100 साल का हुआ अश्वारोही सैन्य पुलिस बल

मुख्यमंत्री पहुंचे अश्वारोही सैन्य पुलिस का शताब्दी समारोह में आरा. घोड़े पर सवार सैनिक और उसके टापों की आवाज सुन और रोबीले रुतवे को देख सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है. वीरता के इतिहास गढ़ने वाले सैनिकों ने उस युग मे वैसे जगहों पर लोगों की हिफाजत में अपनी ताकत का लोहा मनवाया है जहाँ गाड़िया नही जा पाती थी. हम बात कर रहे है बिहार के अश्वारोही सैन्य पुलिस बल के जवानों की. देखते ही देखते शताब्दी वर्ष में पहुचने वाले अश्वारोही पुलिस बल का धूमधाम से शताब्दी समारोह गुरुवार को मनाया गया. अश्वरोही सैन्य पुलिस बिहार, आरा का शताब्दी समारोह का आरा में आयोजन किया गया. उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डीजीपी गुप्तेशवर पांडेय, अपर मुख्य सचिव ने किया. सर्व प्रथम अश्वरोही सैन्य पुलिस बिहार से संबंधित प्रदर्शनी का उद्घाटन हुआ. मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर वृक्षारोपण किया तथा लोहे की बनी घोड़े की प्रतिमा का लोकार्पण किया एवं परेड की सलामी ली. मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि सौ साल पहले 1919 में इसकी शुरूआत हुई. टाल के इलाके में कृषि के समय अश्वरोही पुलिस की भूमिका महत्वपूर्ण रहती है. तकनीक आने के बावजूद अश्वरोही सैन्य पुलिस की भूमिका बनी रहेगी. उन्होंने कहा कि अपराध अनुसंधान में तकनीक आने के बावजूद पुराने तरीके व्यवहार में बने रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि अपराध नियंत्रण के प्रति सरकार अत्यंत गंभीर है. 2007 में निर्मित पुलिस एक्ट में लाॅ एम्ड आर्डर एवं अनुसंधान की जिम्मेवारी अलग अलग की है. आपसी झगड़ा एवं विवाद में कमी हौई है. मगर दुर्घटना

Read more

पटना जू के शौचालयों की हालत खराब

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | संजय गांधी जैविक उद्यान यानि पटना जू बिहार की राजधानी के हृदय में बसा एक सुन्दर और लोगों के मनोरंजन का एक महत्वपूर्ण केंद्र है. यहां पेड़-पौधे, तमाम जड़ी बूटियां और झाड़ियों की तीन सौ से ज्यादा प्रजातियां हैं. बच्चें, बूढ़े, जवान, सभी इस हरियाली से युक्त जंगली जानवरों के उद्यान का भरपूर फायदा उठाते हैं. उद्यान में जहां एक तरफ झील है तो दूसरी तरफ बैटरी से चलने वाला टॉय ट्रेन है.इस उद्यान में लोग मनोरंजन के अलावा मौर्निंग वॉक के लिए भी आते हैं. दूषित हो रहे इस पर्यावरण में पटना जू सेहत बनाने में भी लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण और अच्छा स्थान माना जाता है. ज़ू में घूमने आने वालों के साथ साथ मौर्निंग वॉक पर आने वालों से ज़ू प्रशासन एंट्री शुल्क लेता है. इन शुल्कों से उद्यान का मेंटेनेंस किया जाता है.इस ज़ू में कई शौचालय बने हैं जिनका उपयोग यहां घूमने आने वाले करते हैं. पिछले कुछ महीनों से इन शौचालयों की देखभाल ठीक ढंग से नहीं हो पा रही है. इस कारण लोगों में, खासकर मौर्निंग वॉक में आने वाले लोगों में आक्रोश व्याप्त है. उनका कहना है कि शुरुआत में उद्यान के शौचालयों की देखभाल काफी ढंग से होती थी, लेकिन अब इसकी हालत खराब हो रही है.

Read more

कहाँ गयी बाबू कुँवर सिंह की सुरंग ?

