भूख हड़ताल की आग हुई तेज, बाहर से आये छात्र भी अनशन में हुए शामिल

अनशनकारी छात्रों से मिले तरारी विधायक,सोमवार को विधानसभा में फिर गूंजेगा VKSU का मामला शिक्षाविहीन समाज बनाना चाहती है सरकार : सुदामा प्रसाद विवि के अस्तित्व बचाने के संघर्ष में छात्रों के साथ आगे आये विधायक सुदामा प्रसाद आरा,6 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज). विवि की भूमि पर मेडिकल कॉलेज बनाने को लेकर विवि पर गहराये संकट को हटाने के लिए भूख हड़ताल के चौथे दिन भी कोई निष्कर्ष सरकार द्वारा नही निकला। लेकिन लगातार गिरते अनशनकारी अनिरुद्ध के स्वास्थ्य ने जरूर इस भूख-हड़ताल की आग को और तेज कर दी है. भूख-हड़ताल में अनिरुद्ध का हौसला बढ़ाने ही नही बल्कि उनके साथ आमरण अनशन के लिए आरा समेत गोपालगंज से भी छात्र अनशन स्थल पर पहुँच अनशन में बैठ गए हैं. वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा की भूमि स्वास्थ्य विभाग को दिए जाने और इससे विवि के अस्तित्व पर गहराते संकट के विरोध में आज चौथे दिन भी आमरण अनशन जारी रहा. छात्र संगठन लीड के सदस्य और आंदोलन का नेतृत्व कर रहे अनिरुद्ध सिंह के साथ आज से जैन कॉलेज के अमित सिंह गौतम, पंकज सत्यार्थी और गोपालगंज से धरने में शामिल होने आए छात्र मनमीत ओझा भी अनशन पर बैठ गए हैं. दोपहर में तरारी के माले विधायक सुदामा प्रसाद नगर अध्यक्ष दिलराज प्रीतम और आइसा के अध्यक्ष सबीर के साथ विवि परिसर पहुँचे और आंदोलनकारी छात्रों को अपना समर्थन दिया. अपने सम्बोधन में विधायक ने कहा कि वे खुद इस विवि को बनाने के लिए 1985 से ही संघर्ष में शामिल रहे हैं और 7 साल

Read more

‘सरकार’ को होश में आने की छात्रों ने भरी हुंकार,कई जगह प्रदर्शन

विवि गंवाकर मेडिकल कॉलेज छात्रों को नामंजुर, कई जगह प्रदर्शन अनशनकारी छात्र का स्वास्थ्य गिरा, प्रशासन मौनआमरण अनशन के तीसरे दिन भी शासन-प्रशासन की चुप्पी आरा,6 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज). वीर कुँवर सिह विश्वविद्यालय के नूतन परिसर की भूमि मेडिकल कॉलेज को दिए जाने के विरोध में लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी (लीड) के सदस्य छात्र अनिरुद्ध सिंह का स्वास्थ्य शुक्रवार को आमरण अनशन के तीसरे दिन से गिरना शुरु हो गया. विवि के चिकित्सक ने स्वास्थ्य जाँच के बाद बताया कि उनका रक्तचाप अत्यंत निम्न स्तर पर चला गया है और तीन किलो वजन में गिरावट दर्ज हुई है. मगर शासन-प्रशासन की चुप्पी ने जनपद की जनता को आंदोलित करके रख दिया है. दूसरी तरफ तीसरे दिन भी अनशन स्थल पर छात्रों-शिक्षकों और समाजसेवियों का तांता लगा रहा. आज अनशनस्थल पर साथ देने वालों में बी एड कॉलेज के छात्र आगे रहे. भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडेय ने विवि की समस्या के प्रति सरकार की उदासीनता पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि जिले के एक नौजवान का इस तरह आमरण अनशन पर बैठना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है और शाहाबाद के छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा चाहिए. बिहार कांग्रेस के प्रतिनिधि डॉ एस पी राय और आरएसएस के विक्की सिंह ने भी सरकार द्वारा विवि की भूमि को जबरिया खंड-खंड करने को तानाशाही रवैया बताया. गणित विभाग के प्रो विजय सिंह और हिंदी विभाग के व्याख्याता प्रो निलाम्बुज सिंह ने कहा कि लगता है सरकार शिक्षा के प्रति गम्भीर नहीं है, ना ही वो ढंग का विश्वस्तरीय मेडिकल कॉलेज बनाना

