कला शिक्षकों के कला प्रशिक्षण में भोजपुरी पेंटिंग की धूम

 लुभा रहा है भोजपुरी चित्रकला सभी का दिल

मुंबई में केंद्रीय विद्यालय संगठन का कार्यक्रम आयोजित




मुंबई में पिछले 21 मार्च 2022 से ट्रेनिंग के लिए देश भर से चुनकर इक्कठे किए गए.केंद्रीय विद्यालय संगठन के 30 कला शिक्षकों का 21 दिवसीय कला प्रशिक्षण चल रहा है, जो 10 अप्रैल तक चलेगा. इस प्रशिक्षण शिविर में बिहार के भोजपुर जिले के रहने वाले कौशलेश कुमार जो कि केंद्रीय विद्यालय, बीएचयू के कला शिक्षक हैं.इसका कारण बतौर संसाधन चयनित किए गए हैं.  कौशलेश ने महाराष्ट्र में आयोजित इस कला प्रशिक्षण में भोजपुरी चित्रकला की बारीकियों को शिविर में लोगों को बताया और उसमें प्रयोग होने वाले रंगो और रेखाओं और शैली पर विस्तार से प्रकाश डाला. कला शिविर में भोजपुरी चित्रकला का प्रचार निश्चय ही एक सुखद संकेत है. पूरे भारत भर के अलग अलग प्रदेशों से आए कला के होनहार प्रशिक्षक और प्रशिक्षु आपस में कला के कई रंगों को आपस में साझा कर रहे हैं जो आने वाले भविष्य में कला के लिए मिल का पत्थर साबित होगा.

चित्रकार कौशलेश कुमार

इस प्रशिक्षण शिविर में कला के सभी रूपों को फोकस किया गया है. फोक आर्ट ऑफ इंडिया नाम से चल रहे इस शिविर मे भोजपुरी पेंटिंग के अलावा, वरली पेंटिंग,तंजोर पेंटिंग,पताचित्र पेंटिंग, मंजूषा पेंटिंग, गोंद पेंटिंग, मधुबनी पेंटिंग,कलमकारी पेंटिंग और चित्रा पेंटिंग के बारे में प्रशिक्षण दिया जा रहा है. इस शिविर का आयोजन केंद्रीय विद्यालय संगठन आंचलिक शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, मुंबई के उत्साही शिक्षको के समूह द्वारा किया गया है. जिसमें कौशलेश कुमार और मनीष कुमार रिसोर्स पर्सन के रोल में भेजे गए हैं.

PNCDESK ये भी पढ़े :- एक अभिनेत्री ने जब अमिताभ को दे दी थी तोहफे में अपनी महंगी कार