तो क्या किताब के पन्नो तक ही सिमट गई इतिहासकारी सुरंग ? किताबों में पढ़ा, लोगों से सुना,कि कुंवर सिंह ने लड़ा जंग, पर आंखें खोज रही किले तक जाने वाली बाबू वीर कुंवर सिंह का सुरंग Patna now Exclusive report आरा, 20 अक्टूबर. 1857 की क्रांति के नायक वीर बांकुड़ा बाबू कुँवर सिंह को कौन नही जानता. उनका नाम सुनते ही शौर्य से खून में रवानित आ जाती है और किले और वहाँ तक जाने के लिए सुरंग की बातें दिमाग मे घर कर लेती है. लेकिन सुरंग की बात को लेकर ऐसा लगता है कि कहीं ये काल्पनिक बातें तो नही. हालाँकि आरा हाउस में सुरंग की बची-खुची रचनाएं सुरंग होने का प्रमाण तो जरूर देती हैं लेकिन 23 किमी तक लंबे सुरंग का उद्गम और समापन कहाँ तक था इसपर कई तरह के मंतब्य हैं. 2 साल पहले काफी चर्चा में भी यह बात थी कि जब विजयोत्सव की 160वीं वर्षगाँठ मनाई गयी थी कि बाबू कुँवर सिंह की वह सुरंग जगदीशपुर के किले तक बनाया जाएगा जिसे पर्यटकों के लिए खोला जाएगा पर आरा हाउस की घेराबंदी तक कि काम सिमट गया. इतिहास बताता है कि 1857 में उत्तर और मध्य भारत में एक शक्तिशाली जनविद्रोह उठ खड़ा हुआ था जो ब्रिटिश शासन की जड़ें तक हिला कर रख दिया था. कहा जाता है कि इस विद्रोह का प्रमुख केन्द्र दिल्ली, कानपुर लखनऊ ,बरेली, झाँसी और आरा था. दिल्ली में प्रतीक रूप में कहने को विद्रोह के नेता सम्राट बहादुरशाह थे परन्तु वास्तविक नियंत्रण  एक सैनिक

Read more

आरा को छोड़ चले डॉ के बी सहाय

आरा के चर्चित चर्मरोग विशेषज्ञ डॉ केबी सहाय का निधन आरा, 9 अक्तूबर. आरा के चर्चित चर्मरोग विशेषज्ञ डॉ केबी सहाय का निधन हो गया. वे लगभग 90 वर्ष के थे. पिछले एक हफ्ते से तबियत खराब होने की वजह से पटना के पारस हॉस्पिटल में चल रहा था इलाज. आज रात 7.30 बजे के करीब उनकी मौत हो गयी. उनके मौत की खबर से पूरा शाहाबाद आहत है. उनकी मौत का खबर मिलते ही सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि देने का तांता लग गया है. वे खुटहां गाव के रहने वाले थे, जहाँ के मशहूर डॉक्टर के के शरण का नाम जाना जाता है. उनके पिता जी बिहार शरीफ में पोस्टेड थे जहां से उन्होंने इंटर की परीक्षा पास की थी. वे डॉक्टर के साथ एक अच्छे समाजसेवी भी थे जो समाज के हर वर्ग के साथ हमेशा साथ खड़े रहते थे. वे एक प्रखर वक्ता और कवि भी थे. चिकित्सा जगत में उनके जाने से एक रिक्ति बन गयी है जिसे पूरा करना मुश्किल है. उनकीं मौत पर डॉ के एन सिन्हा, डॉ सागर आनंद, डॉ राजीव रंजन, डॉ प्रतीक, डॉ सतीश कुमार सिन्हा, वार्ड 10 की वार्ड पार्षद पार्वती देवी, समेत रंगकर्मियों, बुद्धिजीवियों, कला प्रेमियों व शाहाबाद कि आम जनता ने शोक व्यक्त किया है. पटना नाउ ब्यूरो रिपोर्ट

