बिहार की झोली में 13 संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार

संगीत नाटक अकादमी अवार्ड में हृषिकेश सुलभ, सुमन झा, रंजना कुमारी झा, मैथिली ठाकुर और सुदीपा घोष प्रमुख दिसंबर में  राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों ये पुरस्कार दिल्ली में दिए जाएंगे विशेष अलंकरण समारोह: छत्तीसगढ़ की तीजन बाई व ममता चंद्राकर को संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, राष्ट्रपति करेंगी सम्मानित संगीत, नाटक और नृत्य के क्षेत्र में पिछलेतीन साल के लिए घोषित संगीत नाटक अकादमी अवार्ड में बिहार के 13 कलाकारों का चयन हुआ है. इनमें चर्चित नाटककार और रंगकर्मी हृषीकेश सुलभ, ठुमरी गायिका कुमुद झा दीवान, लोकगायिका रंजना झा और मैथिली ठाकुर भी शामिल हैं. संगीत नाटक अकादमी (दिल्ली) के सचिव अनीश पी राजन ने शुक्रवार शाम साल 2019, 2020 और 2021 के अवार्ड की अधिसूचना जारी की. हृषीकेश सुलभ को नाट्य लेखन, नीलेश्वर मिश्र को अभिनय, मिथिलेश राय को निर्देशन के लिए अकादमी अवार्ड मिलेगा. 13 कलाकारों में पांच बेटियां हैं. वरीय पुरस्कारों में कुमुद झा दीवान और रंजना झा और बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार की सूची में भरतनाट्यम की कलाकार सुदीपा घोष, लोकनृत्य के सुपरिचित नाम जितेन्द्र चौरसिया, मैथिली ठाकुर व अभिनेत्री रूबी खातून शामिल हैं. 90 वर्षीय अभिनेता, निर्देशक गणेश प्रसाद सिन्हा, 75 वर्षके अभिनेता-निर्देशक सुमन कुमार, लोकगीतों के जाने-मानेनाम भरत सिंह भारती और ध्रुपद गायक रघुवीर मलिक का चयन अमृत अवार्ड के लिए किया गया है. युवा पुरस्कार के लिए 25 हजार जबकि संगीत नाटक अकादमी और अमृत अवार्ड धारियों को एक-एक लाख रुपये, ताम्र पत्र और अंगवस्त्र दिए जाएंगे. संगीत नाटक अकादमी ने 86 कलाकारों के लिए भारत की आजादी के

Read more

रिजल्ट जांच की मांग के बीच बीपीएससी ने जारी किया मुख्य परीक्षा का शेड्यूल

बिहार लोक सेवा आयोग ने 17 नवंबर को 67वीं लोकसेवा परीक्षा का रिजल्ट जारी किया था. उसके बाद से ही इस रिजल्ट के जांच की मांग अभ्यर्थी कर रहे हैं. बिहार लोक सेवा आयोग ने 21 नवंबर से 6 दिसंबर के बीच मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन करने का शेड्यूल पहले ही जारी कर दिया था. आज मुख्य परीक्षा का शेड्यूल भी जारी हो गया है. 67वीं प्रारंभिक परीक्षा में सफल 11607 अभ्यर्थियों को 29 दिसंबर से 31 दिसंबर तक होने वाली मुख्य परीक्षा में शामिल होना होगा. 67वीं प्रारंभिक परीक्षा में लगभग 320000 अभ्यर्थी शामिल हुए थे. पीटी परीक्षा का रिजल्ट जारी होने के बाद से ही बीपीएससी अभ्यर्थी रिजल्ट में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए जांच की मांग कर रहे हैं. अभ्यर्थियों ने पिछले दिनों बिहार लोक सेवा आयोग के गेट पर प्रदर्शन भी किया था. क्या मांग कर रहे हैं अभ्यर्थी – 67वीं बीपीएससी प्रारंभिक परीक्षा का संशोधित रिजल्ट जारी किया जाए वर्षों से पद पर जमे आयोग के परीक्षा नियंत्रक को हटाया किया जाए 67वीं पीटी परीक्षा में प्रश्न पत्र लीक की सीबीआई से जांच करायी जाए परीक्षा में इस्तेमाल ओएमआर शीट से छेड़छाड़ की जांच हो पीडीएफ फॉर्मेट में जारी रिजल्ट के साथ छेड़छाड़ की जांच हो pncb

