उपेन्द्र कुशवाहा के गीदड़ भभकी से जनता डरने वाली नहीं – मोर्चा

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | राष्ट्रीय सामाजिक न्याय मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह वरिष्ठ भाजपा नेता उपेन्द्र चैहान, उपाध्यक्ष अमिताभ कुमार सिंह एंव राष्ट्रीय प्रवक्ता नीलमणि पटेल ने आज एक बयान जारी कर रालोसपा सुप्रीमो उपेन्द्र कुशवाहा द्धारा एग्जिट पोल से सम्बंधित परिणाम आने पर खून खराबे की धमकी दिये जाने वाले बयान की कड़ी शब्दों मेंनिन्दा करते हुए कहा कि “संगत से गुण होत है,संगत से गुण जाए, बास-फास मिश्री एक भाव बिकाए”. रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा जब एनडीए के पार्ट थे तो उनकी मनोस्थिति ठीक-ठाक थी किन्तु जैसे ही राजद के पाले मे गये कि लालू प्रसाद की भाषा बोलने लगे. बिहार की जनता उपेन्द्र कुशवाहा के इस गीदड़ भभकी से डरने वाली नही है. स्वयं और महागठबंधन की करारी हार देखकर उपेन्द्र कुशवाहा बौखला गये है.
मोर्चा के नेताओ ने अपने बयान मे कहा कि लोकसभा चुनाव मे जनता का मनोभाव शायद उपेन्द्र कुशवाहा पढ नही सके. यही कारण है कि आज चुनाव परिणाम आने से पूर्व एनडीए की जीत सामने देखकर वे पूरी तरह से घबड़ाये हुए है. उन्होंने रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा को किसी के झासे मे नहीं रहने को कहा क्योंकि जिस महागठबंधन का दामन उन्होंने थामा है उसका इस चुनाव मे बुरा हस्न होने वाला है. राजद, कांग्रेस जैसे दलो का जब इस चुनाव मे कोई वजूद नही रहा तो रालोसपा किस खेत की मूली है. इसलिए महागठबंधन मे जाकर लालू जी की भाषा बोलने से कुशवाहा जी को कोई लाभ मिलने वाला नही है उल्टा जनता के बीच हास्य का पात्र बनेंगे वो.