Read more

छात्रों की भूख हड़ताल तीसरे दिन भी जारी

दूसरे दिन विवि परिसर हुआ आन्दोलनमयछात्र-शिक्षक आये एक मंच पर आरा,5 मार्च(ओ पी पाण्डेय व रवि प्रकाश सूरज). लीड छात्र संगठन के सदस्य अनिरुद्ध सिंह आमरण अनशन का आज तीसरे दिन भी जारी रहा. ज्ञात हो कि 3 मार्च से ही विवि के स्तीत्व को बचाने और विवि की जमीन से अन्यत्र जगह वृहद और अत्याधुनिक मेडिकल कॉलेज के निर्माण की माँग को लेकर विवि परिसर में अनशन चल रहा है. बीते शाम अनशनस्थल पर सीसीडीसी और इतिहास विभागाध्यक्ष प्रो हीरा प्रसाद और प्रॉक्टर शिवपरसन सिंह आये और अनशनकारी छात्रों का मनोबल बढ़ाने के साथ ही मुद्दे से जुड़ी बातों की जानकारी दी. अनशन के दूसरे दिन सुबह यानि गुरुवार को विवि के चिकित्सक ने अनिरुद्ध सिंह के स्वास्थ्य की जांच की. उनका स्वास्थ्य अभी सामान्य बना हुआ है. दिन में मनोविज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष मंजू सिंह, व्याख्याता प्रतिभा सिंह, भकुस्टा के कार्यकारी अध्यक्ष प्रो वज्रांग प्रताप केसरी, भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडेय, हिंदी विभाग के व्याख्याता निलाम्बुज सिंह, नवनीत कुमार राय, जैन कॉलेज के हिंदी के पूर्व हेड डॉ बलिराज ठाकुर, दर्शनशास्त्र के पूर्व अध्यक्ष महेश सिंह और लोक प्रशासन विभाग के प्राध्यापक प्रो उमेश कुमार ने छात्रों और शिक्षकों को सम्बोधित किया. सभी ने एक सुर से विवि की जमीन को बिना सहमति के मेडिकल कॉलेज के नाम दाखिल-खारिज करने के कृत्य की घोर निंदा की और कहा कि इस फैसले से भोजपुर जिले के तीनों संस्थान विवि, मेडिकल कॉलेज और मानसिक आरोग्यशाला केवल दिखावे की वस्तु बनकर रह जायेगी. दूसरे दिन अनशन में विवि के 80 छात्रों

Read more

विवि को बचाने के लिए जान देने पर उतरे छात्र

विवि के स्तीत्व पर ग्रहण के विरोध में आमरण अनशनमेडिकल कॉलेज का विरोध नहीं, पर विवि की कीमत पर नहींछात्रों के आमरण अनशन को मिला शिक्षकों का साथ आरा, 3 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज). VKSU को बचाने के लिए भुख हड़ताल कर जान देने पर वीर कुंवर सिंह विवि के छात्र आज से उतर गए हैं. उन्होंने आज से आमरण अनशन के लिए विवि के पुराने कैम्पस में डेरा डाल दिया है. अनशन से पूर्व छात्रों ने वीर कुँवर सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर शपथ लिया कि वे वीर बाँकुड़ा का अपमान कत्तई बर्दाश्त नहीं करेंगे और लंबे जनांदोलन के बाद बने इस विवि के स्तीत्व को बचाने के लिए अंतिम लड़ाई लड़ेंगे. छात्रों ने कहा कि वे मेडिकल कॉलेज खोले जाने के नाम पर खानापुर्ति का भी विरोध करेंगे. हाल ही में राज्य सरकार द्वारा वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय के नूतन परिसर की जमीन को प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज को आवंटित किए जाने और बदले में राजकीय मानसिक आरोग्यशाला, कोइलवर की जमीन को विवि को दिए जाने का विरोध अब तेज होता जा रहा है. लीड’ छात्र संगठन के सदस्य अब छात्र नेता अनिरुद्ध सिंह के नेतृत्व में विवि परिसर में वीर कुँवर सिंह की प्रतिमा के समक्ष आमरण अनशन पर बैठ गए हैं. छात्रों के इस आन्दोलन को विवि के शिक्षक भी खुलकर साथ है. बता दें कि इसी मुद्दे पर पिछले हफ्ते शिक्षक भी धरने पर थे. अनशनकारी छात्रों का कहना है कि वे मेडिकल कॉलेज का विरोध नहीं कर रहे, पर सरकार के इस एकतरफा

