कोचिंग व प्राइवेट स्कूलों को NSUI की चेतावनी

प्राइवेट स्कूलों और कोचिंग संस्थानों के खिलाफ NSUI ने खोला मोर्चा
प्रशासन और सरकार से दखल की अपील वर्ना होगा बड़ा आंदोलन

आरा, 12 मई. छात्र हितों के लिए सदा आगे रहने वाली NSUI की भोजपुर इकाई ने प्राइवेट स्कूलों और कोचिंग संस्थानों की बेतहासा फीस बढ़ोतरी कर मनमानी तरीके से लोगों का आर्थिक शोषण करने के खिलाफ एक प्रेस कांफ्रेंस स्थानीय पार्टी कार्यालय शहीद भवन आरा में किया.




NSUI ने जिला प्रशासन और बिहार सरकार से इस दिशा में अविलंब विचार कर पहल के लिए आगे आने के लिए आग्रह किया है. प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष मनीष सिंह दुलदुल ने निजी स्कूलो की मनमानी पर बोलते हुए कहा कि सरकार की गलत शिक्षा नीति के चलते अभिवावक लुटे जा रहे है. NSUI इस दिशा में सुधार के लिए एक जन आंदोलन की तैयारी का विचार कर रही है तकि घोर निद्रा अवस्था मे पड़ी सरकार की नींद खुल सके. इस मौके पर विश्विद्यालय संयोजक डॉ नवीन शंकर पाठक ने कहा कि शिक्षा के निजीकरण एवम बाजारीकरण की प्रथा ला कर शिक्षा जगत में शिक्षा माफ़िया सकरार ने उतार दिया है. शिक्षा क्षेत्र में ऐसे लुटेरों पर लगाम लगाना बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि शिक्षा व्यवस्था ऐसा होना चाहिए जो हर गरीब-गुरबों तक पहुँच सके.

संगठन के प्रदेश महासचिव प्रशांत ओझा ने कहा कि प्रदेश में एक समान शिक्षा नीति लागू किया जाए जिसका असर हरेक वर्ग तक हो. उन्होंने कहा कि एक छोटे से शहर आरा में प्राइवेट स्कूलों में एवम निजी कोचिंग संस्थानों की बेतहासा वृद्धि नियम को ताक पर रख कर हो रही है,जिससे अभिभावक आर्थिक दोहन का शिकार हो रहे है. NSUI ने जिला प्रशासन से इस पर शिकंजा कसने की मांग की है. NSUI ने कहा कि अगर इस बात पर एक हफ्ते के अंदर सरकार पहल नही करती है तो संगठन चरणबद्ध आंदोलन करेगी.

प्रेस कांफ्रेंस में इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष राणाप्रताप सिंह,महासचिव राज सिन्हा, गिरीश कुमार राय,कमलेश धवन, अविनाश कुमार गणेश,राजवीर सिंह, समीर यादव, राकेश ओझा, दीपक यादव,मुस्तकीन जाफरी, राहुल सिंह,श्याम सिंह,आदि थे.

अब देखना दिलचस्प होगा कि छात्र हितों के आन्दोलनो में लौह स्तम्भ की तरह अडिग रहने वाली NSUI की इस चेतवानी का असर कितना जल्द जिला प्रशासन पर होता है

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट