सदन में मुख्यमंत्री के बयान पर भी नहीं माना शिक्षा विभाग

पटना।। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आखिरकार शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक को नहीं समझा पाए. सीधी बात करें तो सदन में मुख्यमंत्री ने विद्यालय का संचालन सुबह 10 से दोपहर 4:00 बजे तक करने का निर्देश दिया. उन्होंने घोषणा की कि आगे विद्यालय 10:00 से 4:00 तक ही चलेंगे और वह इस मामले में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव से बात करेंगे. लेकिन शाम होते-होते जो पत्र शिक्षा विभाग ने जारी किया है उसमें मुख्यमंत्री के निर्देश की सीधे-सीधे अवहेलना की गई है. सदन में मुख्यमंत्री ने जो बयान दिया उसे एक तरह से झुठला दिया गया और विद्यालय का संचालन समय पूर्ववत 9 से 5 ही रखा गया है. शिक्षा विभाग ने माध्यमिक शिक्षा निदेशक के हस्ताक्षर से जो पत्र जारी किया है उसमें सिर्फ टाइम टेबल में मामूली बर्ताव किया गया है और पत्र के आखिर में यह लिखा गया है कि शेष बातें यथावत रहेगी यानी संचालन का समय 9 से 5 ही रहेगा और शिक्षकों को सुबह 9:00 से 5:00 बजे तक स्कूल में रहना होगा जाहिर तौर पर स्कूल में बच्चों को भी 9:30 बजे ही पहुंचना पड़ेगा जबकि मुख्यमंत्री ने विद्यालय का संचालन 10:00 बजे से 4:00 बजे तक करने का स्पष्ट निर्देश दिया और सदन में भी इस बात का आश्वासन दिया कि विद्यालय अब 10:00 बजे से 4:00 बजे तक ही चलेंगे लेकिन जिस तरह से शिक्षा विभाग ने अब मुख्यमंत्री के सदन में दिए बयान को भी नहीं माना है उससे बड़ा सवाल खड़ा हो गया है

Read more

तो क्या सीएम की भी नहीं सुनते के के पाठक!

पटना।। बिहार विधान मंडल में आज शिक्षकों के मुद्दे पर विपक्ष ने सरकार को बोलने पर मजबूर कर दिया. विपक्ष ने के के पाठक के खिलाफ कार्रवाई करने और उनके तमाम आदेशों को वापस लेने की मांग करते हुए प्रदर्शन किया, जिसके बाद आखिरकार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जवाब देना पड़ा. मुख्यमंत्री ने सदन में कहा कि सरकारी स्कूलों का समय 10:00 बजे से 4:00 बजे तक ही होना चाहिए और आज ही के के पाठक को बुलाकर बात करेंगे. आपको याद दिला दें कि सरकारी स्कूलों के संचालन समय में परिवर्तन 1 दिसंबर 2023 से किया गया जिसे लेकर शिक्षक संगठन और बिहार के विधायक और विधान पार्षद भी कई बार मुख्यमंत्री से मिलकर डिमांड कर चुके थे. मुख्यमंत्री ने तब भी ये आश्वासन दिया था कि स्कूलों का समय 10:00 बजे से 4:00 बजे तक होगा लेकिन अब तक मुख्यमंत्री का आदेश भी लागू नहीं हो सका. आज जिस तरह से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद सदन में इस बात को स्वीकार किया कि मैंने तो कहा था कि 9 से 5 का समय बिल्कुल सही नहीं, 10 से 4 होना चाहिए. इस बात से यह स्पष्ट है कि शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भी नहीं सुनते. आप भी सुनिए क्या बोले सीएम नीतीश कुमार शिक्षक संगठन लंबे समय से इस बात की भी मांग कर रहे हैं कि वर्ष 2024 के लिए जारी स्कूलों की अवकाश तालिका में परिवर्तन किया जाए और इसे पूर्ववत किया जाए. बता दें कि