Read more

सुरक्षा की कसौटी पर फिट ग्रामीण इलाके का यह स्कूल

कोविड नियमों का 100% पालन,सिम्बायोसिस स्कूल के बच्चों में दिखा उत्साह,शिक्षको में भी खुशी गड़हनी,3 मार्च. बिहार समेत भोजपुर में कोरोना को लेकर 11 माह से बंद चल रहे 1 से 5 तक के स्कूल सोमवार से खुल गए. इस दौरान गड़हनी प्रखण्ड क्षेत्र के सरकारी व निजी विद्यालयों के बच्चे काफी खुश दिखे. दूसरे दिन मंगलवार की सुबह बच्चे जब अपने-अपने विद्यालय पहुंचे, तो दोस्तों से मिलकर खिलखिला उठे. स्कूलों में भी बच्चों को स्वागत करने के लिए पहले से ही कई तरह की तैयारियां की गई थी. कई जगह बच्चों पर पुष्प वर्षा की गई. कक्षाओं को रंग-बिरंगे गुब्बारों से सजाया गया था. सभी नन्हे अतिथियों के जबरदस्त स्वागत के लिए तैयारी के साथ मुस्तैद थे. स्वागत तो हर विद्यालयों की अपने सरिकी कुछ खास ही थी, लेकिन गड़हनी से सटे सेमराँव अवस्थित सिम्बायोसिस इंटरनेशनल स्कूल में कल काफी संख्या में छात्र-छत्राए 11 माह बाद पढ़ने के लिए पहुंचे. विद्यालय पहुंचने पर सबसे पहले स्कूल वाहन लगते ही बच्चों पर पुष्प वर्षा कर उनको स्वागत किया गया. वही इस स्कूल में कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए देखा गया. स्कूल पहुंचने वाले सभी बच्चों का थर्मल स्क्रीनिंग किया गया. इसके बाद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए उपस्थित छात्रों को उनके कक्षा के बेंच पर बैठाया गया. इस दौरान सभी बच्चे मास्क लगाए हुए थे. सिम्बायोसिस इंटरनेशनल स्कूल में उत्साहित होकर पहूंचे कक्षा 1 से 5 तक के छात्रों को 50% उपस्थिति के साथ स्कूल बुलाया जा रहा हैं. कोरोना गाइड लाइन को फ़ॉलो करते देख जब

Read more

17 साल बाद लौटेगी इस आयुर्वेदिक महाविद्यालय की रौनक !

17 सालों से बंद पड़े आयुर्वेदिक महाविद्यालय के कर्मचारियों की सेवाएं होंगी बहाल ! बक्सर,27 फरवरी. भगवान श्रीराम ने 14 वर्ष का वनवास काटा था. लेकिन वे 14 वर्षो के बाद घर वापस लौट गए थे. यह सन्दर्भ इसलिए याद आ रहा है क्योंकि बक्सर जिले के अहरौली में एक राज्यीकृत आयुर्वेदिक महाविद्यालय है जिसका नाम है श्री धन्वंतरि आयुर्वेदिक महाविद्यालय. यह महाविद्यालय जिले का एकमात्र महाविद्यालय है जहाँ आयुर्वेद की पढ़ाई होती थी. स्वास्थ्य विभाग की ओर से 29 अगस्त 2003 को एक सूचना (सूचना-पत्र संख्या 839) भेज कर बिना कोई कारण बताए ही महाविद्यालय के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी गयी. तब से लेकर अबतक जिले की शान बढ़ाने वाला यह महाविद्यालय अब इतिहास बन कर अपनी बदहाली पर आँसू बहा रहा है. प्रभु श्रीराम की तरह यह महाविद्यालय भी पिछले 17 सालों से वनवास ही काट रहा है. लेकिन 17 सालों के बाद भी यह पुराने स्तीत्व में लौटेगा यह कहना एक यक्ष सवाल है. 17 सालों से बंद पड़े महाविद्यालय का ढाँचा भी अब जर्जर हो चुका है. बक्सर की धरोहर को बचाने के लिए विधानसभा में मुखर होकर स्थानीय विधायक संजय कुमार तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी ने आवाज उठाया साथ ही इसके जर्जर होती जा रही बिल्डिंग के मरम्मती के लिए भी आवाज उठाया. गुरुवार को जब हाउस में बक्सर के जनप्रिय विधायक संजय कुमार तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी का नाम सभापति ने पुकारा तो माननीय विधायक ने बक्सर के अहरौली स्थित राजकीय धन्वंतरि आयुर्वेदिक महाविद्यालय बक्सर के अधिकारियों व कर्मचारियों

Read more

जानिए किस विधायक ने मांगे BPSc परीक्षार्थियों के अतिरिक्त मौके!

