की टीम छापेमारी में लगी थी. CBI की इस कार्रवाई से यह बात साफ है ब्रजेश ठाकुर के साथ संबंधों को लेकर मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा CBI के रडार पर है. इधर, ब्रजेश ठाकुर के अखबार प्रातः कमल के पटना और मुजफ्फरपुर स्थित कार्यालय में भी सीबीआई ने छापेमारी की. पटना स्थित प्रात:कमल के दफ्तर से सीबीआई ने भारी मात्रा में आपत्तिजनक सामग्री बरामद की है.

Read more

कजरी महोत्सव मनाया गया

आरा. सावन का महीना हो हरी चूड़ियां उर हरे रंग की साड़ियों के साथ भोजपुरी लोकगीत कजरी की बात न हो तो सावन अधूरा लगता है. पहले सावन आते ही झूले और कजरी की गूंज हर तरफ दिखती थी लेकिन आधुनिकता के इस दौर में लोग इसे भूलते जा रहे हैं. लेकिन कुछ सामाजिक संस्था ऐसे हैं जो ऐसे लोकरंग को जीवित रखने में अपना पूर्ण योगदान दे रहे हैं. इस साल सावन महीने में लुप्त होती कजरी को नेशनल साइन्टीफिक रिसर्च एंड सोसल एनालिसिस ट्रस्ट आरा ने अपने कार्यालय कजरी महोत्सव का आयोजन कर किया. कजरी महोत्सव 72वें स्वंतंत्रता दिवस के मौके पर आयोजित की गई. झंडोतोलन के बाद शाम में कजरी का शानदार आयोजन हुआ. राजा बसंत और अविनाश कुमार पांडे(कुली बाबा) अपने साथियों सहित गायन से कजरी का जलवा बिखेरा. इस मौके पर छाया श्रीवास्तव और शगुन श्री ने भी अपनी प्रस्तुति दी. इस मौके पर वरिष्ठ रंगकर्मी मो.सरूर अली अँसारी संस्था के निदेशक श्याम कुमार ‘राजन’ , संजय पाल, शालिनी श्रीवास्तव, विभूति कुमारी,प्रीति चौधरी,मनोज सिंह,अभिषेक गुप्ता थे. आरा से रवि प्रकाश सूरज की रिपोर्ट

Read more

‘मनीषा’ यू हीं नही बनी ‘मनीषा दयाल’

‘आसरा शेल्टर होम’ की संवासिनियों को किया ‘बेआसरा’ बिहार में शेल्टर होम्स में स्कैंडल थमने का नाम ही नहीं ले रहे. इस बार शर्मसार होने की बारी राजधानी पटना की थी जहाँ ‘आसरा होम’ में बीते शुक्रवार दो इनमेट महिलाओं की मौत के बाद कुछ ऐसी सनसनी मची कि शेल्टर होम के  संचालक चिरन्तन कुमार और मनीषा दयाल को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करना पड़ा. मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड के मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर की तरह मनीषा दयाल के बारे में सनसनीखेज खुलासे सामने आ रहे हैं. मनीषा दयाल के नेताओं के साथ फोटो लगातार वायरल हो रहे हैं जिससे एक बार फिर सियासी हलकों में बेचैनी देखी जा रही है.   संवासिनियों की मौत ने खड़े किये कई सवाल इन दो मौतों के मामले में पीएमसीएच के डॉक्टर का कहना है कि लड़कियों की अस्पताल लाए जाने से पहले ही मौत हो चुकी थी. यह सवाल भी उठ रहा है कि पोस्टमार्टम के बाद शव का डिस्पोजल क्यों नहीं हुआ और इस पूरे प्रकरण में  कौन-कौन से लोग शामिल हैं? 10 अगस्त से जांच चलने के बावजूद किसी के बीमार होने की बात सामने क्यों नहीं आई? राजीवनगर थाना के नेपाली नगर में स्थित इस शेल्टर होम का मामला सामने आने के बाद समाज कल्याण विभाग और जिला प्रशासन ने इसकी जांच शुरू कर दी है.  कौन है ग्लैमरस ‘समाजसेवी’ मनीषा ‘आसरा शेल्टर होम’ की सचिव बेहद खूबसूरत मनीषा समाजसेवी के तौर पर राजधानी के सोशल और पोलिटिकल लॉबी में पिछले कुछ सालों से चर्चा में थी. हालांकि

