शराब पर सख्ती क्यों नहीं!

By pnc Aug 21, 2016

50a996d5-a04a-4af8-9e67-77bfb4ccb817
दानापुर। ऐसे दृश्य प्रत्येक रविवार को खगौल और दानापुर में आपको दिख जायेंगे.संपूर्ण कल्याण विकास समिति की ओर से आयोजित होने वाले नुक्कड़ नाटक की 107वीं कड़ी में दिलीप देशवासी लिखित और विजय कुमार सिन्हा द्वारा निर्देशित ”मौत का पानी” नुक्कड़ नाटक खगौल के डाकबंगला परिसर में आयोजित किया गया।
नाटक की शुरुआत अनिल मंडल द्वारा गाए गीत “मौत का पानी है ये मौत का पानी,एक घूंट पीते ही लोग करते है मनमानी” से हुई।
9a4f53a6-a3ff-4e9b-9cec-2a29634e0018

c6393583-7167-4fba-b5aa-7d77a9aa4abb (1)




क्या है नाटक में
नाटक में दिखाया गया कि  शराब बंदी के बावजूद भी लोग ”मौत की पानी” को पी रहे है और मर रहे है। लोगों को यह एहसास नहीं हो रहा है वो कितना बड़ा गुनाह कर रहे है। सरकार हर संभव प्रयास कर रही है कि शराब बंद हो मगर चोरी छुपे शराब की बिक्री और कालाबाजारी धड़ल्ले से जारी है।लोग मर रहे है कभी झूठ कभी सच का खेल खेल चलता रहता है. नाटक में दर्शकों को यह संदेश देने की कोशिश की गई कि लोग शराब से तौबा करें और सरकार के इस पहल को सख्ती से पालन करें। 

ये थे कलाकार
कलाकारों में अम्बिका प्रसाद सिन्हा,मनोज मिनिस्टर,देवानंद, दिलीप देशवासी,प्रशांत कुमार, सुनिल चौधरी,दीप नारायण सिन्हा दीपक,चंद्र देव प्रसाद, सुरेश विश्वकर्मा, ललित प्रणामी,अनिल मंडल, विजय कुमार सिन्हा शामिल थे।

Related Post