महिलाएं ही नहीं पुरुषों को भी होता है ये रोग

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | ब्रेस्ट कैंसर,सर्वाइकल कैंसर और महिलाओं में स्वच्छता के प्रति जागरूकता अभियान चलाने वाली सामाजिक संस्था गुलमोहर मैत्री की ओर से 24 दिसम्बर को NCC मुख्यालय पटना में मैत्री संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया. बिहार के विभिन्न जिलों से आईं गर्ल्स एन सी सी कैडेट्स ने महिलाओं में तेजी से फैल रहे ब्रेस्ट कैंसर के खतरों इसके लक्षण और बचाव के उपायों पर गंभीर चर्चा की. मैत्री संवाद में गुलमोहर मैत्री की संस्थापक सचिव मंजू सिन्हा ने बताया कि ब्रेस्ट कैंसर न केवल महिलाओं को अपना शिकार बना रही है बल्कि पुरूषों में भी यह बीमारी तेजी से फैलने लगी है. इसलिए ब्रेस्ट कैंसर के प्रति परिवार के हर सदस्य को जागरूक रहना चाहिए . मंजू सिन्हा ने बताया कि मानव शरीर में कुछ हार्मोन्स के असुंतलन, अनियमित जीवन शैली, खास कर महिलाओं में स्तन कोशिकाओं में अनियंत्रित वृद्धि स्तन कैंसर का मुख्य कारण है. कोशिकाओं में होने वाली लगातार वृद्धि एकत्र होकर गांठ का रूप ले लेती है, जिसे कैंसर ट्यूमर कहते हैं. स्तन कैंसर होने पर पहले या दूसरे चरण में ही इसका पता चल जाने पर इसका इलाज संभव है. लेकिन इस बारे में पता चलना भी आपकी जागरूकता पर निर्भर करता है. यदि आप स्तर कैंसर के प्रति जागरूक हैं, तो इसके लक्षणों को पहचानकर सही समय पर इलाज करवा सकते हैं. महिलाओं और पुरूषों में फैल रहे ब्रेस्ट कैंसर के प्राथमिक लक्षण को पहचान पाना सहज नहीं होने कारण यह बीमारी धीरे धीरे गंभीर हो जाती है और कभी-कभी जानलेवा भी

Read more

550 योद्धाओं ने किया राष्ट्रीय कुश्ती विजेता का स्वागत

NCC कैडेटों ने किया “राष्ट्रीय कुश्ती विजेता” का भब्य स्वागत 10 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में लड़कियां भी कर रही हैं युद्धाभ्यास कुश्ती के राष्ट्रीय विजेता नायब सूबेदार अविनाश कुमार का भव्य स्वागत NCC कैडेटों ने अपने करतल ध्वनि से संयुक्त आवासीय वार्षिक प्रशिक्षण केंद्र में किया. कैम्प कमांडेंट ने बताया कि नायब सूबेदार अविनाश कुमार ने प्री-ओलम्पिक क्वालीफाई किया है जो भारतीय थल सेना और बिहार राज्य के कुश्ती गौरव हैं. अपने स्वागत से अविभूत नायब सूबेदार अविनाश ने 550 कैडेटों को संबोधित किया और कहा कि भारतीय थल सेना ने उन्हें बेहतर कोच और टेक्निकल प्रशिक्षण देकर इस काबिल बनाया है. साथ ही अपनी सफलता के लिए वे लगातार अथक प्रयास के लिए कटिबद्ध और संकल्पित हैं. उन्होंने कहा कि 2020 के ओलम्पिक में स्वर्ण जीतने के बाद उनका सपना एक स्टेडियम बनाने का है. कौन हैं अविनाश ? 24 वर्षीय अविनाश चौसा के रहने वाले हैं, जिन्होंने अपने 7 साल के कुश्ती कैरियर में कई पुरस्कार जीते हैं जिसमें अखिल भारतीय फेडरेशन कप में गोल्ड, अंतरराजीय कुश्ती प्रतियोगिता में रजत और ट्राई प्रतियोगिता में कांस्य पदक महत्वपूर्ण है. 2020 के ओलम्पिक में ये टोक्यो जा रहे हैं. अपने वर्तमान छुट्टियों में अविनाश स्कूली बच्चों का मनोबल और उत्साह खेलों के प्रति बढ़ा रहे हैं. बताते चलें कि बक्सर के चौसा के खम सी कॉलेज में इन दिनों NCC कैडेटों को प्रशिक्षण चल रहा है जिसमे 550 लड़के-लड़कियां शामिल हैं. 10 दिवसीय इस प्रशिक्षण शिविर में सघन युद्धाभ्यास की ट्रेनिग कैडेटों को दी जा रही है. इस स्पेशल ट्रेनिग

Read more

NCC स्थापना दिवस पर कैडेटों ने किया रक्तदान

स्थापना दिवस पर NCC कैडेटों ने किया रक्तदान   NCC के 5 बिहार बटालियन के कैडेटों ने NCC दिवस के मौके पर आरा रेडक्रॉस में रक्तदान किया. रक्त में मौजूद प्लेटलेस कई लोगों की जिंदगी बचा सकती है. कमान्डिंग ऑफिसर कर्नल विनोद जोशी ने बताया कि लोगों में रक्तदान को लेकर बहुत गलत धारणाएं हैं. रक्त देने से व्यक्ति कमजोर नही होता है. 21 दिनों में दिए हुए रक्त की पूर्ति शरीर मे पुनः हो जाती है. 3 महीने बाद व्यक्ति पुनः रक्तदान कर सकता है. रक्तदान करने में NCC कैडेटों में विभन्न कॉलेजो के छात्र थे. रक्तदाता के रूप में आये कैडेटों में जोश, और उमंग देखने को मिला. इस अवसर पर कैडेटों के अलावा भूतपूर्व सैनिक असोसिएशन के प्रेसिडेंट मेजर आर पी सिंह, NCC के 12 प्रशिक्षक, रेडक्रॉस के सचिव दिनेश सिन्हा समेत कई लोग मौजूद थे.   आरा से ओपी पांडे

Read more