Read more

आचार्य शिवपूजन सहाय ने स्त्री विमर्श की आधारशिला रखी : गीताश्री

प्रेमचंद की रचना में भी भोजपुरी समाहित है : प्रकाश उदय किताबों और कृतित्व पर हो रही गुफ्तगू राजकमल प्रकाशन समूह का आयोजन ‘किताब उत्सव‘ राजकमल प्रकाशन समूह द्वारा आयोजित ‘किताब उत्सव’ के तीसरे दिन अचार्य शिवपूजन सहाय: कृतित्व स्मरण, रेणु के गांव, अरज- निहोरा: भोजपुरी कविता का नया प्रस्थान विषय पर अलग-अलग सत्रों में बातचीत हुई. इसके अलावा रविन्द्र भारती का कविता संग्रह ‛जगन्नाथ का घोड़ा’ का लोकार्पण हुआ. जिसमें बड़ी संख्या में साहित्यकार, लेखक, पत्रकार, बुद्धिजीवी, रंगकर्मी, छात्र आदि शामिल हुए. कार्यक्रम के प्रथम सत्र में ‘हमारा शहर हमारी गौरव’ के तहत प्रख्यात साहित्यकार शिवपूजन सहाय को समर्पित चर्चा हुई. चर्चा में अपनी बात रखते हुए कथाकार गीताश्री ने कहा कि “आचार्य शिवपूजन सहाय संपादक की भूमिका में वे खुद को साहित्यकार के रूप में भुला दिया. उन्होंने प्रेमचंद के किताब का भी संपादन किया. उनकी ‘भगजोगनी’ उपन्यास समाज की सच्चाइयों को सामने रखता है. वर्ष 1928 में ही ‘भगजोगनी आज भी जीवित है’ लिखकर उन्होंने स्त्री विमर्श और स्त्री लेखन की आधारशिला रखा था. उनके इस लेखन से ही स्त्री विमर्श का आधार तैयार होता है. विद्युत दूरदर्शी लेखक थे. गीताश्री ने आगे कहा उन्होंने अपने लेखन के माध्यम से बताया कि जिस तरह बाल विवाह एक सामाजिक बुराई है उसी तरह वृद्ध विवाह भी सामाजिक बुराई है.  उन्होंने समाज और सरकारी तंत्र दोनों पर प्रहार किया.” आचार्य शिवपूजन सहाय को याद करते हुए लेखक व पत्रकार विकास कुमार झा ने कहा ” हमें इस बात पर विचार करना चाहिए कि आज वह हमारे लिए कितना प्रासंगिक

Read more

धीरे-धीरे बदल रही है पृथ्वी,नष्ट हो रहा गोल स्वरूप

पृथ्वी की ग्रेविटी ने बदल लिया गोले का आकारअब सेब जैसी नहीं दिखती पृथ्वी, नई स्टडी में खुलासाधरती की सतह को लगातार बदल रही है ग्रैविटीपृथ्वी का निर्माण गुरुत्वाकर्षण की वजह से हुआ. एक जगह गुरुत्वाकर्षण ने सारी चीजों को अपनी ओर खींचना शुरू किया. धीरे-धीरे यह गोला बनता चला गया. ऐसा गोला जिसके पास अपनी ग्रैविटी है. जिसकी बदौलत धरती के चारों तरफ एक मैग्नेटिक फील्ड है. इसकी वजह से जीवन है. लेकिन यह ग्रैविटी लगातार धरती की सतह को बदल रही है. इस बात का खुलासा एक नई स्टडी में हुआ है. कैसे ग्रैविटी पृथ्वी की गहराई से ही ऊपरी सतहों को हिला-डुला रही है. इसका केंद्र फिलहाल भारत के नीचे ही स्थित है. धरती की ग्रेविटी लगातार इस ग्रह में बदलाव कर रही है. इसकी वजह से पृथ्वी के ऊपरी सतह यानी क्रस्ट में बहुत अंतर आ रहे हैं. पहाड़ों के बेल्ट खत्म हो रहे हैं. वो पत्थर बाहर निकल कर ऊपर आ रहे हैं, जो सतह से करीब 24 किलोमीटर नीचे धंसे हुए थे. ऐसे ढांचे बन रहे हैं, जिन्हें मेटामॉर्फिक कोर कॉम्प्लेक्सेस कहते हैं. मेटामॉर्फिक कोर कॉम्प्लेक्सेस के बनने की प्रक्रिया को कई बार समझाने का प्रयास किया गया लेकिन इसकी अलग-अलग परिभाषाएं आती रहीं. इसके बनने का रहस्य और गहराता चला गया. वैज्ञानिकों ने इस बार दो मेटामॉर्फिक कोर कॉम्प्लेक्सेस को चुना. अमेरिका के फीनिक्स और लास वेगास. क्योंकि ये दोनों ही प्राचीन पहाड़ों के बेल्ट के खत्म होने के बाद बने हैं. साइंटिस्ट ने पता किया कि आखिरकार मेटामॉर्फिक कोर कॉम्प्लेक्सेस के पीछे

Read more

9.21 लाख करोड़ रुपये गायब, कहीं आपके घर में तो नहीं पड़ा

500 और 2000 के 1680 करोड़ नोटों का आरबीआई के पास हिसाब नहीं नए 500 और 2000 के नोटों में अब 9.21 लाख करोड़ गायब 2016 की नोटबंदी के समय केंद्र सरकार को उम्मीद थी कि भ्रष्टाचारियों के घरों के गद्दों-तकियों में भरकर रखा कम से कम 3-4 लाख करोड़ रुपए का काला धन बाहर आ जाएगा. पूरी कवायद में काला धन तो 1.3 लाख करोड़ ही बाहर आया…मगर नोटबंदी के समय जारी नए 500 और 2000 के नोटों में अब 9.21 लाख करोड़ गायब जरूर हो गए हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की 2016-17 से लेकर ताजा 2021-22 तक की एनुअल रिपोर्ट्स बताती हैं कि आरबीआई  ने 2016 से लेकर अब तक 500 और 2000 के कुल 6849 करोड़ करंसी नोट छापे थे उनमें से 1680 करोड़ से ज्यादा करंसी नोट सर्कुलेशन से गायब हैं. इन गायब नोटों की वैल्यू 9.21 लाख करोड़ रुपए है. इन गायब नोटों में वो नोट शामिल नहीं हैं जिन्हें खराब हो जाने के बाद आरबीआई ने नष्ट कर दिया. आरबीआई  2019-20 से 2000 के नए नोट नहीं छाप रहा है. जबकि 500 के नोटों की छपाई 2016 के मुकाबले 76% बढ़ गई है. आरबीआई  ने कभी भी आधिकारिक तौर पर यह स्वीकार नहीं किया है कि सर्कुलेशन से नोटों के गायब होने की वजह क्या है. मगर जानकार मानते हैं कि इसका सबसे बड़ा कारण लोगों का करंसी जमा करके रखना है. जरूरी नहीं कि यह पूरी रकम ही काला धन हो, लेकिन यह बैंकिंग सिस्टम से बाहर जरूर है. PNCDESK

Read more

67वीं पीटी परीक्षा की तारीख एक बार फिर बदली

BPSC (https://bpsc.bih.nic.in/) नए 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा की तारीख में फिर से परिवर्तन कर दिया है. इससे पहले 21 सितंबर को परीक्षा होने की घोषणा की गई थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 30 सितंबर कर दिया गया है. इसके पहले चार बार परीक्षा की डेट बढ़ाई जा चुकी है. इस परीक्षा में लगभग 600000 अभ्यर्थी शामिल हो सकते हैं. शुक्रवार 30 सितंबर को होने वाली इस परीक्षा का आयोजन दोपहर 12:00 से 2:00 के बीच होगा. अभ्यर्थियों को 11:00 बजे तक अपना स्थान ले लेना होगा. बिहार लोक सेवा आयोग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक आयोग की वेबसाइट पर अभ्यर्थियों का एडमिट कार्ड 20 सितंबर से उपलब्ध होगा. pncb

Read more

रंग लाया BPSC अभ्यर्थियों का विरोध, एक दिन में ही होगी पीटी परीक्षा

पटना।। बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा को लेकर बड़ी अपडेट सामने आ रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हस्तक्षेप के बाद आखिरकार बिहार लोक सेवा आयोग ने अपना फैसला बदल लिया है. अब पहले की तरह ही पीटी परीक्षा एक दिन और एक पाली में ही आयोजित होगी. इसके पहले जब बिहार लोक सेवा आयोग ने 2 दिन में परीक्षा लेने का निर्णय किया और परीक्षा की तिथि भी घोषित कर दी तो उसके बाद अभ्यर्थियों ने इसका पूरी तरह विरोध किया. बिहार लोक सेवा आयोग कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया. लाठीचार्ज भी हुआ. इस हंगामे के बाद आखिरकार सरकार की नींद खुली. आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा को लेकर परीक्षार्थियों की समस्या पर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी एवं बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अतुल प्रसाद के साथ बैठक की. बैठक में बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष ने पूरी स्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत कराया. बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्होंने सभी जिलाधिकारी एवं क्षेत्रीय अधिकारियों के साथ विमर्श किया है तथा इस संदर्भ में निर्णय लिया गया है कि बिहार लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा पूर्व की तरह एक दिन एवं एक पाली में ही ली जायेगी. बीपीएससी की ओर से 21 सितंबर को परीक्षा के आयोजन की तैयारी हो रही है. pncb

Read more

जस्टिस यूयू ललित हो सकते हैं देश के अगले चीफ जस्टिस

सीजेआई रमणा ने की नाम की सिफारिश सिफारिशी पत्र कानून और न्याय मंत्री को सौंपा भारत के चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एन वी रमणा ने अगले सीजेआई के लिए जस्टिस उदय उमेश ललित के नाम की सिफारिश की है. चीफ जस्टिस रमणा ने सिफारिशी पत्र कानून और न्याय मंत्री को सौंप दिया है. अगर जस्टिस यूयू ललित के नाम की सिफारिश मान ली जाती है तो वे देश के 49वें चीफ जस्टिस बन जाएंगे. बता दें कि जस्टिस एनवी रमणा इस महीने ही सेवानिवृत्त हो रहे हैं. भारत के चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एन वी रमणा ने अगले सीजेआई के लिए जस्टिस उदय उमेश ललित के नाम की सिफारिश की है. सीजेआईरमणा ने सिफारिशी पत्र कानून और न्याय मंत्री को सौंप दिया है. अगर जस्टिस यूयू ललित के नाम की सिफारिश मान ली जाती है तो वे देश के 49वें सीजेआइ बन जाएंगे. पारंपरिक रूप से सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश अपनी वरिष्ठता के आधार पर सीजेआई के रूप में कार्यभार संभालते हैं. चीफ जस्टिस के तौर पर कोई कार्यकाल निर्धारित नहीं है. सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों की सेवानिवृत्ति की आयु संविधान के तहत 65 वर्ष निर्धारित की गई है. सुप्रीम कोर्ट में दशकों बाद ऐसा मौका आने वाला है, जब देश चार महीनों में तीन चीफ जस्टिस देखेगा. इसी साल जुलाई से नवंबर के दौरान सीजेआई एनवी रमण के अलावा जस्टिस उदय उमेश ललित और जस्टिस धनंजय यशवंत चंद्रचूड़ भी मुख्य न्यायाधीश बनेंगे. इस दिलचस्प संयोग के पांच साल बाद 2027 में भी देश ऐसे ही संयोग का साक्षी होगा.

Read more

बीपीएससी की 66वीं परीक्षा में वैशाली के सुधीर कुमार बने टॉपर

66वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट जारी अरवल के अमर्त्य कुमार आदर्श सेकेंड टॉपर मुजफ्फरपुर के आयुष कृष्णा थर्ड टॉपर बिहार लोक सेवा आयोग ने 66वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है. परीक्षा में कुल 685 उम्मीदवार सफल हुए हैं. आयोग के संयुक्त सचिव अमरेंद्र कुमार के मुताबिक 34 डीएसपी समेत विभिन्न विभागों में 685 अधिकारियों की नियुक्ति के लिए रिजल्ट जारी किया गया है.उन्होंने बताया कि वैशाली के सुधीर कुमार टॉपर बने हैं जबकि अरवल के अमर्त्य कुमार आदर्श सेकेंड टॉपर, मुजफ्फरपुर के आयुष कृष्णा थर्ड टॉपर और पूर्वी चंपारण के सदानंद कुमार फोर्थ टॉपर बने हैं. इस परीक्षा के माध्यम से कुल 689 पदों पर नियुक्तियां होनी हैं. 13 अप्रैल 2022 को मुख्य परीक्षा का परिणाम घोषित किया गया था. जिसमें कुल 1838 अभ्यर्थी सफल हुए थे. 18 मई से 22 जून 2022 तक और 05 जुलाई से 18 जुलाई तक सफल अभ्यर्थियों का साक्षात्कार हुआ था. साक्षात्कार में कुल 1768 अभ्यर्थी शामिल हुए. जिसमें 70 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे. 689 रिक्तियों पर मेधा सूची तैयार की गई और 3 अगस्त को रिजल्ट घोषित कर दिया गया. BPSC में नया ट्रेंड बीपीएससी में इस बार नया ट्रेंड देखने को मिला है. प्रशासनिक सेवा के वरीय अधिकारी समीर परिमल ने बताया कि इस बार पद/ सेवा चयन को लेकर टॉप 10 में नया ट्रेंड दिखा – राज्य – कर सहायक आयुक्त (Assistant Commissioner State Tax) – 5 (Rank – 1, 3, 4, 5,6) पुलिस उपाधीक्षक (DySP) – 3 (Rank 2, 7, 8) जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी (DMWO)

Read more

टॉप 5 में चार लड़कियां, UPSC में 685 को सफलता

संघ लोक सेवा आयोग ने वर्ष 2021 का फाइनल रिजल्ट जारी कर दिया है. रिजल्ट में लड़कियों ने जबरदस्त कमाल दिखाया है. टॉप फाइव में 4 लड़कियां हैं. यूपीएससी टॉपर जेएनयू की छात्रा रही श्रुति शर्मा बनी हैं. दूसरे स्थान पर अंकिता अग्रवाल जबकि तीसरी टॉपर गामिनी सिंगला बनी हैं. चौथे स्थान पर ऐश्वर्या वर्मा जबकि पांचवें टॉपर उत्कर्ष द्विवेदी हैं. कुल 685 अभ्यर्थियों को सफल घोषित किया गया है. pncb

Read more