महिलाएं ही नहीं पुरुषों को भी होता है ये रोग

पटना (ब्युरो रिपोर्ट) | ब्रेस्ट कैंसर,सर्वाइकल कैंसर और महिलाओं में स्वच्छता के प्रति जागरूकता अभियान चलाने वाली सामाजिक संस्था गुलमोहर मैत्री की ओर से 24 दिसम्बर को NCC मुख्यालय पटना में मैत्री संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया. बिहार के विभिन्न जिलों से आईं गर्ल्स एन सी सी कैडेट्स ने महिलाओं में तेजी से फैल रहे ब्रेस्ट कैंसर के खतरों इसके लक्षण और बचाव के उपायों पर गंभीर चर्चा की. मैत्री संवाद में गुलमोहर मैत्री की संस्थापक सचिव मंजू सिन्हा ने बताया कि ब्रेस्ट कैंसर न केवल महिलाओं को अपना शिकार बना रही है बल्कि पुरूषों में भी यह बीमारी तेजी से फैलने लगी है. इसलिए ब्रेस्ट कैंसर के प्रति परिवार के हर सदस्य को जागरूक रहना चाहिए . मंजू सिन्हा ने बताया कि मानव शरीर में कुछ हार्मोन्स के असुंतलन, अनियमित जीवन शैली, खास कर महिलाओं में स्तन कोशिकाओं में अनियंत्रित वृद्धि स्तन कैंसर का मुख्य कारण है. कोशिकाओं में होने वाली लगातार वृद्धि एकत्र होकर गांठ का रूप ले लेती है, जिसे कैंसर ट्यूमर कहते हैं.

स्तन कैंसर होने पर पहले या दूसरे चरण में ही इसका पता चल जाने पर इसका इलाज संभव है. लेकिन इस बारे में पता चलना भी आपकी जागरूकता पर निर्भर करता है. यदि आप स्तर कैंसर के प्रति जागरूक हैं, तो इसके लक्षणों को पहचानकर सही समय पर इलाज करवा सकते हैं. महिलाओं और पुरूषों में फैल रहे ब्रेस्ट कैंसर के प्राथमिक लक्षण को पहचान पाना सहज नहीं होने कारण यह बीमारी धीरे धीरे गंभीर हो जाती है और कभी-कभी जानलेवा भी हो जाती है. मंजू सिन्हा ने बताया कि अगर पहले चरण में ही इस बीमारी का पता चल जाए तो ब्रेस्ट कैंसर का इलाज न केवल संभव है बल्कि कैंसर पीड़ित महिला-पुरूष एक लंबी और खुशहाल जिंदगी भी जी सकते हैं.




मैत्री संवाद कार्यक्रम में हिस्सा ले रही एनसीसी कैडेट्स ने संकल्प लिया कि कैंप से वापस लौटने के बाद अपने अपने क्षेत्र में लोगों को इस खतरनाक बीमारी के प्रति जागरूक करेंगीं.
एनसीसी मुख्यालय पटना में आयोजित मैत्री संवाद कार्यक्रम के दौरान 11 बिहार बटालियन के ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर प्रवीण कुमार , कर्नल अजाउल हक के साथ बड़ी संख्या में एन सी सी के अधिकारी और कैडेट्स मौजूद रहे. एनसीसी ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर प्रवीण कुमार ने गुलमोहर मैत्री के मैत्री संवाद कार्यक्रम की सराहना की और कहा कि इस तरह के कार्यक्रम बार बार आयोजित होने चाहिए.