मीडिया सुरक्षित नही तो देश भी सुरक्षित नही: आर. के. सिंह

पीड़ित पत्रकार परिवारों को सरकारी नौकरी व केंद्रीय विद्यालय में एडमिशन का दिया भरोसा
एक कॉल पर रहेंगे उपलब्ध

आरा,1 अप्रैल. गड़हनी में दो पत्रकारों की हत्या के बाद अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बात ने भारत मे पत्रकारिता में नए चुनौती पर बहस शुरू कर दिया है. अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भारत की इससे किरकिरी हो रही है. UN और NHRC द्वारा इस मामले में टिप्पणी के बाद इस दिशा में जहां नई पहल पर विचार हो रहा है वही दिवंगत परिजनों से मिलने का सिलसिला आम जन से खास तक का जारी है.दुख की इस घड़ी में मिल सभी सांत्वना दी रहे है और वादे कर वचनबद्ध हो रहे है.




शनिवार को इसी कड़ी में दिवंगत पत्रकार नवीन निश्चल व विजय सिंह के घर पहुँचे ऊर्जा मंत्री आर. के. सिंह ने दोनों पीड़ित परिवार से मुलाकात की और दोनों परिवार से एक-एक सरकारी नौकरी,केंद्रीय विद्यालय में एडमिशन व उच्च शिक्षा दिलाने की पूरा भरोसा दिलाया.

अपने कड़े और त्वरित निर्णयों के लिए जाने जानेवाले आर. के. सिंह ने देश मे पत्रकारों पर हमला व हत्या पर चिन्ता व्यक्त किया और कहा कि देश के चौथे स्तंभ पर हमला देश के लिये चिंता का विषय है क्योकि मीडिया ही समाज मे हो रहे भ्रष्टाचार व अच्छाई दोनों को उजागर कर आईना दिखता है. यदि ये सुरक्षित नही है तो देश भी सुरक्षित नही है.

उर्जा मंत्री ने दोनों परिवार वालो से मिल बहुत दुख जताया. उन्होंने पीड़ित पत्रकार परिवारों को समुचित व्यवस्था देने का आश्वासन देते हुए यहां तक कहा कि ‘जो भी हो मैं करूँगा पीछे नही हटूंगा.’ उन्होंने दोनों परिवार के बच्चे का नाम ,पता व मोबाईल नम्बर नोट किया और अपना नम्बर देते हुए कहा कि जब भी जरूरत पड़े, सिर्फ एक फोन ही काफी है. इस मौके पर हरीशंकर सिंह,शेष प्रसाद सिंह,डॉ राजेश कुमार सिंह,कुमार अरविंद सिंह,रामनाथ सिंह,अजय सिंह अंकित कुमार सहित कई लोग साथ मे थे.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट