रचनाओं की गहराई के साथ उम्र का कोई ताल्लुक नहीं – त्रिपुरारि

पटना/मुम्बई (ब्यूरो रिपोर्ट) | महज़ 30 साल की उम्र में स्कूल सिलेबस में शामिल किए जाने वाले त्रिपुरारि उर्दू के शायर और अफ़्साना निगार हैं. उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से हिंदी और उर्दू अदब की पढ़ाई की. फिर मास कम्युनिकेशन में एम.ए. किया. कुछ दिनों तक बतौर कॉपीरायटर/सम्पादक, विभिन्न मीडिया संस्थानों से जुड़े रहे और दिल्ली यूनिवर्सिटी समेत अन्य संस्थानों में पढ़ाया भी. सन् 2017 में योरकोट हिमालयन रायटिंग फ़ेलोशिप मिली. सन् 2018 में कहानी-संग्रह ‘नॉर्थ कैम्पस’ के लिए लिट्-ओ-फ़ेस्ट मैन्यूस्क्रिप्ट कॉन्टेस्ट अवार्ड से नवाज़ा गया. सन् 2019 में इनकी शायरी को महाराष्ट्र बोर्ड के स्कूल सिलेबस में ग्यारहवीं क्लास के लिए शामिल किया गया. फ़िलहाल, मुम्बई में रहते हुए फ़िल्म/टीवी के लिए गीत-स्क्रिप्ट लेखन कर रहे हैं. उनसे बातचीत कर उनके बारे में पूछा गया तो उनके जवाब मजेदार थे. आइये जानते हैं उनसे बातचीत के कुछ मुख्य अंश….सवाल: बिहार के छोटे से गाँव एरौत में रहने वाले छोटे से बच्चे ने कभी सोचा था कि महाराष्ट्र के पाठ्य पुस्तक में उसकी रचनाएं शामिल की जाएंगी? कैसा लग रहा है? त्रिपुरारि: सच कहूँ तो किताब में छपने का ख़याल एक बार आया था लेकिन तब मैं दूसरी क्लास में पढ़ता था. हुआ यूँ कि मैंने एक बहुत ख़ूबसूरत सी कविता पढ़ी थी जो बारिश पर थी. मन में अजीब सा ख़याल कौंधा- क्या कभी ऐसा हो सकता है कि मेरी लिखी कविता लोग पढ़ें. ये बात मुझे अचानक उस घड़ी याद आई, जब महाराष्ट्र की स्कूल सिलेबस बनाने वाली समिति का मेल आया. बहुत महीनों तक तो यक़ीन ही नहीं

Read more

भोजपुरिया बेटी ने बढ़ाया माटी का मान

लोकगायिका चंदन तिवारी को मिला संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार संगीत नाटक अकादमी दिल्ली द्वारा उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार 2018 की घोषणा जब हुई तो भोजपुर जिले के लोगों की खुशी का ठिकाना ना रहा क्योंकि मूल रूप से भोजपुर के बड़कागांव की निवासी लोक गायिका चंदन तिवारी को लोकगायन के क्षेत्र में यह पुरस्कार दिया गया है. चंदन तिवारी महज 3 साल की उम्र से भोजपुरी गीतों को आवाज दे रही हैं, मगर इनकी ख्याति किशोरावस्था में महुआ टीवी चैनल के जरिए हुई बाद में इन्होंने कई और टीवी चैनल, आकाशवाणी पर प्रस्तुति दी. उसके बाद से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. भोजपुरी गीतकारों और गायकों के बीच गैप को भरा चन्दन की गायकी ने आज से करीब 4 साल पहले इन्होंने ‘लोकराग’ और ‘पुरबियातान’ के बैनर से लोक गायकी शुरू की और अभी तक इन्होंने करीब 40 गीतकारों के के गीतों को सुरों से संवारा है जिनमें चर्चित गीतकार भिखारी ठाकुर, महेंद्र मिसिर से लेकर वैसे गीतकार भी शामिल है जिन्हें लगभग भुला दिया गया है या चर्चा में नहीं है जैसे कैलाश गौतम, विश्वनाथ शैदा, रसूल मियां आदि. भोजपुरी के अलावा इन्होंने मैथिली गीतकार स्नेहलता और मगही गीतकार मथुरा जी के गीतों को भी गाया है. चंदन ने बहुत कम उम्र में भोजपुरी लोकगायन को एक ऊंचाई दी है और विंध्यवासिनी देवी,शारदा सिन्हा की परंपरा को आगे बढ़ाया है. जब भोजपुरी गायकी एक संक्रमण के दौर से गुजर रही है और अश्लीलता से संघर्ष कर रही है उस वक्त चंदन ने सस्ती लोकप्रियता और बाजार की मांग

