अगले 48 घंटे के लिए बिहार के 26 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

8 जिलों में होगी भारी बारिश, अगले 48 घंटे ऐसा ही रहेगा मौसम 2022 में मानसून की बारिश अपने औसत से कम राज्य के अधिकांश जिलों में आज अच्छी बारिश होने के अनुमान हैं. आज 8 जिलों में भारी बारिश की संभावना व्यक्त की गई है. इन जिलों में रोहतास, औरंगाबाद, कैमूर, नवादा, गया, भागलपुर, बांका और जमुई शामिल है. इन जिलों में आकाशीय बिजली गिरने की भी आशंका है. लगातार बारिश से कई जिलों में नदियां उफान पर हैं. बाढ़ का पानी गांवों में भी घुस गया है. जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इधर, राजधानी में सोमवार देर रात से ही बारिश हो रही है. मंगलवार सुबह भी हल्की बारिश हुई. इससे तापमान में गिरावट देखी गई. मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार अगले दो दिन गरज के साथ तेज बारिश की संभावना बनी हुई है. मौसम विभाग ने 18 जिलों में भी हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश की संभावना है. इन जिलों में पटना, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, मधेपुरा, सुपौल, समते 18 जिले शामिल हैं. तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट देखने को मिलेगी. 2022 में मानसून की बारिश अपने औसत से कम हुई है. बारिश कम होने से खरीफ फसल पर इसका सीधा असर पड़ा है. खरीफ फसल के बुआई में पानी की बहुत जरूरत होती है. बिहार में कम पानी होने से खरीफ फसल की बुआई प्रभावित हुई है. मौसम विभाग ने अब आने वाले दिनों में अच्छी बारिश होने की संभावना जताई है. बिहार में मानसून

Read more

नेपाल में जल सैलाब से बिहार में बाढ़ की स्थिति गंभीर

सीतामढ़ी में खतरे के निशान के ऊपर बागमतीखुद अपना घर उजाड़ने को मजबूर लोगवज्रपात से पिछले 5 दिनों में 31 मौत नेपाल में लगातार हो रही बारिश से बिहार में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. सीतामढ़ी में बागमती नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. यहां नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. बागमती नदी की धारा मेजरगंज प्रखंड में रुसूलपुर गांव के पास पहुंच गई है. रुसूलपुर गांव के पास से बागमती नदी गुजरती है. नेपाल सहित सीतामढ़ी में हुई भारी बारिश के कारण बागमती नदी उफान पर है. जिसके कारण नदी किनारे मिट्टी का कटाव जारी है.जिला प्रशासन ने कटाव रोकने के लिए खानापूर्ति करते हुए नदी में बांस डाल दिया है. बांस के बीच में बोरा में बालू-मिट्टी भरकर रख दिया गया है. नदी किनारे बड़े पेड़ डाल दिए गए हैं, लेकिन कटाव को रोकने के लिए यह नाकाफी हैं. रुसूलपुर गांव में बाढ़ कभी भी आ सकता है. लोग अपने घरों का ईट, झोपड़ी का घास, अन्य सामान दूसरे जगहों पर ले जा रहे हैं. ताकी बाढ़ में यह सब बह न जाए. स्थानीय ग्रामीणों ने कहा कि बहुत मेहनत से कमा के पैसा जमा कर घर बनाए थे. अब खुद इसे तोड़ना पड़ रहा है. बहुत दुख है. बाढ़ के खतरे से बचने के लिए प्रशासन की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया. हर बार आश्वासन दिया जाता है, लेकिन प्रशासन कुछ नहीं करता है. राज्य में सोमवार के दिन भी मौसम मेहरबान रहने वाला है. राज्य के सभी जिलों

