आपदा राहत कोष के लिए स्टेट बार काउंसिल को युवा अधिवक्ता कल्याण समिति ने भेजा पत्र

आरा,13 जून. पिछले दिनों बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति,शाखा-आरा की बैठक दोपहर 12.00 बजे इलेक्ट्रानिक मीडिया कॉन्फ्रेसिंग द्वारा शाहाबाद प्रमंडल के संगठन मंत्री नीतिश कुमार सिंह की अध्यक्षता व अधिवक्ता सह समाजसेवी रश्मिराज कौशिक के संचालन में हुई. अधिवक्ता डा० रवि कुमार ने कहा कि सबसे पहले ऐसी आपदा से निपटने के लिए बार एसोसिएशन को “आपदा राहत कोष” बनाना होगा. जिससे सभी को सहायता मिल सके. अपने वक्तव्य में अधिवक्ता संजय कुमार उपाध्याय ने कहा कि पहले नियमित वो अनियमित अधिवक्ताओं की पहचान होनी चाहिए, तभी सहायता राशि असली हकदार के पास पहुँच सकेगी अन्य वक्ता में अधिवक्ता सतिश कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि सबसे पहले स्टेट बार कौंसिल को अपना ऑडिट करना होगा तभी हम सरकारी फंड के हकदार होगें. मीटिंग में सर्वसम्मिति से नीतिश कुमार सिंह को बिहार स्टेट बार कौंसिल को स्मरण पत्र भेजकर अविलंब क्रियान्वयन का अनुरोध किया गया, जिसमें जिला बार संघ, अनुमण्डलीय, तहसील संघ के सचिव,अध्यक्ष को निर्देशित किया गया कि अपने जिले के युवा अधिवक्ता, कमजोर व बुर्जुग अधिवक्ताओं को चिन्हित कर आर्थिक सहायता एवं हर संभव मदद किया जाए. राज्य कौंसिल द्वारा फंड की उपलब्धता के आधार पर जरूरतमंद सदस्यों के मध्य वितरित करने का प्रस्ताव भी पारित किया गया. साथ ही साथ राज्य सरकार से अविलंब आर्थिक पैकेज की माँग की गई. PNCB

Read more

अग्रणी प्रिया को बेस्ट कैडेट का अवार्ड

आरा. NCC द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत अभियान’ के तहत कविता प्रस्तुति कार्यक्रम में स्थानीय संभावना आवासीय उच्च विद्यालय शुभ नारायण नगर ,आरा की कक्षा 10 की छात्रा अग्रणी प्रिया को बेस्ट कैडेट – 2 का स्थान राष्ट्रीय स्तर पर प्राप्त हुआ है. अग्रणी प्रिया 5 बिहार बटालियन NCC की कैडेट है. 5 बिहार बटालियन के कर्नल मनीष कुमार ने स्थानीय NCC कार्यालय में अग्रणी प्रिया को उसके इस शानदार उपलब्धि के लिए प्रमाण पत्र और नगद ₹2500 का पुरस्कार देकर सम्मानित किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि संभावना आवासीय उच्च विद्यालय, आरा के सभी कैडेट्स बहुत ही अनुशासित है. अग्रणी प्रिया ने राष्ट्रीय स्तर पर 5 बिहार बटालियन NCC का मान सम्मान बढ़ाया है. संभावना आवासीय उच्च विद्यालय की प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह ने अपने विद्यालय की छात्रा को इस उपलब्धि के लिए शुभकामना देते हुए कहा कि अग्रणी प्रिया पर विद्यालय परिवार को गर्व है. विद्यालय के निदेशक डॉ कुमार द्विजेंद्र ने कहा कि हमारे विद्यालय में NCC की स्थापना 3 साल पहले हुई थी. विद्यालय के NCC कैडेट प्रत्येक वर्ष अपनी मेहनत, लगन और अनुशासन से सबको प्रभावित करते हैं. उन्होंने छात्रा समेत सभी NCC कैडेट को बधाई दी. PNCB