Read more

संगीत से किया भब्य स्वागत

गुरु शिष्य परंपरा आज भी कायम आरा. पकड़ी रोड स्थित म्यूजिक एंड आर्ट पॉइंट (संगीत एवं कला विद्यालय) में संगीत एवं नृत्य के छात्र-छात्राओं द्वारा गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर संस्था के निर्देशक सह संगीत गुरु वेद प्रकाश ‘सागर’ का भव्य सम्मान समारोह आयोजित किया गया. इस अवसर पर छात्र-छात्राओं द्वारा अनेको प्रस्तुतियां कलात्मक ढंग से प्रस्तुत की गई. गायन में जहां एक ओर अदिति , गौरव विशाल सिंह , रोशन प्रताप कुमार , जितेंद्र , आयुष पटेल (तबला) , मंगल ओझा (नाल) , मोहित (गिटार) , सागर कुमार (कीबोर्ड) , मंगलम (तबला) , अभिषेक ,अंजली आर्य , प्रिया , कुमारी प्रगति , कुमार वैभव (तबला) , प्रियांशु रंजन , सोनू कुमार , पंकज कुमार पाठक , राजनंदन सिंह , रामाकांत राम , याचना , हिमान्द्री , प्रशांत सिंह ,राजा बाबू , राजा भाई , शशि कपूर , अमित कुमार , पांडे जी , मिंटू यादव , लवली सिन्हा , अनिकेत कुमार , रतन सिंह , वहीं नृत्य में नृत्य निर्देशक मनु राज के नेतृत्व में नैंसी , मानया , आरव , आरूष , चारू आनंद , आशना ,वेदांन्शी , आशी , नव्या , रिद्धि , प्राची ,अंशी सिंह ,रोहित , प्रिया , सोनाली , निशा , सृष्टि , सौम्या , आकृति , हर्षिता , श्रुति , कशिश , सहित अन्य छात्राओं ने अपनी कला का प्रदर्शन किया इस अवसर पर राष्ट्रपति पुरस्कार सम्मानित शंभू नाथ मिश्र , प्रोफेसर डॉक्टर रणविजय कुमार सहित कई अभिभावक इस उत्सव का हिस्सा बने. सभा का संचालन गौरव विशाल सिंह गोलू ने किया

Read more

भारतीय संगीत में किसका है अमिट योगदान?

chandan tiwari

‘बिहार का अमिट योगदान रहा है भारतीय संगीत में’ : भिखारी ठाकुर पुण्यतिथि स्पेशल पटना. लोककलाकार और भोजपुरी रंगमंच के सशक्त हस्ताक्षर भिखारी ठाकुर की पुण्यतिथि के अवसर पर एक बेहद ख़ास आयोजन ‘बिहारनामा’ पटना के बिहार म्यूजियम में हुआ, जिसके सह-आयोजक ‘आखर’ और ‘लोकराग’ थे. कार्यक्रम की शुरुआत में अतिथियों का स्वागत विनोद अनुपम ने किया. ‘भिखारी की रचनाओं में स्त्रियाँ’ पर हुई चर्चा आयोजन के पहले भाग में एक बतकही हुई जिसका विषय था– ‘भिखारी की रचनाओं में स्त्रियाँ’ और इस पर चर्चा कर रहे थे चर्चित भोजपुरी साहित्यकार तैयब हुसैन पीड़ित और कथाकार हृषिकेश सुलभ. हृषिकेश सुलभ ने कहा कि भिखारी ठाकुर ने अपनी रचनाओं में स्त्रियों को जो आवाज़ दी है वो सिर्फ तात्कालिक नहीं, बल्कि आज भी उतनी ही प्रासंगिक और आगे भी रहेगी, शायद इसीलिए ‘गबरघिचोर’ का मंचन अब ‘बिदेसिया’ से ज्यादा हो रहा है. तैयब हुसैन पीड़ित ने कहा कि अक्सर हम भिखारी ठाकुर के व्यक्तित्व का समग्र मूल्यांकन नहीं कर पाते. आगे उन्होंने कहा कि नाई समाज में जनम होने की वजह से भिखारी ठाकुर को स्त्रियों की व्यक्तिगत समस्याओं का पता लगाने की सहूलियत थी और इसी की वजह से शायद उनके नाटकों में स्त्रियों का दर्द झलकता है. बतकही के सूत्रधार ‘आखर’ के संजय सिंह थे. दोनों रचनाकारों ने दर्शकों के सवालों का जवाब भी दिया. ‘गायन-वादन-नृत्य की परम्परा की जन्मस्थली है बिहार’ : डॉ झा ‘बिहारनामा’ के अगले भाग में एक व्याख्यान का आयोजन हुआ जिसका विषय था– ‘बिहार की संगीत परंपरा और भारतीय संगीत में उसका योगदान’ और

Read more

बिहार के संगीत और लोकगायन को जानना हो तो कल जरूर आइए

‌बिहार में संगीत परंपरा और लोक गायन को समझने की कोशिश है बिहारनामा पटना,9जुलाई. आने वाली 10 जुलाई को भोजपुरी के शेक्सपियर और लोक कलाकार भिखारी ठाकुर की पुण्यतिथि मनाई जाएगी. इस मौके पर एक विशेष आयोजन पटना के बिहार म्यूजियम में ‘लोकराग’ की तरफ से हो रहा है जिस के सह-आयोजक ‘आखर’ हैं और विशेष सहयोग बिहार म्यूजियम की तरफ से होगा. यह कार्यक्रम दोपहर 2:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक चलेगा. कार्यक्रम का शीर्षक ‘बिहारनामा’ रखा गया है, जिसमें चर्चा का विषय बिहार की संगीत परंपरा और भारतीय संगीत में उसका योगदान होगा. विशेष व्याख्यान नॉर्वे में रहने वाले और पेशे से डॉक्टर चर्चित लेखक प्रवीण झा देंगे जिनकी किताब ‘कुली लाइंस’ भारतीय आप्रवासी मजदूरों पर आधारित है और अभी चर्चा में है. डॉक्टर झा की अगली किताब संगीत पर है आने वाली है. इस व्याख्यान के बाद एक संवाद का भी आयोजन होगा जिसमें भिखारी ठाकुर के जीवन पर शोध करने वाले तैयब हुसैन पीड़ित और चर्चित लेखक हृषिकेश सुलभ शिरकत करेंगे और भिखारी ठाकुर की रचनाओं में स्त्रियों का स्वर और उनके पक्ष पर चर्चा करेंगे साथ ही वे श्रोताओं के सवालों का भी जवाब देंगे. कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण ‘पुरबिया तान’ फेम गायिका चंदन तिवारी और उनकी टीम का भोजपुरी में भिखारी ठाकुर के गीतों का गायन होगा. इस आयोजन में कई नामी-गिरामी साहित्य, संगीत और संस्कृति से जुड़े लोग शिरकत करेंगे. कार्यक्रम का सूत्रधार ‘आखर’ होगा और इस कार्यक्रम में श्रोताओं का प्रवेश निशुल्क होगा. ऐसी उम्मीद है कि ऐसा अनूठा आयोजन बिहार