Read more

किसने लहराया आज़ादी की पहली सुबह तिरंगा

15 अगस्त,1947 को गांधी मैदान में किसने लहराया राष्ट्रीय ध्वज आज़ादी के समय बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री के रूप में श्रीकृष्ण सिंह सत्ता में थे और कांग्रेस के अध्यक्ष महामाया प्रसाद सिन्हा थे. स्वाधीनता की पहली सुबह झंडा कौन फहराये इस पर जोरदार बहस उस वक़्त के बिहार के राजनीतिक हलकों में हुई. उस समय के बिहार प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष महामाया प्रसाद सिन्हा ने रात़ो रात गांधी मैदान मे झंडा चबूतरे का निर्माण कराया.उनका तर्क था कि आजादी कांग्रेस ने दिलाई इसलिए आजादी के पहले झंडोत्तोलन का अधिकार कांग्रेस अध्यक्ष को है,और हुआ भी वही. उनके द्वारा निर्मित चबूतरे पर ही आज तक झंडा फहराया जा रहा है और उसी स्थल से नेतागण भाषण भी देते रहे हैं. गांधी मैदान के दक्षिणी गेट के पास हीं एक बोर्ड पर गांधी मैदान का संक्षिप्त इतिहास लिखा था जिसमें मुख्य रूप से इस पूरे प्रक्रम का जिक्र था, पता नहीं अब वो बोर्ड है भी की नहीं? कहते हैं कि उस समय के मुख्यमंत्री डा. श्रीकृष्ण सिहं ने दानापुर कैंटोनमेंट में झंडा फहराया. दोनो मे विवाद चरम सीमा पर पहुँच गया. बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अगले चुनाव मे डा. सिंह ने महामाया बाबू का भारी विरोध किया, और महामाया बाबू अध्यक्ष नहीं चुने जा सके. इसी कारण जब जय प्रकाश बाबू ने सोशलिस्ट पार्टी बनाई त़ो वे उनकी पार्टी मे चले गये. बाद में महामाया बाबू 1967 में मुख्यमंत्री भी हुए. उन्हें जायंट किलर भी कहा जाता था. अपने प्रतिद्वंद्वी कई राजनीतिक दिग्गजो को उन्होंने चुनौती देकर हराया. आरा

Read more

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन; मुख्यमंत्री ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की

नई दिल्ली 16 अगस्त, 2018 (ब्यूरो रिपोर्ट) | बीजेपी नेता, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार को निधन हो गया. वाजपेयी ने दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में गुरुवार शाम 5:05 बजे अंतिम सांस ली. 93 वर्षीय वाजपेयी बीते 11 जून से एम्स में भर्ती थे. उन्हें गुर्दा (किडनी) की नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. एम्स के अनुभवी डॉक्टर लगातार उनकी देखरेख में लगे हुए थे. इसी बीच कल दोपहर बाद से ही प्रधानमंत्री मोदी समेत देश के तमाम नेता उनका हाल जानने के लिए एम्स पहुंचे. आज एम्स पहुंचने वालों में केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान, राधा मोहन सिंह और जगत प्रकाश नड्डा भी शामिल हैं. इनके अलावा नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी एम्स पहुंचे. जैसी ही अटलजी की तबीयत बिगड़ने की खबर मीडिया पर फैली देश भर में उनके चाहने वाले और प्रशंसकों ने उनके स्वस्थ व दीर्घायु होने की कामना शुरू कर दी थी. बुधवार को उनकी हालत गंभीर हो गई थी और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था. एम्स ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी ने गुरुवार की शाम पाँच बजकर पाँच मिनट पर अंतिम सांस ली. उनका शव शुक्रवार को नई दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के हेडक्वार्टर में श्रद्धांजलि के लिए रखा जाएगा. उनकी अंतिम क्रिया विजयघाट पर शुक्रवार को शाम 5 बजे की जाएगी. भारत के राष्ट्रपति

