उपेन्द्र कुशवाहा का अगला कदम क्या – एक आकलन

मांग नहीं मानी गई तो कुशवाहा ने आरोप लगाकर एनडीए छोड़ा महागठबंधन को मजबूत करेंगे या खुद कमजोर होंगे , पार्टी में फूट की सम्भावना से यह सवाल मौजूं  पटना (वरिष्ठ पत्रकार अनुभव सिन्हा की कलम से) | राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन से रिश्ता तोड़ लिया. रिश्ता तोड़ने का पहला कारण अपमानित किया जाना बताया और यह भी जोड़ा कि उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा था. उन्होंने बिहार की आवाज को सदन के माध्यम से उठाने की हर सम्भव कोशिश की, बिहार में शिक्षा की स्थिति में सुधार करने की चेष्टा की लेकिन बिहार सरकार ने उनके साथ कदमताल करने के बजाय उनकी पार्टी को ही कमजोर करने की साजिश कर डाली. एनडीए से अलग होने का उन्होंने ऐसे कारण गिनाए. लेकिन विश्वस्त सूत्रों के अनुसार कुशवाहा ने यह निर्णय अपने लिए सीटों की संख्या न बढ़ाए जाने के कारण खीज कर लिया है. अपनी बात कहने के बाद मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए दिल्ली में उन्होंने यह खुलासा किया कि अब इसकी चर्चा वह पार्टी में करेंगे और जो सर्वानुमति बनेगी, उसी आधार पर निर्णय लिया जायेगा. अपने तीन आॅप्शन बताते हुए उन्होंने यह कहकर कि शरद यादव की पार्टी अभी इममैच्योर है , इशारा कर दिया कि वह तीसरा फ्रंट बनाने के मूड में नहीं हैं. लेकिन यदि महागठबंधन में शामिल हुए तो किसी के करीब रहेंगे या रालोसपा के स्वतंत्र अस्तित्व के साथ जायेंगे यह अभी तय नहीं हुआ है परंतु सोमवार की शाम होने वाले

Read more

कुशवाहा है गरीबों के असली मसीहा – इंद्रजीत

मोहनिया / कैमूर। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के दलित एवं महादलित प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष इंद्रजीत राम ने कहा की उपेंद्र कुशवाहा असली में गरीबों का मसीहा हैं. उन्होंने कभी भी सत्ता का मोह नहीं किया और सिर्फ जनता की भलाई के बारे में ही सोचा है. संवैधानिक पद पर रहते हुए भी उन्होंने बिहार के अति पिछड़े तबकों के स्कूलों के बच्चों के उज्जवल भविष्य एवं विद्यालय के पुनर्निर्माण केतु भिक्षाटन द्वारा राशि एकत्रित कर बच्चों का भविष्य सुरक्षित बनाया था. वर्तमान परिवेश में जिस तरह से सभी दलों के नेताओं में जनता के मूल समस्याओं को दरकिनार कर उल्टी-सीधी बयानबाजी हो रही है, उसमें उपेंद्र कुशवाहा का कहीं नाम नहीं है. वह शुरू से ही सिर्फ जनता के लिए ही काम करते आ रहे हैं. आने वाले समय में वह गरीबों के मसीहा बन उनकी मूलभूत समस्याओं के लिए जमीनी स्तर से संघर्ष कर उन्हें न्याय दिलाते रहेंगे.  इंद्रजीत ने आगे कहा कि गरीबों एवं मजलुमों की आवाज बन चुके उपेंद्र कुशवाहा पर जिस तरह कई पार्टियों के नेता व्यंग्य बाण कस रहे हैं जनता सब देख रही है आने वाले चुनावों में इसका माकूल जवाब भी जनता के पास ही होगा.