Read more

देखिए बक्सर में हुई गंगा स्तुति, मौजूद थे 350 बच्चे

मेधावी छात्रों ने अच्छे अंको के जरिये दिखाई प्रतिभा तो कला की प्रस्तुति कर बच्चों ने मनवाया अपने प्रतिभा का लोहा डुमराँव के छात्र कलाकारों का कार्यक्रम में रहा जलवा बक्सर, 7जुलाई. दैनिक भास्कर ने बक्सर के कला कला भवन में मेधावी छात्र सम्मान समारोह 2019 का आयोजन शनिवार को किया. समारोह में 300 से अधिक बच्चों को सम्मानित किया गया. सम्मान बिहार बोर्ड में 80 % से ऊपर अंक लाने वालों को और CBSE बोर्ड में 85% से अधिक अंक लाने वालों को दिया गया. कार्यक्रम का उद्घाटन SDO कृष्ण कुमार उपाध्याय, SDPO सतीश कुमार ,भरत मिश्रा,डॉ कन्हैया मिश्रा, रेड क्रॉस के सेक्रेटरी श्रवण तिवारी,प्रोफेसर महेशदत्त सिंह, माइकल पांडेय और बक्सर ब्यूरोचीफ मंगलेश तिवारी ने संयुक्त दीप जलाकर किया. कार्यक्रम में जहाँ अच्छे अंको से पास करने वालो को सम्मानित किया गया वही स्कूली छात्र कलाकारों ने अपनी कला का प्रतिभा डांस के माध्यम से ऐसा दिखाया कि उपस्थित अभिभावकों, शिक्षकों और बच्चों के बीच उनका खुमार कार्यक्रम के अंत तक रहा. कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन और फिर राष्ट्रगान से हुआ. डुमराव के शिक्षक शैलेंद्र राजू ने माउथ ऑर्गन के सहारे राष्ट्रगान की धुन निकाली जिस पर प्रेक्षागृह में उपस्थित जनसमूह राष्ट्रगान के सम्मान में खड़े हो गए और धुन के साथ राष्ट्रगान को खुद भी गुनगुनाया. उसके बाद कार्यक्रम की पहली प्रस्तुति कैंब्रिज स्कूल डुमराव की बच्चियों ने ने गंगा स्तुति के रूप में दी जिसमें उदिता, प्रतीक्षा,आस्था, अंशिका,आकांक्षा, श्रेया,आक्षिका, जूही और दीक्षा ने अपने शानदार भाव-भंगिमाओ से दर्शकों की खूब तालियां बटोरी. गंगा स्तुति को देखने

Read more

दो दिवसीय मलिका फैशन एंड लाइफ स्टाइल एग्जीबिशन लोगों के आकर्षण का केंद्र बना

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | नागपुर की कंपनी मलिका फैशन एंड लाइफ स्टाइल एग्ज़ीबिशन द्वारा पटना के होटल लेमन ट्री में देश के विख्यात परिधान के निर्माताओं के डिजाइनर कपडे और आकषर्क ज्वैलरी के रेंज के साथ दो दिवसीय प्रदर्शनी की विधिवत शुरुआत की गई. यह प्रदर्शनी पूरी तरह निःशुल्क है जो दिन में बारह बजे से रात्रि नौ बजे तक चलेगा. इस प्रदर्शनी में 40 स्टाइलिश स्टॉल लगाए गए है जिसमें इन उत्पादों के विभिन्न रेंज पटनावासियों के लिए आकषर्ण का केंद्र बने हुए हैं.इस प्रदर्शनी का लोकार्पण करते हुए पटना की प्रसिद्ध स्त्री-रोग विशेषज्ञ डॉ0 सारिका राय ने कहा कि मलिका एग्ज़ीबिशन पटनावासियों के लिए एक सुखद अहसास के रूप है जहां एक उपभोक्ता अपनी क्रयशक्ति के अनुसार एक उच्चस्तरीय आइटम के रेंज से खरीदारी कर सकता है. विभिन्न ब्रांड के आकर्षक रेंज के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए आयोजकों ने बताया कि मलिका फैशन एंड लाइफ स्टाइल एग्जीबिशन द्वारा अबतक देशव्यापी स्तर पर अपने 13वें एग्जीबिशन संस्करण का सफल प्रदशर्न किया जा चुका है. सराहनीय प्रयास एवं रेंज के कारण उपभोक्ताओं के लिए यह प्रदर्शनी मील का पत्थर साबित हो रही है. उपभोक्ताओं के लिए विभिन्न आइटम के रेंज रखे गये हैं ताकि लोगों को खरीदने में आसानी हो. आयोजिका प्रतिमा सबलोक ने बताया कि वर्तमान समय में उपभोक्ताओं के पसंद की व्यापकता को देखते हुए हम हमेशा तैयार रहते हैं क्योंकि हमारे लिए आधुनिक तकनीक के जमाने में उपभोक्ताओं की पसंद का खास महत्व है. ज्वेलरी रेंज के बारे में बताते हुए आयोजिका प्रतिमा सबलोक

