श्रद्धालुओं को असुविधा न हो | मुख्यमंत्री ने छठ महापर्व से पहले गंगा घाटों का किया निरीक्षण

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | शनिवार को मुख्यमंत्री ने स्टीमर पर लगभग दो घंटे तक नासरीगंज से गायघाट के बीच अवस्थित सभी छठ घाटों का मुख्यमंत्री ने सूक्ष्म रूप से अवलोकन किया और लगातार अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते रहे ताकि छठव्रतियों को किसी प्रकार की कठिनाई न हो.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोक आस्था के महापर्व छठ पर्व के मद्देनजर पटना के छठ घाटों का निरीक्षण किया. उन्होंने स्टीमर के द्वारा दानापुर के नासरीगंज से पटना सिटी के गायघाट तक गंगा घाटों का निरीक्षण किया और घाटों की सफाई, सुरक्षा एवं स्वच्छता के संबंध में पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये.
मुख्यमंत्री ने गंगा घाटों के निरीक्षण के क्रम में घाटों की स्थिति पर संतोष व्यक्त किया. कुर्जी एवं एल0सी0टी0 घाट के निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी इसमें और अधिक काम करने की आवश्यकता है. इसमें अभी और जे0सी0बी0 लगाना होगा और तीव्र गति से कार्य कराना जरूरी है. उन्होंने कहा कि कुर्जी घाट के आगे कटाव ज्यादा हो रहा है ऐसा कटाव पिछले वर्ष नहीं था.
मुख्यमंत्री ने कहा कि पानी के लेवेल को देखकर घाटों पर बैरिकेटिंग सुनिश्चित करायी जाय. उन्होंनेअधिकारियों को निर्देश दिया कि जहां भी श्रद्धालु भारी संख्या में अर्घ्य देने के लिये आते हैं, उन्हें अर्घ्य देने में असुविधा न हो, इसका पूरा ध्यान रखने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि छठव्रतियों के अतिरिक्त दूसरे परिवार के श्रद्धालु भी आते हैं, इसके कारण होने वाली भीड़ को देखते हुये आवागमन को दुरूस्त रखना होगा. इस संबंध में भी उन्होंने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये.
मुख्यमंत्री दानापुर के नासरीगंज से पटना सिटी के गायघाट तक गंगा तटों पर चल रहे छठ घाटों की अब तक तैयारी से संतुष्ट नजर आये और मौके पर मौजूद जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव, ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव, पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव, नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव, बुडको एवं नगर निगम के अधिकारियों को छठ घाटों तक एप्रोच रोड, बिजली, साफ-सफाई का समुचित इंतजाम करने का निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि छठ लोक आस्था का महापर्व है और बिहारवासियों के लिये विशिष्ट पर्व है. इस अवसर पर उन्हें किसी प्रकार की असुविधा नहीं होनी चाहिये.
मुख्यमंत्री के निरीक्षण के क्रम में ऊर्जा मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेश चन्द्र यादव, मेयर पटना नगर निगम सीता साहू, मुख्य सचिव दीपक कुमार, प्रधान सचिव जल संसाधन त्रिपुरारी शरण, प्रधान सचिव गृह आमिर सुबहानी, प्रधान सचिव पथ निर्माण अमृत लाल मीणा, प्रधान सचिव ऊर्जा प्रत्यय अमृत, प्रधान सचिव नगर विकास विभाग चैतन्य प्रसाद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, सचिव लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण जितेन्द्र श्रीवास्तव, अपर पुलिस महानिदेशक एस0के0 सिंघल, अपर पुलिस महानिदेशक जे0एस0 गंगवार, प्रमण्डलीय आयुक्त पटना आर0एन0 चोंग्थू, आई0जी0 पटना नैयर हसनैन खान, डी0आई0जी0 पटना राजेश कुमार, जिलाधिकारी पटना कुमार रवि, वरीय पुलिस अधीक्षक पटना मनु महाराज, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह सहित पटना नगर निगम, बुडको एवं बिहार राज्य जल पर्षद के वरीय पदाधिकारी समेत अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.