बक्सर विधायक मुन्ना तिवारी ने उम्र का नुकसान होने वाले BPSc परीक्षार्थियों के लिए सरकार से मांगे 4 अतिरिक्त मौके पटना,25 फरवरी. राजनीति में जनता के प्रतिनिधि दो तरह से जाने जाते हैं. एक जो जनता के अधिकारों के लिए लड़ते हैं और दुसरे वे जो खुद के अधिकारों के लिए जनता तक को भूल जाते हैं. जनता के अधिकारों के लिए लड़ने वाले को सदियाँ याद रखती हैं. ऐसे ही जनता के अधिकारों के लिए लड़ने वाले हैं बक्सर विधायक संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी. देश मे जहां बेरोजगारी की बाढ़ है वहाँ छात्रों के लिए आगे बढ़कर उन्होंने बुधवार को सदन में आवाज उठाया और bpsc की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए 4 मौके माँगे. बिहार विधान सभा मे इन दिनों बिहार के विभिन्न जिलों से जीतकर आये नवनिर्वाचित विधायकों समेत कई बार से लगातार जीतने वाले जनप्रतिनिधियों की ख़ासतौर से उपस्थिति देखी जा रही है. वे सभी अपने-अपने क्षेत्रों के लिए जरूरी मांगो को सदन में रख रहे हैं जिससे उनका क्षेत्र और उस क्षेत्र के लोगों का जीवन बेहतर हो सके. बुधवार को बक्सर विधायक संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी को जब बिहार विधानसभा के स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने आमंत्रित किया तो उन्होंने BPSC परीक्षार्थियों का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि BPSC की 48वी परीक्षा में 15 मौके की जगह अभ्यर्थियों को सिर्फ 4 मौके ही मिले. जिससे अभ्यर्थियों को 11 मौकों का नुकसान हुआ. उन्होंने वैसे अभ्यर्थियों के लिए जिन्हें BPSC परीक्षा के लिए उम्र का नुकसान हुआ उनके लिए 4 अतिरिक्त मौके

Read more

प्रारंभिक स्कूलों को शिक्षा विभाग की गाइडलाइंस का इंतजार

बिहार सरकार ने आखिरकार एक साल के बाद राज्य के तमाम सरकारी और निजी प्रारंभिक स्कूलों को लेकर बड़ा फैसला ले लिया है. बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने इस बात की पुष्टि की है कि एक मार्च से कक्षा 1 से 5 तक के स्कूल खुल जाएंगे. पिछले दिनों शिक्षा विभाग ने इस बात की जानकारी दी थी कि कक्षा 1 से 5 तक के स्कूलों को खोलने को लेकर क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में फैसला होगा. बिहार के तमाम स्कूल कोविड 19 के कारण हुए लॉकडाउन की वजह से 14 मार्च 2020 से ही बंद पड़े हैं. 4 जनवरी 2021 को कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल खोले गए थे. 8 फरवरी 2021 से कक्षा 6 से 8 तक के स्कूल खोले गए और अब 1 मार्च से कक्षा 1 से 5 तक के स्कूल भी खुल जाएंगे. शिक्षा विभाग जारी करेगा विस्तृत गाइडलाइंस राज्य सरकार के सैद्धांतिक निर्णय के बाद अब बिहार का शिक्षा विभाग प्रारंभिक स्कूलों को खोलने के बारे में विस्तृत गाइडलाइंस जारी करेगा. कोविड-19 की वजह से बने हुए खतरे के कारण शिक्षा विभाग और राज्य सरकार बेहद सावधानी पूर्वक फूंक-फूंक कर कदम रख रहे हैं. यही वजह है कि स्कूलों में फिलहाल 50% से ज्यादा छात्रों को आने की अनुमति नहीं मिलेगी. इसके अलावा शिक्षा विभाग की ओर से जारी होने वाली गाइडलाइंस का भी स्कूलों को सख्ती से पालन करना होगा. सरकार 15 दिन के बाद सभी स्कूलों की स्थिति की समीक्षा करेगी जिसके बाद आगे इन स्कूलों को

