बिहार के इस अस्पताल में भी अब होगी कोरोना की जांच

ICMR ने बिहार के एक और अस्पताल को दी कोरोना जांच की अनुमति RMRI, IGIMS, PMCH और DMCH के बाद अब SKMCH मुजफ्फरपुर को भी ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) से कोरोना की जांच की अनुमति मिल गई है. जल्द ही वहां सैंपल जांच की प्रकिया शुरू हो जाएगी. बिहार के स्वास्थ्य मंत्री ने इसकी पुष्टि की है. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि बिहार में अब पांच जगहों पर जांच होगी जिससे कोरोना की जांच में तेजी आएगी. कोरोना वायरस से बचने के लिए सूबे में सोशल डिस्टेंसिंग का फार्मूला तेजी से काम कर रहा है. अभी तक 64 कोरोना पाॅजिटिव मरीजों में से 23 लोग कोरोना पर विजय प्राप्त कर पूरी तरह स्वस्थ हुए हैं. और ऐसे कई मरीज हैं जिनकी स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है. आज गया में भी एक मरीज ने कोरोना को मात दी है. मंगल पांडेय ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का ही परिणाम है कि सबसे अधिक घनत्व वाले राज्य बिहार में पाॅजिटिव मरीजों की संख्या कम हैं. राष्ट्रीय स्तर पर भी जहां कोरोना के केस 4 दिनों में दोगुना होते थे, वहीं अब 6 दिनों में इतने मामले आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार साथ मिलकर कोरोना महामारी को जड़ से उखाड़ फेंकने की दिशा में हरसंभव प्रयास कर रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि शनिवार को जहां एनएमसीएच, पटना में चार मरीजों ने कोरोना को मात दी है, वहीं रविवार को एएनएमसीएच, गया के एक कोरोना पाॅजिटिव की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

Read more

बिना परीक्षा के ही पास हो गए ये बच्चे

बिहार के शिक्षा विभाग ने क्लास वन से लेकर क्लास 9 और क्लास 11 के सभी सरकारी स्कूलों के बच्चों को अगले कक्षा में सीधे प्रमोट कर दिया है. बिना परीक्षा के सभी सरकारी स्कूलों के इन बच्चों को प्रमोट कर दिया गया. इसकी वजह लॉक डाउन है जिसके कारण बिहार के सभी स्कूल 14 अप्रैल तक बंद है. हालांकि मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट अभी आना बाकी है.

Read more

बिहार में कोरोना पॉजिटिव केस बढ़े

बिहार में मंगलवार को 6 और लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए सरकार की परिस्थितियों पर पैनी नजर, लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है:- मुख्यमंत्री राज्य में जरूरी सामानों की कोई कमी नहीं है, लोगों को खाद्य सामग्री एवं जरूरी चीजें उपलब्ध होती रहेंगी। लाॅकडाउन के कारण बिहार के बाहर फंसे लोगों की हर सुविधाओं का ख्याल रखा जा रहा है बिहार में आज कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 38 तक पहुंच गई है. 6 अप्रैल तक बिहार में कुल 32 कोरोना पॉजिटिव थे. स्वास्थ्य सचिव संजय कुमार ने बताया कि मंगलवार को सीवान से चार और दो लोग बेगूसराय में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. हालांकि 38 में से अब तक 15 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं. इन सबके बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को 1, अणे मार्ग में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिये उठाये जा रहे कदमों की अद्यतन स्थिति की मुख्य सचिव एवं अन्य वरीय अधिकारियों के साथ गहन समीक्षा की. समीक्षा के क्रम में राज्य में दवाओं, मास्क और अन्य जरूरी इक्यूपमेंट्स की उपलब्धता के संबंध में जानकारी दी गयी. संक्रमित लोगों के इलाज के लिये जरूरी कदम उठाये गये हैं, उनकी उचित देखभाल की जा रही है. कोरोना संदिग्धों की अधिक से अधिक टेस्टिंग करायी जा रही है.संदिग्ध लोगों की स्क्रीनिंग तेजी से करायी जा रही है.समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देेेश देते हुये कहा कि दवाओं, मास्क और अन्य जरूरी इक्यूपमेंट्स की उपलब्धता सुनिष्चित करायी जाय और यह ध्यान रखा जाय कि इसकी कमी न हो.

