जॉइन कीजिये थियेटर की 20 दिवसीय मुफ्त कार्यशाला

“अभिनव एवं ऐक्ट” आयोजित करेगा 20 दिवसीय मुफ्त नाट्य कार्यशाला

रविवार 18 जुलाई से प्रारंभ होगी 20 दिवसीय नाट्य कार्यशाला




आरा, 16 जुलाई. भोजपुर जिले की थियेटर में अग्रणी रँग संस्था अभिनव और ऐक्ट आरा आगामी 18 जुलाई से 6 अगस्त तक एक नाट्य कार्यशाला का आयोजन करने जा रही है. संस्था 20 दिनों तक चलने वाले इस कार्यशाला में 6 साल से 14 साल और 15साल और उससे अधिक दो श्रेणियों के लोगों के लिए नाट्य कार्यशाला का आयोजन करने जा रही है. इस कार्यशाला में देश के नामी कई थियेटर दिग्गजो के शरीक होने की खबर है. थियेटर के दिग्गजों के साथ पेंटिंग, क्राफ्ट,मेकअप,संगीत,नृत्य और कैमरा फेसिंग के भी कई दिग्गज कार्यशाला में आने वाले थियेटर प्रेमियों को अपने हुनर को उनमें भरेंगे. बाहर के वैसे लोग जो फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े हैं वे भी इन बच्चों को ऑनलाइन के जरिये अपना हुनर इनमें भरेंगे. पहले दिन प्रशिक्षण में बतौर प्रशिक्षक जहांगीर खान आएंगे और थियेटर की बारीकियों को बताएंगे.

कार्यशाला पूरी तरह से निः शुल्क है जो रेडक्रॉस के बगल में स्थित मंगलम द वेन्यू में आयोजित होगा. आयोजक ने बताया कि कोविड गाइडलाइंस का सभी कार्यशाला में मौजूद लोगों को सख्ती से पालन करना अनिवार्य है. कार्यशाला के निर्देशक वरिष्ठ रंगकर्मी, निर्देशक व पत्रकार रविन्द्र भारती हैं वही कार्यशाला के संयोजक ओ पी पांडेय को बनाया गया है. रविंद्र भारती ने अभिभवकों और स्कूल के शिक्षकों के साथ प्रबन्धकों से आग्रह किया कि कोरोना काल की वजह से मानसिक स्थिति से गुजर रहे सभी लोगों को अपने बच्चों को ऐसे कार्यशाला में भेजना चाहिए. इससे न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक स्थिति में भी बदलाव आएगा. साथ ही साथ कुछ सीखने को भी मिलेगा. ऑनलाइन क्लास जहाँ सत्यकाम आनन्द, जितेंद्र सुमन,अनिरुद्ध पाठक, विष्णु शंकर बेलू, और विजय सिंह सहित कई नामी लोग देंगे वही ऑफलाइन क्लास संजय उपाध्याय, शारदा सिंह, चंद्रभूषण पांडेय, जहाँगीर खान,सतीश मुन्ना,कौशलेश कुमार, कमलेश कुंदन,रौशन राय, मनोज श्रीवास्तव जैसे कई फेमस नाम प्रशिक्षण के लिए नाट्य प्रेमियों को प्रशिक्षित करेंगे.

प्रशिक्षण देंगें जहाँगीर खान: एक परिचय
छपरा के जहाँगीर खान एक दशक से बिहार रंगमंच में सक्रिय रंगकर्मी हैं, मध्य प्रदेश नाट्य विद्यालय ,भोपाल से रंगमंच के क्षेत्र में प्रशिक्षण प्राप्त अभिनेता व रंगकर्मी हैं. इन्होंने पकवाघर, महानिर्वाण, रामलीला, अटकी हुई आत्मा ,सनेहिया के नाच, कथावाचक की बेटी, जिनिगिया तोहार, राजा निरबंसिया जैसे महत्वपूर्ण नाटकों का सफल निर्देशन किया है. देश के विभिन्न राज्यों में लगभग दर्जन भर अभिनय कार्यशालाओं में प्रशिक्षक के रूप में जुड़े रहे हैं. रंगमंच में मत्त्वपूर्ण योगदान के लिए रंगकर्मी प्रवीण स्मृति सम्मान से 2017 में सम्मानित जहाँगीर खान को जय प्रकाश विश्वविद्यालय ,छपरा में छात्र के रूप में संस्कृतिक योगदान के लिए देश का प्रतिष्ठित पुरस्कार इंदिरा गाँधी एन0 एस0एस0 राष्ट्रीय पुरस्कार से 2008 में भारत सरकार द्वारा भी सम्मानित किया गया है. इन्होंने यूथ आइकॉन के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व 2008 में कॉमनवेल्थ के अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम में मालद्वीव में किया था. साथ ही भारत सरकार संस्कृति मंत्रालय द्वारा रंगमंच के क्षेत्र में रिसर्च के लिए राष्ट्रीय फेलोशिप भी प्रदान किया गया है. रंगमंच के साथ-साथ सिनेमा व टेलीविजन जगत में भी अभिनेता के रुप में जहाँगीर ने अपनी पहचान बनाई है. दूरदर्शन ,आकाशवाणी, zee tv, & tv ,star bharat जैसे राष्ट्रीय चैनलों के साथ एक अभिनेता के रूप में जुड़े रहे हैं. ये बिहार की सक्रिय रंग संस्था आशा रेपरेट्री के संस्थापक व द एक्टर्स स्पेस एन एक्टिंग स्कूल ,पटना के निर्देशक हैं और वर्तमान में एक अभिनेता व निर्देशक के रूप में बिहार में सक्रिय हैं.

आरा से सत्य प्रकाश सिंह की रिपोर्ट