Read more

विश्व पुस्तक मेला में डॉ हरेराम पाठक एवं डॉ चंद्रेश्वर को सम्मान

चौधरी कन्हैया प्रसाद स्मृति संस्थान, आरा द्वारा सम्मान समारोह नई दिल्ली, 19 फरवरी.’ विश्व पुस्तक मेला , नई दिल्ली के आखिरी दिन ‘सर्वभाषा ट्रस्ट, नई दिल्ली’ और चौधरी कन्हैया प्रसाद सिंह स्मृति संस्थान, आरा द्वारा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया जिसमें हिंदी – भोजपुरी के प्रतिष्ठित साहित्यकार डॉ हरेराम पाठक को हिंदी आलोचना कोश’ के लिए एवं डॉ चंद्रेश्वर को भोजपुरी कथेतर साहित्य’ के लिए को देश के सम्मानित शती साहित्यकार रामदरश मिश्र जी के हाथों सम्मानित किया गया. निश्चित राशि, उत्तरीय और सम्मान-पत्र द्वारा उक्त दोनों साहित्यकारों को सम्मानित किया गया. डॉ चंद्रेश्वर की हाल ही में आरा और अपने गाँव पर पुस्तकों की काफी चर्चा रही है. सम्मान समारोह में हिंदी और भोजपुरी के कई साहित्यकार और पाठक उपस्थित थे. दिल्ली से रवि प्रकाश सूरज की रिपोर्ट

Read more

मैट्रिक परीक्षा में समय पर पहुंचना जरूरी, बाउंड्री फांदते पकड़े गए तो होगी एफआइआर

पटना।। बिहार में मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा 15 फरवरी से शुरू हो रही है. परीक्षा को लेकर बिहार बोर्ड ने हर साल की तरह इस बार भी बेहद पुख्ता इंतजाम किए हैं. परीक्षा से एक दिन पहले बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने परीक्षार्थियों के लिए गाइडलाइंस जारी की है. गाइडलाइंस में एक बात को लेकर स्पष्ट किया गया है कि परीक्षा से पहले परीक्षा केंद्र पर समय पर पहुंचना बेहद जरूरी है अगर कोई परीक्षार्थी तय समय के बाद पहुंचता है और बाउंड्री फांदने की कोशिश करता है तो उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाएगी और उसे 2 साल तक परीक्षा से वंचित भी कर दिया जाएगा. Bseb की ओर से जारी निर्देश के अनुसार परीक्षा केन्द्र पर यदि निर्धारित प्रवेश के समय के बाद विलंब से आने वाले कोई परीक्षार्थी अवैध रूप से चहारदिवारी (Boundary) से कूदकर अथवा गेट पर जबरदस्ती एवं अवैध रूप से परीक्षा केन्द्र में प्रवेश करता हुआ पाया जाएगा, तो ऐसे मामले को Criminal Trespass मानते हुए परीक्षार्थी को 2 वर्ष के लिए परीक्षा से निष्कासित किया जाएगा तथा उसके विरूद्ध प्राथमिकी भी दर्ज की जाएगी. साथ ही ऐसे परीक्षार्थी को केन्द्राधीक्षक द्वारा यदि परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाती है, तो केन्द्राधीक्षक एवं अन्य चिन्हित व्यक्ति के विरूद्ध निलंबन एवं प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई की जाएगी. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा मैट्रिक वार्षिक परीक्षा, 2024 का आयोजन राज्य के 1,585 परीक्षा केन्द्रों पर 16,94,781 परीक्षार्थियों (8,22,587 छात्र एवं 8,72,194 छात्राओं) के लिए दिनांक 15.02.2024 से 23.02.2024 तक दो

