फूहड़ गाने वालों सावधान! नीतीश सरकार ने अश्लीलता पर लिया संज्ञान

भोजपुरी और मगही में अश्लील गाने वालों पर चलेगा कानून का चाबुक

पटना,12 जुलाई. भोजपुरी और मगही में अश्लीलता फैलाने वाले सावधान! नीतीश सरकार ने लॉक डाउन के टूटते ही अपने पहले जनता दरबार में आये एक शिकायतकर्ता की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए अश्लीलता फैलाने वालों को अपने रडार पर ले लिया है और इससे सम्बंधित वरीय अधिकारियों के साथ मुख्य सचिव के जिम्मे लगा दिया है.




अश्लीलता की शिकायत करते हुए शिकायतकर्ता
जनता दरबार मे आये लोग

बिहार में इन दिनों भोजपुरी और मगही में फूहड़ गानों की बाढ़ आ गई है. आये दिनों यू ट्यूब पर नए से लेकर नामी गायकों द्वारा यह सिलसिला शुरू है. नया  IT एक्ट जरूर लागू हो गया है लेकिन  इसके बाद भी सरकार द्वारा ऐसे गायकों या कम्पनी वालों पर कोई कार्रवाई नही हुई है. ऐसे फूहड़ और अश्लील गीतों से तंग आम जनता में से एक ने अपनी फरियाद को जनता दरबार मे पहुंचा दिया. सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में एक फरियादी ने भोजपुरी और मगही में अश्लीलता पर रोक लगाने की अपील की. अश्लीलता के खिलाफ अपनी शिकायत लेकर पहुंचे शिकायतकर्ता ने मुख्यमंत्री से मिल कहा कि इन दिनों भोजपुरी और मगही गानों में अश्लीलता को खुलेआम परोसा जा रहा है,जो सभ्य समाज के लिए घातक है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने युवक की बात को सुनने के बाद त्वरित एक्शन लेते हुए तुरन्त चीफ सेक्रेटरी को फोन लगा इस मामले को तत्काल देखने का निर्देश दिया. इतना ही नही मुख्यमंत्री ने शिकायतकर्ता को सीनियर अधिकारी के पास भेज दिया. 

सरकार भोजपुरी और मगही द्वारा अश्लीलता पर सख्त दिखी. चुकि इससे बिहार की साख गिर रही है. इसलिए सरकार इस बार सख्त तेवर में है. अश्लील गाने वालों  और इसे प्रोत्साहित करने वालों पर नीतीश सरकार कड़ा एक्शन के मूड में है. 

परिवहन विभाग भी बना चुका है अश्लीलता के खिलाफ नियम

बता दें कि अभी हाल ही में बिहार सरकार ने अश्लील गाने बजाने वालों पर कार्रवाई की बात कही थी. इस संबंध में बिहार सरकार के परिवहन विभाग ने शनिवार को एक पत्र भी जारी किया गया था. विभाग की ओर से जारी पत्र में कहा गया था कि वाहन चालक अगर ऑटो, बस, ट्रक और अन्य व्यवसायिक वाहनों में अगर अश्लील गाने बजाते हुए पाए जाते हैं, तो जिला प्रशासन वैसे वाहनो का परमिट रद्द करेगी.  साथ ही अन्य कार्रवाई भी की जाएगी. 

6 जुलाई, 2018 को आयोजित राज्य परिवहन प्राधिकार की बैठक में पब्लिक वाहनों जैसे- ऑटो, बसों आदि में अश्लील गाना या वीडियो नहीं बजाने का निर्णय लिया गया था और तहत कुछ नियम बनाए गए थे. लेकिन नियमों को अभी भी ताख पर रख वाहन चालक द्वारा मनमानी जारी है. ऐसे में सभी नियमों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करवाने के लिए सभी ट्रैफिक एसपी, संयुक्त आयुक्त सह-सचिव, क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार बिहार, सभी जिला परिवहन पदाधिकारी बिहार, सभी मोटरयान निरीक्षक बिहार, सभी प्रवर्तन अवर निरीक्षक बिहार को एक्शन मोड में आने की जरूरत है.  अगर इस पर एक्शन शुरू हो गया तो निश्चित तौर पर नियम को ताख पर रख सरेआम अश्लीलता फैलाने वालों की जहां हेकड़ी बन्द हो जाएगी वहीं अश्लील गाने परोसने और बनाने वाले भी अपनी औकात में रहेंगे. मुख्यमंत्री ने ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम में भाग लिया तथा 146 आवेदकों के मामलों की सुनवाई कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया.

PNCB