2 बजे लगे भूकंप के झटके, खुद को बचाते दिखे लोग!

पटना के मौर्य लोक में लगे भूकंप के झटके

खुले स्थान पर निकले लोग




पटना का सबसे व्यस्त मार्केट मौर्य लोक, एक सायरन बजती है और लोग भूकंप से खुद को बचाने की जुगत में लग गए. कुछ दीवार की ओट में खड़े हो गए कुछ अपनी दुकान में टेबल के नीचे छिप गए. ये चेतावनी भूकंप आने की थी. मौर्य लोक में भूकंप आया और लोग खुद को बचाने में लगे रहे, दीवार से चिपके ,दरवाजे की ओट में खड़े लोग भूकंप के जाने का इन्तजार कर रहे थे,कुछ समय बाद भूकंप के झटके कम हुए और लोग अपने सर को दोनों हाथो से ढके धीरे-धीरे सीढ़ियों से नीचे आ रहे थे जहाँ खुली जगह थी वहां वे आकर चैन की सांस ले रहे थे. ये भूकंप वास्तव में नहीं आया था बल्कि ये एक मौक ड्रिल था भूकंप से बचने के तरीके को सीख रहे थे.यह आयोजन राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से 15 से 21 जनवरी तक भूकंप सुरक्षा सप्ताह के तहत पटना में मौक ड्रिल का आयोजन किया जा रहा है. इसका मकसद भूकम्प जैसी आपदा के प्रति जागरुक करना है. भूकंप सुरक्षा सप्ताह के आयोजन का मकसद लोगों को बताना कि जब ऐसी परिस्थित आये तब लोग क्या करें . राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष व्यासजी कहते है कि  बिहार भूकम्प की दृष्टि से अत्यंत संवदेनशील राज्य है. राज्य के आठ जिले सीतामढ़ी, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, अररिया एवं किशनगंज भूकम्प के दृष्टिकोण से सर्वाधिक संवदेनशील, ज़ोन V में आते हैं. इसी प्रकार से अन्य 24 जिले ज़ोन IV जबकि बाकी 6 जिले, ज़ोन III में आते हैं. व्यासजी ने कहा कि इस प्राकृतिक आपदा की गंभीरता को देखते हुए इसके लिए जनमानस में भूकम्प से बचाव की तैयारी और इसके प्रति जागरूक होना अति आवश्यक है.

हर साल 15-21 जनवरी तक “भूकम्प सुरक्षा सप्ताह” मनाने का उद्देश्य जनमानस में जागरूकता कार्यक्रमों  के माध्यम से भूकंप के प्रति जानकारी बढाना है, जिससे लोगों में भूकंप के प्रति संवेदनशीलता बढ़े और भूकम्प के कारण आने वाली मुसीबतों से निबटने की क्षमता में वृद्धि हो सके. इस मौके पर प्राधिकरण के सदस्य उदय कान्त मिश्र,डी जी होमगार्ड पी एन राय, नगर आयुक्त अभिषेक सिंह ,सीनियर एडिटर मोनिषा दूबे,मेयर अफजल इमाम समेत कई पदाधिकारी मौजूद थे. कार्यक्रम का संचालन प्राधिकरण के वरिष्ठ सलाहकार अनुज तिवारी ने किया .इस आयोजन में पटना के कई अधिकारी और पुलिस  अधिकारियों ने भी शिरकत की. इस मौक  ड्रिल में NDRF  और  SDRF के जवानों ने अपनी भूमिका को प्रस्तुत किया .

ये भी पढ़ें –http://www.patnanow.com/bsdma-bhukamp-suraksha-saptah/