Read more

परीक्षा से पूर्व बच्चों को मिले टिप्स

आरा,30 जनवरी. स्थानीय शान्ति स्मृति सम्भावना आवासीय उच्च विद्यालय, शुभ नारायण नगर, मझौवों, आरा में आज केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, दिल्ली द्वारा आयोजित कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा-2024 में शामिल होने वाले विद्यालय के छात्र-छात्राओं का काऊंसिलिंग-सह- फेयरवेल कार्यक्रम का आयोजन समारोह पूर्वक संपन्न हुआ. काऊंसिलिंग-सह-फेयरवेल कार्यक्रम में बोर्ड परीक्षा-2024 के परीक्षार्थियों को सम्बोधित करते हुए विद्यालय की प्राचार्या डॉ० अर्चना सिंह ने कहा कि यह परीक्षा विद्यार्थियों को अपने भविष्य को सफल बनाने का पहला एवं अहम पढ़ाव है. यहीं से तय होता है कि भविष्य में हमें क्या करना है या बनना है. उन्होंने छात्र-छात्राओं को बताया कि प्रति वर्ष सम्भावना विद्यालय के 40 से 50 बच्चे बोर्ड परीक्षा में 90% (नब्बे प्रतिशत) से ज्यादा अंक प्राप्त करते हैं. उन्होंने कहा कि हमारे विद्यार्थी विद्यालय की परम्पराओं का निर्वहन करते हुए अपने लक्ष्य के प्रति गंभीर होकर इस पढ़ाव को सफलतापूर्वक पार करेंगे तथा विद्यालय के गौरव को और आगे बढ़ायेंगे. उन्होंने परीक्षार्थियों को बोर्ड परीक्षा से संबंधित कई अहम् सुझाव दिये तथा सभी परीक्षार्थियों को उनके भावी जीवन के लिए शुभकामनायें दी. इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए शिक्षाविद सह विद्यालय के निदेशक डॉ० कुमार द्विजेन्द्र ने बोर्ड परीक्षा-2024 में शामिल होने वाले सभी छात्र-छात्राओं को परीक्षा की तैयारी के लिए तथा परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए कई महत्वपूर्ण टिप्स दिये. उन्होंने छात्र-छात्राओं को समय प्रबन्धन के साथ पाठयक्रम के अनसार पढ़ाई करने की सलाह दिया. उन्होंने कहा कि परीक्षा प्रारम्भ होने में अब बहुत ही कम समय रह गया

Read more

कर्तव्य विहिन हो विकसित राष्ट्र की परिकल्पना नहीं की जा सकती

आरा, 26 जनवरी! स्थानीय ‘शान्ति स्मृति’ सम्भावना आवसीय उच्च विद्यालय, शुभ नारायण नगर, मझौवाँ, आरा तथा ‘शारदा स्मृति’ सम्भावना पब्लिक स्कूल, मौलाबाग, आरा में गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन किया गया. गणतंत्र दिवस की 75वीं वर्षगाँठ पर विद्यालय के दोनों शाखाओं में प्राचार्या डॉ० अर्चना सिंह ने ध्वजारोहन किया तथा राष्ट्रीय ध्वज को सलामी दी. इस अवसर पर छात्र-छात्राओं, शिक्षकों तथा अभिभावको को सम्बोधित करते हुए कहा की आज पूरे विश्व में भारत का परचम लहरा रहा है. भारत के लोग विश्व के अग्रणी संस्थानों में उच्च पदों को सुशोभित कर रहे है. उन्होनें कहा कि संविधान हमें बहुत सारे अधिकार देता है तो कर्तव्यों का बोध भी कराता है. अगर हम कर्तव्य विहिन हो जाएं तो एक विकसित राष्ट्र की परिकल्पना नहीं की जा सकती है. इस अवसर पर विद्यालय की छात्र-छात्राओं को देशभक्ति के रंग में देखा गया. बच्चों ने देश भक्ति से ओत-प्रोत रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए. समुह-गान ‘सलाम-उन शहीदों को जो खो गए..’ को छात्रा अर्पिता चौधरी, मीनाक्षी पाण्डेय, ऋतिका सिंह, सुप्रिया कुमारी, श्रद्धा सोम्या, वैष्णवी और पल्लवी ने प्रस्तुत कर दर्शक दीर्घा में बैठे लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया. वही देशभक्ति समूह नृत्य को छात्रा रोशनी, शिवानी, खुशी, कृति, साक्षी, कशिश, रागिनी, अर्चना, उन्नती तथा अन्नया ने आकर्षण ढंग से प्रस्तुत कर दर्शको को भाव-विभोर कर दिया. सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन संगीत शिक्षक धर्मेन्द्र कुमार, अमितेश रंजन, सुन्दरम नाथ मिश्रा तया नृत्य शिक्षक चिन्दु कुमार के निर्देशन में हुआ. मंच-परिकल्पना तथा साज-सज्जा विद्यालय के कला शिक्षक विष्णु शंकर और संजीव सिन्हा ने