Read more

12 वर्ष में ही गृह-त्यागने वाले तपस्वी का 25वां दीक्षा दिवस

सौरभसागर महाराज का 25 वां रजत दीक्षा दिवस धूमधाम से मना आरा.23 सितंबर. जिन पूजन संघठन, आरा ने श्री 1008 पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन पंचायती मंदिर में संस्कार प्रणेता मुनि श्री 108 सौरभसागर महाराज का 25 वां रजत दीक्षा दिवस बड़े ही भक्तिभाव से द्वारा मनाया. प्रातःकाल जिनेन्द्र देव का पंचामृत अभिषेक, पूजन एवं शांतिधारा हुई. गुरुदेव सौरभ सागर महाराज को स्मरण करते हुए अर्घ्य सहित श्रीफल समर्पण,महाआरती एवं भजन की गई. दीक्षा दिवस के अवसर पर डॉ राकेन्द्र चन्द्र जैन ने बताया कि संस्कार प्रणेता मुनि श्री 108 सौरभसागर महाराज पुष्पगिरी प्रेणता परम् पूज्य आचार्य श्री 108 पुष्पदन्तसागर महाराज से दीक्षित है और 12 वर्ष के अल्पायु में ही गृह त्यागकर ब्रह्मचर्य व्रत को अपनाया ऐसे त्यागी, तपस्वी मुनि का 25 वां दीक्षा दिवस मनाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. दीक्षा महोत्सव में जिन पूजन संघठन के आकाश जैन, अजय जैन अज्जू, रवीश जैन, सोनू जैन, अरुण जैन, मीडिया प्रभारी निलेश कुमार जैन, प्रशांत जैन, प्रभा जैन, किरण जैन, रेशु जैन, इन्द्राणी जैन, सविता जैन, मंजुला जैन, दीप्ति जैन, मोनिका जैन, राजेश जैन, वार्ड पार्षद रेखा जैन उपस्थित थे. आरा से अपूर्वा की रिपोर्ट

Read more

भोजपुर प्रशासन ने किया बड़हरा क्षेत्र का दौरा, बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए सभी हुए दुरुस्त

सबकी छुट्टियाँ हुई रद्द, BDO और CO को अंचलों में बने रहने का निर्देश, देंगे जल स्तर की पल-पल रिपोर्ट आरा, 17 सितम्बर. छपरा में गंगा के पानी बढ़ने के बाद भोजपुर जिले में भी बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. बढ़ते जलस्तर  को देखते हुए जिलाधिकारी रोशन कुशवाहा ने अधिकारियों की टीम के साथ बड़हरा प्रखंड के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया तथा ग्रामीणों का फीडबैक प्राप्त किया. जिलाधिकारी ने केशोपुर- बखोरापुर रोड के केशोपुर, नेकनाम टोला, फरना, बलुआ नरगदा,  सरैया ,सलेमपुर आदि स्थानों पर जल स्तर की स्थिति ,जल का फैलाव ,रोड की स्थिति,  गांव के पास  पानी की स्थिति , गांव से संपर्क पथ का जुड़ाव आदि बिंदुओं का सूक्ष्मता से निरीक्षण किया. जिलाधिकारी ने संभावित बाढ़ की स्थिति को देखते हुए सभी अधिकारियों की छुट्टी रद्द कर दिया है तथा सभी अधिकारियों को मुख्यालय में बने रहने तथा एहतियात के तौर पर अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया है. सभी संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी को अपने-अपने क्षेत्रों में जल स्तर की स्थिति पर नजर रखने तथा भ्रमणशील रहने को कहा गया है. जिलाधिकारी ने आपात स्थिति से निपटने हेतु डॉक्टरों को अस्पतालों में आवश्यक मेडिकल सुविधा उपलब्ध रखने तथा ड्यूटी पर बने रहने का निर्देश दिया है. उन्होंने सिविल सर्जन को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में तैनाती हेतु मेडिकल टीम गठित रखने तथा आवश्यक एवं पर्याप्त दवा एवं एंबुलेंस की सुविधा त्वरित कार्रवाई हेतु तैयार रखने का निर्देश दिया  है. उन्होंने आपदा प्रभारी को राहत शिविर के संचालन हेतु सभी आवश्यक व्यवस्था दुरुस्त