Read more

जश्न—ए-आज़ादी की धूम में सराबोर रहा भोजपुर

मुख्य समारोह ऐतिहासिक रमना मैदान में आरा, आज़ादी की ७२ वीं वर्षगाँठ भोजपुर जिले में उत्साह और उमंग के  साथ मनाई गयी. मुख्य समारोह ऐतिहासिक वीर कुंवर सिंह मैदान  (रमना मैदान) में सम्पन्न हुआ जहाँ प्रशासनिक अधिकारियों, जिले के गणमान्य व्यक्तियों, छात्र-छात्राओं और दर्शकों की भारी उपस्थिति के बीच जिलाधिकारी संजीव कुमार ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और परेड की सलामी ली. इस अवसर पर आरक्षी अधीक्षक अवकाश कुमार, जिला एवं सत्र न्यायाधीश अमरेन्द्र पति त्रिपाठी, नगर महापौर श्रीमती प्रियम, वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ नंदकिशोर साह, जिला परिषद अध्यक्ष आरती देवी, सिविल सर्जन डॉ जगदीश सिंह समेत अन्य गणमान्य अतिथि उपस्थित थे. झंडोत्तोलन के बाद जिलाधिकारी ने भोजपुर की विकास यात्रा को रेखांकित करते हुए सरकार की उपलब्धियों का विवरण दिया. इस अवसर पर जनसेवा और अन्य उत्कृष्ट कार्यों के लिए कई व्यक्तियों को सम्मानित किया गया जिसमें चिकित्सा के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि के लिए चर्चित युवा चिकित्सक डॉ विकास और डॉ प्रतीक भी शामिल थे.   सरकारी कार्यालयों और अन्य संस्थानों में भी हर्षोल्लास के साथ हुआ झंडोत्तोलन   जिले के प्रमुख सरकारी कार्यालयों जैसेसमाहरणालय में जिलाधिकारी संजीव कुमार, आरक्षी अधीक्षक कार्यालय में एसपी अवकाश कुमार, सदर अस्पताल में सिविल सर्जन डॉ. जगदीश सिंह, जिला परिषद कार्यालय में अध्यक्ष आरती देवी, अनुमंडलाधिकारी कार्यालय में एसडीओ अरुण प्रकाश, एसडीपीओ कार्यालय में एसडीपीओ पंकज कुमार, नगर थाना में थानाध्यक्ष जेपी सिंह, नवादा थाना में थानाध्यक्ष सुबोध कुमार, मुफ्फसिल थाना में थानाध्यक्ष रविंद्र राम, महिला थाना में थानाध्यक्ष पूनम कुमारी, यातायात थाना में थानाध्यक्ष विजय कुमार सिंह, जेल मंडल

Read more

भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान अजित वाडेकर नहीं रहे

मुंबई (ब्यूरो रिपोर्ट) | भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान अजित वाडेकर का, जिन्होंने इंग्लैंड और वेस्टइंडीज में टेस्ट जीत में भारतीय टीम का नेतृत्व किया, लंबे समय की बीमारी के बाद बृहस्पतिवार को मुंबई में निधन हो गया. वे 77 वर्ष के थे और उनके पीछे उनकी पत्नी रेखा, दो बेटें और एक बेटी बची है. वाडेकर को आज दक्षिण मुंबई के एक अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें ‘आगमन पर मृत’ घोषित कर दिया गया. उनका आखिरी संस्कार शुक्रवार को किया जायेगा. वाडेकर परिवार के एक सदस्य, जो नाम गुप्त रखना चाहते थे, ने पटनानाउ को बताया. जसलोक अस्पताल के अनुसार, “वे कुछ समय से गंभीर रूप से अस्वस्थ थे और उसके लिए वे इलाज करवा रहे थे।”   वाडेकर एक आक्रामक बल्लेबाज थे वे एक आक्रामक बल्लेबाज थे जो केवल 37 टेस्ट खेलने के बावजूद भारतीय क्रिकेट में एक ट्रेलब्लैज़र थे, जिसने भारत को 1971 में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज में भारतीय टीम को जीत हासिल की. वाडेकर ने अपने टेस्ट करियर में 2,113 रन बनाए, जिसमें एक शतक भी शामिल था. वे देश के पहला ओडीआई (एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय) कप्तान भी थे. हालांकि, वे सिर्फ दो ओडीआई मैचों में दिखाई दिए थे. भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ उन ओडीआई दोनों मैचों को खो दिया था जिसके बाद वाडेकर ने 1974 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया था..

Read more

दुआओं का दौर चालू; वाजपेयी की हालत अब भी गंभीर

नयी दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) | देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की स्थिति में कोई सुधर नहीं हुआ है. आज दोपहर एम्स की तरफ से जारी लिखित बयान में फिर से उनकी हालत नाजुक होने की सुचना है. ज्ञातव्य है 93 साल के अटल बिहारी वाजपेयी कई बीमारियों से जूझ रहे हैं. उन्हें किडनी में संक्रमण, सीने में जकड़न और यूरिन आउटपुट कम होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. पूरे देश में उनके लिए प्रार्थनाओं एवं दुआओं का दौर चालू है. नीतीश कुमार जा रहे हैं दिल्ली सीएम नीतीश अटल बिहारी वाजपेयी का हाल जानने आज दोपहर दोपहर डेढ़ बजे की फ्लाइट से दिल्ली जाएंगे. उनके साथ सुशील मोदी भी जाएंगे.

Read more