Read more

देश का दूसरा केंद्र होगा भौतिक प्रतिमान केंद्र : नीतीश

कोसी बेसिन विकास परियोजना के अंतर्गत निर्माणाधीन है भौतिक प्रतिमान केंद्र कोसी तटबंध के पुनर्स्थापन एवं सुदृढ़ीकरण कार्य का सीएम ने निरीक्षण किया बाढ़ प्रबंधन और सिंचाई की योजनाओं के लिए बन रहा है केंद्र भौतिक प्रतिमान केंद्र का निर्माण कार्य जल्द पूर्ण करें 108.93 करोड़ रुपये की लागत से हो रहा भौतिक प्रतिमान केंद्र का निर्माण अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सुपौल जिले के वीरपुर में बिहार कोसी बेसिन विकास परियोजना के अंतर्गत निर्माणाधीन भौतिक प्रतिमान केंद्र का निरीक्षण किया. मुख्यमंत्री ने इन स्थलों का भ्रमण कर चल रहे निर्माण कार्यों की जानकारी ली. इस दौरान उन्हें बताया गया कि दिसंबर तक निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा. निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि भौतिक प्रतिमान केंद्र का निर्माण कार्य जल्द पूर्ण करें. यह जब बनकर तैयार होगा तो अपने आप में विशिष्ट होगा. भौतिक प्रतिमान केंद्र के शुरू होने से बाढ़ प्रबंधन और सिंचाई की योजनाओं के लिए नदियों से जुड़े जरूरी अध्ययन को कम समय में पूरा किया जा सकेगा. अब इसके लिए पुणे जाने की जरूरत नहीं होगी. इससे होने वाले खर्च में भी बचत होगी. यहां नदियों के हाइड्रोलिक गुणों का अध्ययन किए जाने से बिहार के साथ-साथ दूसरे राज्यों को भी फायदा होगा. निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री को जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता (फ्लड), वीरपुर ने मुख्यमंत्री को डायग्राम के माध्यम से निर्माणाधीन कैंपस प्लान की जानकारी दी. उन्होंने मुख्यमंत्री को जानकारी देते हुए बताया कि आपकी परिकल्पना के अनुरूप बिहार के परिप्रेक्ष्य

Read more

अब चिराग के हाथ हेलिकॉप्टर

पार्टी का नाम होगा लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) पटना : कई कयासों के बाद चिराग पासवान को नई पार्टी का चुनाव चिन्ह मिल गया है पार्टी का नाम होगा लोक जन शक्ति पार्टी (रामविलास) .चुनाव आयोग ने आज चुनाव चिन्ह जारी कर दिया है .

Read more

बाढ़ की वजह से इस रेल रूट पर परिचालन बंद

पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि लगातार हो रही भारी बारिश के कारण समस्तीपुर मंडल के समस्तीपुर दरभंगा रेलखंड के मध्य हायाघाट एवं थलवारा स्टेशन के बीच स्थित रेल पुल संख्या 16 (किमी 22 / 6-8) के निकट बाढ़ का पानी आ जाने के कारण यात्री सुरक्षा एवं संरक्षा के मद्देनजर थलवारा- हायाघाट रेलखंड से गुजरने वाली कुछ ट्रेनों के परिचालन में निम्नानुसार बदलाव किया गया है : • परिचालन रद्द की गई स्पेशल ट्रेनें: (Cancellation) दिनांक 31.08.2021 को अपने प्रारंभिक स्टेशन से प्रस्थान करने वाली वैसी ट्रेनें जिनका परिचालन रद्द किया गया है : 05550 पटना-जयनगर स्पेशल ट्रेन 2. 05554 जयनगर-भागलपुर स्पेशल ट्रेन 05593 समस्तीपुर-जयनगर स्पेशल ट्रेन 4. 05594 जयनगर- समस्तीपुर स्पेशल ट्रेन ट्रेनों का आंशिक समापन / प्रारंभ (Short Termination / Origination) 1. लोकमान्य तिलक टर्मिनल से 30.08.2021 को प्रस्थान करने वाली 01061 लोकमान्य तिलक टर्मिनल-जयनगर स्पेशल ट्रेन का आंशिक समापन मुजफ्फरपुर में किया जाएगा. 2. मनिहारी से 31.08.2021 को प्रस्थान करने वाली 05283 मनिहारी-जयनगर स्पेशल ट्रेन का आंशिक समापन समस्तीपुर में किया जाएगा . अमृतसर से 30.08.2021 को प्रस्थान करने वाली 04650 अमृतसर-जयनगर स्पेशल ट्रेन का आंशिक समापन समस्तीपुर में किया जाएगा . 4. जयनगर से 01.09.2021 को प्रस्थान करने वाली 01062 जयनगर-लोकमान्य तिलक टर्मिनल स्पेशल ट्रेन जयनगर के बदले मुजफ्फरपुर से लोकमान्य तिलक टर्मिनल के लिए प्रस्थान करेगी . जयनगर से 01.09.2021 को प्रस्थान करने वाली 04673 जयनगर-अमृतसर स्पेशल ट्रेन जयनगर के बदले समस्तीपुर से अमृतसर के लिए प्रस्थान करेगी . परिवर्तित मार्ग से चलायी जाने वाली ट्रेनें: (Diversion) 1. दरभंगा से

