अब स्कूल एवं कॉलेजों में बनाया जायेगा कोविड टीकाकरण केंद्र

• संक्रमण बढ़ते देखकर लिया गया निर्णय• तीन कमरों का बनेगा टीकाकरण केंद्र• राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक ने जारी किया निर्देशआरा, 12 मई(ओ पी पांडेय). जिले में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोविड टीकाकरण अभियान को तेज किया गया है. अब 18 से 44 वर्ष तक के लाभार्थियों का टीकाकरण किया जा रहा है. इस कड़ी में स्वास्थ्य विभाग ने स्कूल व कॉलेजों में टीकाकरण केंद्र बनाने का निर्णय लिया है. इस संबंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किया है. जारी पत्र में कहा गया है कि कोविड 19 वैश्विक महामारी से सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से 18 से 44 वर्ष आयुवर्ग के सभी लाभार्थियों का सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में निःशुल्क टीकाकरण कराया जा रहा है. इस आयुवर्ग के लाभार्थियों की अत्यधिक संख्या को देखते हुए टीकाकरण सत्र स्थल को कोविड 19 की जांच एवं उपचार किये जा रहे स्वास्थ्य संस्थान परिसर से अलग रखे जाने का निर्णय लिया गया है. टीकाकरण पूर्व से संचालित स्वास्थ्य संस्थानों से अलग सरकारी स्कूल, कॉलेज आदि में आयोजित किया जाना है. संक्रमण बढ़ते देखकर लिया गया निर्णय:पत्र के आलोक में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. संजय कुमार सिन्हा ने बताया संक्रमण लगातार बढ़ रहा है और इससे सुरक्षित रहने का सबसे सशक्त माध्यम टीकाकरण ही है. सरकार और स्वास्थ्य विभाग प्रयासरत है कि 18 वर्ष के ऊपर के सभी युवाओं और अन्य लोगों को टीका लगाया जाए. लेकिन, केंद्रों पर बढ़ रही भीड़ व संक्रमण की संभावना

Read more

मुहल्ले में साक्षी का बजा डंका

मुहल्ले वासियों ने घर जाकर दी बधाई आरा. जब किसी मुहल्ले या शहर में कोई अपने पढ़ाई, खेल या किसी अन्य विशेष कलाओं से उस जगह का नाम रौशन करता है तो वहाँ के लोग भी उस शख्स की सफलता पर बधाई देता है और उसके हौसले को और उड़ान पर जाने के लिए अपने उत्साह से उसे लबरेज कर देता है. कुछ ऐसा ही आजकल मिश्र टोला की रहने वाली साक्षी के साथ है. साक्षी कुमारी ने मैट्रिक में 85 प्रतिशत अंको(425) के साथ उतीर्ण हो अपने मुहल्ले में डंका बजाया है. हालांकि जिले में कई छात्रों ने इससे अधिक अंक अर्जित किया है और उन्हें कई संस्थानों और अधिकारियों ने सम्मानित किया है,लेकिन साक्षी अपने मुहल्ले की अभी स्टार है. साक्षी हरखेंन कुमार गायन स्थली की छात्रा है. साक्षी के पिता शैलेश ओझा एक दवा कम्पनी में कार्य करते हैं और माता ममता देवी गृहणी है. बेटी की सफलता पर परिवार ही नही पूरा मुहल्ला गदगद है. अपनी सफलता के बाद साक्षी ने बताया कि वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती है. वह अपने सफलता का सारा श्रेय अपने माता-पिता और गुरुजनों को देती है. वह कहती है कि जबतक माता-पिता शिक्षा के लिए बच्चियों को प्रेरित नही करेंगे शिक्षा का अलख नही जलेगा. वह अपने गुरु अमरेंद्र कुमार सिंह और वंशीधर मिश्रा के प्रति काफी कृतज्ञता जाहिर करती है जिन्होंने लॉक डाउन जैसे समय मे भी ऑनलाइन पढ़ाई के जरिये छात्रों को शिक्षा से वंचित नही रहने दिया. वह कहती है इसी तरह वह आगे भी अपने लक्ष्य

