विज्ञान प्रदर्शनी आज, 500 बच्चों के प्रजेक्ट्स शामिल

बालदिवस के मौके पर विज्ञान प्रदर्शनी आज प्रदर्शनी में शामिल होंगे बच्चों द्वारा बनाये गए 500 प्रोजेक्ट्स आरा, 15 नवम्बर. स्थानीय ‘शान्ति स्मृति’ सम्भावना आवासीय उच्च विद्यालय शुभ नारायण नगर, मझौवाँ, आरा में भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं0 जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिन (बाल दिवस) के अवसर पर सोमवार को कार्यक्रम का आयोजन किया गया. विद्यालय के निदेशक डॉ० कुमार द्विजेन्द्र प्राचार्या डॉ० अर्चना सिंह सहित सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं ने पं0 जवाहरलाल नेहरू के तैल्य-चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया. इस अवसर पर छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए विद्यालय के निदेशक डॉ० कुमार द्विजेन्द्र ने कहा कि पंडित नेहरू आधुनिक भारत के निर्माता थे. भारत के स्वतंत्रता की लड़ाई में उन्होंने अद्वितीय योगदान दिया था. वे एक सफल राजनीतिज्ञ के साथ-साथ एक बड़े लेखक भी थे. उनके द्वारा कई पुस्तकें लिखी गई है. इस अवसर पर विद्यालय की प्राचार्या डॉ० अर्चना सिंह ने बताया कि “बाल दिवस” के उपलक्ष्य में मंगलवार को विद्यालय परिसर में “पर्यावरण संरक्षण” विषय पर “विज्ञान प्रदर्शनी” का आयोजन किया जाएगा. “विज्ञान प्रदर्शनी” में बतौर उद्घाटनकर्ता राघवेन्द्र प्रताप सिंह (पूर्व कैबिनेट मंत्री, बिहार सरकार सह वर्त्तमान विधायक, बड़हरा विधान सभा), और मुख्य अतिथि राज कुमार (जिलाधिकारी, भोजपुर) होंगे. अध्यक्षता राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित पूर्व प्राचार्य सीताराम सिंह करेंगे. प्रदर्शनी 11:00 बजे 04:00 बजे तक अवलोकन के लिए रहेगा. “पर्यावरण संरक्षण” विषय पर आयोजित इस “विज्ञान प्रदर्शनी” में लगभग 2000 (दो हजार छात्र-छात्राओं ने प्रोजेक्ट, पोस्टर, मॉडल तथा विज्ञान व तकनीक से सम्बन्धित उपकरण बनाकर विद्यालय में जमा किया है. विद्यालय के विज्ञान

Read more

भोजपुरी में होगा अब स्नातक और पीएचडी !

भोजपुरी में स्नातक डिग्री और पीएचडी सीटों के लिए शुरू हुई कवायद कुलपति से मिले पूर्ववर्ती छात्र संघ के प्रतिनिधि आरा,7 सितंबर. भोजपुरी भाषा में उच्च शिक्षा हासिल करने की चाह रखने वालों के लिए यह सुखद खबर है कि वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय के अंगीभूत कॉलेजों में शीघ्र ही स्नातक डिग्री, सामान्य और सब्सिडियरी हर स्तरों पर पढ़ाई शुरू होगी. साथ ही पीएचडी सत्र 2020 में भोजपुरी के लिए रिक्तियाँ शून्य किये जाने का गतिरोध भी समाप्त हो गया है. पूर्ववर्ती छात्र संघ का एक द्विसदस्यीय प्रतिनिधिमंडल आज कुलपति प्रो शैलेन्द्र कुमार चतुर्वेदी से मिला. प्रतिनिधिमंडल में शोधछात्र रवि प्रकाश सूरज तथा विभाग प्रमुख सोहित सिन्हा शामिल थे. ज्ञात हो कि पीएचडी में रिक्तियाँ शून्य किये जाने को लेकर विगत 11 अगस्त से ही छात्रसंघ आंदोलन कर रहा था जिसे पूरे भोजपुरी समाज का समर्थन प्राप्त था. मुलाकात के दौरान कुलपति ने पूरे मामले को विस्तार से सुना और बताया कि पीएचडी में सभी नियमों का पालन सुनिश्चित किया जाएगा तथा भोजपुरी की पढ़ाई में किसी स्तर पर कोई बाधा आने नहीं दी जाएगी. छात्र प्रतिनिधियों ने कुलपति को एक ज्ञापन भी सौंपा जिसमें हर जिले के कम से कम एक अंगीभूत कॉलेजों में भोजपुरी की पढ़ाई शुरू करने का अनुरोध था. वार्ता के दौरान उपस्थित प्रो वीसी प्रो सी एस चौधरी ने जानकारी दी कि अकादमिक कौंसिल की पिछली बैठक में भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडेय ने इस मुद्दे को उठाया था उसके बाद स्नातक के लिए भोजपुरी विषय के सिलेबस बनाने की जिम्मेदारी प्रो पांडेय को सौंपी

