ये ऐतिहासिक रेल ब्रिज क्यों हो गया बंद!

आज दिनांक 10 मई, 2020 से पुराना किऊल ब्रिज बंद हो गया है तथा इसके बदले नया किऊल ब्रिज को रेल परिचालन के लिए चालू कर दिया गया   है . दिनांक 08 मई को नया किऊल ब्रिज पर ट्रायल रन किया गया था जो पूरी तरह सफल रहा . अब ट्रेनों के परिचालन के लिए पूरी तरह फिट पाते हुए नए किऊल ब्रिज पर आज दिनांक 10 मई, 2020 से आधिकारिक रूप से ट्रेनों का परिचालन शुरू हो गया है . इस पुल से किऊल-लखीसराय के बीच अप एवं डाउन दिशा में प्रतिदिन 150 यात्री ट्रेनें तथा मालगाड़ियों का परिचालन किया जाता है . हालांकि 17 मई तक सभी प्रकार की रेल सेवाएं स्थगित हैं, परंतु वर्तमान में इस रेलमार्ग पर चलने वाली मालगाड़ियां और कुछ श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन नए किऊल रेल पुल से किया जाएगा . 17 मई के बाद जब भी ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ होगा तो सभी ट्रेनों की आवाजाही नए रेल पुल से ही होगी . अब नए किऊल ब्रिज से ट्रेनों का संरक्षित परिचालन हो सकेगा . साथ ही ट्रेनों की अधिकतम गतिसीमा में वृद्धि का मार्ग प्रशस्त हो गया है . अब इस पुल से ट्रेनों का परिचालन अधिकतम 110 किलोमीटर प्रतिघंटा तक की गति से किया जा सकेगा . आज दिनांक 10.05.2020 को किउल-लखीसराय ब्रिज होकर स्टाफ स्पेशल गुजरी . इस प्रकार इस ऐतिहासिक पुल से गुजरने वाली यह अंतिम रेल सेवा  बनी . 100 वर्षों से भी अधिक अवधि के दौरान इस पुल से अनगिनत यात्री ट्रेनों और मालगाड़ियों के

Read more