आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव : व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर राष्ट्रीय परिसंवाद

हिंदी टेक्नोलॉजी से जुड़ रही है तो यह बड़ी बात है साहित्य अगर क्लिष्ट होगा तो उसका प्रचार नहीं होगा बाल साहित्य पर उन्होंने आठ पुस्तकें लिखीं  ‘त्रिभाषा परम्परा’ के प्रतीक पुरुष थे आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव यहां सुने – साहित्य अकादमी, नयी दिल्ली के तत्वावधान में ‘आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव : व्यक्तित्व एवं कृतित्व’ विषय पर एकदिवसीय राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन किया गया। श्रीरंजन सूरिदेव के तैल चित्र पर सामूहिक पुष्पांजलि एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन हुआ। समारोह के संयोजक अभिजीत कश्यप ने सभी गणमान्य अतिथियों का परिचय कराया तथा आगत अतिथियों को पुष्पगुच्छ एवं अंगवस्त्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता केंद्रीय हिंदी संस्थान के पूर्व अध्यक्ष प्रो०नंद किशोर पांडेय ने की। मुख्य अतिथि बिहार विधान परिषद् के सभापति अवधेश नारायण सिंह ने अपने अतिथि वक्तव्य में कहा कि आज टेक्नोलॉजी का युग है, अगर हिंदी टेक्नोलॉजी से जुड़ रही है तो यह बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि भले ही राजनीतिक राजधानी दिल्ली है, लेकिन जब भी साहित्यिक राजधानी की बात होगी तो पटना और बनारस ही अग्रणी होगा। श्री० सिंह ने कहा कि बिहार में साहित्यकारों की बड़ी परम्परा रही है। राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर से ले कर श्रीरंजन सूरिदेव का जन्म इसी धरती पर हुआ है। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को व्याख्यायित करते हुए उन्होंने कहा कि हमारी परंपरा ही यह रही है कि सभी प्रदेशों की संस्कृति का मिलन एक बिंदु पर होता है, यही सांस्कृतिक राष्ट्रवाद है। उन्होंने कहा कि साहित्य अगर क्लिष्ट होगा तो उसका प्रचार नहीं होगा इस

Read more

‘गति शक्ति’ नेशनल मास्टर प्लान’ पीएम मोदी करेंगे लांच

ग्रीनफील्ड रोड, रेल, ऑप्टिकल फाइबर, गैस पाइपलाइन, इलेक्ट्रिफिकेशन के लिए अब एक ही टेंडर 16 मंत्रालयों को एक मंच पर लाया गया गतिशक्ति एक पोर्टल होगा जिससे केंद्र सरकार के 16 विभाग जुड़े होंगे 16 मंत्रालयों के सचिव स्तर के अधिकारी और एक्सपर्ट होंगे. सैटेलाइट से लिए 3D इमेज के जरिये योजनाओं का मूल्यांकन करेंगे. सरकार विकास की गति को फुल स्पीड करने का कर रही है दावा नई दिल्ली :अब देश में कोई भी प्रोजेक्ट नहीं रुकेगा और ना ही अलग-अलग डिपार्टमेंट अलग-अलग टेंडर फिर कभी गैस के लिए सड़क खुदे, कभी पाइप के लिए, कभी बिजली के लिए. अलग-अलग मंत्रालयों के बीच समन्वय की कमी से आम लोगों को होने वाली परेशानी को दूर करने में यह प्लान कारगर होगा. समय पैसे और श्रम की बचत को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लांच करेंगे ‘गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान’ देश में आज स्थिति है कि एक मंत्रालय सड़क बनाता है तो दूसरा पाइप और केबल बिछाने के लिए बनी हुई सड़क को फिर से खोदता है इससे आम लोगों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था .’गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान’ में रेलवे, सड़क राजमार्ग, पेट्रोलियम, टेलीकॉम, नागरिक उड्डयान और इंडस्ट्रियल पार्क बनाने वाले विभागों समेत 16 मंत्रालयों को एक मंच पर लाया गया है.