Read more

अवैध नियुक्ति पर विश्वविद्यालय प्रशासन की चुप्पी पर सवाल से बवाल

वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय लगातार मुद्दों का अखाड़ा बनता जा रहा है और नित नए कारनामे सामने आ रहे हैं। राजभवन से बिना मान्यता कई विषयों के विभागों के चलाये जाने का मामला ठंडा नहीं हुआ इसी बीच निर्देशों का उल्लंघन कर अवैध नियुक्ति का एक मामला सामने आया है। यह मुद्दा सीसीडीसी पद पर डॉ नीरज सिन्हा की नियुक्ति से सम्बंधित है। इस पद के लिए नीरज सिन्हा रैंक की दृष्टि से योग्यता नहीं रखते हैं, बावजूद इसके वे कई वर्षों से सीसीडीसी पद पर काबिज हैं। बिहार राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम की धारा 14 बी में स्पष्ट उल्लेख है कि समायोजक, महाविद्यालय विकास परिषद के लिए उपाचार्य अर्थात रीडर रैंक का शिक्षक होना अनिवार्य योग्यता है और वर्त्तमान सीसीडीसी रीडर की कोटि में नहीं आते। उनका रैंक सेलेक्शन ग्रेड का है जो लेक्चरर की कोटि में आता है। इस मामले पर सचिव, वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय शिक्षक एवं कर्मचारी कल्याण संघ ने कुलाधिपति सह राज्यपाल को ज्ञापन भी दिया था जिस पर संज्ञान लेते हुए कुलाधिपति सचिवालय ने ज्ञापांक वीकेएसयू 01/2021 खण्ड 3, 1780, दिनांक- 27-10-21 को एक पत्र जारी करते हुए विश्वविद्यालय को आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिया जिस पर विश्वविद्यालय ने मौन साध लिया जो आजतक कायम है। हालांकि विश्वविद्यालय के गलियारे में यह चर्चा कई दिनों से चल रही है कि मामला कुलपति डॉ के सी सिन्हा के संज्ञान में है और वे तुरंत कार्रवाई करने वाले हैं। इसी बीच नए कुलपति प्रो शैलेन्द्र कुमार चतुर्वेदी की बतौर स्थायी कुलपति नियुक्ति हो चुकी है। अब यह

Read more

ई-लाइब्रेरी से लैस होंगे बिहार के विश्वविद्यालय

पटना।। बिहार के तमाम विश्वविद्यालय ई लाइब्रेरी और डिजिटल कंटेंट से लैस किए जायेंगे. बिहार में इसकी तेजी से तैयारी चल रही है. तैयारी को लेकर बुधवार को बिहार राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद, पटना के सभागार में एक दिवसीय ई-लाइब्रेरी पर उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में दीपक कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग ने भाग लिया. विशेषज्ञ के रूप में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के पुस्तकाध्यक्ष डॉ देवेन्द्र कुमार सिंह एवं सूचना वैज्ञानिक डॉ मनीष कुमार सिंह मौजूद रहे. INFLIBNET सेंटर से डॉ अभिषेक कुमार विशेषज्ञ के रूप में मौजूद रहे. कार्यशाला में बिहार राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद, पटना के उपाध्यक्ष डॉ कामेश्वर झा, सचिव शिक्षा विभाग असंगबा चुबा आओ बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय पटना के कलपति प्रो० रामेश्वर सिंह एवं बिहार राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के नोडल पदाधिकारीगण उपस्थित रहे. बिहार राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद, पटना के सदस्य सचिव सह राज्य परियोजना निदेशक असंगवा चुबा आओ ने कहा कि ई-लाइब्रेरी एवं डिजिटल लाइब्रेरी का महत्व काफी बढ़ गया है इसके अन्तर्गत पारम्परिक पुस्तकालय को ई-कन्टेट एवं ई-किताबों के माध्यम से छात्रों तक आसानी से पहुँचाते हुए विद्यार्थियों में रूचि उत्पन्न किया जा सकता है. पुस्तकालय एक ऐसा माध्यम है जिससे विद्यार्थी एवं रिसर्च स्कॉलर ज्ञान अर्जित कर अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकते हैं. बिहार राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद, पटना के उपाध्यक्ष प्रो (डॉ) कानेश्वर झा ने कहा कि पूर्व में छात्रों को लाइब्रेरी से पुस्तक की उपलब्धता एवं उसको उपलब्ध कराना एक जटिल प्रक्रिया थी. साथ ही किसी खास तरह की

Read more

कस्तूरबा विद्यालय संचालन को लेकर सरकार सख्त

बिहार के तमाम कस्तूरबा गांधी विद्यालयों की संचालन व्यवस्था को लेकर शिक्षा विभाग ने आज एक महत्वपूर्ण बैठक की. पटना में आयोजित एक दिवसीय ओरिएंटेशन कार्यक्रम में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह ने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है कि जिस उद्देश्य से उस कस्तूरबा गांधी विद्यालय का संचालन हो रहा है उसमें किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. सर्वप्रथम राज्य परियोजना निदेशक असंगबा चुबा आओ के द्वारा बिहार के सभी जिलों से आये हुए कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय के संचालकों, वार्डेन एवं समस्त पदाधिकारियों का स्वागत करते हुए KBGV के उद्देश्यों को विस्तार पूर्वक प्रकाश डाला गया. इस क्रम में यह भी बताया गया कि इस विद्यालय में समाज के कमजोर वर्ग यथा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग / अत्यन्त पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक समुदाय एवं BPL परिवार की छात्राओं को आवासीय सुविधा उपलब्ध कराया जाता है ताकि इन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराया जा सके. सरकार की इस महत्वाकांक्षी कार्यक्रम की सफलता को सुनिश्चत कराने की सम्पूर्ण जबाबदेही जिला शिक्षा पदाधिकारी से लेकर वार्डेन तक की है. वहीं रवि शंकर सिंह, अपर राज्य परियोजना निदेशक (कार्यक्रम) के द्वारा कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय की पृष्ठभूमि उद्देश्य विद्यालयों की वर्त्तमान स्थिति यथा- बालिकाओं का नामांकन, ठहराव, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा आदि पर एक प्रस्तुतिकरण किया गया. साथ ही कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय के संचालन से संबंधित चुनौतियाँ एवं भावी रणनीति पर विस्तार से चर्चा की गयी. इसके उपरांत कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय की दो-दो वार्डेन एवं संचालकों के द्वारा अपने अनुभव को साझा किया गया. इस