Read more

पटना में 10 मई से होगी गर्मी की छुट्टी |डीएम ने गर्मी को देखते हुए दिया आदेश

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | जिला पदाधिकारी कुमार रवि ने पटना जिला में वर्तमान में भीषण गर्मी एवं लू की स्थिति देखते हुए जिले के सभी स्कूलों को 10 मई से ही गर्मी की छुट्टी प्रारंभ करने को कहा है. डीएम ने बताया कि अभी भीषण गर्मी व लू के कारण छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य को लेकर उनके अभिभावकों में चिन्ता व्याप्त है तथा दोपहर में देर तक धूप में रहने के कारण छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि भीषण गर्मी एवं लू को देखते हुए सभी विधालयों में होने वाली पूर्व निर्धारित गर्मी की छुट्टियों को 10 मई, 2019 से ही प्रारंभ किया जाना आवश्यक प्रतीत होता है तथा गर्मी की छुट्टियों हेतु पूर्व से निर्धारित दिनों की संख्या के अनुरूप दिनांक 10 मई, 2019 से दिनों की गणना करते हुए तद्नुसार गर्मी के अवकाश के बाद स्कूल खोला जाना छात्र-छात्राओं के हित में आवश्यक प्रतीत होता है. इस तरह गर्मी की छुट्टियों में पूर्व से निर्धारित दिनों में कोई वृद्धि नहीं की जानी है और मात्र इसे 10 मई से प्रारंभ किया जा सकता है.जिला पदाधिकारी ने सभी विधालय को निर्देश दिया कि 10 मई से शुरू होने वाले ग्रीष्मावकालीन अवकाश संबंधी आदेश निर्गत करें तथा दिनांक 09.05.2019 तक सभी विद्यार्थियों एवं अभिभावक को सूचित करें ताकि विभिन्न विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्र-छात्रा भी वर्तमान में पड़ रही भीषण गर्मी एवं लू से प्रभावित होने से बच सकें. यदि किसी निजी विद्यालय द्वारा 10 मई, 2019 से पूर्व ग्रीष्ण अवकाश निर्धारित है तो वे