Read more

बिहार के मैप के साथ देखिए कोरोना अपडेट

कोरोना केसेज के मामले में बिहार अब तक भाग्यशाली रहा है. यहां 4 अप्रैल तक सिर्फ 32 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. पटना समेत कुछ जिलों में आइसोलेशन वार्ड में मरीजों की मौत को कोरोना से जोड़कर देखा जा रहा है. इसे लेकर बिहार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने कहा कि हर मौत को कोरोना से जोड़कर देखना उचित नहीं. उन्होंने बताया कि बिहार के मेडिकल कॉलेजों में अलग-अलग वजह से कई लोगों की मौत हुई है, इसलिए इन सभी को कोरोना से जोड़ना कहीं से भी सही नहीं है. आपको बता दें कि 4 अप्रैल 2020 तक बिहार में 32 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इनमें से 3 लोग ठीक हो कर घर जा चुके हैं जबकि मुंगेर के एक मरीज की मौत हुई है.

Read more

बिहार के 4 लाख से अधिक करदाताओं को मिली बड़ी राहत

पटना / गोवा (ब्यूरो रिपोर्ट) | जीएसटी कौंसिल की गोवा में हुई 37 वीं बैठक में 2 करोड़ से कम वार्षिक टर्नओवर वाले करदाताओं को वार्षिक विवरणी दाखिल करने से दो वर्षों (2017-18 और 18-19) के लिए छूट दिए जाने के निर्णय से बिहार के इस दायरे में आने वाले 4 लाख 17 हजार कारोबारियों को बड़ी राहत मिली है. यह जानकारी बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने दी. उन्होंने बताया कि बिहार की पहल पर जीएसटी के अन्तर्गत बिहार के 82 प्रतिशत करदाता विगत दो वर्षों के वार्षिक विवरणी दाखिल करने से मुक्त हो जायेंगे. उन्होंने आगे बताया कि इसके साथ ही 2 करोड़ से अधिक वार्षिक टर्नओवर वाले करदाताओं के वार्षिक विवरणी फाॅर्म के सरलीकरण के लिए एक कमिटी का गठन किया गया है. फाॅर्म सरल होने के बाद वार्षिक विवरणी दाखिल करने में करदाताओं के सहूलियत होगी. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जीएसटी लागू होने (01 जुलाई, 2017) के प्रारंभिक दिनों में वार्षिक विवरणी दाखिल करने को लेकर छोटे करदाताओं को काफी परेशानी हुई थी, जिसे अब काफी हद तक दूर कर दिया गया है. बिहार की ओर से उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने बैठक में उपस्थित 15 वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एन के सिंह से जीएसटी लागू होने के बाद के 5 साल तक राजस्व वृद्धि 14 प्रतिशत से कम होने पर केन्द्र सरकार द्वारा क्षतिपूर्ति के प्रावधान को 2022 की जगह 3 साल और बढ़ा कर 2025 तक करने की मांग की. उन्होंने कहा कि अभी बिहार का राजस्व वृद्धि गैप 20 प्रतिशत है, ऐसे

Read more

स्नातक फर्स्ट ईयर में एडमिशन अब इस तारीख से

बिहार में इस साल इंटर परीक्षा पास करने के बाद ग्रैजुएशन फर्स्ट ईयर में एडमिशन के इंतजार में बैठे स्टूडेंट्स का इंतजार खत्म होने वाला है.  बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने आखिरकार मेरिट लिस्ट जारी करने और एडमिशन शुरू करने की डेट आनाउंस कर दी है. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने  बताया कि Online Facilitation System for Students (OFSS) सॉफ्टवेयर के माध्यम से राज्य के 10 विश्वविद्यालयों-  ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा, पूणियाँ विश्वविद्यालय, पूर्णियाँ, भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यायल, मधेपुरा, वीर कुँअर सिंह विश्वविद्यालय, आरा, बाबा साहब भीमराव अम्बेदकर विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर, मगध विश्वविद्यालय, गया, जयप्रकाश विश्वविद्यालय, छपरा, मुँगेर विश्वविद्यालय, मुँगेर, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, पटना, तिलका मांझी विश्वविद्यालय, भागलपुर में स्नातक कक्षा में नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन के आधार पर अलग-अलग संकायवार एवं विषयवार अलग-अलग मेरिट सूची  रविवार दिनांक 15.07.2018 को जारी की जायेगी. इसके बाद राज्य के इन 10 विश्वविद्यालयों के सभी अंगीभूत डिग्री महाविद्यालयों एवं सम्बद्धता प्राप्त डिग्री महाविद्यालयों में मेरिट सूची के आधार पर नामांकन की प्रक्रिया सोमवार दिनांक 16.07.2018 से प्रारंभ हो जायेगी.  विश्वविद्यालयों में नामांकन की प्रक्रिया 16 जुलाई, 2018 से प्रारंभ होकर दिनांक 24 जुलाई, 2018 तक चलेगी. बता दें कि राज्य के इन 10 विश्वविद्यालयों में नामांकन के लिए 4 लाख 11 हजार 826 विद्यार्थियों ने ऑनलाइन आवेदन किया है.   राजेश तिवारी

