जॉइन कीजिये थियेटर की 20 दिवसीय मुफ्त कार्यशाला

“अभिनव एवं ऐक्ट” आयोजित करेगा 20 दिवसीय मुफ्त नाट्य कार्यशाला रविवार 18 जुलाई से प्रारंभ होगी 20 दिवसीय नाट्य कार्यशाला आरा, 16 जुलाई. भोजपुर जिले की थियेटर में अग्रणी रँग संस्था अभिनव और ऐक्ट आरा आगामी 18 जुलाई से 6 अगस्त तक एक नाट्य कार्यशाला का आयोजन करने जा रही है. संस्था 20 दिनों तक चलने वाले इस कार्यशाला में 6 साल से 14 साल और 15साल और उससे अधिक दो श्रेणियों के लोगों के लिए नाट्य कार्यशाला का आयोजन करने जा रही है. इस कार्यशाला में देश के नामी कई थियेटर दिग्गजो के शरीक होने की खबर है. थियेटर के दिग्गजों के साथ पेंटिंग, क्राफ्ट,मेकअप,संगीत,नृत्य और कैमरा फेसिंग के भी कई दिग्गज कार्यशाला में आने वाले थियेटर प्रेमियों को अपने हुनर को उनमें भरेंगे. बाहर के वैसे लोग जो फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े हैं वे भी इन बच्चों को ऑनलाइन के जरिये अपना हुनर इनमें भरेंगे. पहले दिन प्रशिक्षण में बतौर प्रशिक्षक जहांगीर खान आएंगे और थियेटर की बारीकियों को बताएंगे. कार्यशाला पूरी तरह से निः शुल्क है जो रेडक्रॉस के बगल में स्थित मंगलम द वेन्यू में आयोजित होगा. आयोजक ने बताया कि कोविड गाइडलाइंस का सभी कार्यशाला में मौजूद लोगों को सख्ती से पालन करना अनिवार्य है. कार्यशाला के निर्देशक वरिष्ठ रंगकर्मी, निर्देशक व पत्रकार रविन्द्र भारती हैं वही कार्यशाला के संयोजक ओ पी पांडेय को बनाया गया है. रविंद्र भारती ने अभिभवकों और स्कूल के शिक्षकों के साथ प्रबन्धकों से आग्रह किया कि कोरोना काल की वजह से मानसिक स्थिति से गुजर रहे सभी लोगों को

Read more

अपने अस्तित्व पर संकट से कैसे बचेगा VKSU!

विवि के अस्तित्व को बचाने के लिए छात्र संगठन लीड ने कुलपति को दिया ज्ञापन आरा,2 जुलाई. अपने अस्तित्व पर संकट को VKSU कैसे बचाएगा? यह सवाल न सिर्फ छात्र और शिक्षक के मस्तिष्क में घूम रहा है बल्कि विवि के आलाधिकारियों व कर्मचारियों में भी घूम रहा है. बावजूद इसके हठपन में मेडिकल कॉलेज बनने की चर्चा है. एक व्यापक आन्दोलन के बाद भी विवि के कैम्पस में ही मेडिकल कॉलेज का बनना सरकार के जिद्दी रवैये का साफ संकेत है. जब आम छात्र और लोगों को इससे विवि के अस्तित्व पर खतरे का आभास हो रहा है क्योंकि UGC नियमों पर फिर जमीन का एक मानकीय पैमाने पर न होना एक सबसे बड़ा कारक है, वैसे में सरकार को यह बात क्यों नही समझ मे आ रही है? छात्र संगठन लीड ने छात्रहित में विश्वविद्यालय से जुड़े तमाम समस्याओं को देखते हुए VKSU के कुलपति को गुरुवार को ज्ञापन सौंपा. कुलपति को ज्ञापन के माध्यम से विश्वविद्यालय सम्बंधित तमाम समस्याओं से अवगत कराया है. जिसमें विश्वविद्यालय के ज़मीन पर मेडिकल कॉलेज बनने से उसके अस्तित्व एवम् मान्यता पर बढ़ रहे ख़तरे, नौकरियों के लिए जरूरतमंद छात्रों को विश्वविद्यालय के लापारवाही के वजह से समय पर सर्टिफ़िकेट एवम् अन्य दस्तावेज नहीं मिल पाता, इत्यादि शामिल है. कुलपति छात्रों की समस्याओं को देखते हुए विभिन्न मुद्दों पर त्वरित संज्ञान लेंगे ऐसी उम्मीद की जा रही है. बता दें कि अनिरुद्ध ने विवि परिसर में मेडिकल कॉलेज बनने का विरोध किया था और आमरण अनशन भी किया था. अपने विवि के

Read more

ब्लैक फंगस से ऐसे करें बचाव!

