बड़ी खबर: शिक्षक बहाली पर लगी रोक हटी

इस वक्त की बड़ी खबर पटना हाई कोर्ट से आ रही है. पटना हाई कोर्ट में ब्लाइंड एसोसिएशन के केस का निपटारा हो गया है. पटना हाईकोर्ट ने इस मामले मैं फैसला सुनाते हुए दिव्यांग अभ्यर्थियों को 15 दिन के लिए आवेदन करने का मौका दिया है. बिहार सरकार दिव्यांग अभ्यर्थियों को 4% आरक्षण देने के लिए राजी है. इसके साथ-साथ पटना हाईकोर्ट ने बिहार सरकार को यह भी निर्देश दिया है कि इस बहाली प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा किया जाए. आपको बता दें कि पिछले करीब 6 महीने से बिहार में शिक्षक नियोजन प्रक्रिया पर पटना हाईकोर्ट ने रोक लगाई हुई थी. बिहार में करीब 1,21,000 प्राथमिक, मध्य और माध्यमिक शिक्षकों के छठे चरण का नियोजन अब जल्द से जल्द पूरा होने की संभावना बढ़ गई है. pncb

Read more

शिक्षक नियोजन: ब्लाइंड केस की सुनवाई टली

बिहार में छठे चरण के शिक्षक नियोजन से संबंधित एक अहम मामले की सुनवाई आज पटना हाईकोर्ट में होनी थी. लेकिन यह मामला अब 3 जून तक टल गया है. जानकारी के मुताबिक 3 जून को बिहार सरकार के एडवोकेट जनरल इस महत्वपूर्ण मामले में सरकार का पक्ष रखने के लिए मौजूद रहेंगे. यह मामला नेत्रहीन दिव्यांगों को शिक्षक नियोजन में आरक्षण देने से जुड़ा है. नेशनल ब्लाइंड फेडरेशन ने पटना हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी कि उन्हें शिक्षक नियोजन में सरकार की तरफ से तय आरक्षण का लाभ नहीं दिया गया है जिसके कारण वे आवेदन नहीं कर पाए हैं. पिछली सुनवाई में ब्लाइंड फेडरेशन ने सरकार से नियुक्तियों की जानकारी और आवेदन के लिए समय देने की मांग की थी. pncb

Read more

28 मई को शिक्षक नियोजन पर होगा फैसला

करीब 2 साल से छठे चरण के नियोजन को पूरा होने का इंतजार कर रहे बिहार के लाखों शिक्षक अभ्यर्थियों के लिए बड़ी खबर आ रही है. बिहार सरकार द्वारा चीफ जस्टिस से ब्लाइंड केस की मेंशनिंग का अनुरोध किए जाने के बाद पटना हाईकोर्ट ने नेशनल ब्लाइंड फेडरेशन के मामले की सुनवाई के लिए 28 मई की डेट निर्धारित की है. 28 मई को सबसे पहले नंबर पर इसी मामले को रखा गया है. बिहार सरकार ने पहले ही यह स्पष्ट कर दिया है कि वह ब्लाइंड फेडरेशन की मांग मानने को तैयार है. ब्लाइंड फेडरेशन ने शिक्षक नियोजन में नेत्रहीन दिव्यांगों के लिए 4% आरक्षण को लागू करने की मांग की थी. बिहार सरकार इस मामले में अपनी स्थिति स्पष्ट करने के बाद हाईकोर्ट से यह गुजारिश करेगी कि शिक्षक नियोजन की प्रक्रिया पूरी करने की अनुमति दी जाए. संभावना जताई जा रही है कि पटना हाई कोर्ट बिहार सरकार से इस मामले में स्थिति स्पष्ट होने के बाद शिक्षक नियोजन प्रक्रिया पर लगा रोक हटा ले. इसके बाद प्राथमिक और मध्य विद्यालयों के करीब 90762 पदों और माध्यमिक उच्च माध्यमिक विद्यालयों के करीब 30020 पदों पर छठे चरण के नियोजन की प्रक्रिया पूरी की जा सकेगी. pncb

Read more

इस बार वृहद होगा जनांदोलन!

वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय बचाओ संघर्ष समिति का हुआ गठन, जनांदोलन की तैयारी विवि के अस्तित्व को बचाने के लिए वृहद जनांदोलन की तैयारी में शाहाबाद आरा,17 मार्च(रवि प्रकाश सूरज) भोजपुरी विभाग के सभागार में विवि की जमीन को मेडिकल कॉलेज के नाम आवंटित किए जाने तथा इससे उत्पन्न समस्या के समाधान हेतु छात्रों, शिक्षकों तथा जिले के प्रबुद्धजनों की एक बैठक आयोजित हुई। बैठक की अध्यक्षता संयुक्त रूप से पूर्व प्राध्यापकों डॉ रामतवाक्या सिंह, डॉ बलिराज ठाकुर, डॉ रविन्द्र नाथ रॉय राजनीतिशास्त्र की व्याख्याता डॉ लक्ष्मी कुमारी ने की। विषय प्रवेश करते हुए डॉ दिवाकर पांडेय ने उपस्थित बुद्धिजीवी समुदाय को विवि की भूमि से जुड़े मुद्दे की विस्तार से जानकारी दी। उर्दू विभागाध्यक्ष डॉ जमील अख्तर ने मार्गदर्शक कमिटी, कार्यकारिणी गठन के साथ जनांदोलन के लिए लोगों में जागरण पैदा करने पर बल दिया। राजद के विजय सिंह मुखिया ने कानूनी लड़ाई के साथ जनांदोलन पर बल दिया। छात्र चन्दन ओझा ने जनप्रतिनिधियों की उदासीनता पर रोष व्यक्त किया। भोजपुरिया जन मोर्चा के भरत सिंह सहयोगी ने जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय समिति बनाकर वार्ता करने तथा लोकसभा के पूर्व प्रत्याशी कुमार शीलभद्र ने शाहाबाद के लोगों को संगठित होकर वीर कुँवर सिंह की अस्मिता बचाने के लिए आगे आने का आह्वान किया। राजनीतिशास्त्र के प्राध्यापक डॉ ओम प्रकाश राय ने कहा कि न्यायिक लड़ाई में हमारा पक्ष मजबूत है तथा संगठित होकर चारों जिलों के मुख्यालय में आंदोलन शुरू करने की बात की। भोजपुरी शोध संस्थान के कृष्णा यादव कृष्णेन्दु ने सामूहिक रूप से सरकार पर दबाव बनाने

Read more

विश्वविद्यालय को बचाने वाला “हस्ताक्षर”

विवि बचाने के लिए चल रहा है हस्ताक्षर अभियान मेडिकल कॉलेज के निर्णय परिवर्तन तक विद्यार्थी परिषद करेगा संघर्ष आरा,10 मार्च(ओ पी पांडेय). VKSU पर मेडिकल कॉलेज बनाने के सरकार के अड़ियल रवैये के बाद सरकार के खिलाफ छात्रों,शिक्षकों और आम जनों का रुख सरकार के प्रति सख्त हो गया है. बताते चलें कि VKSU की स्थापना का काल भी 1985 के दौर में संघर्ष भरा था और विवि की स्थापना के लिए जनपद के लोगों ने व्यापक संघर्ष किया था और अंततः VKSU की स्थापना हुई. आज उस व्यापक आंदोलन के जरिये पहचान बनाने वाले विवि के मिटने की स्थिति में भी पुनः एक बार जनपद एक हो खड़े हैं और आंदोलनरत हैं. छात्र अनिरुद्ध के अनशन के बाद जिसतरह सभी दलों के लोगों ने एक साथ सहयोग किया वह इतिहास याद रखेगा. लंबी वार्ता के बाद प्रशासन का आश्वासन मिला तो अनशन भले ही टूट गया लेकिन सरकार के खिलाफ खुला मोर्चा बन्द नही हुआ. छात्रों और शिक्षकों ने मंगलवार को ही घोषणा कर दिया कि अगले सप्ताह वे आरा हाउस से शान्ति मार्च निकलेंगे वही AVBP ने शाहबाद के कई कॉलेजों में एक दिवसीय धरने के बाद अब हस्ताक्षर अभियान चालू किया है. छात्रों का अंदाज बिल्कुल तल्ख है और किसी भी कीमत पर अपने विवि को खोने की स्थिति में नही हैं. वे लगातार हस्ताक्षर अभियान से जन-जन की भागीदारी सक्रिय करने में लगे हुए हैं. VkSU के जमीन पर मेडिकल कॉलेज के लिए भूमि अधिग्रहण के मामले पर अभाविप के कार्यकर्ता सख्त होते जा रहे

