IAS को बदनाम करने की साज़िश, शिक्षक संघ ने जताई आपत्ति

आईएएस अधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह ने उस मीडिया संस्थान को कानूनी नोटिस भेजा है जिसने बीपीएससी पेपर लीक मामले में उनका नाम कुछ खबरों में चलाया है. डॉ रणजीत कुमार सिंह ने पटना नाउ को बताया कि गलत तरीके से उनका नाम उछाला गया है और उन्हें बदनाम करने की यह पूरी साजिश है और इसीलिए उन्होंने उस मीडिया संस्थान को कानूनी नोटिस भेजा है और जवाब मांगा है. बता दें कि BPSC पेपर लीक मामले की जांच के दौरान दो आइएएस का नाम सामने आने की खबर बेहद चर्चा में है. हालांकि इसका कोई आधार सामने नहीं आया है. कुछ जगहों पर ऐसी खबर के चलने के बाद से सवाल खड़े हो रहे हैं. एक तरफ जहां सरकार की ओर से इसका खंडन करते हुए इसे सरकार और अधिकारियों को बदनाम करने की साज़िश करार दिया गया है. दूसरी ओर शिक्षक संगठनों ने भी इसकी कड़ी निन्दा की है. एनआइओएस डीएलएड संघ ने इसे आइएएस डॉ रणजीत कुमार सिंह की छवि धूमिल करने की साज़िश करार दिया है. एनआइओएस डीएलएड संघ के अध्यक्ष पप्पू कुमार ने कहा कि बिना सच्चाई जाने कुछ न्यूज चैनल आइएएस अधिकारी को बदनाम कर रहे हैं. पप्पू कुमार ने कहा कि पूरा Nios डीएलएड शिक्षक संघ बिहार इसका विरोध करता है. संबंधित चैनल को हमारे अधिवक्ता द्वारा नोटिस भेजा जा रहा है ताकि आगे से इस तरह का गलती कोई न्यूज़ चैनल ना करें. उन्होंने बताया कि आज बिहार सरकार ने भी स्पष्ट किया है कि आइएएस अधिकारी के पास सूचना मिलते ही

Read more

महत्वपूर्ण दिवस : 11 मई, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस की आप सभी पाठकों शुभकामनाएँ 11 मई को भारत में हर साल राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है. तकनीक और विज्ञान के क्षेत्र में भारत ने कितनी तरक्की कर ली है और अब तक किन-किन बड़ी उपलब्धियों को हासिल किया है. इसे याद करने के लिए ही हर साल राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस सेलिब्रेट किया जाता है. वैसे, इस दिन से जुड़ी एक प्रमुख घटना भी है, जिसके चलते इसे 11 मई को ही मनाया जाता है. दरअसल, 11 मई 1998 को भारत ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में राजस्थान के पोखरण में सफल परमाणु परीक्षण किया था. इसके बाद से भारत का नाम भी परमाणु संपन्न देशों की सूची में शामिल हो गया और कोई भी हमारी तरफ आंख उठाकर भी नहीं देख सकता. बता दें कि पोकरण में हुए इस परमाणु परीक्षण का नेतृत्व पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम ने किया था. इसके बाद अगले साल इसी दिन यानी 11 मई, 1999 को भारत में पहला नेशनल टेक्नोलॉजी डे मनाया गया. तब से इसे हर साल इसी दिन सेलिब्रेट किया जाता है.   नेशनल टेक्नोलॉजी डे का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है, क्योंकि 11 मई को ही डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन ने त्रिशूल मिसाइल का सफल परीक्षण किया था. त्रिशूल शॉर्ट रेंज की मारक क्षमता वाली मिसाइल है, जो  अपने लक्ष्य पर तेजी से हमला करती है. इसके अलावा इसी दिन भारत के पहले एयरक्राफ्ट हंसा-3 ने उड़ान भरी थी. इसे नेशनल एयरोस्पेस लैब ने तैयार किया था. यह दो

Read more

EOU की धरपकड़ तेज, अबतक चार गिरफ्तार

बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं पीटी परीक्षा का पेपर लीक होने के मामले में आर्थिक अपराध इकाई की धरपकड़ तेज हो गई है. आर्थिक अपराध इकाई ने पूछताछ के आधार पर अब तक 4 लोगों को हिरासत में लिया है और मामले की जांच अब भी जारी है. बीपीएससी 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्न-पत्र वायरल होने के संबंध में आर्थिक अपराध थाना काण्ड सं-20/2022, दिनांक 09.05.2022, धारा-420/467/468/ 120(बी) भा0द0वि0, 66 आई0टी0 एक्ट एवं धारा-3 / 10 बिहार परीक्षा नियंत्रण अधिनियम-1981 दर्ज किया गया है. ईओयू के मुताबिक अबतक के अनुसंधान एवं संदिग्ध व्यक्तियों से पूछ-ताछ के क्रम में प्राप्त साक्ष्य के आधार पर आर्थिक अपराध इकाई के विशेष अनुसंधान दल द्वारा निम्नांकित व्यक्तियों की गिरफ्तारी की गयी है : जय वर्द्धन गुप्ता, प्रतिनियुक्त स्टैटिक दण्डाधिकारी सह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, बड़हरा, जिला – भोजपुर, डॉ योगेन्द्र प्रसाद सिंह, पे० स्व० गोपाल जी सिंह, सा० – बखोरापुर, थाना-बड़हरा, जिला – भोजपुर, वर्तमान प्राचार्य सह सेंटर सुपरइंटेण्डेंट, कुंवर सिंह कॉलेज, आरा, सुशील कुमार सिंह, पे० स्व० हरिवंश सिंह, सा० – हरिजी का हाता, थाना- नवादा, जिला – भोजपुर, वर्तमान व्याख्याता सह कंट्रोलर, कुंवर सिंह कॉलेज, आरा और अगम कुमार सहाय, ग्राम – फरना, थाना- बड़हरा, जिला- भोजपुर, व्याख्याता सह सहायक सेंटर सुपर इंटेण्डेंट, कुंवर सिंह कॉलेज, आरा. आर्थिक अपराध इकाई जिस तेजी से मामले की जांच कर रही है उससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि बहुत जल्द ई ओ यू बीपीएससी पेपर लीक कांड का खुलासा कर सकती है. कैसे हुआ प्रश्न पत्र वायरल पढ़ें https://bit.ly/3Pan5hd pncb

Read more

EOU ने शुरू की पेपर लीक कांड की जांच, नहीं बचेगा अपराधी

बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक होने के बाद आयोग की सिफारिश पर डीजीपी एसके सिंघल ने आर्थिक अपराध इकाई को जांच का जिम्मा सौंप दिया है. बिहार के डीजीपी एसके सिंघल ने बताया कि बिहार लोक सेवा आयोग की विश्वसनीयता पर कोई आंच नहीं आने देंगे. उन्होंने बताया कि आयोग ने जांच की मांग की है उनका पत्र मिल गया है और हमने एडीजी ईओयू को जांच का जिम्मा सौंप दिया है. आपको बता दें कि बीपीएससी 67वीं पीटी परीक्षा का प्रश्न पत्र आज परीक्षा शुरू होने से पहले ही वायरल हो गया. सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल है जिसमें यह दावा किया जा रहा है कि आरा के एक परीक्षा केंद्र पर जमकर धांधली हुई है. हंगामा और बवाल के बाद बिहार लोक सेवा आयोग ने 3 सदस्यीय कमेटी बनाई और उसे जांच का जिम्मा सौंपा. कमेटी ने 3 घंटे में अपनी रिपोर्ट सौंपी और इस बात की पुष्टि कर दी कि परीक्षा से पहले प्रश्न पत्र लीक हो गया था. जिसके बाद बिहार लोक सेवा आयोग ने पीटी परीक्षा को रद्द कर दिया और बिहार के डीजीपी से पूरे मामले की साइबर सेल से जांच कराने की मांग की. इस बात की पुष्टि बिहार के डीजीपी एसके सिंघल ने की है कि उन्हें बिहार लोक सेवा आयोग का पत्र मिला है जिसके बाद उन्होंने आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी को जांच की जिम्मेदारी दी है. सुनिए क्या बोले बिहार के डीजीपी एसके सिंघल pncb