Read more

अद्भुत जलमंदिर महोत्सव का दूसरा दिन…

जल मंदिर महोत्सव के दूसरे दिन निकली भव्य कलश यात्रा 108 महिलाओं ने उठाया दिव्य कलश आरा,24 अगस्त. त्रिदिवसीय भगवान महावीर स्वामी जल मंदिर जीणोद्धार महोत्सव के दूसरे दिन शनिवार को प्रातःकाल जिनेन्द्र देव की भक्तिभाव से पंचामृत अभिषेक, पूजन एवं शांतिधारा हुई जिसमें शांतिधारा करने का सौभाग्य सीमा-मनोज जैन एवं प्रभा-राकेन्द्र चन्द्र जैन को प्राप्त हुआ. विधान में जैन धर्म के सभी 24 तीर्थंकरों के माता-पिता, यक्ष-यक्षिणी, क्षेत्रपाल के गुणों का स्मरण करते हुये श्रीफल सहित अर्ध्य समर्पित किया गया. संगीतकार संतोष जैन के सु-मधुर संगीत एवं प्रतिष्ठाचार्य पं० नरेश कुमार जैन ‘शास्त्री’ के विशेष मंत्रोच्चार से इंद्र-इन्द्राणी झूम उठे तथा उन्होने भाव नृत्य किया. विधान के बाद मंत्रोच्चारित पवित्र जल को लेकर भव्य कलश यात्रा निकाली गई,जिसमे108 जैन महिलाओं ने भाग लिया. कलश यात्रा श्री चन्द्रप्रभु दिगम्बर जैन मंदिर, जेल रोड से निकलकर शिवगंज स्थित श्री 1008 भगवान महावीर स्वामी जल मंदिर पहुँची जहाँ महिलाओं ने जीणोद्धार द्वारा निर्मित नवीन वेदियों का शुद्धि, पवित्र जल एवं विशेष मन्त्रो द्वारा किया. साथ ही यक्ष-यक्षिणी की नवीन प्रतिमाओं का संस्कार आरोपण एवं क्षेत्रपाल जी का शुद्धिकरण हुआ. कार्यक्रम की समाप्ति पर साधर्मी वात्सल्य की व्यवस्था थी जिसे भक्तों ने प्रसाद स्वरूप ग्रहण किये. सायंकालीन कार्यक्रम में महाआरती, भजन, शास्त्र प्रवचन, प्रश्नमंच, एवं संस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित था. जिसमें महाआरती करने का सौभाग्य आकृति जैन एवं अखण्ड जैन को प्राप्त हुआ. कार्यक्रम में समिति के डॉ शशांक जैन, विजय जैन, अजय जैन, डॉ राकेन्द्र चन्द्र जैन, मीडिया प्रभारी निलेश कुमार जैन, धीरेन्द्र चन्द्र जैन, बिभु जैन, राजेश जैन, भावेश जैन, सर्वेश जैन,

Read more

अपराधियों और पुलिस के मुठभेड़ में SI और सिपाही की मौत

शहीद SI भोजपुर जिले के पिरौटा पंचायत निवासी शहीद का शव पहुंचते ही गांव में पसरा मातम आरा. पुलिस और अपराधियों के साथ मुठभेड़ में एक SI एवं एक सिपाही की मौत हो गई. SI भोजपुर जिले के रहने वाले थे. यह मुठभेड़ छपरा के मढौरा मुख्य बाजार पर स्टेट बैंक के समीप हुई जिसमें SI मिथिलेश कुमार और सिपाही फारुख की मौत हो गई. घटना में शहीद मिथलेश साह 2009 बैच के थे. पुलिस के अनुसार जेल में बंद अपराधी के इशारे पर इस घटना को अंजाम दिया गया. फिलहाल इस मामले में तमाम वरीय अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस टीम कही से छापेमारी कर अपने गाड़ी बलेरो से लौट रहे थी, तभी मढौरा मुख्य बाजार में अपराधियों ने उनकी गाड़ी पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. इस दौरान गाड़ी में ही 2 लोगो की मौत हो गई,तीसरा अस्पताल पहुचाया गया. मिथलेश शाह भोजपुर जिले के पिरौटा पंचायत के नागोपुर गाँव के निवासी थे. इनके पिता दशरथ शाह रेलवे में सब इंस्पेक्टर थे जो रिटायर्ड हो चुके हैं. मिथलेश की शादी लगभग 3 साल पहले हुई थी. अपराधियो से मुठभेड़ में शहीद मिथलेश का जब शव गाँव पहुचा तो पूरे गाँव के आसपास के वातावरण में गम का माहौल छा गया. पिरौटा गाँव के सर्वोदय + 2 विद्यालय पिरौटा के सभी टीचर्स व सभी बच्चे शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए सड़क पर ही घण्टों खड़े हो इंतजार करते रहे. इस विद्यालय से जुड़े सभी लोग आखिरी झलक पाने और शोक व्यक्त शहीद