Read more

कैसे टूटा 7वें दिन छात्रों का अनशन !

प्रशासन के आश्वासन पर 7वें दिन छात्रों का अनशन टूटा‘लीड’ के लीडरशिप में अगले हफ्ते आरा हाउस से विवि तक निकलेगा शांति मार्चशामिल होंगे छात्रों के साथ शिक्षक व आम जन भी आरा,9 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज). VKSU के जमीन पर सरकार द्वारा जबरदस्ती 25 एकड़ 14 डिसमिल जमीन को दखल कर मेडिकल कॉलेज बनाने के निर्णय के बाद से विवि के स्तीत्व पर गहराए संकट ने छात्रों और शिक्षकों के साथ जिलावासियों की नीद उड़ा दी. इस खबर ने सबको इतना बेचैन किया कि संवेदनशील छात्रों ने विवि को बचाने के लिए अपने प्राणों की बाजी लगा आमरण अनशन पर बैठ गए. आमरण-अनशन में हर रोज लोग लोगों का सहयोग मिलना शुरू हुआ और एक के बाद एक जब छठे दिन तक अनशन पर बैठे छात्र अनिरुद्ध का  स्वस्थ्य बिगड़ना शुरू हुआ तो प्रशासन की नींद खुली और फिर मंगलवार छात्रों और शिक्षकों के के साथ हुए बातों के बाद प्रशासन द्वारा जब आश्वासन मिला तब छात्रों ने अपना अनशन तोड़ा. वीर कुँवर सिंह विवि को बचाने के संघर्ष की लड़ाई तेज करने के संकल्प के साथ ही लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी (लीड) के सदस्य अनिरूद्ध सिंह ने आज अपना आमरण अनशन एडीएम कुमार मंगलम और कुलपति देवी प्रसाद तिवारी की उपस्थिति में तोड़ा. छात्र अनिरुद्ध सिंह, अमित गौतम, वैभव कुमार पाठक को जूस पिलाने के साथ ही विवि परिसर वीर कुँवर सिंह अमर रहे के नारों से गुंजायमान हो उठा. लीड कार्यकारिणी सदस्यों ने एडीएम के साथ लंबी वार्ता की जिसमें जिला प्रशासन ने बताया कि

