बिहार का पहला प्रधानमंत्री कौशल केंद्र का आरा में हुआ शुभारम्भ

नहीं जुड़ पाया कानपुर से लाइव कनेक्शन 

प्रधानमंत्री कौशल विकास परियोजना के तहत आरा में कतिरा स्थित प्रधानमंत्री कौशल केंद्र का उद्घाटन माननीय प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने कानपुर से वीडियो कोन्फ्रंसिंग के जरिये रिमोट से किया. आरा सहित देश के 31 कौशल केंद्रों का उद्घाटन एक साथ हुआ. आरा ओरियन एडुटेक द्वारा प्रबंधन और तकनीकी प्रशिक्षण दिया जाने वाला यह भोजपुर का पहला कौशल केंद्र है. इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर माननीय सांसद आर के सिंह, और संदेस के पूर्व विधायक संजय टाइगर ने संयुक्त रूप से केंद्र पर विधिवत दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया. उद्घाटन से पूर्व माननीय सांसद ने प्रशिक्षण केंद्र का फीता काटकर उद्घघाटन किया और सभी शाखाओं का भ्रमण कर उसके बारे में पूछताछ भी किया. इस दौरान प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षण के लिए अभ्यर्थियों से उन्होंने पूछताछ भी किया. सांसद महोदय ने अपने उद्बोधन भाषण में कहा कि चीन के विकसित होने का एक मात्र कारण है कुशल लोगों का होना. हमारे यहाँ कुशल लोगों की कमी है. इसी कमी को दूर करने के लिए यह केंद्र खोला गया है. इस प्रशिक्षण के बाद ऐसे लोगो को नौकरी भी दिलाने का काम इस प्रशिक्षण केंद्र का ही है. बिना नौकरी दिलाये प्रशिक्षण केंद्र को पेमेंट का भुगतान नहीं होगा. यह महज खानापूर्ति के लिए खोला जाने वाला केंद्र नहीं है. लेकिन जरूरत है इसे समय-समय आपके और प्रशासन द्वारा इसे निरीक्षण कर देखने की.




1eb29640-949e-4993-a8e0-a20f0f2c4be9  98edaf00-a258-4b3b-b610-62bdad1d019a 48550aec-532e-42f6-a838-7e16a79e763c fbe6c800-00fe-4197-bc1d-a468a3db747a12d3d9a9-167a-44bc-a89e-aaf6d069c0bc

 

वही संदेस के पूर्व विधायक संजय टाईगर ने अपने उद्बोधन में कहा कि एक महत्वकांक्षी सोच तभी साकार होगा जब हुनरमंद लोग ज्यादा होंगे. उन्होंने कहा कि स्विट्जरलैंड में 69.5%, नार्वे में 72 % कुशल लोग हैं जबकि भारत में  कुशल लोगों का  प्रतिशत मात्र 10% है. उन्होंने  लोगों से इस कौशल केंद्र का प्रचार करने के लिए कहा साथ ही प्रशिक्षकों से कहा अच्छी ट्रेनिंग देने की अपील की. उन्होंने बताया कि देश में गार्ड को छोड़कर कोई काम नहीं मिलता था अबतक. लेकिन अब इस कौशल केंद्र के खुलने के बाद कई क्षेत्रों में कुशलता के आधार पर नौकरी मिलेगी.

केंद्र के बारे में बताते हुए ओरियन एडुटेक के जनरल मैनेजर राजीव कुमार सिंह ने बताया कि कौशल विकास मंत्रालय, उद्यमिता और NSDC  द्वारा यह एक शुरआत है.10000 हजार स्क्वायर क्षेत्र में फैले इस प्रधानमंत्री कौशल केंद्र पर पांच क्षेत्रों- दूरसंचार, सौंदर्य, परिधान, रिटेल और इलेक्ट्रॉनिक्स में प्रशिक्षण दिया जायेगा. इन पांच क्षेत्रों में अगले तीन वर्षों में 9000 लोगों को प्रशिक्षित करना है. ओरियन 10-12 हफ़्तों का लघु प्रशिक्षण उपलब्ध करा कर वैसे युवक और युवतियों को नौकरी उपलब्ध कराएगा या उन्हें स्वरोजगार लायक बनायेगा जिन्होंने किसी कारणवश अपनी उच्च शिक्षा नहीं कर पायी. यह प्रशिक्षण सभी के लिए बिलकुल मुफ्त है. इस व्यावसायिक प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य भारत को विश्व की कुशल राजधानी बनाना है. ऐसे प्रशिक्षण केंद्र  सभी जिलों में खोले जाएंगे. ओरियन एडुटेक पच्छिम बंगाल की एक ऐसी संस्था है जिसने 2.4 लाख से ज्यादा लोगों को पिछले 9 वर्षों में प्रशिक्षित किया है. साथ ही कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण 2022 तक लगभग 20 लाख लोगों को प्रदान करने का लक्ष्य ओरियन का है. ओरियन को बेहतरीन प्रशिक्षण के लिए FICCI   और  ASSOCHAM  की ओर से कौशल चैंपियन अवार्ड  भी मिला है.

उद्घाटन के इस मौके पर सांसद आर के सिंह, पूर्व विधायक संजय टाईगर, ओरियन एडुटेक के जेनरल मैनेजर राजीब कुमार सिंघा, रीजनल मैनेजर कुमार किसलय, ट्रेनिंग मैनेजर सौमित्रा मुखर्जी, सेंटर मैनेजर दुर्गेश कुमार, एच आर मैनेजर कुमारी श्वेता, ऋषभ राज , प्रेम कुमार, इंडस्ट्री पार्टनर, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ सैकड़ो लोग मौजूद थे.