Read more

यूपीएससी की सिविल सर्विसेज (प्रा) परीक्षा कदाचार मुक्त सम्पन्न

यूपीएससी की सिविल सर्विसेज (प्रा) परीक्षा का हुआ स्वच्छ, शांतिपूर्ण एवं कदाचारमुक्त आयोजनप्रथम पाली में 20569 परीक्षार्थीद्वितीय पाली में 20387 परीक्षार्थी प्रमंडलीय आयुक्त पटना ने केंद्रीय विद्यालय शेखपुरा एवं जेडी विमेंस कॉलेज सहित कई केंद्र का भ्रमण कर स्थिति का लिया जायजा सभी केंद्रों पर सुरक्षा व्यवस्था के तहत दंडाधिकारी ,पुलिस प्राधिकारी एवं पुलिस बल रहे तैनातनियंत्रण कक्ष से हुई सतत एवं प्रभावी निगरानीडीएम /एसएसपी द्वारा परीक्षा के शांतिपूर्ण संचालन तथा विधि व्यवस्था संधारण हेतु की गई लगातार मॉनिटरिंगएसडीओ/ एसडीपीओ ने भी केंद्रों का लिया जायजा पटना: संघ लोक सेवा आयोग नई दिल्ली द्वारा संचालित सिविल सर्विसेस प्रारंभिक परीक्षा को देखते हुए प्रमंडलीय आयुक्त पटना संजय कुमार अग्रवाल ने सफल एवं शांतिपूर्ण आयोजन हेतु विभिन्न केंद्रों का भ्रमण किया. इस क्रम में आयुक्त ने केंद्रीय विद्यालय शेखपुरा तथा जेडी विमेंस कॉलेज सहित कई केंद्रों पर जाकर आयोग द्वारा प्राप्त दिशा निर्देश एवं मानक के अनुरूप परीक्षा के संचालन का निरीक्षण किया. उन्होंने केंद्र पर सुरक्षा व्यवस्था, परीक्षा की स्वच्छता, परीक्षार्थियों की उपस्थिति सहित कई अन्य पहलू की स्थिति का अवलोकन किया. सिविल सर्विसेज की प्रारंभिक परीक्षा निर्धारित कार्यक्रम के अनुरूप पटना के 89 केंद्रों पर आज दो पाली में शांतिपूर्ण संपन्न हुआ. इस परीक्षा में प्रथम पाली में 20569 तथा द्वितीय पाली में 20387 परीक्षार्थी उपस्थित हुए. यूपीएससी द्वारा प्रदत्त दिशा निर्देश के अनुरूप परीक्षा के सफल, शांतिपूर्ण एवं कदाचार मुक्त संचालन हेतु सभी आवश्यक व्यवस्था की गई थी। सभी केंद्रों पर मजिस्ट्रेट, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल तैनात थे तथा नियंत्रण कक्ष से लगातार निगरानी की गई। जिलाधिकारी एवं

Read more

उदयराज सिंह स्मृति सम्मान पुरस्कार की घोषणा

– ‘नई धारा’ के वर्ष- 2021 के पुरस्कारों की घोषणा 15 वाँ ‘उदयराज सिंह स्मृति सम्मान’ वाराणसी की प्रसिद्ध लेखिका सूर्यबाला को –विनोद कुमार सिन्हा (सीतामढ़ी), तेलुगु कवि डॉ. याकूब (हैदराबाद) एवं श्रीमती अंजू रंजन (जोहान्सबर्ग) वर्ष-2021 को ‘नई धारा रचना सम्मान’ पटना । 1950 से निरंतर प्रकाशित हो रही चर्चित साहित्यिक पत्रिका ‘नई धारा’ ने 2021 के लिए अपने पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। वर्ष 2021 का पन्द्रहवां ‘उदयराज सिंह स्मृति सम्मान’ प्रसिद्ध लेखिका श्रीमती सूर्यबाला को दिया जाएगा, जिसके तहत उन्हें 1 लाख रुपए सहित सम्मान पत्र, प्रतीक चिह्न आदि अर्पित किए जाएंगे। इसके साथ ही सुप्रतिष्ठ लेखक विनोद कुमार सिन्हा (सीतामढ़ी), चर्चित तेलुगु कवि डॉ. याकूब (हैदराबाद) एवं चर्चित लेखिका श्रीमती अंजू रंजन (जोहान्सबर्ग) वर्ष-2021 के ‘नई धारा रचना सम्मान’ से नवाजे जाएंगे I इन तीनों को 25-25 हजार रुपए सहित सम्मान-पत्र, प्रतीक चिह्न आदि अर्पित किए जाएंगे।   यह घोषणा आज ‘नई धारा’ के प्रधान संपादक डॉ. प्रमथराज सिंह ने की। उन्होंने बताया कि सम्मानों के चयन के लिए राष्ट्रीय स्तर पर साहित्य अकादमी के सचिव डॉ. के. श्रीनिवास राव की अध्यक्षता में एक समिति बनाई गई थी, जिसके अन्य सदस्य थे, दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो. श्योराज सिंह ‘बेचैन’ तथा सुप्रतिष्ठ लेखक डॉ. हरिसुमन बिष्ट (दिल्ली)। समिति को ‘नई धारा’ में अप्रैल, 2020 से मार्च, 2021 तक के अंकों में प्रकाशित रचनाओं में से ही रचनाकारों का चयन करना था।   ‘नई धारा’ के संपादक डॉ. शिवनारायण ने बताया कि वर्ष 2021 का आयोजन एक दिसम्बर, 2021 को पटना में किया जाएगा, जिसमें सभी रचनाकारों को सम्मानित किया

Read more

अब एयर इंडिया टाटा के हाथ

दिल्ली:एयर इंडिया के लिए पैनल ने टाटा ग्रुप को चुन लिया है. एयर इंडिया के लिए टाटा ग्रुप और स्पाइसजेट के अजय सिंह ने बोली लगाई थी. सूत्रों की माने तो टाटा ने इस बोली जीत लिया है. उम्मीद किया जा रहा है कि दिसम्बर तक टाटा को एयर इंडिया का मालिकाना हक मिल जाएगा .जेआरडी टाटा ने 1932 में टाटा एयरलाइंस की स्थापना की थी. दूसरे विश्व युद्ध के वक्त विमान सेवाएं रोक दी गई थीं. जब फिर से विमान सेवाएं बहाल हुईं तो 29 जुलाई 1946 को टाटा एयरलाइंस का नाम बदलकर उसका नाम एयर इंडिया लिमिटेड कर दिया गया. आजादी के बाद 1947 में एयर इंडिया की 49 फीसदी भागीदारी सरकार ने ले ली थी. 1953 में इसका राष्ट्रीयकरण हो गया. लोगों का मानना है कि कई बार उठा पटक के बाद टाटा ने एक बार फिर 2021 में टाटा एयर इंडिया को अपने स्वामित्व में शामिल कर लिया है.जल्द ही एयर इंडिया अब टाटा के हवाले होगा.

Read more

किस शहर के थे ‘कजरा मुहब्बत वाला,अंखियों में ऐसा डाला ‘ गीत के गीतकार

जरा दिमाग पर जोर डालिये याद आया .. रवीन्द्र भारती आरा: भोजपुर की धरती ने अपनी कोख से कई लालों को जन्म दिया है चाहे वो वशिष्ठ नारायण सिंह हो या फिर गीतकार शैलेन्द्र या इतिहासपुरुष बाबू वीर कुंवर सिंह सभी ने भोजपुर की धरती को गौरवान्वित किया है . इन्हीं में से एक प्रसिद्ध गीतकार शमसुल हुदा बिहारी भी हैं.जिनका जन्म सन् 1922 को आरा में हुआ था. इनकी प्रारंभिक शिक्षा आरा में तथा उच्च शिक्षा प्रेसिडेन्सी कॉलेज, कोलकाता में हुई.शिक्षा प्राप्ति के पश्चात् कलकत्ते में ही आपने एक रबर फैक्टरी में सहायक मैनेजर के रूप में कार्य करना प्रारंभ किया. शमशुल हुदा बिहारी को न सिर्फ साहित्य से लगाव था बल्कि वे फुटबॉल के एक अच्छे खिलाड़ी भी थे। प्रसिद्ध फुटबॉल क्लब मोहनबगान के सभी खिलाड़ी भी उन्हें आरा के लाल नाम से जानते थे .उनके खेलने का अंदाज भी एकदम अलग था कोलकाता में रहने के कारण उन्हें बांग्ला भाषा एवं गीत संगीत का भी अच्छा ज्ञान हो गया था . कलकत्ता में रहने के दौरान उनकी मुलाकात प्रसिद्ध संगीतकार अनिल विश्वास से हुई। विश्वास साहब ने उन्हें मुंबई बुलाया। वे 1947 में मुंबई चले गये तथा फिल्मी दुनिया की चकाचौंध में संघर्ष करने लगे। धीरे-धीरे ओ०पी० नैय्यर, मो० रफी और आशा भोंसले से उनका संपर्क बढ़ता गया और उनकी पहचान फिल्मी दुनिया में एक गीतकार के रूप में बन गई . प्रसिद्ध फिल्म ‘शर्त’ (1953) में इनका लिखा गीत – “देखो वो चांद छुपके करता है क्या इशारे” फिर 1956 में, “ये हंसता हुआ कारवा जिंदगी