Read more

महिला दिवस पर महिला शक्ति का मिला साथ

अनशन की बागडोर छठे दिन महिला शक्ति के हाथमहिला दिवस पर विवि को बचाने आगे आईं शाहाबाद की बेटियाँकल होगी कुलपति और जिलाधिकारी के साथ समन्वय समिति की वार्ता आरा, 8 मार्च(रवि प्रकाश सूरज). लीड संगठन के सदस्य अनिरूद्ध सिंह के आमरण अनशन के छठवें दिन विवि को बचाने की लड़ाई में शाहाबाद की 4 बेटियाँ और विवि की छात्राएं संध्या सिंह, सोनाली कुमारी, सुरभि लता और रूपाली कुमारी भूख हड़ताल पर बैठी. इनके अलावा आज छात्राओं स्नेहा कुमारी, अंकिता सिंह, प्रिया कुमारी ने भी अनशनस्थल पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराई. आज छठे दिन अनिरुद्ध का रक्तचाप अब तेजी से गिर रहा है और इसको देखते हुए लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी की कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से यह प्रस्ताव पारित किया कि अनिरुद्ध सिंह के साथ अप्रिय घटना हुई तो लीड सदस्य अमित सिंह गौतम इस आन्दोलन के नेतृत्व को निर्णायक बिंदु तक ले जाएंगे. इसी बीच अब इस आमरण अनशन को छात्र राजद का समर्थन मिल जाने से प्रशासन पर दबाव बढ़ गया है. विवि प्रशासन ने अनशन तोड़ने की गुजारिश की एक महत्त्वपूर्ण घटनाक्रम में कुलपति देवी प्रसाद तिवारी के साथ विवि के रजिस्ट्रार कैप्टेन श्रीकृष्ण सिंह, सीसीडीसी हीरा प्रसाद, छात्रकल्याण डीन के के सिंह और पूर्व परीक्षा नियंत्रक रामतवाक्या सिंह आज शाम अनशनस्थल पर आए और छात्रों से आमरण अनशन तोड़ने की गुजारिश की. लीड कार्यकारिणी सदस्यों ने इस मुद्दे पर समन्वय समिति बनाकर कुलपति के साथ कल वार्ता करने का प्रस्ताव रखा जिसे विवि ने मंजूर कर लिया। कुलपति ने छात्रों के साथ जिलाधिकारी को भी

Read more

भूख हड़ताल की आग हुई तेज, बाहर से आये छात्र भी अनशन में हुए शामिल

अनशनकारी छात्रों से मिले तरारी विधायक,सोमवार को विधानसभा में फिर गूंजेगा VKSU का मामला शिक्षाविहीन समाज बनाना चाहती है सरकार : सुदामा प्रसाद विवि के अस्तित्व बचाने के संघर्ष में छात्रों के साथ आगे आये विधायक सुदामा प्रसाद आरा,6 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज). विवि की भूमि पर मेडिकल कॉलेज बनाने को लेकर विवि पर गहराये संकट को हटाने के लिए भूख हड़ताल के चौथे दिन भी कोई निष्कर्ष सरकार द्वारा नही निकला। लेकिन लगातार गिरते अनशनकारी अनिरुद्ध के स्वास्थ्य ने जरूर इस भूख-हड़ताल की आग को और तेज कर दी है. भूख-हड़ताल में अनिरुद्ध का हौसला बढ़ाने ही नही बल्कि उनके साथ आमरण अनशन के लिए आरा समेत गोपालगंज से भी छात्र अनशन स्थल पर पहुँच अनशन में बैठ गए हैं. वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा की भूमि स्वास्थ्य विभाग को दिए जाने और इससे विवि के अस्तित्व पर गहराते संकट के विरोध में आज चौथे दिन भी आमरण अनशन जारी रहा. छात्र संगठन लीड के सदस्य और आंदोलन का नेतृत्व कर रहे अनिरुद्ध सिंह के साथ आज से जैन कॉलेज के अमित सिंह गौतम, पंकज सत्यार्थी और गोपालगंज से धरने में शामिल होने आए छात्र मनमीत ओझा भी अनशन पर बैठ गए हैं. दोपहर में तरारी के माले विधायक सुदामा प्रसाद नगर अध्यक्ष दिलराज प्रीतम और आइसा के अध्यक्ष सबीर के साथ विवि परिसर पहुँचे और आंदोलनकारी छात्रों को अपना समर्थन दिया. अपने सम्बोधन में विधायक ने कहा कि वे खुद इस विवि को बनाने के लिए 1985 से ही संघर्ष में शामिल रहे हैं और 7 साल

