सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए बनेगी कार्ययोजना

सड़क हादसों में हर रोज बड़ी संख्या में हो रही मौत को देखते हुए आपदा प्रबंधन प्राधिकरण जल्द ही इसपर एक कार्ययोजना तैयार करेगा. ये कहना है BSDMA के उपाध्यक्ष व्यास जी का. बता दें कि बेहतर सड़क और हाई स्पीड गाड़ियों के कारण हर साल रोड एक्सीडेंट में घायल होने वाले या जान गंवाने वाले लोगों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है.




बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से गुरूवार को सड़क दुर्घटनाओं को रोकने एवं कम करने के संबंध में पटना में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला में सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम एवं उसमें कमी तथा सड़क सुरक्षा पर कार्य-योजना बनाने को लेकर विचार-विमर्श किया गया. इस अवसर पर कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए प्राधिकरण के उपाध्यक्ष व्यास जी ने कहा कि बिहार सरकार ने आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए एक रोड मैप बनाया है, जिसके अंतर्गत राज्य में बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए भी कार्य किया जाना प्रस्तावित है. इसी उद्देश्य से आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से एक कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला में आपदा प्रबंधन के अतिरिक्त परिवहन विभाग, मोटर चालक यूनियन के कर्मियों, एवं अन्य भागीदारों समेत डॉक्टर्स ने भी भाग लिया.


व्यास जी ने कहा कि राज्य में हर साल सड़क दुर्घटनाओं में पांच हजार से ज्यादा लोगों की मृत्यु होती है और जिस प्रकार से नयी एवं उच्च गुणवत्ता की सड़कें लगातार बनी हैं तो आनेवाले समय मे सड़क दुर्घटनाएं और बढ़ सकती हैं. प्राधिकरण द्वारा सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के साथ-साथ इनसे बचाव के उपायों के लिए एक कार्य-योजना बनायी जायेगी.
इस मौके पर अग्निशमन एवं होमगार्ड के महानिदेशक पी एन राय ने कहा कि शराबबंदी के कारण के कारण सड़क दुर्घटना मे कमी आई है. चालक की लापरवाही, लाइसेंस देने में लापरवाही अथवा गड़बड़ लाइसेंसिग प्रक्रिया को ठीक करने की जरूरत है. चालकों को प्रशिक्षण देने की आवश्यकता है. आयुष के महानिदेशक डॉ सतेन्द्र ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं में किसी भी आपदा की अपेक्षा अधिक मौत होती है, जिसे रोके जाने की आवश्यकता है.


इसके अतिरिक्त बिहार रेडक्रास के अध्यक्ष,  डॉ बीबी सिन्हा, डॉ विनोद भांटी, विंग कमांडर सेवानिवृत, नरेन्द्र कुमार आदि ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किये. कार्यशाला का संचालन अनुज तिवारी, वरीय सलाहकार ने किया. इसके अतिरिक्त प्राधिकरण से कार्यशाला के नोडल पदाधिकारी डॉ जीवन कुमार, वरीय सलाहकार, डॉ शंकर दयाल एवं अजित कुमार समैयार, वरीय संपादक, मोनिषा दूबे आदि उपस्थित थे. पटना के ट्रैफिक एसपी पी के दास भी इस दौरान वहां मौजूद थे. उन्होंने चर्चा में भाग लिया और आए दिन होने वाले हादसों के लिए रोड पर अनुशासित ड्राइविंग पर जोर दिया.

 

पटना से फैज