Read more

मिलिए बिहार की ICSE टॉपर से

आईसीएसई बोर्ड के रिजल्ट में पटना की नेहा सबको पीछे छोड़ते हुए स्टेट टॉपर बनी हैं. पटना के माउंट कार्मल की नेहा ने 99.6% मार्क्स दसवीं की परीक्षा में हासिल किया है. स्टेट टॉपर की लिस्ट में दूसरे स्थान पर ऋषभ कलानी हैं. पूर्णिया के ऋषभ को 497 नंबर (99.4%) आए हैं. उत्कर्ष, हरिओम श्री और तनु किशोर ने राज्य भर में तीसरा स्थान हासिल किया है. उत्कर्ष डॉनबास्को में पढ़ते हैं. इन्हें 496 अंक मिले हैं. हरिओम श्री भी डॉनबास्को स्कूल से हैं. इन्हें भी 496 अंक ही मिले हैं. तनु किशोर, कार्मेल हाई स्कूल पटना में पढ़ते हैं. इन्हें भी 496 अंक मिले हैं. तीसरे स्थान पर रहे तीनों विद्यार्थियों को 99.2% मार्क्स मिले हैं. पटना के दीघा की प्रज्ञा श्री को 98.2 परसेंट मार्क्स मिले हैं. पटना के संत जोसेफ स्कूल की प्रज्ञा श्री ने ICSE बोर्ड 10वीं की परीक्षा में 98.2 परसेंट मार्क्स हासिल किया है. प्रज्ञा श्री आईआईटी करना चाहती हैं और उसके बाद यूपीएससी करना चाहती हैं. pncb

Read more

कुल प्रजनन दर भारत में घटकर हो गई 2

देश के 707 जिलों में सर्वेक्षण बच्चों के पोषण में सुधार का दावा खोखला अब स्थिर मानी जा रही जनसंख्या राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण भारत की कुल प्रजनन दर (टीएफआर) प्रति महिला बच्चों की औसत संख्या राष्ट्रीय स्तर पर 2.2 से घटकर 2 हो गई है. देश में प्रजनन दर 2.1 से नीचे आने से जनसंख्या अब स्थिर मानी जा रही है. राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस-5) के आंकड़ों के मुताबिक देश की कुल प्रजनन दर (टीएफआर) घटकर दो हो गई है. 2016 में यह दर 2.2 थी. इसका मतलब है कि देश की जनसंख्या की वृद्धि दर स्थिर होने का संकेत है. स्वास्थ्य मंत्रालय के सर्वेक्षण में यह जानकारी सामने आई है. नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. विनोद कुमार पॉल और केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव राजेश भूषण ने देश के 14 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के लिए जनसंख्या, प्रजनन और बाल स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, पोषण और अन्य पर प्रमुख संकेतकों की फैक्टशीट जारी की.सर्वेक्षण से पता चला है कि मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और उत्तर प्रदेश को छोड़कर सभी चरण 2 राज्यों ने प्रजनन क्षमता का प्रतिस्थापन स्तर (2.1) हासिल कर लिया है. सर्वेक्षण में पाया गया है कि समग्र गर्भनिरोधक प्रसार दर (सीपीआर) राष्ट्रीय स्तर पर और पंजाब को छोड़कर लगभग सभी चरण 2 राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों में 54 प्रतिशत से बढ़कर 67 प्रतिशत हो गई है. लगभग सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में गर्भ निरोधकों के आधुनिक तरीकों का उपयोग भी बढ़ा है. एनएफएचएस-5 सर्वेक्षण देश के 707 जिलों के लगभग 6.1

Read more

बिहार में दारोगा भर्ती परीक्षा का रिजल्ट जारी

14856 अभ्यर्थी हुए सफल बिहार पुलिस के दारोगा भर्ती परीक्षा का रिजल्ट आज जारी हो गया. दारोगा के पदों के लिए आयोजित मुख्य परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों में कुल 14 हजार 856 अभ्यर्थी सफल हुए हैं. बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग की आधिकारिक वेबसाइट https://www.bpssc.bih.nic.in/ पर अभ्यर्थी परीक्षा का रिजल्ट देख सकते हैं. भर्ती प्रक्रिया के माध्यम से बिहार पुलिस में एसआई और सार्जेंट के 2213 पद भरे जाएंगे. पुलिस अवर निरीक्षक के 1998 और सार्जेंट के 215 पदों पर नियुक्ति होगी. यहाँ देखें रिजल्ट –https://www.bpssc.bih.nic.in/