Read more

‘काव्य-संध्या’ में बही साहित्य की गंगा

आरा, आरोह थियेटर और आरा बुक क्लब के बैनर तले आज आरा के जयप्रकाश स्मृति स्थल, रमना मैदान में कविता की साझी विरासत से जुड़ी काव्य-संध्या (शाम-ए-सुख़न) आयोजित हुई। इसमें आरा और आसपास के क्षेत्र के कवि, रंगकर्मी, चित्रकार और विभिन्न संस्कृतिकर्मी उपस्थित रहे। कवियों और शायरों ने अपने समाज की नब्ज़ को परखने वाली कविताएँ, ग़ज़लें और गीत प्रस्तुत किये। रविशंकर ने ‘हत्यारे की सुबह’ कविता के पाठ से कार्यक्रम का आगाज़ किया। चित्रकार और कवि राकेश दिवाकर ने ‘वे किसान हैं’ और ‘सवाल बवाल है’ कविताएँ प्रस्तुत कीं। सुमन कुमार सिंह ने किसानों की मौजूदा हालत से जुड़ी कविता ‘हल चलाना देश चलाना नहीं होता’ पढ़ी एवं भोजपुरी व्यंग्य गीत ‘डगरिया समेटs जन रजवा’ गाकर सुनाया। मक़बूल शायर इम्तियाज़ अहमद ‘दानिश’ जी ने अपनी दो ग़ज़लें तरन्नुम में सुनाईं। ‘वो हौसला ही कहाँ बाज़ुओं में जान कहाँ’ में मौजूदा राजनीतिक हालात की समीक्षा भी है। छपरा से आये अहमद अली जी ने ‘ राख के ढेर में हीरे को छुपाने वाले’ ग़ज़ल गाकर सुनाई। वरिष्ठ कवि जनार्दन मिश्र ने भी भोजपुरी गीत ‘गंगा मैया’ गाकर सुनाया। प्रख्यात कवि एवं संपादक संतोष श्रेयांश ने ‘काली छतरी’ और ‘बोनसाई’ कविताओं के ज़रिए मध्यवर्गीय विडंबनाओं को उकेरा। वरिष्ठ कवि ओमप्रकाश मिश्र ने कोरोना काल की अपनी कई छोटी कविताएँ प्रस्तुत की जिनमें महामारी के स्याह और रौशन दोनों पहलू थे। चर्चित कवि अरुण शीतांश ने ‘वृक्षों से लिपट कर रोना चाहता हूँ’ और ‘नज़री नक्शा’ कविताओं से अपने परिवेश में होने वाली असंवेदनशील घटनाओं की तरफ ध्यान आकृष्ट किया। नीलाम्बुज सरोज

Read more

शाहाबाद के लोगों को मिलेगा ‘वर्ल्ड क्लास’ उत्पादों का फायदा

आरा, नगर के लोगों को जल्द ही वर्ल्ड क्लास ब्रांड के उत्पादों का फायदा मिलने जा रहा है। RED TAPE जो कि LIFESTYLE सेगमेंट का बड़ा ब्राण्ड है, जो कि जल्द ही आरा के कतीरा मोड़ के पास खुलने जा रहा है, ये पूरे शाहाबाद क्षेत्र में RED TAPE का एकलौता आउटलेट है। यहाँ वे सभी उत्पाद उपलब्ध होंगे जो अब तक सिर्फ बड़े नगरों में उपलब्ध होते थे। यह जानकारी प्रेस कॉन्फ्रेंस में आज आउटलेट के जन सम्पर्क पदाधिकारी अखिल प्रियदर्शी ने दी।

Read more

कोरोना के टीका के लिए ऐसे हो रहे हैं लोग जागरूक !