Read more

रिमझिम फुहारों में थिरक उठी भोजपुरी कलाकृतियाँ

12वें दिन आन्दोलन में शामिल हुए कई दिग्गज और सामाजिक चेहरे आगत अतिथियों ने कहा सरकार तक पहुँचेगी यह आवाज आरा,12 जून(ओ पी पांडेय). जून का दूसरा सप्ताह खत्म होने वाला है और बिहार ने मानसून की दस्तक भी दे दी है. पहले दिन की ही फुहार से मौसम सुकून भरा हो गया है. इस बीच पिछले 12 दिनों से आंदोलनरत भोजपुर के चित्रकारों ने छाते को भोजपुरी पेंटिंग से सजाना शुरू कर दिया है. शुक्रवार से ही छातों के ऊपर विंभिन्न कलाकृतियों को कलाकारों ने बनाने का सिलसिला चालू किया है. प्लेन छातों के ऊपर कलाकृतियों के बनने के बाद तो छाते ऐसे दिखने लगे जैसे उनमें जान आ गये हों. उनमें बनी आकृतियों को देखने के बाद ऐसा लगता था जैसे वे कह रही हों कि ऐ मेघ जल्दी बरस क्योंकि इस बार तो पूरे मॉनसून हम छातों पर चहकेंगे और अपनी खुशी मनाएंगे. वर्षो बाद इन कलाकारों के मेहनत ने मेरे सम्मान के लिए ये लड़ाई शुरू की है. मैं खुश हूँ कि पूरा माहौल अपने विरासत को बचाने में लगा है. छाते पर बनने वाली पेंटिंग कोहबर और पीड़िया शैली की है जो भोजपुर की अपनी थाती है. इनका सम्बंध मानव सभ्यता के विकास काल से ही रहा है. सभ्यता के विकास के साथ इसमें कुछ बदलाव जरूर आये लेकिन नही बदलीं तो वे इन चित्रों की रेखाएं और उनमें निहित कुछ खास चीजों का अंकन जो जीवन के मानवीय पहलुओं में नित विराजमान है. रंगों का संयोजन और उनका आपसी रिफ्लेक्शन उनके रूप में और

Read more

एक विरोध ऐसा भी….

विरोध का 9वां दिनआरा : 9 जून. भोजपुरी संस्कृति के महत्वपूर्ण अंग भोजपुरी चित्रकला से आम जन मानस को परिचित कराने के लिए भोजपुरी कला संरक्षण मोर्चा द्वारा आज नौंवे दिन भी कोविड-19 के मार्गदर्शन का अनुपालन करते हुए आरा रेलवे स्टेशन पर भोजपुरी चित्रकला प्रदर्शनी एवं हाथपंखे पर भोजपुरी चित्रकला का चित्रांकन वरिष्ठ चित्रकार सह कोषाध्यक्ष कमलेश कुंदन,वरिष्ठ चित्रकार रौशन रॉय,मोर्चा के उप संयोजक विजय मेहता,युवा चित्रकार कौशलेश कुमार एवं वरिष्ठ रंगकर्मी एवं फ़िल्म निर्देशक कृष्णेन्दु एवं सामाजिक कार्यकर्ता रूपेश कुमार पांडेय (ज्ञानपुरी)ने किया। आंदोलन स्थल पर आज मोर्चा से जुड़े लोगों का उत्साहवर्धन करते हुए विधायक सुदामा प्रसाद ने कहा कि हमें सभी संस्कृतियों का सम्मान करना है और अपनी भोजपुरी संस्कृति के विकास के लिए सतत प्रयासरत भी रहना है।सामाजिक कार्यकर्ता और माले प्रत्याशी कयामुद्दीन ने कहा कि यह चित्रकला भोजपुरी भाषी लोगों की सशक्त पहचान है।निजी एवं सांघटनिक स्तर पर भी हमेशा स्थानीय कलाकारों का भरपूर सहयोग किया जायेगा।पूर्व मध्य रेलवे के परामर्शदात्री समिति के पूर्व सदस्य और पूर्व प्रत्याशी कौशल कुमार ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत के सपनों को साकार करने में भोजपुरी चित्रकला उल्लेखनीय योगदान देगा।शोभा मंडल,अमरेंद्र कुमार, शम्भू चौरसिया, गुलाम सरवर,शराफत अली आदि ने मोर्चा के सदस्यों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि हम सब इस मोर्चा के इस संघर्ष में साथ हैं।बक्सर जिले की मिट्टी से जुड़ी गृह मंत्रालय में कार्यरत अर्चना पांडेय ने हैदराबाद से अपने गीतों के माध्यम से इस आंदोलन में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।DRM,पूर्व मध्य रेलवे द्वारा मिले आश्वासन से स्थानीय कलाकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं

Read more

पिंजरे में बन्द ‘आइटम बम’ बाहर विस्फोटक माहौल!