Read more

बाढ़ से बिहार के 16.91 लाख लोग प्रभावित

बिहार में बाढ़ के कारण पटना समेत पंद्रह जिले प्रभावित हैं। इन जिलों के 82 प्रखंडों की 484 पंचायतों के 16.91 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।सरकार ने बाढ़ से अब तक 5 लोगों की मौत की पुष्टि की है। राज्य में बाढ़ की विभीषका को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग ने कमर कस ली है। जारी रिपोर्ट के अनुसार पंद्रह जिलों मुजफ्फरपुर, दरभंगा, खगड़िया, सहरसा, पटना, वैशाली, भोजपुर, लखीसराय, भागलपुर, सारण, बक्सर, बेगूसराय, कटिहार, मुंगेर और समस्तीपुर के 82 प्रखंडों की 484 पंचायतें आंशिक अथवा पूर्ण रूप से प्रभावित हैं। 15 लाख से ज्यादा आबादी के सामने खाना पानी का संकट खड़ा हो गया है । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का सड़क मार्ग से दौरा किया और बाढ़ पीड़ितों के बीच जल्द से जल्द सहायता पहुंचाने का आदेश भी दिया है।गंगा,सोन और कई अन्य नदियों में भी पानी आ जाने से राज्य के एक बड़े भूभाग से लोगों का सम्पर्क टूट गया है । सिर्फ भोजपुर में अब तक चार लोगों की जान जा चुकी है।

Read more

पटना में गंगा-सोन के बाद उफनाई पुनपुन-दरधा ने दर्जनों गांवों को डुबोया

गौरीचक के बाढ़ प्रभावित गांव में जिला परिषद अध्यक्ष और एसडीओ का दौरा लखना में समुदाय किचन चालू कराने की मांग फुलवारी / पुनपुन (अजीत) ।। पुनपुन और गौरीचक में पुनपुन नदी के जलस्तर में हुई वृद्धि की वजह से प्रखंड के कुछ गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है. इससे उन गांवों का दूसरे जगहों से संपर्क भंग हो गया है.पटना के गौरीचक थाना क्षेत्र अंतर्गत लखना पूर्वी पंचायत और आसपास के दर्जनों बाढ़ प्रभावित गांव में गुरुवार को जिला परिषद अध्यक्ष अंजू देवी और मसौढ़ी एसडीओ दल बल के साथ दौरा कर ग्रामीणों का हालचाल लिया. इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों से बाढ़ प्रभावित गांवों में सामुदायिक किचन शुरू कराने की मांग की गई है. द्वारिक पासवान ने बताया कि बेलदारी चक, मुस्तफापुर, सोना चक , मुसना पर , छठु चक , अलावलपुर , बलुआ चक , उड़ान टोला , सपहुआ , रामगंज , लहलाद पुर, चँडासी ,पलांकि मुरीद चक, आहिया चक , मोहनपुर, फहीम चक मिरहाजी चक सर्राफाबाद आदि बाढ़ प्रभावित गांवों का दौरा किया गया. जानकारी के अनुसार पुनपुन प्रखंड की लखनपार पंचायत स्थित फहीमचक गांव के पास पुनपुन नदी के रिंग बांध से उपर रोड पर पानी बह रहा था. इसकी वजह से फहीमचक गांव पानी में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है. वही बरावां पंचायत के छोटकी सपहुआं व बडकी संपहुंआ गांव में भी पानी प्रवेश कर गया है. इधर लखनपार गांव के ठीक सामने समकुरा के पास रिंग बांध की मिट्टी गुरूवार को गिर गई जिसे बाद में जलसंसाधन विभाग ने