Read more

शराबबंदी कानून में संशोधन के लिए बनाई गई कमिटी

बिहार के बहुचर्चित शराबबंदी कानून में संशोधन होगा. इसके लिए सीएम नीतीश कुमार ने हां कर दी है. सोमवार को एक अणे मार्ग में लोकसंवाद कार्यक्रम के बाद मीडिया से बात करते हुए सीएम ने कहा कि यह भी देखा जाएगा कि शराबबंदी कानून के किस प्रावधान के सबसे ज्यादा दुरुपयोग हो रहा है. मुख्य सचिव दीपक कुमार ने कमिटी बनाई है. संशोधन की जानकारी सुप्रीम कोर्ट को भी दी गई है. सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि कानून के विभिन्न प्रावधानों और इसके प्रभावों की समीक्षा कर कमिटी जल्द ही अपनी रिपोर्ट देगी. इसके बाद कमिटी की रिपोर्ट पर महाधिवक्ता और सुप्रीम कोर्ट के वकील से परामर्श लिया जाएगा. इसके बाद ही जरूरी संशोधन किए जाएंगे. बता दें कि बिहार में एक अप्रैल 2016 से देसी शराब को बैन किया गया था. इसके तुरंत बाद 5.04.2016 से राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू की गई थी. वहीं 2 अक्टूबर 2016 से बिहार में नया शराबबंदी कानून लागू हुआ था.

Read more

बिहार से सभी 6 सीटों पर निर्विरोध हुआ निर्वाचन

बिहार समेत देशभर में राज्यसभा की कई सीटों पर 23 मार्च को वोटिंग होना है. इसमें बिहार के अलावा यूपी, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात समेत कई राज्य शामिल हैं. लेकिन बिहार में सभी 6 सीटों के लिए निर्विरोध निर्वाचन हो गया. ऐसा कोई सातवां उम्मीदवार के खड़ा नहीं होने से हुआ जिससे अब यहां वोटिंग की जरुरत नहीं पड़ेगी. बुधवार को बिहार विधानसभा के सचिव ने सभी विजयी उम्मीदवारों को जीत का प्रमाण पत्र सौंपा. बता दें कि इस बार बिहार से बीजेपी कोटे से केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, कांग्रेस कोटे से अखिलेश सिंह, राजद कोटे से मनोज झा और अशफाक करीम और जदयू कोटे से किंग महेन्द्र और वशिष्ठ नारायण सिंह राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए हैं. इधर हिमाचल प्रदेश से केन्द्रीय मंत्री जे पी नड्डा भी निर्विरोध चुन लिए गए हैं.

Read more

शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) का रिजल्ट जारी

पटना (राजेश कुमार की रिपोर्ट) । आखिर काफी जद्दोजेहद के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने 6 मार्च को शिक्षक पात्रता परीक्षा का संशोधित रिजल्ट जारी कर दिया. परिणाम अब आधिकारिक वेबसाइट www.bsebonline.net पर उपलब्ध है. इससे पहले बीएसईबी के अध्यक्ष आनंद किशोर द्वारा 21 सितंबर, 2017 को ही रिजल्ट जारी किए गए थे. लेकिन 11 हजार उम्मीदवारों ने असफल होने के बाद परिणामों को फिर से जांचने का अनुरोध किया तथा बोर्ड को आवेदन दिया. इस पर बिहार बोर्ड ने परीक्षा के आंसर की जारी किये थे. लेकिन इसपर भी असफल अभ्यर्थियों द्वारा आपत्ति दर्ज कराई गई. हजारों छात्रों ने परीक्षा में पूछे गए गलत सवाल और उनके गलत जवाब का हवाला देते हुए जांच की मांग की थी जिसपर बिहार बोर्ड ने विशेषज्ञों की कमिटी बनाकर जांच कराई. पेपर I के लिए 26 विषय विशेषज्ञ और पेपर II के लिए 40 विशेषज्ञों को सवालों की जांच की जिम्मेवारी सौंपी गई थी. रिपोर्ट के मुताबिक, जांच के बाद बीएसईबी ने सहमति व्यक्त की कि 9 प्रश्न ठीक से प्रिंट नहीं किए गए थे और दो सवालों के जवाब स्पष्ट नहीं थे. इन सबको ध्यान में रखने और पुनः जांचने के बाद अब बीटीईटी 2017 के संशोधित परिणामों को जारी किया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक 23 जुलाई 2017 को परीक्षा में कुल 2.43 लाख उम्मीदवार सम्मिलित हुए थे. संशोधित रिजल्ट में पिछले रिजल्ट से 8349 परीक्षार्थी ज्यादा सफल घोषित किए गए हैं. इसमें पेपर वन (क्लास 1 से 5) से 1837 जबकि पेपर टू (क्लास 6 से 8) से

Read more