अश्लील गाने पर सरेआम डांस परोसती नर्तकियाँखुद को पिंजरे में बंद कर किया सुरक्षित और दर्शकों को किया असुरक्षित कोइलवर/भोजपुर. पिंजरे में बन्द ‘आइटम बम अगर अपना जलवा बिखेर रही हो तो बाहर विस्फोटक माहौल हो ही जाता है. यह तब विस्फोटक और हो जाता है जब बाहर लोगों का हुजूम हो और कोविड प्रोटोकॉल के तहत लोगों के सामूहिक जमावड़े की मनाही हो. भोजपुर जिला के कोइलवर प्रखण्ड का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर छाया हुआ है. वीडियो कोईलवर के वार्ड संख्या 10 मियांचक मुहल्ले का बताया जा रहा है. वायरल वीडियो 3 वजहों से चर्चा में है. पहला कि यह अश्लीलता के कानून की खुलेआम धज्जी उड़ा रहा है. दूसरा यह कि वीडियो में डांस करने वाली बार-बलाएँ एक पिंजरे में बंद हो रंग-बिरंगी लाइटों के बीच अपना जलवा बिखेर रही हैं जो सबके आकर्षण का केंद्र है. तीसरा वजह यह है कि यह वीडियो कोविड प्रोटोकॉल का खुलेआम माखौल उड़ा रहा है. देखिए वीडियो कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार शादी समारोह में न तो कोई डिज्जे बजाने का ऑर्डर है और न ही 20 से ज्यादा लोगों के उसमें शामिल होने की. लेकिन हिमाकत देखिए भोजपुर जिले के इन युवाओं की जो खुलेआम रोड पर न सिर्फ डिज्जे के धुन से अश्लील गाना का प्रसार कर रहे हैं बल्कि सैकड़ो की संख्या में पिंजरे में बंद बदनाम मुनिया(बार-बालाओं) के डांस को देखने के लिए हुजूम लगा मस्ती में झूम रहे हैं. पिंजरा डीजे वाले गाड़ी पर ही सेट किया हुआ है जो मुवेवल है. वीडियो में

Read more

बिजली विभाग के जे ई पर पैसे मांगने का आरोप !

सरकारी धौंस और नियम ताख पर रख बिजली विभाग लगा रहा है ट्रांसफार्मर दुकानदारों के विरोध पर भड़के जे ई, व्यवसायियों पर  FIR आरा,08 जून. बिजली विभाग के कारनामे से अक्सर लोगों को करंट का झटका लगते रहता है. इस बार का भी कारनामा कुछ ऐसा ही है. बिजली विभाग के अधिकारी सरकारी धौंस और नियम को ताख पर रख  ट्रांसफार्मर नियम के विरुद्ध लगा रहे हैं जिसका विरोध करने के बाद बिजली विभाग ने 4 लोगों पर FIR दर्ज किया है. मामला टाउन थाना क्षेत्र के मैना सुंदर धर्मशाला के पास का है. गोपाली चौक फीडर के अंतर्गत लोड शेयरिंग को लेकर बिजली विभाग ने मैना सुंदर धर्मशाला के पास एक ट्रांसफॉमर  लगाने के लिए जगह का चुनाव गेट के समीप किया लेकिन धर्मशाला के ऑनर द्वारा मुख्य गेट के पास आपत्ति जताने के बाद उसे स्थान्तरित करने के बाद दुकानदारों के दुकान के सामने ट्रांसफार्मर लगाने की बात ने तूल पकड़ लिया और विभाग ने विरोध करने वालों पर FIR कर दिया है. विभाग द्वारा व्यवसायियों पर FIR करने के बाद लोगों में आक्रोश है उनका कहना है कि बिजली विभाग जबरदस्ती वसूली करने में लगा है. दुकानदारों का आरोप है कि जे ई ने उनसे पैसे की डिमांड की. जब व्यवसायियों ने पैसे नही दिए तो जे ई ने जबरदस्ती दुकान के सामने अपने सरकारी पावर का दुरुपयोग कर पोल गाड़ने के लिए गड्ढे खोद दिए. जब विरोध बढ़ा तो पुलिस के आने के बाद लोगों को शांत किया गया. क्या कहता है नियमजबकि विभाग की नियमावली

Read more

ये है ‘यूथ फाॅर सेवा’ का ‘होम केयर किट’