भोजपुर जिला मुख्यालय में तीन स्थानों पर हुई नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुतिलोगों को टीका लेने और सामान्य नियमों का पालन करने के लिए किया गया प्रेरित आरा. टीकाकरण के प्रति जिले के लोगों में संशय को दूर करने के उद्देश्य से जिला स्वास्थ समिति के द्वारा सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के सहयोग से नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया. जिसके माध्यम से लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया गया. बुधवार को जिला मुख्यालय में तीन स्थानों पर नुक्कड़ नाटक का प्रदर्शन किया गया, जिसमें कलाकारों के द्वारा नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति की गयी. नुक्कड़ नाटक की शुरुआत सदर प्रखंड परिसर से की गई, जहां पर नाटक के माध्यम से ओपीडी व इमरजेंसी में आए मरीजों और उनके परिजनों को कोरोना से बचाव, उपचार तथा कोविड-19 टीका के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई. वहीं, दूसरी नुक्कड़ प्रस्तुति कृषि भवन परिसर में की गयी. जहां काफी संख्या में सरकारी कर्मचारी व लोगों को कोविड-19 टीकाकरण के बारे में जागरूक किया गया. अंत में कलाकारों ने सदर अस्पताल परिसर में आए मरीजों और उनके परिजनों को टीके की अहमियत बताई. नुक्कड़ नाटक की टीम में निर्देशक डॉ अनिल सिंह, कलाकार अंबुज कुमार, भरत आर्य, कुमार नरेंद्र, सुमन कुमार, राम नाथ प्रसाद, भोला सिंह, राजीव रंजन त्रिपाठी, पल्लवी प्रियदर्शिनी और सारिका पाठक शामिल थे. इस दौरान सीफार के डिविजनल कोऑर्डिनेटर प्रोग्राम नवनीत सिन्हा व डिविजनल कोऑर्डिनेटर मीडिया अमित सिंह मौजूद रहे. टीकाकरण से घबराने और डरने की जरूरत नहींनुक्कड़ नाटक के माध्यम से कलाकारों ने आम जनों को यह जानकारी

Read more

कोरोना काल में अहम भूमिका निभाने वाली ये थी वो महिला योद्धा

एपिडेमियोलॉजिस्ट अपर्णा झा को लगा कोविड का टीका आरा,19 जनवरी. कोविड महामारी के दौरान जब ज्यादातर चिकित्सक तथा चिकित्सा कर्मचारी तक कोविड के विषय में ठीक ठीक नहीं जान पाए थे उस वक्त से फ्रंट लाइन पर खड़े रहकर कोविड मरीजों की पहचान तथा उनके आइसोलेशन से लेकर इलाज की व्यवस्था में अहम किरदार निभाने वाली भोजपुर जिले की एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ अपर्णा झा को कोविड वैक्सीन का टीका लगाया गया. तमाम औपचारिकताएं पूरी करने के बाद बारह बजे के आस-पास उन्हें टीका लगाया गया. डाक्टर अपर्णा झा को ड्यूटी के दौरान कोविड संक्रमित पाया गया था. बिहार में उस वक्त स्थिति इतनी भयावह थी कि आइएएस तक को अस्पताल में जगह नहीं मिल रही थी. लाखों जिलेवासियों को कोविड संक्रमण से बचाने वाली अपर्णा झा को बेहद चिंताजनक स्थिति में काफी संघर्ष के बाद बीएचयू में एडमिट कराया जा सका था. कई दिनों तक उन्हें आईसीयू में वेंटीलेटर पर रहना पड़ा. पर अब जब उन्हें टीका लगने वाला है तो डॉक्टर झा काफी उत्साहित हैं। साथ ही उनके सहकर्मियों तथा शुभचिंतकों में प्रसन्नता है. आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट

Read more

कैसे होगा परिवार नियोजन का लक्ष्य पूरा?

