मौसम की पहली धुंध, भारी कुहासे से घिरा कानपुर

By pnc Nov 30, 2016

बच्चे और बड़े लोगों ने उठाया खूब लुत्फ़
कुहासे पर पटना नाउ की लाइव रिपोर्ट

8b5dd895-72db-46f6-b5c9-c33148fbdab4 a02ff684-da20-4e58-a459-67b3245bc6fe df319afd-0239-4e9d-82af-8d02ca33af0f e11c2016-dfcb-40c0-bfed-6520b800e818




ठण्ड का जिक्र हो और कुहासे और धुंध की बात न आये ये कैसे हो सकता है. वस्तुतः ठंड का एहसास इस कुहासे और धुंध को देखने के बाद ही आता है. कल से दिसम्बर में प्रवेश प्रवेश करेंगे लेकिन अबतक धुंध और कुहासे का इस वर्ष पता ही नहीं था. मौसम की पहली और मजेदार धुंध का आगाज देर हुआ लेकिन दुरुस्त हुआ जब आज सुबह लोगों ने आँखे खोल बाहर का नजारा लिया. पुरे कानपुर और आसपास के इलाके चाहे वो बड़ा बाजार हो, लाल बंगला हो, हबीबगंज हो, रामादेवी हो, लालगंज हो या फिर कोई अन्य इलाके, आज धुंध की चपेट में हैं. धुंध इतना ज्यादा है कि 5 मीटर की भी चीजें  देखना मुश्किल है. सड़कों पर वाहनों की गति धीमी हो गयी है वही ट्रेनों की रफ्तार भी धीमी ही पड़  गयी हैं जिससे अधिकतर गाड़ियाँ देर से ही चल रही हैं.

497709e0-5b51-45cf-b6fe-f3a8e9a83d88 739543f2-16f2-4d97-86bd-8d1032500aa4
वैसे सबसे मजे आज बच्चे उठाते दिखे. सुबह सुबह स्कुल जाने वाले बच्चों के चेहरे पर आज ख़ुशी कुछ ज्यादा ही थी और चहकते चहलकदमी करते पैदल और साइकिल से जाने वाले दिखे. हो भी क्यों न मौसम का पहला कुहासा जो है. जाड़े की शुरुआत हो गयी थी लेकिन यही तो नहीं अबतक देखने को नहीं मिला था. आज जैसे इन्तजार ही ख़त्म हो गयी. पटना नाउ ने कुछ लोगों से ये जानने की कोशिश की, कि कैसा लगा इस धुंध के आने के बाद —

05c09e0a-2e7a-4296-a200-5e0bf6ed1f7b19d79ef1-1f06-42bf-be1d-ac74e8a0a8f9

 

 

रामादेवी इलाके में मिले प्राइवेट कंपनी में काम करने वाले उदय शंकर के लिए आज का दिन बहुत ही ख़ुशी भरा है. कुहासे को देख ठण्ड के दस्तक की ख़ुशी है. वो बताते हैं कि आज महसुस हुआ की जाड़ा यानि ठंड आ गयी.

 

 

 

 

 

 

a5eb063b-ee7e-4898-83ba-8b8bb48ec363

 

वही लाल बांग्ला इलाके में रहने वाली गृहणी नीरज उपाध्याय को आज सुबह धुंध देखने के बाद ठण्ड का एहसास हुआ है. सुबह छत से मौसम की मिजाज को कुछ देर निहारा और अब कहती हैं कि कुहासा देखकर अब मन कर रहा है कि रजाई ओढ़कर बस सो जाएँ, क्योंकि ठण्ड जो आ गयी.

 

 

 

 

प्राइवेट स्कुल में बच्चों को पढ़ाने वाली रिया बताती है कि आज मौसम का लुत्फ़ उठाने लायक है, लेकिन स्कुल सुबह होने के कारण ये आनंद बस सन्डे को ही हो सकता है पर सुबह फ्रेश हो के इस मौसम में जाना ही एक सुखद एहसास है.

 

 

 

 

 

9dc75d78-0f82-4a06-95ae-596bd4ba13b1

 

वहीं  10 वीं में पढ़ने वाली श्रेया ने आज हॉलिडे मनाने का दिल बनाया है. वो सुबह से मौसम का बदलता रूप मोबाइल में कैद कर रही है. साथ ही मॉर्निंग वॉक भी कर रही है. अब दिन में बदलते मिजाज पर भी नजर र
हेगा ही, यहां तक की आज एक शादी में जाने का प्लान है तो श्रेया का आकलन है कि रात में भी आज कुहासा रहेगा इसलिए कुहासे भरे शादी में जाना तय कर लिया है.

 

ff2b38e1-0aa1-47a8-af6c-fe41ea1a39c7

 

वहीँ  आठवीं  का स्टूडेंट अमन पुष्प, आज के मौसम के कारण पार्क का भ्रमण कर रहा है. हालाकि ये भ्रमण रोज नहीं होता है लेकिन धुंध एक ऐसा माहौल बनाता है कि जी तो यही करता है कि अब रोज मॉर्निंग में टहलने जाना चाहिए.

 

 

91f4725c-9be2-4bc8-83dc-a6a3903cf0a2

 

पटना से एक शादी के लिए अपने दीदी के यहां आये हाईकोर्ट के अधिवक्ता भरत जी चौबे हैसे हुए कहते हैं कि सुबह का मौसम धुंध से भरा देखा, तो लगा जैसे बहुत ठण्ड होगी लेकिन इस मौसम में एटीएम के बाहर लाइन में लगकर जो पैसे निकालने का आनंद है न वो ठण्ड को गायब कर दे रहा है. घंटो एटीएम के पास पैसे निकालने के लिए ही सही पर खड़ा रहना मौसम के इस बदले मिजाज से एक रिश्ता तो बना ही देता है.

रिपोर्ट -कानपुर से ओ पी पांडेय

Related Post