आरा, 3 जून. यूथ फाॅर सेवा’ पिछले कई दिनों से लोगों के बीच कोविड के इस काल मे कोविड से बचाव के लिए जरूरतमन्दों तक जाकर उन्हें घर रहने की सलाह के साथ होम केयर किट की सौगात दी रही है. गुरुवार को यह किट वितरण का कार्यक्रम संभावना आवासीय विद्यालय में विधालय की प्राचार्या अर्चना सिंह के कर कमलों से किया. इस बार यह कीट बखरियाँ, मझौवा नगरपालिका मोड़, पिपरा, धरहरा,मारूति नगर आदि स्थानों के अत्यंत जरूरतमंदो के बीच बाँटा गया, जिसमें ऑक्सिमीटर, थर्मामीटर मास्क, सेनेटाईजर व जरूरी दवाईयां वितरण की गई. इस मौके पर अर्चना सिंह ने कहा कि आज महामारी में लोग अपने घरों में रह रहे हैं ऐसे में यूथ फाॅर सेवा के प्रदेश संयोजक आनंद कुमार अपनी टीम के साथ जरूरतमंदो व असहायों की सेवा कर रहे हैं.आपदा में दवाईयां,मास्क,सेनेटाईजर,साबुन या भोजन वितरण सबमें यूथ फाॅर सेवा अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं जो समाज के लिए प्रसन्नता का विषय हैं. विद्यालय परिवार ऐसे नेक कार्य में हर संभव सहयोग करेगा. इस अवसर पर आनंद कुमार ने कहा कि यूथ फाॅर सेवा निरंतर समाज के जरूरतमंदो तक बिना भेदभाव के मदद हेतु संकल्पित हैं. आगे भी ऐसे कार्य किए जाएंगे. वैसे युवाओं को समाज के लोगों से जोड़ा जाएगा जिनकी रूचि नि:स्वार्थ समाज सेवा की हो. आज लोगों का स्क्रीनिंग भी किया गया जहाँ उनके आक्सीजन लेबल, जांच, तापमान जांच आदि कर उन्हें कोविड से बचने हेतु जरूरी जानकारी दी गई. धन्यवाद ज्ञापन रानू चौरसिया ने किया. आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट.

Read more

जाग उठे हैं भोजपुर के कलाप्रेमी, शुरू किया हस्ताक्षर अभियान

आरा,3 जून. भोजपुर के कलाकारों ने भोजपुरी कला संरक्षण मोर्चा द्वारा गुरुवार को आरा रेलवे स्टेशन परिसर में भोजपुरी चित्रकला को सम्मान और स्थान दिलाने के लिए दो दिवसीय हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत की गई. ज्ञातव्य है कि पूर्व मध्य रेलवे द्वारा भोजपुरी भाषी क्षेत्र आरा के रेलवे स्टेशन परिसर में चारों तरफ़ मधुबनी चित्रकला का अंकन किया जा रहा है. स्थानीय संस्थाओं,कलाकारों एवं बुद्धिजीवियों द्वारा इसका जबरदस्त विरोध किया जा रहा है. भोजपुरी भाषी क्षेत्र में स्थानीय संस्कृति की उपेक्षा कर दूसरी संस्कृति को महत्व देना,स्थानीय संस्कृति का अपमान है. मोर्चा से जुड़े सभी सदस्यों का कहना है कि हमारा विरोध मधुबनी चित्रकला से नहीं,अपितु भोजपुरी भाषी रेलवे स्टेशनों पर भोजपुरी चित्रकला को स्थान और अवसर नहीं मिलने से है. अगर दो दिवसीय हस्ताक्षर अभियान के बाद भी रेलवे प्रशासन द्वारा भोजपुरी चित्रकला को अवसर नहीं दिया जायेगा तो उसके बाद से ही चरणबद्ध आंदोलन चला कर आरा रेलवे स्टेशन पर मधुबनी चित्रकला का अंकन रोक स्थानीय लोग विरोध पर उतरेंगे. स्थानीय महिलाओं ने भी कलाकारों, संस्थाओं के प्रतिनिधियों एवं बुद्धिजीवियों के संघर्ष में कंधा से कंधा मिलाकर साथ देने की बात कही. स्थानीय रेलयात्रियों एवं युवाओं में तो जबरदस्त आक्रोश दिख रहा था. साथ ही स्थानीय जन प्रतिनिधियों के द्वारा भी इस मुद्दे पर सहयोग नहीं मिलने से भी लोगों में गुस्सा दिख रहा है. उन्होंने कहा कि मोर्चा द्वारा जब भी कहा जायेगा हम उग्र आंदोलन के लिए भी तैयार हैं. स्टेशन परिसर में इस हस्ताक्षर अभियान को देखने के बाद भोजपुर के ग्रामीण क्षेत्रों से आये

Read more

साथ न छूटे, सांस न टूटे… यही संकल्प हमारा

कोरोना काल बना सेवा काल सेवा का पर्याय बनी कोविड फाइटर्स, कोविड हेल्प और टीम प्रचंड आरा. कल तक कहा जाता था कि सोशल मीडिया केवल समय बर्बाद करने की जगह है, पर कोरोना काल में यह धारणा बदल रही है. इसी सोशल मीडिया के दम पर व्हाट्सअप और फेसबुक पर बने कोविड फाइटर्स, कोविड हेल्प और टीम प्रचंड ने हजारों जिंदगियां बचाई है. कोविड फाइटर्स और कोविड हेल्प के एडमिन विभागीय प्रबंधक और प्रदेश कार्यसमिति सदस्य भाजयुमो इंजीनियर निशि कांत राय हैं तो सह एडमिन विकाश रंजन ओझा, समीर श्रीवास्तव, पाणिनि तिवारी, मनीष प्रकाश, संदीप तिवारी, राहुल, दीपिका, मृगांक, प्रशांत, अभिमन्यु सिंह हैं.टीम प्रचंड के एडमिन रवि नन्दन, प्रोफेसर पवन विजय और आकाश पांडेय तो सह एडमिन इंजीनियर निशि कांत राय, प्रोफेसर पवन विजय, विनय तिवारी, विपिन तिवारी और अमित पंसारी,अशुतोष मिश्रा हैं. दो महीने पहले जब कोरोना की दूसरी लहर देश में पाँव पसारने लगी और असहाय मरीज अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन, आईसीयू के लिए दर दर भटकने लगे तब पीएम मोदी के आह्वाहन पर व्हाट्सअप फेसबुक पर बने इस ग्रुप के युवक युवतियों ने कमान संभाल ली. देश के हर हिस्से के अस्पतालों में बेड की उपलब्धता, प्लाजमा ऑक्सीजन सिलिंडर और रिफिल, इंजेक्शन सुविधा आदि की जानकारी इकट्ठा कर के जरूरतमंदों की सहायता करने का सिलसिला प्रारम्भ हुआ जो तब से लगातार चल रहा है. मात्र 300 सौ लड़कों की टीम धीरे-धीरे बढ़ने लगी और इस समय कश्मीर से कन्याकुमारी तक, गुजरात से अंडमान तक , राजथान से सिक्किम तक पाँच हजार लड़के इस ग्रुप में काम

Read more

क्या देखी आपने ये स्ट्रीट आर्ट पेंटिंग !

लुभाते स्लोगन और पेंटिंग का स्ट्रीट-जंग आरा,1 जून. क्या आपने कभी स्ट्रीट आर्ट पेंटिंग को देखा है? अगर नही तो अपने शहर में यह मौका आपको मिल सकता है. आमतौर पर सड़कों पर स्लोगन के साथ कुछ आकृतियों को लोग बना उसे स्ट्रीट पेंटिंग का नाम देते हैं. लेकिन जब इसमें कलात्मकता के साथ ये सन्देश जोड़े जाते हैं तो यह स्ट्रीट आर्ट पेंटिंग के नाम से जाना जाता है. कुछ इसी फॉमेट की पेंटिंग आरा की धरती से जुड़े कलाकारों ने जो फिलहाल दूसरे शहरों में अपनी जीविका चला रहे उन्होंने मंगलवार को बनाया. मनभावन स्लोगन जहाँ लोगों को पढ़ने को लालायित करते दिखे तो कलात्मक कलाकृतियां राहगीरों को अपनी ओर आकर्षित करती दिखीं. ऐसा लगा जैसे स्ट्रीट पर ही कलाकृतियों और लुभावने स्लोगनों के बीच जंग चल रहा हो. कोरोना वायरस से बचाव एवं जागरूकता के साथ फ्रंट लाइन वर्कर व कोरोना वारियर्स सम्मान में आरा समकालीन चित्रकारों ने शहर में विशाल कलरफुल स्ट्रीट आर्ट पेंटिंग (Street Art Painting) निर्माण किया. स्थानीय रमना मैदान एवं सांस्कृतिक भवन के समीप गोलंबर के पास सड़क पर इस रंगीन स्ट्रीट आर्ट पेंटिंग को चित्रकारों ने कुचियों से इसे कलात्मक आकार दिया. इस कार्यक्रम में सभी कलाकारों को संयोजित करने का काम किया कौशलेश कुमार ने. कौशलेश मुलतः आरा के रहने वाले हैं लेकिन वर्तमान में वाराणसी रहते हैं और केंद्रीय विद्यालय(BHU) में कला-शिक्षक हैं. उन्होंने इसके पूर्व वाराणसी में मास्क पर संदेशों के जरिये बच्चों के साथ पेंटिंग कार्यशाला का कार्यक्रम फरवरी महीने में किया था जिसकी काफी सराहना लोगों ने

Read more