भोजपुर जिले में मिशन परिवार विकास अभियान के तहत परिवार नियोजन का लक्ष्य किया जाएगा पूरा आरा सदर अस्पताल में परिवार नियोजन मेला का हुआ आयोजन, विभिन्न साधनों की दी गई जानकारी वार्ड स्तर तक आयोजित किये जाएंगे विभिन्न कार्यक्रम, आशा कार्यकर्ताओं को मिली जिम्मेदारी राज्य मुख्यालय के अधिकारियों ने अधिक से अधिक लोगों को जागरूक करने का दिया निर्देश आरा, 18 जनवरी| परिवार नियोजन व इसके साधनों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए सोमवार को परिवार नियोजन मेले का आयोजन हुआ। मौके पर अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. बिनोद कुमार ने कहा मिशन परिवार विकास के तहत आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य यह है कि इस अभियान में पुरुष और महिला दानों की सहभागिता होनी चाहिए। यह मेला लोगों को परामर्श के साथ निःशुल्क गर्भनिरोधक साधनों को उपलब्ध कराएगा। यहां नसबंदी के अलावा परिवर नियोजन के और भी विकल्प मौजूद हैं। लोग अपनी सहूलियत के हिसाब से किसी भी साधन का इस्तेमाल कर सकते हैं। मेले में कुल नौ स्टाल लगाये गये हैं। मेले में लगे सभी स्टाल में प्रशिक्षित नर्स लोगों का मागदर्शन करेंगी। मौके पर एसीएमओ डॉ. विनोद कुमार, केयर डीटीएल स्वरूप पटनायक , यूनिसेफ के एसएमसी कुमुद रंजन मिश्रा समेत अन्य लोग मौजूद रहे। 21 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह डॉ. विनोद कुमार ने बताया परिवार नियोजन सेवा सप्ताह का आयोजन 21 से 31 जनवरी तक होगा । दंपति संपर्क पखवाड़े के दौरान लोगों में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी, शादी के बाद कम से कम

Read more

जानिए भोजपुर जिले में पहले दिन कितने को लगा कोरोना का टीका ?

भोजपुर के सात केंद्रों पर शुरू हुआ कोविड-19 का टीकाकरण, पहले दिन 700 लोग हुए टीकाकृत टीकाकरण सत्र को सफल बनाने के लिए चयनित सत्र स्थलों पर पूरी व्यवस्था की गई हैपहले चरण के लिए चयनित समूह में स्वास्थ्य कर्मी एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स शामिलआरा. जिले को कोरोना से बचाने के लिए पहले चरण के तहत टीकाकरण का अभियान शुरू हो चुका है. जिला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल में शनिवार को जिलाधिकारी रौशन कुशवाहा ने उद्घाटन फीता काट कर किया. मौके पर जिलाधिकारी ने कहा कोविड -19 की वैक्सीन लगवाना स्वैच्छिक है. लेकिन इस बीमारी से बचाव और यह बीमारी परिवार के सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदारों और सहकर्मियों सहित करीबी लोगों को न हो, इसके लिए यह टीका लगवाना चाहिए. फिलवक्त सिर्फ उन्हीं लोगों को टीकाकृत किया जाएगा, जिनका निबंधन पहले चरण के लिए को-विन पोर्टल पर हो चुका है. वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर प्राथमिकता वाले समूहों का चयन किया गया है. जिन लोगों को संक्रमण का सबसे अधिक खतरा है, अभी उन्हें ही टीका लगाया जा रहा है. पहले चरण के सम्पन्न होने के बाद दूसरे चरण के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू किया जाएगा. मौके पर सिविल सर्जन डॉ. ललितेश्वर प्रसाद झा, डीपीएम रवि रजन, यूनिसेफ के एसएमसी कुमुद रंजन मिश्रा, अस्पताल प्रबंधक कौशल दूबे व अन्य लोग मौजूद रहे. प्रत्येक केंद्र पर 100-100 लोगों को लगाया गया टीका : सिविल सर्जन डॉ. ललितेश्वर प्रसाद झा ने बताया सरकार के निर्देशानुसार पहले दिन हर सेंटर पर एक दिन में केवल 100 लोगों को ही टीका लगाया जा रहा है. टीकाकरण