Read more

पीटी परीक्षा रद्द, साइबर सेल से जांच की सिफारिश

बिहार लोक सेवा आयोग ने 67वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा रद्द कर दी है. पेपर लीक की पुष्टि होने के बाद आयोग ने परीक्षा रद्द करने का फैसला किया. नई परीक्षा की तारीख बाद में घोषित की जाएगी. अब तक मिली जानकारी के मुताबिक आरा के एक परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थियों ने धांधली का आरोप लगाते हुए हंगामा किया. उस परीक्षा केंद्र का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. बिहार लोक सेवा आयोग ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी बनाई थी जिसे 24 घंटे का वक्त दिया गया था लेकिन इस कमेटी ने 3 घंटे में ही अपनी रिपोर्ट आयोग को दे दी, जिसमें पेपर लीक की पुष्टि हुई. प्रश्न पत्र परीक्षा शुरू होने के एक घंटा पहले ही लीक हो गया था. प्रश्न पत्र का सेट सी सोशल मीडिया पर वायरल था जिसे कई मीडिया ने प्रसारित भी किया. आयोग ने बिहार के डीजीपी को पत्र लिखकर पूरे मामले की साइबर सेल से जांच कराने की मांग की है जिससे यह जानकारी मिल सके कि आखिर प्रश्न पत्र कहां से लीक हुआ. pncb

Read more

BPSC पेपरलीक मामले की जांच शुरू

बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा का प्रश्न पत्र परीक्षा की 1 घंटे पहले ही बाहर कैसे आ गया. पेपर लीक का दावा किया जा रहा है. जो पेपर पहले से मार्केट में उपलब्ध था वह परीक्षा के बाद मैच भी कर गया. यानी कहीं ना कहीं पेपर लीक की खबर सही साबित होती नजर आ रही है. इसे लेकर बिहार लोक सेवा आयोग ने एक तीन सदस्यीय जांच कमेटी बना दी है जो 24 घंटे में अपनी रिपोर्ट देगी. पूरी जानकारी बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार सिंह ने दी है. इधर स्टूडेंट्स की समस्याओं को प्रमुखता से उठाने वाले छात्र नेता दिलीप कुमार ने बीपीएससी पेपर लीक की सीबीआई जांच की मांग की है. pncb

Read more

BPSC PT के लिए डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

बिहार लोक सेवा आयोग ने 67वीं संयुक्त सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा का एडमिट कार्ड जारी कर दिया है. बीपीएससी 67वीं प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन 8 मई 2022 को होगा. इस परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार आज से आयोग की आधिकारिक वेबसाइट bpsc.bih.nic.in और onlinebpsc.bihar.gov.in पर जाकर अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं. IAS अधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह ने कहा कि परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को बाकी बचे 10 दिन में रिवीजन पर ध्यान देना चाहिए. उन्होंने कहा कि परीक्षा हॉल में पूरे फोकस के साथ सवालों को हल करना अभ्यर्थियों की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए. 8 मई को लगभग 900 विभिन्न पदों के लिए होने वाली प्रारंभिक परीक्षा बिहार के 1083 परीक्षा केंद्रों पर ली जाएगी. 150 अंकों की परीक्षा 2 घंटे की होगी जिसका आयोजन दोपहर 12:00 से 2:00 के बीच होगा. आयोग के अनुसार 6 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों के पीटी में शामिल होने की संभावना है. pncb

Read more

66वीं बीपीएससी मुख्य परीक्षा का रिजल्ट जारी

Click yo see your Result 👇 https://www.bpsc.bih.nic.in/ 66वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट बिहार लोक सेवा आयोग ने जारी कर दिया है. बिहार लोक सेवा आयोग ने मुख्य परीक्षा का आयोजन पिछले साल जुलाई महीने में किया था. बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने पटना नाउ को बताया कि कुल 689 पदों के लिए 1828 उम्मीदवारों का चयन मुख्य परीक्षा में किया गया है जिन्हें मई महीने के दूसरे या तीसरे सप्ताह में होने वाले इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा. कुल 1828 उम्मीदवारों में अनारक्षित (01) कोटि की 280 रिक्तियों के विरूद्ध 755, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (07) कोटि की 66 रिक्तियों के विरूद्ध 169, अनुसूचित जाति (02) कोटि की 114 रिक्तियों के विरूद्ध 299 अनुसूचित जनजाति (03) कोटि की 07 रिक्तियों के विरूद्ध 18, अत्यंत पिछड़ा वर्ग (04) कोटि की 132 रिक्तियों के विरूद्ध 339, पिछड़ा वर्ग (05) कोटि की 69 रिक्तियों के विरूद्ध 192 एवं पिछड़े वर्गों की महिला (06) कोटि की 21 रिक्तियों के विरूद्ध 56 उम्मीदवार सफल घोषित हैं। उपर्युक्त परीक्षाफल में महिलाओं के लिए आरक्षण कोटिवार उपलब्ध रिक्तियों के अनुसार महिलाओं को क्षैतिज आरक्षण का लाभ दिया गया है. कुल सफल घोषित 1828 उम्मीदवारों में दिव्यांग उम्मीदवारों के लिए अनुमान्य 29 रिक्तियों के विरुद्ध सफल घोषित कुल 75 उम्मीदवार एवं बिहार राज्य के भूतपूर्व स्वतंत्रता सेनानियों के नाती / नतिनी / पोता / पोती के लिए अनुमान्य 13 रिक्तियों के विरूद्ध सफल घोषित कुल 33 उम्मीदवार शामिल हैं. pncb

