28 से खुलेंगे बिहार के हाई स्कूल

बिहार में हाई स्कूल 28 सितंबर से खुल जाएंगे. शिक्षा विभाग ने मंगलवार को एक अहम बैठक में यह फैसला लिया है. इसके बाद स्कूलों के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी गई है. स्कूल 28 सितंबर से क्लास 9 से 12 के लिए जरूर खुल जाएंगे, लेकिन शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने यह स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी बच्चे को स्कूल भेजने के लिए फोर्स नहीं किया जा सकता. जब तक अभिभावक लिखित इजाजत ना दें तब तक बच्चे स्कूल नहीं जा सकते. इजाजत मिलने के बाद भी कोई भी छात्र हफ्ते में सिर्फ दो ही दिन क्लास अटेंड कर सकता है. स्कूलों को सैनिटाइजर और मास्क समेत कोविड-19 से जुड़ी तमाम सुविधाएं उपलब्ध करानी होगी. स्कूलों में 50% टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ ही उपस्थित रहेंगे.ऑनलाइन क्लासेज पहले की तरह चलती रहेगी. pncb

Read more

STET परीक्षा पर आ गया पटना हाई कोर्ट का बड़ा फैसला

बिहार में माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी एसटीईटी की परीक्षा को लेकर पटना हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. दो लाख से ज्यादा शिक्षक अभ्यर्थियों की नजरें इस फैसले पर टिकी थीं. पटना हाईकोर्ट STET 2019 मामले में महत्वपूर्ण फैसला देते हुए स्पष्ट किया है कि बिहार में सेकंडरी टीचर्स एलीबिजिलिटी टेस्ट का आयोजन दोबारा होगा यानी यह परीक्षा 9 सितंबर से होगी. जस्टिस अनिल कुमार सिन्हा ने पंकज कुमार सिंह व अन्य की याचिकाओं पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था. दरअसल एसटीइटी 2019 परीक्षा का आयोजन जनवरी 2020 में हुआ था. इस परीक्षा में कुछ जिलों में प्रश्न पत्र लीक होने के आरोप लगे थे. पहले बिहार बोर्ड ने इन आरोपों से इनकार किया था, इसके बाद छात्रों ने पटना हाई कोर्ट का रुख किया था और इस परीक्षा को रद्द करने की मांग की थी. बाद में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने एक कमेटी का गठन किया और उस कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर परीक्षा को रद्द कर दिया. लेकिन इसके बाद कुछ दूसरे छात्र कोर्ट चले गए और उनका यह कहना था कि अगर कुछ जिलों में परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक हुए हैं तो सिर्फ उन्हीं जगहों की परीक्षा रद्द की जाए और उनकी दोबारा परीक्षा ली जाए बाकी जिलों का रिजल्ट घोषित किया जाए इन सब के बीच बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने एस टी ई टी परीक्षा के दोबारा आयोजन के लिए 9 से 21 सितंबर तक की तारीख घोषित कर दी. इसी मामले में आज हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया

