पत्रकारों की हत्या व उत्पीड़न पर सरकार आखिर चुप क्यों- आइरा       

सीवान में पत्रकार राजदेव रंजन, सासाराम में पत्रकार धर्मेन्द्र सिंह और समस्तीपुर में पत्रकार ब्रजकिशोर ब्रजेश हत्या कांड की कड़ी निंदा

पत्रकार हत्याकांड के खिलाफ आइरा का धरना 08 जनवरी को पटना में




जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ़ बिहार के जिला इकाई -मधुबनी ने रखी अपनी मांग 

पत्रकारों की हत्या के बाद लामबंद हो रहे हैं बिहार के पत्रकार 

बिहार में लगातार पत्रकारों की हत्या कर अपराधी सरकार को चुनौती दे रहे हैं, लेकिन सरकार ने कार्रवाई करने के बदले चुप्पी साध ली है. यहां के पत्रकार सुरक्षित नहीं हैं. बिहार में आये दिन लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के इन कलमकार साथियों की हत्याएं हो रही है. पत्रकारों की हत्या एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए गंभीर चिंता का विषय है. उक्त बातें ऑल इंडिया रिपोर्टर्स एसोसिएशन{आइरा} के प्रदेश अध्यक्ष सुमन कुमार मिश्रा ने कही. उन्होंने कहा कि बिहार में लगातार पत्रकारों पर हमला कर अपराधी उन्हें मौत के घाट उतार रहे हैं. यहां पत्रकारों के अधिकारों का हनन हो रहा है, फिर भी बिहार सरकार मौन धारण किये हुए है. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जिस राज्य में पत्रकार सुरक्षित नहीं हैं उस राज्य में कानून-व्यवस्था की बात करना बेमानी होगी. सूबे के  करते हुए आइरा के प्रदेश अध्यक्ष ने सवालिया लहजे में कहा कि आखिर सरकार हत्यारों पर कार्रवाई के लिए अब कितने पत्रकारों की कुर्बानी चाहती है. उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार को जबाब देना चाहिए कि आखिर पत्रकारों की लगातार हो रही हत्या पर वे क्यूं चूप हैं. प्रदेश अध्यक्ष ने जोर देकर कहा कि बिहार में पत्रकारों की लगातार हो रही हत्या के खिलाफ ऑल इंडिया रिपोर्टर्स एसोसिएशन अब आरपार की लड़ाई लड़ेगा. उन्होंने कहा कि पत्रकारों के हत्यारों की अविलंब गिरफ्तारी, मृत पत्रकारों के परिजनों को उचित मुआवजा, परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी, हत्याकांड के मामले स्पीडी ट्रायल चला कर अपराधियों को सजा दिलाने एवं बिहार में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग को लेकर ऑल इंडिया रिपोर्टर्स एसोसिएशन {आइरा} अगामी 08 जनवरी को राजधानी पटना में धरना देगा. धरना के माध्यम से अगर बिहार सरकार हमारी मांगों पर शीघ्र अमल नहीं करेगी तो आइरा बिहार सरकार के खिलाफ राज्यव्यापी चरणबद्ध आंदोलन शुरु करेगा. प्रदेश अध्यक्ष मिश्रा ने बिहार में काम करने वाले प्रिंट मिडिया-इलेक्ट्रानिक के सभी पत्रकार साथियों से अगामी 08 जनवरी को पटना के गर्दनीबाग में आयोजित धरना में शामिल होने की बात कही किया.उन्होंने  सूबे के पत्रकारों से अपने हक और अधिकार की रक्षा के लिए संगठित होने का भी आह्वान उन्होंने किया.

इधर इसी मुद्दे पर पी .डब्ल्यू. आई. बी. के निरीक्षण भवन मे समस्तीपुर के विभूतिपुर के पत्रकार ब्रजकिशोर ब्रजेश के निर्मम हत्या के विरोध मे जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ़ बिहार के जिला इकाई -मधुबनी के तत्वावधान मे दो मिनट का मौन रख कर एक शोक सभा का आयोजन किया गया, जिसमे पत्रकारों  के सुरक्षा की गारंटी देने, पत्रकार सुरक्षा बिल पास करने, मृतक के परिजन को सरकारी नौकरी, मृतक के परिजन को पचास लाख रूपये के साथ, बिहार के समस्तीपुर जिला समेत हुए, हत्याकांड की स्पीड ट्रायल चला कर हत्यारे को फांसी की सजा सुनाई जाए?  विभिन्न मांग को लेकर जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा गया.

बिहार के सीवान, सासाराम और समस्तीपुर में पत्रकारों की लगातार हो रही हत्या पूर्णिया और खगौल में पत्रकारों को झूठा मुकदमा में फंसाने ,,,जानलेवा हमला अब चिंता का विषय बन गया है. इस बात को  हम लोगों ने adg आलोक राज के सामने रखा तो उन्होंने ने कहा मेरी जानकारी में है.घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए उन्होंने  मिलने का समय भी दिया  है.वहीं दूसरी ओर समस्तीपुर की घटना को लेकर जर्नलिस्ट्स यूनियन ऑफ़ बिहार  की पहल पर भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष ने गंभीरता दिखाते हुए सम्बंधित अधिकारियों को दो सप्ताह के भीतर अपना पक्ष रखने को कहा है इस आशय की जानकारी महासचिव,,,जर्नलिस्ट्स यूनियन ऑफ़ बिहार के  महासचिव सुधीर मधुकर ने दी .