20 दिवसीय अभिनय कार्यशाला का समापन

20 दिवसीय वर्कशॉप का हुआ समापन

9 अगस्त को होगी प्रस्तुति ,50 बच्चे कर रहे थे शिरकत




बच्चों द्वारा बनाई गई तीन शार्ट फ़िल्म भी दिखाई जाएंगी

आरा। संरक्षिका स्व.नंदनी सिन्हा की स्मृति में आयोजित 20 दिवसीय निःशुल्क अभिनय कार्यशाला का समापन शुक्रवार को हुआ। इस दौरान कार्यशाला के समापन पर निदेशक रवींद्र भारती ने कहा कि 20 दिनों की अभिनय कार्यशाला में बच्चों ने जो कार्य कर के दिखाया है, उससे लगता है उनके अंदर प्रतिभा बहुत है।

कार्यशाला में नाटक की तैयारी करते कलाकार

फ़िल्म थिएटर या फिर टेलीविजन माध्यमों में बच्चे अच्छा काम करेंगे। भोजपुर समेत बक्सर और रोहतास से आये बच्चों ने कार्यशाला में एक्टिंग के साथ साथ अनुशासन, संगीत, नृत्य और गायन के कार्य को सीखाहै। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के बाद सर्दियों के मौसम में बड़े पैमाने पर एक कार्यशाला की जाएगी। हृतिक मिश्रा ने बताया कि मुझे वर्कशॉप करके बहुत ही अच्छा लगा। मुझे यहां कुछ नया सीखने को मिला। मुझे एक्टिंग के नए नए गुर सीखने का मौका मिला है। मुझे यहां आकर अच्छा लगा।

कलाकारों का उत्साह कार्यशाला के दौरान

वहीं प्रशिक्षण ले रहे छात्र शुभम दुबे ने बताया कि मुझे यहां एक्टिंग के साथ म्यूजिक के बारे में भी जानने को मिला है। वर्कशॉप में मुझे बहुत अच्छा लगा। सबसे खास चंद्रभूषण पांडेय का क्लास लगा था। क्योंकि उन्होंने सबसे पहले बताया कि एक अभिनेता के लिए रोड ही उसके लिए विवि होती है। वो जो कुछ भी सीखता है, यहां से ही सीखता है और मुझे वर्कशॉप में आकर बहुत अच्छा लग रहा है। उन्होंने कहा कि दो सालों से लॉकडाउन के बाद आरा शहर में एक ऊर्जावान कार्यक्रम के तहत इसकी शुरुआत हुई है। ऐसे ही माहौल हमेसा बना रहे।

प्रस्तुति का अभ्यास करते कलाकार

छात्र देवांश ने बताया कि म्यूजिक के बारे में मुझे बेसिक गुर सीखने को मिला है। लेकिन मैं यहां अभिनय को सीखने आया था। परंतु यहां आने के बाद मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला। एक्टिंग के बारे में भी मुझे बारीकियों से सिखाया गया है। इस अवसर पर अभिनेता पंकज भट्ठ प्रशिक्षकओपी पांडेय और मनोज श्रीवास्तव मौजूद थे।

PNC