Read more

मुख्यमंत्री नीतीश ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा

बेगुसराय ,खगड़िया ,भागलपुर और मधेपुरा के बाढ़ प्रभावित इलाके का किया हवाई सर्वे पटना :- मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज सुबह बिहार के वैसे इलाकों का दौरा किया जहाँ बाढ़ के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है. मुख्यमंत्री ने आज बेगुसराय ,खगड़िया ,भागलपुर और मधेपुरा के बाढ़ प्रभावित इलाके का हवाई सर्वे किया और सर्वे के बाद अधिकारियों को प्रभावित इलाकों में लोगों को यथा सम्भव मदद और बाढ़ राहत सामग्री उपलब्ध करने के निर्देश दिए . PNC

Read more

राजधानी के न्यू बाईपास के पास किया सड़क जाम

पटना (स्वतंत्र पत्रकार मनोज चौधरी की रिपोर्ट) | एक ओर जहां समूचे प्रदेश में पिछले दिनों हुई भारी बारिश और जल जमाव ने जनता के नाक में दम कर दिया है, वहीं स्थानीय लोगों द्वारा सरकार के खिलाफ आवाज उठना शुरू हो गया है. बुधवार को राजधानी के न्यू बाईपास पर दशरथ्था के पास स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर दिया तथा प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. उनका कहना था कि वर्तमान सरकार की ओर से इस प्राकृतिक आपदा से लड़ने के लिए कुछ इंतजाम नहीं किये गए थे. उनके अनुसार आसपास के इलाकों में बहुत जल जमाव होने से जीवन अस्त व्यस्त हो गया है. प्रशासन की तरफ से उन्हें सहायता नहीं मिल पा रही है.

Read more

बादशाह इंडस्ट्रीज और गुरुद्वारा की तरफ से राहत सामग्री वितरित

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | बिहार में जोरदार बारिश के कारण कई लोगों की जान जा चुकी है. वही आम भी जनजीवन बुरी तरह अस्त व्यस्त हो गया है. राजधानी पटना के जलमग्न इलाकों में फंसे लोगों को निकालने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है. सोमवार को वायुसेना के हेलिकॉप्टर से खाने के पैकेट और अन्य आवश्यक सामग्री गिरायी जा रही है. सोमवार को पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि के नेतृत्व में एसडीआरएफ के दल ने तीन दिनों से पटना के राजेंद्र नगर इलाके में जलजमाव के कारण घर में फंसे उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और उनके परिवार के सदस्यों को नौका से सुरक्षित जगह पहुंचाया. बिहार की मशहूर लोकगायिका शारदा देवी को भी उनके परिवार के साथ उनके राजेंद्रनगर स्थित निवास से निकाल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया, जो बिना बिजली पानी अपने घर में पानी के बीच कैद हो गई थी. पानी जमाव के बीच बीमारियों का प्रकोप का डर बढ़ गया है. झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों की स्थिति और भी खराब है. जल से डूबे मुहल्लों, खासकर झुग्गी-झोपड़ियों में राहत सामग्री, दवा, खाद्य पदार्थ के वितरण की व्यवस्था शुरू कर दी गई है. प्रभावित इलाकों में जहां एक ओर प्रशासन अपनी पूरी ताकत लगा रहा है वही दूसरी तरफ गैर सरकारी एवं प्राइवेट संस्थाएं भी इस नेक काम में आगे आई हैं. इसी क्रम में बिहार की एक अग्रणी कंपनी जो अगरबत्ती बनाती है, बादशाह इंडस्ट्रीज ने गुरुद्वारा के साथ मिलकर कंकड़बाग के प्रभावित क्षेत्रों में राहत सामग्री बांटा. गुरुद्वारा ने अपने लंगर से 3000

Read more