Read more

नीट,जेईई परीक्षार्थियों के लिए बिहार में ट्रेन चलाने की तैयारी

जेईई, नीट एवं अन्य परीक्षाओं को देखते हुए राज्य सरकार ने पर्याप्त संख्या में अंतरजिला एवं लोकल ट्रेन चलाने का रेलवे से किया अनुरोध जेईई, नीट एवं अन्य परीक्षाओं को देखते हुए राज्य सरकार ने अभ्यर्थियों के आवागमन की सुविधा हेतु बिहार राज्य के अंदर अंतर जिला व लोकल यात्री ट्रेनों का परिचालन के लिए पूर्व मध्य रेलवे से अनुरोध किया है. इस संबंध में सोमवार को हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया. मंगलवार को परिवहन सचिव जिलाधिकारी, पटना, एसएएसपी और अन्य संबंधित पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे ताकि परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की समस्या न हो. परिवहन सचिव ने बताया कि इस परीक्षा में शामिल होने हेतु काफी अधिक संख्या में बिहार राज्य के अंदर एवं जिले से दूसरे जिले में अभ्यर्थियों के आवागमन की संभावना है. परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के आवागमन में किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े इसके लिए बिहार राज्य के अंदर पर्याप्त संख्या में अंतरजिला एवं लोकल यात्री ट्रेनों का परिचालन किया जाना आवश्यक है. परीक्षार्थियों के सुविधा हेतु बिहार राज्य के अंदर बसों एवं अन्य वाहनों का परिचालन किया जाना आवश्यक है. इस संबंध में परिवहन सचिव ने सभी डीएम एवं सभी एसपी एसपी को निर्देश दिया है कि अभ्यर्थियों की सुविधा को देखते हुए बिहार राज्य पथ परिवहन निगम एवं निजी बस संचालकों से समन्वय स्थापित करते हुए बिहार राज्य के अंदर पर्याप्त संख्या में बसों का परिचालन सुनिश्चित किया जाए. इसके लिए यथाशीघ्र निजी बस संचालकों एवं ऑटो चालकों के साथ बैठक

Read more

कर्तव्यों का पालन ही राष्ट्रसेवा : डॉ अर्चना सिंह

आरा. संभावना आवासीय उच्च विद्यालय, शुभ नारायण नगर तथा “शारदा-स्मृति” संभावना पब्लिक स्कूल, मौलाबाग, आरा में प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए छात्र-छात्राओं की अनुपस्थिति में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए सादे समारोह में 74 वां स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। झंडोतोलन के समय विद्यालय की शिक्षिकाएं रेणु पांडेय, बिंदु सिंह, अरुणिमा, रौली सिंह, अंशु कुमारी तथा निशु कुमारी ने राष्ट्रगान तथा राष्ट्रगीत प्रस्तुत किया। इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक-शिक्षिकाओं को सम्बोधित करते हुए प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह ने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह पहला मौका है जब हम राष्ट्रपर्व को छात्र-छात्राओं, शिक्षक-शिक्षिकाओं तथा आम जनता की गैर मौजूदगी में मना रहे हैं। उन्होंने शिक्षक-शिक्षिकाओं से कहा कि आप अपने कर्तव्यों का पालन अच्छे से करें, यही हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इस अवसर पर विद्यालय के प्रबंध निदेशक डॉ कुमार द्विजेन्द्र ने अपने सम्बोधन में कहा कि कोरोना महामारी और बाढ़ की विभीषिका को ध्यान में रखते हुए हमे पहले से ज्यादा सजग और सतर्क रहना है। उन्होंने सभी लोगों से अपील किया कि विपदा की इस घड़ी में हम सबको साथ मिलकर मुकाबला करना है। विद्यालय के संगीत शिक्षक सरोज कुमार ने राष्ट्रगीत प्रस्तुत किया। मंच संचालन उप प्राचार्य राघवेन्द्र कुमार वर्मा ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन दीपेश कुमार ने किया। इस अवसर पर शिक्षक-शिक्षिकाएं भी उपस्थित थे। आरा से रवि प्रकाश सूरज की रिपोर्ट

