पीरो में साम्प्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने की कोशिश,गाना और नारे ने बिगाड़ा सौहार्द

सांम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के अलर्ट जारी होने के बाद भी हुई घटना

“कश्मीर जिगर के टुकड़ा, कहे हिंदुस्तान,हमार जान हउए हो इ जान हउए हो”




देशभक्ति गीत बजने से शुरू हुआ उन्माद                                                                                        be2093d0-fd9e-4bdc-8007-6f585b7275fc

जगदीशपुर में भी गाने को लेकर कल शुरू हुआ था विवाद 

पीरो में विवादित नारे लगाने पर दो गुटों में पथराव

एक को लगी गोली, एक दर्जन हुए घायल

इस्पेक्टर समेत पुलिसकर्मी भी हुए घायल

10 लोग हिरासत में लिए गए है जिनसे पूछताछ चल रही है

बस् ट्रक ऑटो स्कोर्पियो ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल समेत 3 दर्जन से ज्यादा गाड़ियां खाक

सोने चांदी की एक छोटी गुमटी लूटी और कई दुकानों में भी की आगजनी

पीरो से पटना नाउ के जर्नलिस्ट ओ पी पांडेय की लाइव रिपोर्टिंग

मोहर्रम के मौके पर पीरो में निकली ताजिया में हजारों की संख्या में लोग शामिल थे. ताजिया को पीरो के भागलपुर और मिल्की से निकालकर घुमाने के बाद पीरो के दुसाधि बाजार के पास रखकर लोग  नारेबाजी करने लगे .इसके बाद पीरो का   आपसी सौहार्द ऐसा बिगड़ा जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी . शरारतीतत्वों के पत्थरबाजी में  जहाँ एक दर्जन से ज्यादा लोगों को घायल कर दिया, वहीँ  लगभग 3 दर्जन गाड़ियों को भी आग के हवाले कर दिया गया और कुछ को तोड़ दिया.उसके बाद जो दृश्य वहां दिख रहे थे वो सचमुच खौफ के थे.लोग डरे हुए थे ,घायलों को अस्पताल भेजा जा रहा था .

img_20161012_215548घटना स्थल पर पहुँचने और उसके बाद लोगों से मिलने के बाद मिली जानकारी थोड़ा भ्रम जरूर पैदा करते हैं कि आखिरइस घटना की शुरुआत कैसे हुई ?  इस घटना के पीछे कुछ उपद्रवियों और शरारती तत्वों का हाथ ही बताया गया है. दुसाधि टोला स्थित लोगों ने बताया कि हजारों की संख्या में लोग विभिन्न जगहों से इक्कठे हुए जिसमे संभवतः पीरो गाँव,भागलपुर,मिल्की और इब्राहिमपुर के लोग शामिल थे. इस विशाल भीड़ में कई लोगों ने पकिस्तान के झंडे की तरह टीशर्ट भी पहने थे. बाजार के पास गोलबंद होकर  ताजिया को रख दिया गया और काफी देर तक पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाते रहे. नारे  के बाद फिर अचानक  शुरू हुआ  पत्थरबाजी, आगजनी और तोड़फोड़ का दौर. जिससे दुसाधि टोला स्थित लोगों में इतना दहशत हो गया कि कोई भी बाहर आने की हिमाकत न कर सका. गौर करने की बात है कि इतने तोड़फोड़ के बाद भी ताजिये को थोड़ी भी क्षति नहीं हुई .

 

वही जब दुसाधि टोले के बाहर दूसरे समुदाय के लोगों से हमने लोगों से पूछा तो पता चला की विसर्जन के दौरान लगभग सभी विसर्जन दलों के गाड़ियों और डीजे पर पवन सिंह का गाना “कश्मीर जिगर के टुकड़ा, कहे हिंदुस्तान,हमार जान हउए हो इ जान हउए हो” बज रहा था जिसने दूसरे समुदाय के लोगों को नाराज कर दिया और वे  पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे. दुसाधि टोला स्थित लोग इतने डरे सहमे हैं कि घटना स्थल पर डीआईजी, डीएम, एसपी,अभियान एसपी,एसडीएम, डीएसपी,डीडीसी और भारी संख्या में पुलिस और सैप जवानों के बावजूद भी कोई बाहर नहीं निकलना चाहता था. अपने छत या खिड़कियों से लोग सब नजारा देख रहे थे. जब हम टूटी,पलटी और जली हुई गाड़ियों के फोटो अँधेरे में ले रहे थे तो वहां पास में स्थित घरों के लोग ये जानने को इच्छुक थे उनका दरवाज़ा और बाहर रखा चौकी या गाड़ी  ठीक है या नहीं. हमने कई लोगों से जब घटना की मूल वजह जानने की कोशिश की तो 3-4 दिन पहले ख़ुफ़िया रिपोर्ट ने दिल्ली में ऐसे सांम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की की अलर्ट जारी किया था वो अलर्ट देश के अन्य हिस्सों के लिए भी हो सकता है . न सिर्फ भोजपूर बल्कि बिहार के कई अन्य जगह ऐसी घटनाएं  हुई है.

img_20161012_220443img_20161012_220841

img_20161012_215518    img_20161012_215533

650145cc-63ef-46f6-abcf-1fe267408fea

ये भी पढ़ें –

सिर्फ एक गीत ने जगदीशपुर की परम्परा को तोड़ने का किया काम!