सीतामढ़ी बस दुर्घटना में 14 लोगों की मौत, 44 घायल

By Nikhil Mar 17, 2018

मुजफ्फरपुर/सीतामढ़ी (ब्यूरो रिपोर्ट) । बिहार, खास कर उत्तर बिहार में सड़क हादसा कमने का नाम नहीं ले रहा है. शनिवार शाम करीब सवा पांच बजे एक और भीषण रोड दुर्घटना मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी एनएच-77 पर सीतामढ़ी जिले के रुन्नी सैयदपुर में हुई जो पटना से करीब 111 किलोमीटर उत्तर में है. यह दुर्घटना मुजफ्फरपुर से औराई होते हुए सीतामढ़ी के बसुआ डुमरी जा रही एक यात्री बस के पुलिया तोड़ते हुए 40 फीट के गड्ढे में गिरने से हुई. इस दुर्घटना में 11 लोगो की मौत मौके पर ही हो गई जबकि तीन की मौत इलाज के दौरान हो गई. 44 यात्री घायल हो गए. 32 सीटों वाली इस बस में करीब 60 यात्री सवार थे.
एक जख्मी ने बताया कि भनसपट्टी हाईवे लाइन होटल के समीप एक पुलिया के पास एक डम्पर खड़ी थी. बस काफी गति में थी. एक तरफ डम्पर और दूसरी तरफ पुलिया देख कर बस का ड्राईवर घबडा गया. उसे लगा कि बस डम्पर से टकड़ा जाएगी. इसी खतरे से ड्राईवर का नियंत्रण बस से हट गया जिससे बस का संतुलन बिगड़ गया और बस पुल की रेलिंग तोड़ते हुए 40 फीट नीचे गड्ढे में गिर गई.
घायलों में से कुछ के अनुसार, जो रोज़ाना बस से यात्रा करते थे, चालक एक नवसिखिया था जो इस बस को शायद शनिवार को पहली बार चलाया था.
सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक (एसपी) हरिप्रसाद एस के अनुसार, बस के चालक ने वाहन पर नियंत्रण खो दिया था जिसके कारण बस पुल की रेलिंग को तोड़ने के बाद 40 फुट की गहरी खाई में गिर गई. एसपी ने कहा कि सभी घायल और मृतक मुजफ्फरपुर जिले के औरई और कटरा गांवों के थे. बस, चंदन रथ, एक निजी ऑपरेटर का था.
भारत में घातक सड़क दुर्घटनाएं सामान्य होती हैं जो अक्सर ओवरलोडिंग, सड़कों की खराब स्थिति और बेलगाम ड्राइविंग के कारण होता है. एक आधिकारिक रिपोर्ट में कहा गया है कि सड़क दुर्घटनाओं के चलते भारत में हर रोज 400 लोगों की मौत हो जाती है. संयोग से, 10 सितंबर, 2016 से 11 मार्च, 2018 तक उत्तर बिहार में सड़क दुर्घटनाओं में कुल 84 व्यक्तियों की मौत हो गई है.
मुख्यमंत्री ने जताया शोक, मुआवजे का आदेश
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सीतामढ़ी जिले के रून्नीसैदपुर थनान्तर्गत भनसपट्टी के निकट बस पलटने से लोगों की हुई मौत पर गहरा दुख एवं संवेदना व्यक्त की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि यह घटना काफी दुखद है. मुख्यमंत्री ने इस हादसे में मारे गए लोगों के परिवार को अविलम्ब अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिवारों को दुख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है. मुख्यमंत्री ने इस हादसे में घायल लोगों के समुचित इलाज का निर्देश दिया है और घायल लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की भी कामना की है.
विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने भी दुर्घटना में मरने वालों के प्रति शोक व्यक्त किया है.




Related Post