Read more

जल ही जीवन है, इसका सदुपयोग करें : संजय

कोइलवर (आमोद कुमार) | “पानी को बर्बाद नहीं करे बल्कि जल संचयन के कुशल प्रबंधन एवं आधुनिक विकसित प्रणाली द्वारा पानी का सदुपयोग करे. जिससे सतही एवं भूगर्भ जल के स्तर को ठीक कर मानव जीवन के लिए सार्थक सदुपयोग किया जा सकता है”. ये बातें जल शक्ति मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त सचिव संजय कुमार राकेश ने प्रखंड कार्यालय कोइलवर स्थित जनप्रतिनिधि भवन में एक कार्यक्रम के दौरान कही. जल संरक्षण का कार्य दो चरणों में किया जाना है – प्रथम चरण में 1 जुलाई से 15 सितंबर तथा द्वितीय चरण में 1 अक्टूबर से 30 नवंबर तक किया जाना है. वर्तमान स्थिति में अभी जल संरक्षण का कार्य के लिए कोइलवर एवं बिहिया प्रखंड को चयनित किया गया है. बैठक में जल संरक्षण से संबंधित तकनीकी विभागों द्वारा जल संरक्षण की अद्यतन स्थिति तथा भावी कार्य योजना, सोन नहर आदि के द्वारा संचालित जल संरक्षण के कार्यों के तहत तालाब, आहार, पाइन के निर्माण एवं उड़ाही, चापाकल के निर्माण एवं मरम्मति, ट्यूबवेल की स्थिति, नल जल की स्थिति आदि के बारे मे अवगत कराया गया. जल संरक्षण के तहत वृक्षारोपण कार्य को गति प्रदान करने हेतु वन विभाग एवं जीविका के सहयोग से कार्य कराने का निर्देश दिया गया. जल संरक्षण कार्य को गति प्रदान करने तथा इसे जन आंदोलन का स्वरूप देने हेतु जन जागरूकता का कार्य जीविका दीदियों के द्वारा किए जाएंगे साथ ही जल सेना एवं जल रक्षक के रूप में कर्मियों की तैनाती की जाएगी तथा इस अभियान को जनमानस से जोड़ने का प्रयास

Read more

नेशनल अवार्ड विनर फ़िल्म निर्देशक ने लगाया झाड़ू, हुआ गुलज़ार ‘भिखारी’ का अंगना

आरा,9जुलाई. कल यानि बुधवार, 10 जुलाई को ‘भोजपुरी के शेक्सपियर’ कहे जाने वाले भिखारी ठाकुर की पुण्यतिथि मनाई जायेगी. पर ‘भोजपुरी के शेक्सपियर’ की उपेक्षा का सबसे बड़ा उदाहरण अभी हाल में भोजपुर जिले में ही प्रकाश में आया. आरा शहर के सरदार पटेल बस पड़ाव पर भिखारी ठाकुर की प्रतिमा लगी है, साथ ही एक स्टेज और उससे लगे एक भोजपुरी पुस्तकालय का भवन भी है. इस पूरे स्मारक स्थल का देख-रेख भोजपुरी सामाजिक अध्ययन एवं शोध संस्थान के जिम्मे है. ‘आखर’ ने शुरू की मुहिम अभी हाल में कुछ मीडिया चैनलों पर न्यूज़ आई कि स्मारक पूरी तरह से गंदगी में समाया हुआ है और दुर्गन्ध व्याप्त है. देखते ही देखते सोशल मीडिया में यह न्यूज़ वायरल हो गई. इस न्यूज़ को पढने के बाद भोजपुरी को समर्पित संस्था ‘आखर’ के सदस्य सक्रिय हुए और राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त युवा फिल्मकार नितिन चंद्रा के नेतृत्व में ‘आखर’ सदस्यों का समूह अगली सुबह साफ़-सफाई एवं श्रमदान के लिए जुट गया. सफाई टीम में ‘आखर’ सदस्य मनोज दूबे, संजीव सिन्हा, अभिषेक प्रीतम, ओम प्रकाश पाण्डेय, रवि प्रकाश सूरज आदि शामिल थे. मौके पर भिखारी ठाकुर संस्थान के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह भी सहयोग दे रहे थे. गंदगी का कारण पूछने पर वो कहते हैं “यह पब्लिक प्लेस है और गेट खुला रहता है साथ ही आसपास के दुकान वाले भी कूड़ा फेंकते रहते है”. श्रमदान कर रहे युवकों में अपने भोजपुरी नायक के प्रति श्रद्धा और गज़ब का उत्साह था. सबसे पहले झाड़ू लगाकर कूड़ा फेंका गया फिर बाद में स्थल को

Read more