Read more

‘सरकार’ को होश में आने की छात्रों ने भरी हुंकार,कई जगह प्रदर्शन

विवि गंवाकर मेडिकल कॉलेज छात्रों को नामंजुर, कई जगह प्रदर्शन अनशनकारी छात्र का स्वास्थ्य गिरा, प्रशासन मौनआमरण अनशन के तीसरे दिन भी शासन-प्रशासन की चुप्पी आरा,6 मार्च(ओ पी पांडेय/रवि प्रकाश सूरज). वीर कुँवर सिह विश्वविद्यालय के नूतन परिसर की भूमि मेडिकल कॉलेज को दिए जाने के विरोध में लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी (लीड) के सदस्य छात्र अनिरुद्ध सिंह का स्वास्थ्य शुक्रवार को आमरण अनशन के तीसरे दिन से गिरना शुरु हो गया. विवि के चिकित्सक ने स्वास्थ्य जाँच के बाद बताया कि उनका रक्तचाप अत्यंत निम्न स्तर पर चला गया है और तीन किलो वजन में गिरावट दर्ज हुई है. मगर शासन-प्रशासन की चुप्पी ने जनपद की जनता को आंदोलित करके रख दिया है. दूसरी तरफ तीसरे दिन भी अनशन स्थल पर छात्रों-शिक्षकों और समाजसेवियों का तांता लगा रहा. आज अनशनस्थल पर साथ देने वालों में बी एड कॉलेज के छात्र आगे रहे. भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडेय ने विवि की समस्या के प्रति सरकार की उदासीनता पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि जिले के एक नौजवान का इस तरह आमरण अनशन पर बैठना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है और शाहाबाद के छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा चाहिए. बिहार कांग्रेस के प्रतिनिधि डॉ एस पी राय और आरएसएस के विक्की सिंह ने भी सरकार द्वारा विवि की भूमि को जबरिया खंड-खंड करने को तानाशाही रवैया बताया. गणित विभाग के प्रो विजय सिंह और हिंदी विभाग के व्याख्याता प्रो निलाम्बुज सिंह ने कहा कि लगता है सरकार शिक्षा के प्रति गम्भीर नहीं है, ना ही वो ढंग का विश्वस्तरीय मेडिकल कॉलेज बनाना

Read more

छात्रों की भूख हड़ताल तीसरे दिन भी जारी

दूसरे दिन विवि परिसर हुआ आन्दोलनमयछात्र-शिक्षक आये एक मंच पर आरा,5 मार्च(ओ पी पाण्डेय व रवि प्रकाश सूरज). लीड छात्र संगठन के सदस्य अनिरुद्ध सिंह आमरण अनशन का आज तीसरे दिन भी जारी रहा. ज्ञात हो कि 3 मार्च से ही विवि के स्तीत्व को बचाने और विवि की जमीन से अन्यत्र जगह वृहद और अत्याधुनिक मेडिकल कॉलेज के निर्माण की माँग को लेकर विवि परिसर में अनशन चल रहा है. बीते शाम अनशनस्थल पर सीसीडीसी और इतिहास विभागाध्यक्ष प्रो हीरा प्रसाद और प्रॉक्टर शिवपरसन सिंह आये और अनशनकारी छात्रों का मनोबल बढ़ाने के साथ ही मुद्दे से जुड़ी बातों की जानकारी दी. अनशन के दूसरे दिन सुबह यानि गुरुवार को विवि के चिकित्सक ने अनिरुद्ध सिंह के स्वास्थ्य की जांच की. उनका स्वास्थ्य अभी सामान्य बना हुआ है. दिन में मनोविज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष मंजू सिंह, व्याख्याता प्रतिभा सिंह, भकुस्टा के कार्यकारी अध्यक्ष प्रो वज्रांग प्रताप केसरी, भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडेय, हिंदी विभाग के व्याख्याता निलाम्बुज सिंह, नवनीत कुमार राय, जैन कॉलेज के हिंदी के पूर्व हेड डॉ बलिराज ठाकुर, दर्शनशास्त्र के पूर्व अध्यक्ष महेश सिंह और लोक प्रशासन विभाग के प्राध्यापक प्रो उमेश कुमार ने छात्रों और शिक्षकों को सम्बोधित किया. सभी ने एक सुर से विवि की जमीन को बिना सहमति के मेडिकल कॉलेज के नाम दाखिल-खारिज करने के कृत्य की घोर निंदा की और कहा कि इस फैसले से भोजपुर जिले के तीनों संस्थान विवि, मेडिकल कॉलेज और मानसिक आरोग्यशाला केवल दिखावे की वस्तु बनकर रह जायेगी. दूसरे दिन अनशन में विवि के 80 छात्रों

Read more