शराबबंदी वाले राज्य में ट्रक ड्राइवर ने जमकर पी शराब और ले ली 12 लोगों की जान

वैशाली में जान गंवाने वाले 12 लोगों की मौत के पीछे वह कड़वा सच है जिसे सरकार शायद ही स्वीकार करे. बिहार में कहने को शराबबंदी है लेकिन शराब हर जगह उपलब्ध है. इस बात की पुष्टि एक बार फिर हुई जब वैशाली में सड़क हादसे में घायल ट्रक ड्राइवर के खून के नमूने की जांच हुई. जांच से यह खुलासा हुआ है कि ट्रक ड्राइवर ने जमकर शराब पी थी. उसके ब्लड सैंपल में 45% से ज्यादा अल्कोहल मिला है.

शराब के नशे का ही प्रभाव था कि उसने सड़क किनारे पूजा कर रहे लोगों पर ही ट्रक चढ़ा दिया. प्रशासन ने ही ड्राइवर के शराब के नशे में टल्ली होकर ट्रक चलाने की पुष्टि की है. ड्राइवर फिलहाल खुद गंभीर रूप से घायल है और उसका इलाज चल रहा है. इस बीच 12 लोगों की मौत हो चुकी है और कई और लोग घायल हैं.




यह दुर्घटना या हादसा नहीं, मास मर्डर है

इस मामले में भाजपा ने एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है. भाजपा प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून की आड़ में पैरेलल इकोनॉमी खड़ा है. वैशाली में शराबी ट्रक ड्राइवर ने 30 लोगों को कुचल दिया जिसमें 12 की मौत हो गई.

भाजपा नेता ने कहा कि यह दुर्घटना या हादसा नहीं, मास मर्डर है. बिहार शराब- खनन- भूमि माफियाओं की गिरफ्त में है, अपराध चरम पर है जिसके जिम्मेदार सिर्फ नीतीश कुमार हैं.

पूरी खबर पढ़ें https://bit.ly/3VgNP1X

pncb