Read more

बिहार में मैट्रिक पास भी बन सकेंगे स्वास्थ्य अनुदेशक

 8386 पदों पर होनी है बिहार में भर्ती शारीरिक शिक्षा में सर्टिफिकेट-डिप्लोमा-डिग्री की योग्यता जरूरी बिहार में शिक्षक नियोजन नियमावली 2012 के प्रावधान के अनुरूप अहर्ता रखने वाले अभ्यर्थी मध्य विद्यालयों में शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशक के रूप में नियुक्त होंगे. इस नियमावली में साफ किया गया है कि भारत की नागरिकता, मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण और किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से शारीरिक शिक्षा में सर्टिफिकेट-डिप्लोमा-डिग्री की योग्यता निर्धारित अहर्ता है. इसी आधार पर पात्रता परीक्षा 2019 ली गई थी. यही योग्यता वर्तमान में चल रही नियुक्ति प्रक्रिया में लागू होगी. इसको लेकर शिक्षा विभाग के प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने आदेश जारी कर दिया है. यानी मैट्रिक उत्तीर्ण भी स्वास्थ्य अनुदेशक बन सकेंगे.  आदेश में यह भी स्पष्ट किया है कि कई जिलों द्वारा इस संबंध में मार्गदर्शन की मांग की जा रही थी. इसी को देखते हुए जिलों को यह आदेश जारी किया जा रहा है. मालूम हो कि शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशक के 8386 पद हैं, जबकि वर्ष 2019 की पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण की संख्या 3523 है. नियोजन नियमावली 2020 में यह प्रावधान किया गया है कि शारीरिक शिक्षा एवं स्वास्थ्य अनुदेशक की नियुक्ति के लिए आवश्यक अहर्ता इंटर परीक्षा में 50 प्रतिशत के साथ राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त किसी भी संस्थान से शारीरिक शिक्षा में कम-से-कम दो वर्ष का प्रमाणपत्र-डिप्लोमा होना निर्धारित है. पर, 30 मार्च, 2022 द्वारा निर्धारित नियोजन में 2012 नियमावली और पात्रता परीक्षा 2019 में निर्धारित अहर्ता ही मान्य होगी, न कि 2020 की नियमावली. PNCDESK

Read more

DM अंकल ने सुन ली बच्चों की फरियाद

पौने ग्यारह बजे पूर्वाह्न के बाद सभी कक्षाओं के लिए शैक्षणिक गतिविधियों पर डीएम ने लगाया प्रतिबंध पटना, सोमवार, दिनांक 25.04.2022: जिला दण्डाधिकारी, पटना डॉ0 चन्द्रशेखर सिंह ने जिले के सभी विद्यालयों में पूर्वाह्न 10:45 बजे के बाद सभी कक्षाओं के लिए शैक्षणिक गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाया है। उन्होंने यह आदेश दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के तहत जिले में अधिक तापमान और विशेष रूप से दोपहर के समय भीषण गर्मी के कारण बच्चों के स्वास्थ्य और जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना के मद्देनजर दिया है। उपर्युक्त प्रतिबंध *प्री-स्कूल एवं आँगनबाड़ी केन्द्रों सहित* जिले के सभी विद्यालयों पर लागू होगा। यह आदेश दिनांक-27.04.2022 से लागू होगा। डीएम ने तदनुरूप विद्यालयों में शैक्षणिक गतिविधियों को पुनर्निर्धारित करने का आदेश दिया है. डीएम ने जिला शिक्षा पदाधिकारी तथा जिला प्रोग्राम पदाधिकारी, आईसीडीएस सहित सभी अनुमंडल दंडाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी एवं थानाध्यक्ष को उपर्युक्त आदेश का अनुपालन सुनिश्चित कराने का निदेश दिया है। डीएम डॉ0 सिंह ने कहा कि बच्चों का स्वास्थ्य उनकी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। इसके लिए जिला प्रशासन प्रतिबद्ध है। Pncb

Read more