‘सरकार’ को होश में आने की छात्रों ने भरी हुंकार,कई जगह प्रदर्शन

विवि गंवाकर मेडिकल कॉलेज छात्रों को नामंजुर, कई जगह प्रदर्शन

अनशनकारी छात्र का स्वास्थ्य गिरा, प्रशासन मौन
आमरण अनशन के तीसरे दिन भी शासन-प्रशासन की चुप्पी




आरा,6 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज).

वीर कुँवर सिह विश्वविद्यालय के नूतन परिसर की भूमि मेडिकल कॉलेज को दिए जाने के विरोध में लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी (लीड) के सदस्य छात्र अनिरुद्ध सिंह का स्वास्थ्य शुक्रवार को आमरण अनशन के तीसरे दिन से गिरना शुरु हो गया. विवि के चिकित्सक ने स्वास्थ्य जाँच के बाद बताया कि उनका रक्तचाप अत्यंत निम्न स्तर पर चला गया है और तीन किलो वजन में गिरावट दर्ज हुई है. मगर शासन-प्रशासन की चुप्पी ने जनपद की जनता को आंदोलित करके रख दिया है. दूसरी तरफ तीसरे दिन भी अनशन स्थल पर छात्रों-शिक्षकों और समाजसेवियों का तांता लगा रहा. आज अनशनस्थल पर साथ देने वालों में बी एड कॉलेज के छात्र आगे रहे. भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडेय ने विवि की समस्या के प्रति सरकार की उदासीनता पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि जिले के एक नौजवान का इस तरह आमरण अनशन पर बैठना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है और शाहाबाद के छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा चाहिए.

अनशनकारी अनिरुद्ध की हालत बिगड़ी

बिहार कांग्रेस के प्रतिनिधि डॉ एस पी राय और आरएसएस के विक्की सिंह ने भी सरकार द्वारा विवि की भूमि को जबरिया खंड-खंड करने को तानाशाही रवैया बताया. गणित विभाग के प्रो विजय सिंह और हिंदी विभाग के व्याख्याता प्रो निलाम्बुज सिंह ने कहा कि लगता है सरकार शिक्षा के प्रति गम्भीर नहीं है, ना ही वो ढंग का विश्वस्तरीय मेडिकल कॉलेज बनाना चाहती है ना ही विवि को चलने देना चाहती है. तीसरे दिन भी जारी अनशन का साथ देने वाले छात्रों में अनूप सिंह, रवि प्रकाश,सौरभ कुमार, राधेश्याम जी, अमित सिंह गौतम,चंदन ओझा, मनमीत ओझा, अभिजीत ओझा, अविनाश सिंह, अभिनाश जी, चित्रांश दुर्गेश, सोनाली कुमारी, प्रिया कुमारी,सुरभी कुमारी,प्राची कुमारी प्रमुख थे. सभी छात्रों ने अनिरुद्ध सिंह के स्वास्थ्य पर बढ़ रहे खतरे के लिए प्रशासन को जिम्मेवार ठहराया और मीडिया कर्मियों से आन्दोलन का साथ देने की अपील की.

AVBP भी सरकार के खिलाफ विरोध में उतरी
कई जगह एक दिन का धरना

ब्रह्मर्षि कॉलेज में धरना पर बैठे AVBP के छात्र

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद(AVBP) आरा ने भी सरकार के इस रवैये के खिलाफ शुक्रवार को एक दिवसीय धरना दिया. यह धरना विवि छात्र संघ के अध्यक्ष अमित सिंह के नेतृत्व में ब्रह्मर्षि कॉलेज में आयोजित हुआ जिसमें कई कॉलेज के छात्रों ने भाग लिया. AVBP के कार्यकर्ताओं ने रोषपूर्ण सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए. कॉलेज कैम्पस नारों से दिनभर गूंजता रहा. हर जोर जुल्म के टक्कर में संघर्ष हमारा नारा है राज्य सरकार होश में आओ, और तानाशाही नहीं चलेगी जैसे नारों से शाम तक कॉलेज कैम्पस गूँजता रहा. धरने पर बैठे आंदोलनकारी छात्रों ने हाथों में तख्तियां भी थी जिनपर लिखा हुआ था विवि के सम्मान में AVBP मैदान में, विवि पर आँच कभी नही आने देंगे, सरकार तेरी मनमानी नही चलेगी जैसे कई नारे लिखे हुए थे.

सरकार के खिलाफ रोहतास में धरने पर बैठी छात्राओं के संग छात्र

सिर्फ भोजपुर ही नही रोहतास तक विवि के आंदोलन की आग पहुँच चुका है. वीर कुंवर सिंह विवि पे पढ़े हर छात्रों के लिए यह शर्म का विषय है. अगर विवि ही नही रहेगा तो इस विवि से डिग्री लेकर निकले छात्रों के डिग्री का क्या होगा?

रोहतास के विभिन्न कॉलेजो में धरने पर सरकार के खिलाफ रोष में VKSU के छात्र

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद रोहतास द्वारा वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के स्तीत्व के खतरे को लेकर बिहार सरकार के खिलाफ रोहतास जिला के शांती प्रसाद जैन महाविद्यालय सासाराम, राधा शांता महाविद्यालय तिलौथू, जवाहरलाल नेहरू महाविद्यालय डेहरी और महिला महाविद्यालय डालमियानगर में धरना दिया गया.