राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद दे सकते हैं किसी पत्रकार को पहली बार तबज्जो

पटना / झंझारपुर (ब्यूरो रिपोर्ट) | 2019 के लोकसभा चुनाव का विगुल फूंका जा चुका है. सभी पार्टियां अपनी जीत का समीकरण बैठाने में लगी हैं. ऐसे में बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में एनडीए प्रत्याशियों का एलान कर दिया गया है. एक सीट को छोड़ 39 उम्मीदवारों की सूची भी जारी कर दी गई है. महागठबंधन ने भी सीट शेयरिंग के तहत सीटों का ऐलान कर दिया है. आरजेडी को 20, कांग्रेस को नौ, मांझी की पार्टी को तीन, कुशवाहा की पार्टी को पांच और वीआईपी को तीन सीटें दी गई हैं. शरद यादव आरजेडी के चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरेंगे.
जहां एक तरफ एनडीए ने झंझारपुर लोकसभा सीट जेडीयू को दिया है वहीं महागठबंधन की ओर से यह सीट राजद के खाते में है. जदयू ने यहां से रामप्रीत मंडल को उम्मीदवार बनाया है.रामप्रीत मंडल पहले राजद में थे और अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष थे. सितम्बर 2017 में वे जदूय में शामिल हुए थे. अब देखना है कि जदयू इस फैसले को सही साबित करता है कि नहीं.
अपनी छवि को सुधारने की कवायत के तहत राजद अच्छे उम्मीदवारों को मैदान में उतारने में लगा है. इसी कड़ी में, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पहली बार किसी पत्रकार को तबज्जो देते हुए मिथिलांचल के प्रतिष्ठित मिश्रा परिवार में जन्मे तथा प्रसिद्ध पत्रकार राजीव मिश्र को झंझारपुर सीट से उम्मीदवार बना सकते हैं. ये वही राजीव मिश्र हैं जिनके परिवार का झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र से पुराना रिश्ता है. राजीव मिश्र के चाचा पूर्व केंद्रीय रेल मंत्री स्व ललितनारायण मिश्र एवम पूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्र के अलावा उनके चचेरे भाई नीतीश मिश्र और बहनोई गौरीशंकर राजहंस इस निर्वाचन क्षेत्र से विजयी रह चुके हैं.
बिहार में मिथिलांचल की तीन लोकसभा सीटों मधुबनी, झंझारपुर और दरभंगा में झंझारपुर का सियासी इतिहास काफी रोचक रहा है. कोसी और कमला की गोद में बसा झंझारपुर इलाका दरभंगा जिले का हिस्सा है लेकिन अलग जिले की मांग यहां लगातार तेज हो रही है. इसी इलाके से बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्रा जीतकर संसद और बिहार के सीएम की कुर्सी पर विराजमान हुए. वर्तमान में यहां से सांसद हैं भाजपा के बीरेन्द्र कुमार चौधरी.
झंझारपुर संसदीय क्षेत्र जनता दल का मजबूत गढ़ माना जाता है. जनता दल परिवार से निकलीं पार्टियों आरजेडी-जेडीयू के उम्मीदवारों ने यहां बारी-बारी से जीत का परचम लहराया. इस संसदीय क्षेत्र में वोटरों की कुल संख्या 1,418,977 है. इसमें पुरुष वोटर 757,310 और महिला वोटर 661,667 हैं.
16वीं लोकसभा के लिए झंझारपुर सीट पर 2014 में हुए चुनाव में बाजी बीजेपी के हाथ लगी थी. बीजेपी के उम्मीदवार बीरेंद्र कुमार चौधरी ने जीत हासिल की. बीरेंद्र कुमार चौधरी को 335481 वोट मिले. जबकि आरजेडी के मंगनी लाल मंडल को 280073 वोट मिले. तीसरे नंबर पर रहे जेडीयू के उम्मीदवार देवेंद्र प्रसाद यादव. जिन्हें 183598 वोट मिले.
राजीव मिश्र पिछले 30 वर्ष से मीडिया जगत में सक्रिय रहे हैं. हिंदी दैनिक हिंदुस्तान से कैरियर की शुरुआत कर Star TV, Zee TV, TV Asia (US), News 24, टाइम्स नाउ, इंडिया न्यूज़ जैसे नामचीन चैनलों में विभिन्न जिम्मेवारियों का निर्वहन किया. साथ ही Lok Sabha TV में बतौर CEO की एक सफल पारी खेली है. अभी वे AMITY TV में एडिटर-इन-चीफ हैं.
राजीव मिश्र देश और विदेश में पत्रकारिता के साथ-साथ पूरे मिथिलांचल में सामाजिक तौर पर सक्रिय रहे हैं. खासकर मल्टीनेशनल कंपनी सैमसंग से जुड़ने के बाद बिहार के दर्जनों केंद्रीय विद्यालय में नि:शुल्क स्मार्ट क्लास की व्यवस्था की. वैसे पूरे देश में कुल 600 केंद्रीय विद्यालयों में उन्होंने अपनी देखरेख में यह सुविधा प्रदान की.
50 वर्षीय राजीव मिश्र की प्रारंभिक पढ़ाई सहरसा के जिला स्कूल से हुई तथा पटना विश्वविद्यालय से उन्होंने स्नातक की डिग्री प्राप्त की. उच्च शिक्षा में उन्होंने स्विट्जरलैंड से ‘मास्टर इन ब्रॉडकास्टिंग. प्राप्त की वहीं अमेरिका से ‘एमबीए इन मीडिया मैनेजमेंट’ किया.