Read more

जिलाधिकारियों को शिक्षा विभाग का नया निर्देश

पटना।। पटना समेत पूरे बिहार में ठंड का कहर जारी है. मौसम विभाग ने 29 जनवरी तक शीतलहर और भीषण ठंड की चेतावनी जारी की है. फिर भी पूरे बिहार में सरकारी स्कूल खुले हैं. मुजफ्फरपुर समेत कुछ जगहों पर ठंड की वजह से स्कूल में बच्चों की तबीयत बिगड़ने और दो बच्चों की मौत का मामला भी सामने आ चुका है. इसे लेकर शिक्षा विभाग और पटना डीएम के बीच विवाद भी हो चुका है. बढ़ते विवाद के बाद आखिरकार शिक्षा विभाग ने सभी जिलाधिकारी के लिए एक एडवाइजरी जारी की है, जिसके अनुसार 29 जनवरी तक जिलाधिकारी अपने जिले में कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों के लिए स्कूल का समय निर्धारित कर सकते हैं. बता दें कि भारत मौसम विज्ञान विभाग के प्रेस विज्ञप्ति संख्या-W-2020/01/11013PWS दिनांक-24.01.2024 द्वारा 29 जनवरी 2024 तक शीतलहर रहने की संभावना संबंधी Advisory जारी की गई है. शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देश के अनुसार जिलाधिकारियों को प्राधिकृत किया जाता है कि वे दिनांक 29 जनवरी 2024 तक विद्यालयों में कक्षा 1 से कक्षा-8 तक के छात्रों के आने एवं जाने के समय में संशोधन कर सकते हैं. किन्तु कक्षा-9 से कक्षा 12 की पढ़ाई का समय एवं बोर्ड की तैयारी बाधित नहीं होगी. साथ ही, सभी शिक्षक पूर्व की भांति तय अवधि तक विद्यालय में उपस्थित रहेंगे एवं प्रशासनिक कार्य यथा-DBT, जीर्णोद्धार, फर्नीचर क्रय इत्यादि का निष्पादन करेंगे एवं विभाग द्वारा तय अवधि तक विद्यालय में बने रहेंगे. इस पत्र में आगे लिखा है कि सभी जिला पदाधिकारियों को इस पत्र द्वारा

Read more

स्कूल और कोचिंग में छुट्टी बढ़ी

पटना।। बिहार में ठंड का असर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा. मौसम विभाग ने अगले 4 दिन कड़ाके की ठंड की चेतावनी की जारी की है. ठंड के प्रभाव को देखते हुए पटना जिलाधिकारी डॉक्टर चंद्रशेखर सिंह ने स्कूल, कॉलेज, आंगनबाड़ी केंद्र और प्री स्कूल में अब 23 जनवरी तक छुट्टी के आदेश जारी किए हैं. आपको बता दें कि मौसम विभाग ने पटना समेत बिहार के 19 जिलों में अगले 4 दिन तक कड़ाके की ठंड की चेतावनी जारी की है. पिछले दिनों जब शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव छुट्टी पर थे. इस दौरान कई जिलों में 20 जनवरी तक स्कूल बंद करने के आदेश जारी किए गए थे. लेकिन छुट्टी से लौटने के बाद ही के के पाठक ने सभी प्रमंडलीय आयुक्तों को आदेश जारी किया कि बिना शिक्षा विभाग की अनुमति के कहीं स्कूल बंद नहीं किए जाएं. लेकिन जिस तरह की ठंड पड़ रही है और 22 जनवरी को कई राज्यों में राम मंदिर उद्घाटन को लेकर छुट्टी के आदेश को देखते हुए भी यह माना जा रहा है कि सरकार की अनुमति के बाद ही पटना जिलाधिकारी ने 23 जनवरी तक स्कूल बंद करने के निर्देश दिए हैं. pncb