Read more

दसवीं की परीक्षा में छोटे शहरों का जलवा, पटना के स्टूडेंट्स ने भी दिखाया दम

CBSE दसवीं की परीक्षा में इस बार बिहार के छोटे शहरों ने कमाल कर दिया है पटना जोन में जहां एक बार फिर बेटियों ने बेहतर प्रदर्शन किया है वही औरंगाबाद गया बांका और कटिहार के बच्चों ने भी टॉप टेन में जगह बनाई है. बिहार में पूर्णिया के बीपी स्कूल की छात्रा बॉबी प्रशांत 99.2% अंकों के साथ बिहार में टॉपर रही हैं. पटना के केंद्रीय विद्यालय की अलीफा ने 99 फ़ीसदी अंक हासिल किए हैं जबकि नोट्रेडेम अकैडमी की नव्या ने भी 99% अंक हासिल किया है. इनके अलावा गया के ज्ञान भारती स्कूल की मुस्कान को भी नियंत्रित एजेंट मिले हैं. कटिहार की जानवी, औरंगाबाद डीएवी के श्वेताभ श्रीवास्तव और बांका के अद्वैत मिशन स्कूल के निखिल कुमार ने भी 99 अंक हासिल किए हैं. पटना जोन में 90.69% परीक्षार्थियों को सफलता मिली है. 2019 की तुलना में 2020 में 1.17 सीसी छात्र कम पास हुए हैं. 2020 के रिजल्ट में केंद्रीय विद्यालय का जलवा रहा है. रिजल्ट में सबसे ऊपर केंद्रीय विद्यालय के छात्र रहे हैं. पटना जोन की बात करें तो यहां केंद्रीय विद्यालय के 98.87% छात्र पास हुए हैं. पटना की विद्युत बोर्ड डीएवी के सभी 594 छात्र-छात्राएं सफल हुए हैं. डीएवी बीएसईबी कॉलोनी के आयुष प्रतीक को 98.4% मार्क्स मिले हैं जबकि सनोज एस विजेंद्र को 98.2% मार्क्स प्राप्त हुए हैं. 97% मार्क्स के साथ कनिष्क राय अपने स्कूल में तीसरे स्थान पर रहे हैं. बाल्डविन अकैडमी पटना के सौरभ कुमार 97.4% मार्क्स के साथ स्कूल टॉपर रहे हैं. डॉ जी एल दत्ता

Read more

CBSE रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें

Click on the pic to find Your Result. CBSE ने आज 12 वीं कक्षा के नतीजे घोषित कर दिए हैं. 2020 के रिजल्ट में सफल छात्रों के प्रतिशत में 5.38 फ़ीसदी की वृद्धि हुई है. त्रिवेंद्रम ने जहां ओवरऑल रिजल्ट में बाजी मारी है वही पटना रीजन इस बार सबसे पीछे रहा है. यहां करीब 74 फीसदी छात्र सफल हुए हैं. त्रिवेंद्रम में इस साल 97.67% छात्र सफल हुए हैं जबकि पटना में पासिंग परसेंटेज 74.57 है. पीएनसी

Read more

समय से आगे के रचयिता थे भिखारी ठाकुर

आरा. भोजपुरी संस्कृति के अग्रदूत और लोककलाकार भिखारी ठाकुर की 49 वीं पुण्यतिथि का आयोजन स्नातकोत्तर भोजपुरी विभाग, वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय के द्वारा कोरोना संकट के चलते ऑनलाइन व्याख्यान श्रृंखला के रूप में हुआ. इस व्याख्यान का सीधा प्रसारण भोजपुरी विभाग के फेसबुक पेज के माध्यम से किया गया. सुबह के सत्र में प्रख्यात साहित्यकार और भिखारी साहित्य के मर्मज्ञ डॉ जीतेंद्र वर्मा ने सीवान से अपने वक्तव्य में भिखारी ठाकुर के उपर प्रकाशित पुस्तकों की चर्चा की. उन्होंने विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों और शोधार्थियों का आह्वान किया कि वे भिखारी ठाकुर पर अकादमिक शोध कार्यों को पूरा करने की दिशा में प्रयास करें. दोपहर के सत्र में दिल्ली विश्वविद्यालय के सहायक प्राध्यापक और मैथिली-भोजपुरी अकादमी, दिल्ली के कार्यकारिणी सदस्य डॉ मुन्ना कुमार पाण्डेय ने बिदेसिया और गबरघिचोर नाटकों की विशद चर्चा करते हुए इन नाटकों के जरिये भोजपुरिया समाज से जुड़े स्त्री विमर्श के मुद्दों पर सवाल उठाया. उन्होंने इन नाटकों की तुलना कई विश्वप्रसिद्ध समकालीन नाटकों और रचनाओं से करते हुए भिखारी ठाकुर को समय की नब्ज़ पर हाथ रखने वाला और दूरद्रष्टा रचनाकार बताया. बाद में विभागाध्यक्ष प्रो दिवाकर पाण्डेय ने वक्ताओं का धन्यवाद दिया तथा बताया कि वर्त्तमान कोरोना संकट में भी विभाग के द्वारा ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन जारी है तथा इन कक्षाओं में छात्रों की शत-प्रतिशत उपस्थिति रहती है और ऐसे कार्यक्रम भविष्य में भी आयोजित होते रहेंगे. कार्यक्रम के आयोजन में विभाग के शोधार्थियों यशवंत कुमार सिंह, संजय कुमार सिंह, राजेश कुमार, रवि प्रकाश सूरज और सनोज कुमार की महत्त्वपूर्ण भूमिका रही. ऑनलाइन