यूथ हॉस्टल एसोसिएशन वेबिनार के जरिये ब्लैक फंगस के बारे में फैला रहा है जागरूकतावेबिनार में डॉक्टर ने बताया ब्लैक फंगस से बचने के तरीके आरा,11 जून. ब्लैक फंगस को लेकर यूथ हॉस्टल एसोसिएशन, भोजपुर ईकाई ने तीन घंटे का वेबीनार आयोजित किया. जिसमें 50 से अधिक लोगों ने ब्लैक फंगस के बारे में एक्सपर्ट से जानकारी लिया. वेबिनार का संचालन व धन्यवाद ज्ञापन एसोसिएशन की चेयरमैन डा अर्चना सिंह ने किया. वेबिgU in JJनार में मुख्य वक्ता एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष व वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञ डा एसके रुंगटा, डा दीपक, डा राजेश कुमार सिंंह थे. वेबीनार में 50 से ऊपर कई लोगों ने डा रुंगटा से ब्लैक फंगस बीमारी के बारे में सवाल पुछे जिसका जवाब देते हुए डा एसके रुंगटा ने कहा कि पिछले 1 वर्ष से ज्यादा से सभी लोग कोविड-19 की दहशत में रह रहे हैं. अब ब्लैक फंगस के रूप में एक नई आफत आ गई है. फंगस पुराने जमाने से वातावरण में है, पर ब्लैक फंगस यानी म्यूकर नामक फंगस का प्रकोप मानव शरीर पर आम नहीं था. कोविड-19 वायरस के इंफेक्शन के बाद शरीर की प्रतिरोधक क्षमता( इम्यूनिटी) कम हो जाती है और ऐसी स्थिति में अगर ब्लड शुगर बढ़ा हुआ हो, गंदा मास्क का प्रयोग हो रहा हो, लंबे समय तक एक ही पाइप से ऑक्सीजन दी जा रही हो या स्ट्राइड भी लिया जा रहा हो तो फंगस के प्रकोप की संभावना बढ़ जाती है. एक सवाल के जवाब में उन्होने कहा कि शुरुआत में नाक के पास काले स्पॉट,  फिर

Read more

सावधान! खत्म नही हुआ है कोरोना

वैक्सीनेशन के साथ कोविड-19 के नियमों का सख्ती से करना होगा पालन कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए सरकार ने जारी किए हैं निर्देश लोगों की जरा सी लापरवाही से बढ़ सकती है संक्रमण प्रसार की सम्भवनाआरा, 25 फरवरी | कोरोना वायरस के संक्रमण को समाप्त करने के उद्देश्य से जिले में वैक्सीनेशन अभियान चल रहा है। लेकिन, अभी भी जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण की संभावना समाप्त नहीं हुई है। देश के कई राज्यों में संक्रमण का प्रसार एक बार फिर शुरू हो चुका है। जिसको लेकर राज्य सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन संक्रमण के प्रसार को रोकने की तैयारी में जुट गया है। साथ ही, स्वास्थ्य विभाग जिलेवासियों से पूर्व की भांति कोविड-19 के सामान्य नियमों का पालन करने की अपील कर रहा है। ताकि, संक्रमण के प्रसार की संभावना न उत्पन्न हो सके।इस संबंध में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी (डीआईओ) डॉ. संजय कुमार सिन्हा ने बताया राज्य में फिलहाल कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार शुरू नहीं हुआ है। लेकिन, जिस प्रकार से लोग विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के जारी गाइडलाइन्स को लेकर उदासीन दिख रहे हैं, उसे देखकर संक्रमण के प्रसार को नकारा नहीं जा सकता। बाजारों व अन्य स्थानों में अब पहले की भांति नियमों का पालन कम देखा जा रहा है। जो बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। ऐसे में लोगों को विवेक से काम लेते हुए कोरोना संक्रमण प्रसार की संभावना को देखते हुए और भी ज्यादा सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है।वैक्सीन लेने के बावजूद भी नियमों का पालन

Read more