Read more

बदले गए बिहार के शिक्षा मंत्री, दो और मंत्रियों का विभाग बदला

पटना।। बिहार की सियासत में बड़े बदलाव की बात लगातार हो रही है. इन सबके बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल में एक बड़ा बदलाव किया है. उन्होंने तीन मंत्रियों के विभाग बदल दिए हैं. इन तीनों में सबसे प्रमुख शिक्षा विभाग के मंत्री चंद्रशेखर का विभाग बदलते हुए उन्हें अब गन्ना विभाग का मंत्री बनाया गया है. पिछले लंबे समय से शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहे हैं. शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक से उनका विवाद भी खूब चर्चा में रहा. विवादित बयानों की वजह से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें समझाने की कोशिश भी की थी लेकिन उनके तेवर नहीं बदले. अब चंद्रशेखर को शिक्षा विभाग से गन्ना विभाग में भेज दिया गया है वहीं उनकी जगह राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री आलोक कुमार मेहता को शिक्षा विभाग का मंत्री बनाया गया है जबकि ललित यादव को राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री बनाया गया है. ललित यादव के पास राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अलावा लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग भी रहेगा. pncb

Read more

16 से कम है उम्र तो कोचिंग में नहीं होगा एडमिशन

दिल्ली।। केंद्र सरकार ने कोचिंग क्लासेज पर बड़ा फैसला लिया है. गुरुवार 18 जनवरी 2024 को केन्द्र सरकार ने निजी कोचिंग संस्थानों के लिए गाइडलाइन जारी की है. नये गाइडलाइंस के अनुसार 16 साल से कम उम्र के विद्यार्थी कोचिंग क्लास नहीं जा सकते. सरकार ने कहा है कि इस नियम का उल्लंघन करने पर एक लाख रुपये तक का जुर्माना वसूला जाएगा. साथ ही कोचिंग संस्थान का रजिस्ट्रेशन रद्द हो सकता है. केन्द्रीय शिक्षा मंत्रालय ने कोचिंग क्लासेज की मनमानी पर रोक लगाते हुए एक विस्तृत गाइडलाइन जारी की है. इसके पीछे एक बड़ी वजह यह भी है कि हाल के दिनों में कोचिंग के बोझ तले बच्चों में आत्महत्या की प्रवृत्ति बढ़ी है. इसके अलावा ज्यादातर कोचिंग संस्थानों में विद्यार्थियों के लिए समुचित व्यवस्था नहीं होने की बात भी सामने आई है. कई कोचिंग संस्थानों में आग लगने की घटना भी हाल के दिनों में हुई है. इन तमाम बातों को ध्यान में रखते हुए लंबे समय से इस बात का इंतजार हो रहा था कि इन कोचिंग संस्थानों पर नकेल के लिए केंद्र सरकार सख्त गाइडलाइन जारी करे. केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस में कोचिंग संस्थान बिना रजिस्ट्रेशन के नहीं चल सकेंगे. गाइडलाइंस जारी होने के 3 महीने में नए और पुराने सभी कोचिंग संस्थानों को रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा. इसके अलावा अगर कोई विद्यार्थी बीच में ही कोचिंग छोड़ देता है तो उसे बाकी फी लौटाना होगा. अगर विद्यार्थी ने होस्टल लिया है तो होस्टल फी भी उसे लौटाना होगा. कोचिंग में ग्रेजुएट से

Read more