Read more

पर्यावरण रक्षा ही जीवन सुरक्षा

विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया तिलौथू, पटना नाउ ब्यूरो। सरस्वती विद्या मंदिर तिलौथू के प्रांगण में विश्व पर्यावरण दिवस समारोह का आयोजन किया गया पर्यावरण की सुरक्षा के लिए वृक्षारोपण किया गया इस अवसर पर एक सभा की गई सभा में बैठने की व्यवस्था भारत सरकार के लिए अनुकूल की गई सभा की अध्यक्षता श्री विष्णु कुमार प्राचार्य सरस्वती औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्र तिलौथू ने किया । आगतों का स्वागत एवं परिचय कार्यक्रम की प्रस्तावना प्रधानाचार्य श्री जंगलेश प्रसाद चौरसिया ने किया इस अवसर पर प्रधानाचार्य ने उपस्थित सभी भैया बहनों को अभिभावकों को एवं आचार्यों को पर्यावरण को शुद्ध रखने के लिए पेड़ लगाने का आग्रह किया आज के दिन इस सभा में मोतीलाल मोदी पुरस्कार का वितरण किया गया इस अवसर पर 25 भैया बहनों को जो एससी एसटी परिवार के मेधावी भैया बहन हैं। उन्हें 5 -5 हजार का चेक प्रदान किया गया यह पुरस्कार श्री सुशील कुमार मोदी उपमुख्यमंत्री बिहार के द्वारा प्रत्येक वर्ष 25 भैया बहनों को उनके पिता मोतीलाल मोदी की स्मृति में दिया जाता है यह पुरस्कार विगत 10 वर्षों से लगातार दिया जा रहा है यह 11वां साल है जब 25 भैया बहनों को कुल 1,25000₹ की राशि प्रदान की गई यह राशि सत्र 2019-2020 के लिए दी गई.इस अवसर पर पूर्व छात्र व सामाजिक कार्यकर्ता सत्यानंद कुमार मुख्य अतिथि रहे। पत्रकार राकेश राही, अनिल कुमार कौशल, राजू कुमार मारकोनी, आचार्य श्री सर्वेश चंद्र मिश्र श्री छठू साह श्री रविंद्र प्रसाद, 25 भैया बहन एवं उनके माता-पिता उपस्थित हुए। सभा को सत्यानंद कुमार

