पटना पुस्तक मेले में  जाली ‘रेत समाधि’ बेचते दो विक्रेता गिरफ्तार




अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार से सम्मानित है मशहूर कथाकार गीतांजलि श्री का उपन्यास 

आधिकारिक प्रकाशक राजकमल प्रकाशन की शिकायत पर पुलिस ने उठाया कदम

बुकर मिलने के बाद से ही इस उपन्यास की जाली प्रतियां छापी और बेची जा रही हैं

बिहार की राजधानी पटना में शनिवार को दो पुस्तक विक्रेता  मशहूर कथाकार गीतांजलि श्री के बहुचर्चित उपन्यास ‘रेत समाधि’ की जाली प्रतियां बेचते हुए गिरफ्तार किए गए. दोनों विक्रेताओं को यहां के गांधी मैदान में चल रहे राष्ट्रीय पुस्तक मेले से गिरफ्तार किया गया. स्थानीय पुलिस ने यह कार्रवाई राजकमल प्रकाशन समूह के पटना शाखा कार्यालय के प्रबंधक वेद प्रकाश की शिकायत पर की. 

 ‘रेत समाधि’ अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार से सम्मानित उपन्यास है. राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित यह उपन्यास हिंदी सहित किसी भी भारतीय भाषा की पहली कृति है जिस ने यह अंतरराष्ट्रीय सम्मान हासिल किया है. 

राजकमल प्रकाशन समूह के पटना शाखा कार्यालय के प्रबंधक वेद प्रकाश ने बताया कि राजधानी के गांधी मैदान में चल रहे राष्ट्रीय पुस्तक मेले में ‘रेत समाधि’ की जाली प्रतियों के बिकने की जानकारी मिलने के बाद उन्होंने पुलिस के पास शिकायत की थी. जिसके बाद शनिवार को गांधी मैदान पुलिस थाना के दो अधिकारियों, थाना प्रभारी कुंती कुमारी और उप निरीक्षक अरुण कुमार के नेतृत्व में राष्ट्रीय पुस्तक मेले से एंजेल बुक हाउस, रायपुर (छत्तीसगढ )  और आर्यन बुक सेलर, दिल्ली के स्टाल संचालकों को गिरफ्तार किया गया. मौके पर एंजेल बुक हाउस के संचालक प्रकाश मंडल के पास से रेत समाधि की नौ जाली प्रतियां भी बरामद की गयीं. जबकिआर्यन बुक सेलर के स्टाल संचालक के पास से रेत समाधि की बारह जाली प्रतियां पुलिस ने बरामद कीं.

आर्यन बुक सेलर के स्टाल संचालक का नाम तत्काल स्पष्ट नहीं हो सका. पुलिस दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर रही है. गौरतलब है कि रेत समाधि को इसी साल मई में, अंतरराष्ट्रीय  बुकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. बुकर समिति के नियमानुसार रेत समाधि की लेखक गीतांजलि श्री और इसकी अंग्रेजी अनुवादक डेजी रॉकवेल को समवेत रूप से लंदन में यह पुरस्कार दिया गया था.  इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के मिलते ही एक तरफ हिंदी साहित्य की तरफ  पूरी दुनिया का ध्यान नए सिरे से गया. दूसरी तरफ भारत में रेत समाधि की जाली प्रतियां धड़ल्ले से छापी और बेची जाने लगीं. इस पर रेत समाधि के आधिकारिक प्रकाशक, राजकमल प्रकाशन ने नई दिल्ली में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. दिल्ली में कई जगहों पर छापामारी भी की गई.

PNCDESK