प्रकृति प्रदत्त हर रचनाओं में कला का अद्भुत समावेश हैं -शिल्पर्षि फणीभूषण विश्वास

 

एक महान शिल्पर्षि फणीभूषण विश्वास के 86वें जन्मदिन पर विशेष 




भारत के शिल्प और शिल्पकार यहां की लोक एवं शास्त्रीय परंपरा का अभिन्न अंग हैं. यह ऐतिहासिक समांगीकरण कई हजार वर्षों से विद्यमान है. हाथों से बनाई गई वस्तुएं शिल्प की दृष्टि से भारत की सांस्कृतिक परंपरा को दर्शाती हैं. शिल्पकारों के कौशल को सांस्कृतिक और धार्मिक आवश्यकताओं द्वारा प्रोत्साहित किया गया एवं स्थानीय, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार द्वारा इसे गति प्रदान की गई लेकिन बिहार में शिल्पियों का कोई पुरसाहाल लेने वाला नहीं है. ऐसे ही एक शिल्पर्षि हैं फणीभूषण विश्वास  जिन्हें बच्चा या बड़ा सब कोई जानता है उन्हें .उनकी कारीगरी के फन के हर कोई दीवाना है यहाँ तक की राज्य के मुखिया भी.दर्जनों सम्मान उन्हें मिल चुके हैं. लेकिन कह जाता है कि अगर आप कलाकार है तो आपको अपने घर में वो सम्मान नहीं मिल पाता है जिसके आप अधिकारी हैं.

15209061_1470925802958120_417578476_n

जीवन के 86 बसंत देख चुके शिल्पर्षि फणीभूषण विश्वास चित्रकला,मूर्तिकला और शिल्पकला के क्षेत्र में बचपन से ही साधनारत है जिसके फलस्वरूप देश के श्रेष्ठ शिल्पी उपेन्द्र महारथी ने 1967 में कला सम्मान से नवाजा गया.देश के कोने कोने में उनके हाथों की बारीकियों से तैयार कलाकृतियों कोलोगों ने पसंद किया .राज्य के कला प्रदर्शनी ,फोटोग्राफी, मूर्तिकला के विशेष आयोजनों में उन्हें बुला कर सम्मानित किया गया .उन्होंने लज्जा रूपी  आभूषनों की संस्कृति में सिमटी सोडषी का निर्माण १९९० में किया जिसके बाद उनकी कला को देश- विदेश में ख्याति मिली. वैशाली महोत्सव ,राजगीर महोत्सव में पर्यटन सम्मान से सम्मानित भी किया गया.वर्ष २०१३ में नितीश कुमार ने सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन परिसर में उनके द्वारा बने गई आदमकद प्रतिमा का अनावरण भी किया गया .

15228076_1470925699624797_1846294648_n15218501_1470925812958119_221630071_n

शिल्पर्षि फणीभूषण विश्वास कहते है की कला सृजन का मेरा उदेश्य अपनी कार्य सफलता में नहीं बल्कि उसके स्थायित्व की प्राप्ति में हैं ,ऐसे रचना की सतत तलाश जिसकी अभिव्यक्ति के लिए भाषा न मिले शब्द सहमता दिखे.ब्रश तुलिका से निर्मित रचनाओं में ही नहीं,वरण मुझे प्रकृति प्रदत्त हर रचनाओं में कला का अद्भुत समावेश दृष्टिगत है और मेरी अतृप्त चेतना स्वतः मेरी कलाओं से संतृप्त होती है.ऐसे महान कलाकार के अन्दर किसी प्रकार की भूख दिखती है तो सिर्फ कला की शिल्प की. आकाशवाणी और दूरदर्शन में उन पर आधारित कार्यक्रम भी बनये गए है.

15227960_1470925799624787_1791279297_n 15240146_1470925856291448_175545227_n

उनकी पुत्री पल्लवी विश्वास कहती है कि एक कलाकार अपने जीवन के महत्वपूर्ण समय कलाकृतियों को गढ़ने में लगा देता है लेकिन उसे मिलता है क्या.लेकिन शिल्पकार के सामने होता है उसका अपना कर्म जो उसे करना जानता है वह. इसका जीता जागत नमूना देखना हो तो सीतामढ़ी में देखिए. सिर्फ सादगी भरी भारतीय मुस्कान जिसे “सद्यस्नाता घटधारिणी” की संज्ञा प्राप्त है. इसके रचयिता हैं शिल्पर्षि फणीभूषण विश्वास. सीतामढ़ी जैसे कस्बाई शहर में एकलव्य -सी तत्परता से ख़ुद को गढ़नेवाले 86 वर्षीय कलाकार. जिन्होंने अपनी एक अनन्यकृति “जानकी उद्भव” को सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन परिसर में बड़े आकार में स्थापित कर इस पावन धरा के धार्मिक पर्यटन मूल्य को रेखांकित किया हैं.

15171198_1470820199635347_1899797765434961829_n

अब सोच में मत पड़ जाइएगा कि इस एवज में मिली अकूत राशि का इन कलाकार ने क्या किया होगा क्योंकि राष्ट्रपति के विशेष आदेश पर आवंटित इस जगह को मुहैया कराकर रेलवे ने और धार्मिक न्यासबोर्ड से मूर्ति बनाने का खर्च निकलवा कर बिहार पर्यटन विभाग ने और मुख्यमंत्री बिहार नीतीश कुमार ने अपने हाथो इस लाइफसाइज़ कृति को सीतामढ़ी -मां जानकी की अवतरण भूमि में “लोकार्पित” कर इतने प्रकार से इन प्राप्तवय शिल्पी फणी भूषण विश्वास जी को एहसानों से लाद दिया है कि उसके बाद न तो किसी प्रकार की मानदेय राशि भेंट करने की ज़रूरत समझी गई,न किसी पद्म या अन्य पुरस्कार के उपयुक्त मान अलग से धनराशि या सम्मान देने की ज़रूरत समझी गयी. रही बात अकादमियों के फेलो- फॉलोशिप की तो सीधा सा जवाब कि इन्होंनें कोई फॉर्मल ट्रेनिंग थोड़े ही ली है.