Read more

सुझावों पर निर्भर स्कूलों के संचालन का निर्णय

शिक्षा विभाग ने स्कूल संचालन के लिए शिक्षको समेत छात्रों व अभिभावकों से मांगा सुझाव छात्रों,अभिभावकों, शिक्षकों,विद्यालय प्रबंधको व पदाधिकारियों से प्राप्त सुझावों के आधार पर तय होगा शिक्षण संस्थानों का भविष्य पटना, 5 जून. बिहार सरकार के शिक्षा विभाग के अपर सचिव सह निदेशक(मा. शिक्षा) गिरिवर दयाल सिंह ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियो को पत्र जारी किया है. यह पत्र covid-19 संक्रमण के बाद लॉक डाउन हटाने के फेज-II के तहत शिक्षण संस्थानों को पुनः खोलने के लिए जारी किया गया है. 3 जून 2020 को जारी किया गया यह पत्रांक-423/नि. मा. भारत सरकार(गृह मंत्रालय) द्वारा जारी किए 30 मई 2020 के नियमावली के साथ भेजा गया है. सरकार ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियो से उनके जिले में स्थित सभी विद्यालयों से विद्यालय खोलने के लिए प्रस्ताव व सुझाव माँगा है. यह सुझाव शिक्षण संस्थानों में अध्ययन करने वाले छात्र-छात्राओं, अभिभावकों, शिक्षक और विद्यालय प्रबंधको से मांगा गया है. सुझाव covid-19 के संक्रमण से प्राभावित स्थिति के बाद स्कूल,कोचिंग व अन्य अध्ययन वाले स्थलों को खोलने व वहां पठन-पाठन के व्यवस्था को लेकर मांगा गया है.परामर्श 9 बिन्दुओ पर मांगा गया है जिसमेंविद्यालय खोलने की तिथि, क्लास में नामांकन की तिथि, विद्यालय संचालन की अवधि, कक्षा में बच्चों की अधिकतम संख्या, कक्षा अवधि, कक्षा में बैठने की व्यवस्था,प्रार्थना सत्र का संचालन, विद्यालय एवं कक्षाओं में सोशल डिस्टेंस कैसे बनाया जाए जैसे मुदो पर छात्रों,अभिभावकों, शिक्षकों, विद्यालय प्रबंधको व कोचिंग संचालकों सुझाव मांगे गए हैं. इन सुझावों को जिला शिक्षा पदाधिकारी तक 6 जून तक मेल के जरिये भेजना है

Read more

प्राथमिक शिक्षकों के नियोजन की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू

हो जाइए तैयार, जारी होने वाला है शेड्यूल बिहार के प्राथमिक और मध्य विद्यालयों में 92000 से ज्यादा शिक्षकों के नियोजन की प्रक्रिया इसी महीने तीसरे हफ्ते में शुरू होने की संभावना है. विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक शिक्षा विभाग ने शेड्यूल तय कर लिया है और शिक्षा मंत्री की सहमति के बाद इसे जारी करने की तैयारी हो रही है. 20 जून के बाद छठे चरण के नियोजन की प्रक्रिया शुरू होगी जिसमें एनआईओएस से D.El.Ed करने वाले शिक्षकों को आवेदन के लिए 30 दिन का समय मिलेगा. जिन लोगों ने पहले से आवेदन कर रखा है उन्हें दोबारा आवेदन नहीं करना है. प्राथमिक शिक्षकों के नियोजन के लिए आवेदन की आखिरी तिथि 11 नवंबर 2019 थी. अप्रैल महीने में नियोजन पत्र बांटने के लिए 11 से 13 अप्रैल के बीच का समय तय किया गया था. लेकिन पटना हाईकोर्ट के आदेश के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था. पटना हाई कोर्ट ने जनवरी महीने में एनआईओएस डीएलएड शिक्षकों को लेकर एक महत्वपूर्ण आदेश जारी किया था. बिहार सरकार को एनआईओएस डीएलएड शिक्षकों को आवेदन का मौका देने के लिए 30 दिन का समय देने का आदेश पटना हाईकोर्ट ने दिया था. इसके बाद जब एनसीटीई ने बिहार सरकार के पत्र का जवाब देकर एनआईओएस डीएलएड शिक्षकों की डिग्री का मामला स्पष्ट किया उसके बाद शिक्षा विभाग ने पटना हाईकोर्ट में फाइल की गई अपनी याचिका को वापस लेते हुए इन शिक्षकों को नियोजन में मौका देने के लिए शेड्यूल जारी करने का फैसला किया. इस बारे में प्राथमिक

Read more