Read more

गुरु पूर्णिमा पर गुरुओं का होगा सम्मान

2019 के लोकसभा चुनावों की तिथि जैसे-जैसे नजदीक आ रही है बिहार में सभी पार्टियां और नेता अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए बेचैन दिख रहे हैं. एनडीए के घटक दल रालोसपा के नेता उपेन्द्र कुशवाहा ने घोषणा की है कि वे गुरु पूर्णिमा के दिन शिक्षकों के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन करेंगे जिसका मुख्य उद्देश्य होगा शिक्षकों का खोया सम्मान वापस दिलाना.   पटना स्थित रालोसपा कार्यालय में मीडिया से बात करते हुए केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री कुशवाहा ने कहा कि वे लगातार शिक्षा में सुधार के लिए प्रयासरत हैं. इसके लिए वे पिछले दिनों शिक्षा सुधार मानव कतार और शिक्षा सुधार पुस्तक उपहार जैसे कार्यक्रम चला चुके हैं. अब वे शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए गुरु पूर्णिमा के दिन शिक्षा सुधार शिक्षक सत्कार कार्यक्रम करेंगे. उन्होंने कहा कि 27 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के अवसर पर सभी जिला मुख्यालयों में आरएलएसपी के लोग एक दिवसीय उपवास रखेंगे.  इसके साथ ही बिहार के सभी जिला मुख्यालयों के बेहतरीन शिक्षकों को सम्मानित किया जाएगा. (एन के डी वर्मा)

Read more

मुलाकात हुई, क्या बात हुई…

जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं, बिहार में भी सियासी सरगर्मी तेज हो गई है. खासकर मुलाकातों का दौर कुछ ऐसा चल पड़ा है कि राजनीतिक पार्टियां एक-दूसरे के साथ भविष्य के लिए राजनीतिक बिसात बिछाने लगी हैं. एक ऐसी ही मुलाकात बिहार में चर्चा में है. पिछले कुछ महीनों के भीतर रालोसपा अध्यक्ष और केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री उपेन्द्र कुशवाहा दूसरी बार सीएम नीतीश कुमार से मिलने पहुंचे. एक  अन्ने मार्ग पर हुई इस मुलाकात को आधिकारिक तौर पर शिष्टाचार मुलाकात बताया गया है. लेकिन इसे लेकर राजनीतिक चर्चा जोरों पर है. बताया जा रहा है कि मुलाकात के दौरान बिहार में शिक्षा की स्थिति को बेहतर बनाने पर दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई. लेकिन सूत्रों की मानें तो दोनों नेताओं के बीच राजनीतिक मुद्दे पर खास बातें हुई हैं. राजेश तिवारी

Read more

‘लालू-नीतीश ने मिलकर राज्‍य की शिक्षा व्‍यवस्‍था की नींव खोद दी’

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री ने लगाया आरोप पूर्व मंत्री श्रीभगवान सिंह कुशवाहा रालोसपा में शामिल मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री व राष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर बिहार में शिक्षा व्‍यवस्‍था की नींव खोदने का आरोप लगाया है. उन्‍होंने कहा कि बड़े भाई ने बिहार की उच्‍च शिक्षा को बर्बाद कर दिया और छोटे भाई ने पूरी शिक्षा व्‍यवस्‍था को ही ध्‍वस्‍त कर दिया. आज बिहार में मैट्रिक और इंटर के परीक्षाफल प्रकाशन के बाद मामला घोटाले के रूप में सामने आ रहा है. आखिर ऐसा क्‍यों है. इससे पहले उपेन्द्र कुशवाहा ने पटना के रविंद्र भवन में आयोजित मिलन समारोह में पूर्व मंत्री श्रीभगवान सिंह कुशवाहा समेत सात हजारों कार्यकर्ताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाते हुए कहा कि रालोसपा संघर्ष की पार्टी है और आगे भी रहेगी. हमारा मकसद सिर्फ सत्ता में पहुंचना नहीं है, जो लक्ष्‍य विगत सालों में दूसरे लोगों ने बना कर रखा है. हम सत्ता को साध्‍य नहीं, बल्कि जनता के सवाल का हल निकालने के लिए साधन मानते हैं और उसका उपयोग भी साधन के रूप में करते हैं. उपेन्द्र कुशवाहा ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के बीमारी की खबर पर चुटकी लेते हुए कहा कि आज हमने अखबारों में पढ़ा वे बीमार हैं, अब श्रीभगवान सिंह कुशवाहा के आने के बाद वे बेखबर होने वाले हैं. उन्‍होंने कहा कि अभी तो ये शुरूआत है. हम उन सभी राजनीतिक कार्यकर्ताओं से आह्वान करते हैं कि भूले – बिसरे सभी लोगों को एक

Read more