Read more

चीफ जस्टिस ने लान्च किया ‘फास्टर’ साफ्टवेयर

जमानत मिलने के बाद फौरन जेल से बाहर आएगा कैदी जमानत के बाद नहीं करना होगा इंतजार जस्टिस चंद्रचूड़, जस्टिस जे खानविलकर और जस्टिस गुप्ता को दिया धन्यवाद कैदियों की रिहाई की प्रक्रिया तेज करने के लिए बड़ा कदम उठाया गया है. मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने साफ्टवेयर लान्च किया है. मुख्य न्यायाधीश ने गुरुवार सुबह 10 बजे वर्चुअली इस साफ्टवेयर को लान्च किया. चीफ जस्टिस ने इसके लिए जस्टिस चंद्रचूड़, जस्टिस जे खानविलकर और जस्टिस गुप्ता का धन्यवाद किया है. अभी कैदियों को जमानत मिलने के बाद आदेश की कापी जेल प्रशासन तक पहुंचने में काफी समय लग जाता है, जिस वजह से कैदियों की रिहाई में 2-3 दिन की देरी हो जाती है. ‘फास्टर’ के जरिए आदेश की कापी को जल्दी और सुरक्षित तरीके से इल्केट्रानिक मोड में भेजा जाएगा. जिससे कैदियों की रिहाई में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा. फास्टर सिस्टम लान्च करते हुए चीफ जस्टिस ने कहा कि जुलाई मे अखबार मे एक खबर पढ़ी थी कि सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद भी कैदी तीन दिन बाद भी जेल से नहीं छूट सका था, क्योंकि कोर्ट की कापी जेल तक नहीं पहुंची थी. इसीलिए तब इस सिस्टम को लान्च करने के बारे में सोचा गया. सुप्रीम कोर्ट ने बीते साल सितंबर में आदेशों की कापी को जल्द पहुंचाने के लिए इलेक्ट्रानिक सिस्टम लांच करने के आदेश दिए थे. रमना की अध्यक्षता वाली बेंच ने सिस्टम पर काम करने का सुझाव दिया था. चीफ जस्टिस ने कहा कि ‘फास्टर’ के लिए 73 नोडल अधिकारियों को नामित

Read more

CDPO पीटी अब इस तारीख को होगी

CDPO पीटी परीक्षा की नई तारीख आ गई है. 6 फरवरी को इस परीक्षा का आयोजन होना था लेकिन बिहार लोक सेवा आयोग ने इसे आखिरी वक्त में स्थगित कर दिया था. बिहार लोक सेवा आयोग से दी गई जानकारी के मुताबिक 15 मई को सीडीपीओ प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन होगा. सीडीपीओ के 55 पदों के लिए पिछले साल मार्च महीने में आवेदन लिए गए थे. कोरोना की वजह से परीक्षा का आयोजन लगातार टलता रहा. आखिरकार 6 फरवरी को आयोग ने परीक्षा के आयोजन की संभावित तिथि जारी की थी लेकिन कोरोना की तीसरी लहर की वजह से एक बार फिर इसे स्थगित करना पड़ा और अब 15 मई को यह परीक्षा संभावित है. कुल 180000 अभ्यर्थियों ने इस बार आवेदन किया है. बिहार लोक सेवा आयोग ने 67वीं सिविल सेवा परीक्षा के लिए भी नई तारीख जारी की है. 67वीं सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन 23 अप्रैल को होगा. राजेश तिवारी

Read more