राजधानीवासी फिल्मों में भी देखेंगे सिखधर्म के रंग

प्रकाशपर्व पर  फिल्म महोत्सव का  आयोजन 

3 और 4 जनवरी को आयोजित है फिल्म महोत्सव 




इस फिल्म महोत्सव में दिखायी जायेंगी  6 फिल्में 

गुरु गोविन्द सिंह के 350वें प्रकाश पर्व के अवसर पर अतिथियों को गुरु गोविन्द सिंह जी के जीवन पर बनी फिल्मों के साथ सिख संस्कृति को केन्द्र में रख कर बनी पंजाबी और हिन्दी फिल्में भी देखने के लिए मिलेगी.कला संस्कृति एवं युवा विभाग और बिहार राज्य फिल्म विकास एवं वित्त निगम द्वारा गुरु गोविन्द सिंह जी के 350वें प्रकाश पर्व के अवसर पर प्रकाश पर्व फिल्म महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है. 3 और 4 जनवरी को आयोजित इस फिल्म महोत्सव में 6 फिल्में दिखायी जाएंगी.महोत्सव का उद्घाटन पंजाबी की क्लासिक फिल्म ‘नानक नाम जहाज है’के साथ होगी.राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित इस फिल्म में पृथ्वी राज कपूर मुख्य भूमिका में हैं.पहले दिन सिख गुरु के जीवन पर केंद्रित फिल्म “चार साहेबजादे” तथा पंजाबी संस्कृति को प्रदर्शित करती ‘मेरा पिंड’ दिखायी जाएगी. मनमोहन सिंह निर्देशित मेरा पिंड में हरभजन मान,किमी वर्मा के साथ नवजोत सिंह सिद्धू भी मुख्य भूमिका में हैं.

बिहार राज्य फिल्म विकास निगम के प्रबंध निदेशक गंगा कुमार ने बताया कि महोत्सव का आयोजन श्रद्धालुओं की सुविधा का ख्याल रखते हुए गांधी मैदान के समीप चैम्बर ऑफ कामर्स के प्रेक्षागृह में किया जा रहा है.उन्होंने बताया कि यह महोत्सव पूरी तरह निशुल्क और पूर्व के महोत्सवों की भांति इसमें दर्शकों के लिए आयुसीमा भी निर्धारित नहीं होगी.इसीलिए पटनावासी पूरे परिवार के साथ इन फिल्मों का आनंद उठा सकते हैं.उन्होंने कहा कि इन फिल्मों के माध्यम से दर्शक सिख संस्कृति के महत्व और उसकी विराटता से परिचित हो सकेंगे.

महोत्सव के दूसरे दिन ‘फ्लाइंग जट’,’अरदास’ और ‘वारिश शाह-इश्क द वारिस’ दिखायी जाएगी.‘वारिश शाह’ पंजाबी की श्रेष्ठ फिल्मों में शुमार की जाती है जिसे विभिन्न श्रेणियों में चार नेशनल अवार्ड मिले थे.फिल्म में मुख्य भूमिका जूही चावला,गुरदास मान और दिव्या दत्ता की है. गंगा कुमार ने बताया कि कार्यक्रम प्रतिदिन 11 बजे से शुरु होगा.उन्होंने बताया कि इन फिल्मों को देखते हुए दर्शक सिख धर्म,उसकी परंपरा,उसकी मेहनत को करीब से महसूस कर सकेंगे.