Read more

कटिहार के शुभम बने Upsc टॉपर

कटिहार के रहने वाले शुभम बने इस वर्ष यूपीएससी के टॉपर बधाई देने वालों की लगा तांता बिहार के शुभम बने UPSC टॉपर ,बिहार के लाल का कमाल UPSC 2020 के परिणाम घोषितबिहार के शुभम कुमार ने किया upsc टॉप. पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें ट्वीट कर के बधाई दी है.शुभम के घर मे उनके परिवार में उनके पिता, माता, एक बहन है और सभी लोग कटिहार में ही रहते हैं। मां पिता ने और बहन ने उन्हें बधाई दी है . सिविल सेवा परीक्षा 2020 में पहला स्थान पाने वाले शुभम कुमार ने आईआईटी बॉम्बे से बीटेक किया है.शुभम को 2019 की परीक्षा में 290वां रैंक प्राप्त हुआ था लेकिन टॉप करने की चाहत ने आज उन्हें टॉप बना दिया है । बिहार विधानसभा अध्यक्ष ने भी उन्हें बधाई दी है.

Read more

बिहार के शुभम और प्रवीण ने किया कमाल

संघ लोक सेवा आयोग ने आज सिविल सेवा परीक्षा 2020 का फाइनल रिजल्ट जारी किया है. बिहार के शुभम कुमार टॉपर बने हैं शुभम कटिहार के रहने वाले हैं और आईआईटी बॉम्बे से उन्होंने B.Tec. की पढ़ाई की है. वर्ष 2019 में उन्हें UPSC में 290 रैंक मिला था. शुभम् कुमार बिहार के कटिहार जिलान्तर्गत कदवा प्रखंड के कुम्हरी गांव के रहने वाले हैं. वही जमुई के रहने वाले प्रवीण कुमार ने सातवां रैंक हासिल किया है. बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने भी सिविल सर्विसेज प्रतियोगिता परीक्षा 2020 के आई.ए.एस. टॉपर शुभम् कुमार को उनकी बेमिसाल उपलब्धि के लिए हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने सिविल सर्विसेज परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त कर बिहार का नाम रौशन किया है. उन्होंने कहा कि बिहार प्रतिभाओं की धरती रही है. आज फिर एक बार बिहार और कटिहार गौरवान्वित हुआ है.उपमुख्यमंत्री ने शुभम् कुमार के उज्जवल भविष्य की कामना देते हुए कहा कि बिहार एवं देश की तरक्की में उनकी उत्कृष्ट सेवा का लाभ मिलेगा. pncb

Read more

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार live …

प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर बिहार में मेगा वैक्सीन ड्राइव की शुरुआत

Read more

करें तो क्या करें .. वकील और उनके साथ काम करने वाले ..

वकील और उनके साथ काम करने वाले लोगों के समक्ष भूखमरी की समस्या कर्ज में डूब रहे रहेें लाखों परिवारबिहार के 150 न्यायालयों के लगभग 1.5 लाख अधिवक्ताओं, उनके सहयोगियों जैसे मुंशी … पटना ; विधि प्रकोष्ठ भाजपा बिहार के संयोजक और हाईकोर्ट के एडवोकेट टी एन ठाकुर ने कहा है कि न्याय दिलाने वाले बिहार के 150 न्यायालयों के लगभग 1.5 लाख अधिवक्ताओं, उनके सहयोगियों जैसे मुंशी और अन्य लोगों के समक्ष भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई है. कोरोना इफेक्ट के कारण जिला व अनुमंडल न्यायालयों में लगभग 18 माह से ठीक ढंग से कार्यवाही नहीं चल पा रही है.दूसरी तरफ पटना उच्च न्यायालय में अभी 53 की जगह 20 जज है, वर्चुयल माध्यम से बहुत कम मामलों की सुनवाई हो पाती है.रेगुलर बेल और एन्टीसेपेट्री बेल के हजारो मामले पेंडिंग है जिनका बेल हो जाने की संभावना है वो भी महीनों महीनों से जेल मे बंद है.सुप्रीम कोर्ट, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ,गुजरात उच्च न्यायालय दिल्ली उच्च न्यायालय में है। बिहार में भी सभी सरकारी कार्यालय प्राईवेट संस्थान सभी खुल चुके है करोना के मामले भी एक दम कम हो गये हैं। वैक्सीन भी चार करोड़ लोग ले चुके है।माननीय मुख्य न्यायाधीश पटना हाईकोर्ट संजय कैरोल से हम आग्रह करते हैं कि यथाशीघ्र बिहार के न्यायालयों समेत पटना हाईकोर्ट पटना मे कोविड गाईडलाईन का पालन करते हुए फिजिकल कोर्ट शुरू हो . जिससे लाखों परिवारों राहत मिल सके .

Read more