Read more

क्यों नहीं सुधर रहा आरा सदर अस्पताल

आरा, विकास कुमार एवं धन्नू कुमार नाम के ये दोनों युवक अपने गांव तेनुआ (भोजपुर)से गैस सिलिंडर लेने आ रहे थे रास्ते में धमार हाई स्कूल के पास बारिश और फिसलन के चलते उनका एक्सीडेंट हो गया और वे बुरी तरह से घायल हो गए. जल्दीबाज़ी में उन्हें आरा सदर अस्पताल के एमरजेंसी वार्ड में लाया गया जहाँ सिर में अंदरूनी चोट के कारण दोनों काफी देर तक बेहोश पड़े रहे. डॉक्टरों के द्वारा उन्हें बाहर से CT स्कैन करने की सलाह दी गई क्योंकि अस्पताल की CT स्कैन मशीन काफी दिनों से खराब पड़ी है. रोगी को लेकर उनके परिजन इधर उधर एक जांच घर से दूसरे जांच घर भटकते रहे. अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में बिस्तर-कम्बल तक की व्यवस्था नही है. अंतिम समाचार मिलने तक दोनों घायल युवकों की स्थिति काफी नाज़ुक बताई जा रही है. जहां एक तरफ बिहार सरकार द्वारा सरकारी अस्पतालों के बेहतरी की बात बताई जाती है वही धरातल पर सभी बातें जुमला साबित हो रही हैं. सदर अस्पताल में कोरोना को लेकर बिल्कुल भी किसी प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा है जबकि जिले में कोरोना के मामलों में लगातार उतार-चढ़ाव हो रहा है. अस्पताल के डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्यकर्मी बिना पी पी ई किट के ही मरीजों का इलाज कर रहे हैं. पटना नाउ ब्यूरो

Read more

अधिकारियों की लापरवाही से कट गया आरा शहर

बीएसएनएल की बहुप्रचारित भारत फाइबर योजना जिसका दावा गाँव-गाँव तक ऑप्टिकल फाइबर के जरिये तेज़ गति ब्रॉडबैंड सेवा पहुंचाना था वह कर्मचारियों-अधिकारियों की लापरवाही से भोजपुर जिले में पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। सरकार की महत्त्वाकांक्षी योजना निजी कंपनियों से प्रतिस्पर्धा के लिए लागू तो हो गई लेकिन निगम के स्टाफ इस योजना का देख-रेख कर पाने में पंगु हो चुके हैं। ज्ञात हो कि पिछले महीने की 17 तारीख को स्टेशन रोड पर भूमिगत फाइबर जल-नल योजना के काम के दौरान कट गया था। उसकी मरम्मत करने के बजाय 3 दिन के बाद बाजार समिति से पुराने एक्सचेंज तक आने वाले केबल को भाया कोइलवर-बबुरा होकर जोड़ा गया था। यह अस्थाई व्यवस्था टिक नहीं पाई और एक बार फिर से लगभग पूरे आरा के 2 महत्त्वपूर्ण एक्सचेंज पुरानी कचहरी और महाराजा हाता पूरी तरह से ठप्प पड़ा हुआ है। नतीज़ा यह है कि एस पी आवास, समाहरणालय, कृषि विभाग, सिविल कोर्ट जैसे कई महत्त्वपूर्ण संस्थानों की लैंडलाइन और इंटरनेट सेवा बन्द पड़ी हुई है। इसके पहले भी बाजार समिति से पुराने कचहरी एक्सचेंज तक आने के तीन रुट थे जो एक-एक करके ठप्प पड़ते गए और निगम किसी की मरम्मत नहीं करवा सका। अभी भाया कोइलवर-जमालपुर जो रुट चल रहा था वह भी कोइलवर और बबुरा एक्सचेंज में बैटरी की कमी के कारण बाधित होता रहा था और अब तो बिल्कुल भी बन्द हो गया है। इस सम्बन्ध में बात करने पर बीएसएनएल से जुड़े स्टाफ ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि भारत फाइबर सेवा

Read more