Read more

परीक्षा के पहले वायरल हुआ प्रश्न पत्र, रद्द हुआ फर्स्ट पेपर

कई साल के बाद एक बार फिर बिहार में मैट्रिक परीक्षा का प्रश्न पत्र आउट होने का मामला सामने आया है. 19 फरवरी को बिहार बोर्ड द्वारा आयोजित मैट्रिक परीक्षा में सोशल साइंस विषय के पहले पेपर का क्वेश्चन परीक्षा के पहले ही आउट हो गया. 19 फरवरी से ही बिहार विधानमंडल का बजट सत्र शुरू हुआ और इस मामले को विपक्ष ने सदन में भी उठाया. इधर इस मामले की जांच के बाद बिहार बोर्ड ने मैट्रिक के सोशल साइंस विषय की परीक्षा रद्द कर दी है. बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर के अनुसार जमुई में बैंक कर्मियों की मिलीभगत से प्रश्न पत्र वायरल किया गया. उन्होंने कहा कि जमुई के एसपी और डीएम ने पूरे मामले की जांच की तो पाया गया कि झाझा स्टेट बैंक से प्रश्न पत्र का फोटो खींचकर व्हाट्सएप किया गया. इसमें झाझा एसबीआई के एक संविदाकर्मी विकास कुमार की भूमिका संदिग्ध है. पुलिस इस क्षअ की जांच कर रही है. शुक्रवार को पहली पाली में सामाजिक विज्ञान की परीक्षा आयोजित थी जिसे रद्द कर दिया गया है. इस परीक्षा में 846000 से अधिक बच्चे शामिल हुए थे।. अब यह परीक्षा 8 मार्च को दोबारा आयोजित की जाएगी. जानकारी के मुताबिक अबतक बैंक से जुड़े कुल तीन लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है. pncb

Read more

इंटरनेट कंटेंट को लेकर स्कूली बच्चों को सही राह दिखाएंगे टीचर

बिहार के सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों में इंटरनेट को लेकर जागरूकता बढ़ाने की कोशिश शुरू हो गई है. माध्यमिक शिक्षा निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने राज्य के सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों और परियोजना पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि उच्च माध्यमिक विद्यालयों के छात्रों के बीच पम्पलेट, पर्चा, ऑडियो-वीडियो के जरिये इंटरनेट दुरुपयोग रोकने के लिए जागरूकता पैदा करें. जानकारों के मुताबिक क्लास रूम में भी निगराने रखने की सरकार की योजना है. एक अप्रैल से शुरू हो रहे शैक्षणिक सत्र 2021-22 से शिक्षा विभाग हायर सेकेंडरी कक्षाओं के सिलेबस में इंटरनेट के दुरुपयोग रोकने से जुड़ी अध्ययन सामग्री पढ़ायेगा. इसके लिए कंटेंट तैयार भी कर लिया गया है. अगले शैक्षणिक सत्र से स्कूली बच्चों को इंटरनेट के दुरुपयोग राेकने के लिए एक विशेष विषय सामग्री को सिलेबस में शामिल किया जा रहा है. इसके लिए जरूरी कदम उठाये जा रहे हैं. एक वृत्त चित्र भी स्कूलों में भेजा जा रहा है. बता दें कि कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों के लिए ये पूरी कोशिश हो रही है. शिक्षा विभाग की आधिकारिक जानकारी के मुताबिक इंटरनेट दुरुपयोग रोकने से जुड़े इस पाठ में पोर्न, खतरनाक गेम्स, सामाजिक विद्वेष फैलाने वाले कंटेंट और दूसरी आपत्तिजनक ऑनलाइन सामग्री से सचेत करने से जुड़ी बातें होंंगी. दरअसल इंटरनेट के दुरुपयोग रोकने के संदर्भ में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी जरूरी कदम उठाने की घोषणा दिसंबर 2019 में की थी. मुख्यमंत्री ने यह घोषणा जल-जीवन हरियाली कार्यक्रम के सिलसिले में गोपालगंज जिले में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान की थी. मुख्यमंत्री की

Read more