Read more

जानिए किस पुरातन नगरी में धूमधाम से मनी महावीर जयंती

जैनों की पुरातन नगरी ‘आरा’ में धूमधाम से मनी ‘भगवान महावीर जयंती गाजे-बाजे के साथ जैन धर्मावलंबियों ने निकाली भव्य शोभायात्रा आरा,16अप्रैल. जैनों की पुरानी नगरी आरा में भगवान महावीर जयंती पर मनाए जाने वाले तीन दिवसीय भगवान महावीर जन्मकल्याणक महोत्सव का समापन भव्य शोभायात्रा समेत कई कार्यक्रमों के साथ हुआ. महोत्सव में न सिर्फ जैन समुदाय बल्कि अन्य समुदायों के लोगों ने भी हिस्सा लिया. बताते चलें कि प्राचीन समय से ही जैन समुदायों के लिए आरा एक विशिष्ट स्थान रखता है. यहाँ जैन धर्म के 24वे तीर्थंकर का आगमन भी हुआ है और लगभग 5 दर्जन जैन मंदिर है. आधुनिकता के साथ भले ही शहर बदल गया हो लेकिन प्राचीन काल से अबतक भगवान महावीर की जयंती धूमधाम से मनाई जाती है. प्रातःकाल 5 बजे : बच्चों ने प्रभातफेरी निकाला जो श्री शान्तिनाथ जैन मंदिर से गोपाली चौक, धर्मन चौक, महादेवा रोड, महाजन टोली न01 और 02 के विभिन्न गलियों से होते हुये पुनः मंदिर पहुँचकर सम्पन्न हुआ. प्रभातफेरी में बच्चे हाथों में जैन-ध्वज लहराते हुये भगवान महावीर का जयकारा लगा रहे थे. अंतिम दिन भगवान महावीर की भव्य शोभायात्रा भी निकाली गई जो श्री शान्तिनाथ मंदिर से होते हुए शहर के शहर के गोपाली चौक, जेल रोड, शिवगंज, हॉस्पिटल रोड, बड़ी मठिया, महादेवा, चित्रटोली रोड होते हुये हर प्रसाद दास जैन स्कूल स्थित पांडुकशीला पर पहुँच समाप्त हुआ. शोभायात्रा में सौधर्म इंद्र-इन्द्राणी सविनय-ज्योति जैन श्री को अपने हाथों में लिए हुये रथ पर विराजमान थीं. शोभायात्रा में गाजे-बाजे, ऊँट और सैकड़ों की संख्या में महिलाएं, बच्चे और

Read more

महावीर जयंती पर त्रिदिवसीय जन्मकल्याणक महोत्सव

आरा, 15 अप्रैल. महावीर जयंती के अवसर पर शान्तिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में श्री महावीर जयंती समारोह समिति के तत्वावधान में त्रिदिवसीय भगवान महावीर जन्मकल्याणक महोत्सव का आयोजन किया गया. सोमवार को महोत्सव का शुभारंभ हुआ. महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया. अपराह्न 4 बजे क्विज प्रतियोगिता से कार्यक्रम की शुरुआत हुई जिसमें करीब 65 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया. क्विज़ प्रतियोगिता की संयोजिका डॉ नीलम जैन और रश्मि जैन ने सभी प्रतियोगियों को समिति द्वारा प्रोत्साहन पुरस्कार वितरित किया. सन्ध्याकालीन कार्यक्रम में आरती थाल सजाओ सह मंगल आरती गायन प्रस्तुति हुई, जिसे आस्था जैन एवं सपना जैन ने संयोजित किया, जिसमें रिषिभा जैन, माहिया जैन, शरण्य जैन, सुधात्म जैन, प्रेक्षा जैन, दर्शिका जैन, प्रिया जैन, स्वर्णिका जैन इत्यादि बच्चों की प्रस्तुति अच्छी रही. इसके पश्चात भजन संध्या का कार्यक्रम संयोजिका डॉ जया जैन एवं सह संयोजक मनीष कुमार जैन, निलेश कुमार जैन के संयुक्त मंच संचालन में हुआ जिसमें अनेक युवक-युवतियों के साथ पुरुष-महिलाओं ने भी भजन की प्रस्तुति दी. जिसमें प्रियंका जैन, सेजल जैन, डॉ श्वेता जैन, दीपक प्रकाश जैन, पूर्णिमा जैन, सुश्री शारदा जैन, दिव्यांशु जैन, संगीता ठाकुर, बिमलेश जैन इत्यादि लोगों ने जैन धर्म पर आधारित “बाजे कुंडलपुर में शहनाई, सूरज ये सन्देशा लाया धरती पर उत्सव आया, मेरे महावीर झुले पालना,” जैसे कई भजन की प्रस्तुति दी. भजनों की शानदार प्रस्तुति में दर्शक घण्टो झूमते रहे. इस महोत्सव में समिति के अध्यक्ष डॉ प्रो राकेन्द्र चन्द्र जैन, सचिव अखिलेश कुमार जैन, उपाध्यक्ष अरिंजय कुमार जैन, डॉ विकाश जैन, कोषाध्यक्ष मनोज

Read more