नाटक द्वारा “दहेज न लेना – न देना” का संदेश

फुलवारी शरीफ (अजीत की रिपोर्ट) । सर्वमंगला सांस्कृतिक मंच की ओर से सप्ताहिक नुक्कड़ नाटक की श्रृखंला में महेश चौधरी द्वारा लिखित एवं प्रकाश कुमार द्वारा निर्देशित नुक्कड़ नाटक “बेटी हो तो ऐसी” का मंचन वाल्मी स्थित आशीष मार्केट, फुलवारीशरीफ परिसर में की गई. नाटक की शुरुआत सौरव राज के गीत – बस इतना ही संग था तुम्हारा हमारा, जाओ बेटी खुश रहना ले लो आशीष हमारा… से हुयी. नाटक में यह दिखाया गया कि एक जोड़े की काफी धूमधाम के साथ शादी संपन्न होती है. लड़की की विदाई के समय लड़का कहता है कि मुझे कार चाहिए नहीं तो मैं आपकी बेटी को अपने साथ नहीं ले जाऊंगा. लड़की के पिता काफी आरजू विनती करते हैं कि कुछ दिनों का मोहलत दीजिए, मैं कार दे दूंगा – फिर भी वह दहेज लोभी नहीं मानता है. तब तक लड़की अपने मोबाइल से लड़के का वीडियो बनाकर पुलिस कंट्रोल रूम में व्हाट्सएप कर देती है और पति को जेल भेजने की बात कहती है. पति कहता है कि मैं तुम्हारा पति हूं, कोई अपने पति को जेल भेजवाता है क्या. तब लड़की कहती है अब तो तेरे साथ जाएगी मेरी जूती और तुम्हारी जगह जेल की सलाखों के पीछे हैं. यह सुनकर लड़का पैर पकड़कर माफी मांगता है. लड़की के पिता कहते हैं कि वाह बेटी वाह, मान गए तुझे; बेटी हो तो ऐसी. इतने में पुलिस आ जाती है और लड़का और उसके पिता को दहेज के जुर्म में गिरफ्तार कर जेल भेज देती है. नाटक में महेश चौधरी, सौरव, प्रकाश,

Read more

‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ व ‘सुपोषण दिवस’ पर नुक्कड़ नाटक का हुआ मंचन

गड़हनी (मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट) | प्रखंड अंतर्गत बड़ौरा गाँव के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 1 में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ व सुपोषण दिवस के अवसर पर आंगनबाड़ी सेविका सीमा तिवारी के नेतृत्व में जागरूक करने को लेकर नुक्कड़ नाटक किया गया. नुक्कड़ नाटक के माध्यम से समाज मे बेटी को कैसे बचाया जाए व बढ़ाया जाय, इसका मंचन हुआ. साथ ही, “बेटी कहती है कि पापा मुझे मत मारो, मैं संसार मे आना चाहती हूँ औऱ कुछ कर के दिखाना चाहता हूँ” – का भी मंचन किया गया. इस नाटक को देखकर गाँव के लोगों और लड़कियों की आँखों मे आंसू आ गए. आंगनबाड़ी सेविका सीमा तिवारी ने कहा कि आज की लड़कियों में लड़कों से कुछ ज्यादा कर दिखाने का जज्बा है और दिखा भी रही है. इस मौके पर इन्द्रावती देवी, किरण देवी, युवा नेता प्रतीक कुमार, मंजू देवी, इशरत जहां, गुलसन ख़ातून, समाजिक कार्यकर्ता सुरेश सिंह सहित कई लोग उपस्थित थे.

Read more