10 दिवसीय आयोजन में दिखेगा भोजपुरी लोक संस्कृति का रंग

आरा के रमना मैदान में होगा आयोजन

कई देशों से आएंगे विदेशी मेहमान




मॉरीशस,गुआना,किबी, सूरीनाम, हॉलेंड,अमेरिका से आयेंगे लोग 

2 अप्रैल से 9 अप्रैल तक होगा आयोजन 

भोजपुरी लोक संस्कृति महोत्सव 2017 के आयोजन के लिए आज भोजपुरी विकास एवं शोध ट्रस्ट ने एक प्रेस कांफ्रेंस स्थानीय रेडक्रॉस के सभागार में आयोजित किया. पत्रकारों को संबोधित करते हुए आयोजन के निदेशक कृष्ण यादव कृष्णेन्दु ने कहा कि भोजपुरी के लुप्त हो रहे साहित्य से संस्कृति तक को समेटने के उद्देश्य से इसका आयोजन किया जा रहा है. उन्होंने भोजपुरी भाषा के लिए प्रयास निरंतर आंदोलन की चर्चा करते हुए कहा अब भोजपुरी के खान-पान से लेकर पहनावा तक इस महोत्सव में देखने को मिलेगा. कार्यक्रम प्रभारी डॉ अरविन्द राय ने भोजपुरी के कई शैलियों, लोकधुनों और लोकनृत्य की टोलियों के खोजने की बात कहते हुए कहा कि वो निरंतर दुर्लभ भोजपुरी के कलाकारों से संपर्क बनाए हुए हैं और ये सभी आयोजन का हिस्सा बनेंगे. कार्यक्रम के संयोजक ओ पी पाण्डेय ने मीडिया को ब्रीफ करते हुए आयोजन के उद्देश्य और स्वरूप पर प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य वैसे युवा पीढ़ी से भोजपुरी का दर्शन कराना है जो भोजपुरी का मतलब सिर्फ अश्लील ही समझते हैं.

इस महोत्सव में आने के बाद पता चलेगा कि असली भोजपुरी की संस्कृति क्या होती है. मशहूर साहित्यकार जगन्नाथ मिश्र ने कहा कि “भोजपुरी हमार श्लील ह आ ई कबहु मिटी ना. भोजपुरिया बाहर गईलें त अच्छा भईल, उ कुल्ह सहेज के रखलें बाड़न.” उन्होंने इस आयोजन पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इस आयोजन में एक 250 संस्कार गीतों का संग्रह ‘कवना बने रहेलु ए कोइलर’ नाम से प्रकाशित होगा जिसे इस महोत्सव में विमोचित किया जायेगा. मीडिया प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने कहा कि भोजपुरी पुरोधाओं को भी इस महोत्सव में जगह दिया जायेगा और पटौरा,लेमचा,लकठो,बतासा,खीरमोहन,टिकरी, सोनपापड़ी,बिहियाँ का पूड़ी, समेत तमाम भोजपुरी व्यंजनों को भी महोत्सव में लोगों के समक्ष आयोजन स्थल पर उपलब्ध कराया जायेगा. कार्यक्रम में छपने वाले स्मारिक के संपादक साहित्यकार डॉ रविंद्र शाहाबादी ने कहा संस्कृति अगर जिन्दा रहे तो भाषा कभी मर नहीं सकती. यह आयोजन भोजपुर और भोजपुरी को और समृद्ध करेगा.

कई देशों से आएंगे मेहमान

इस कार्यक्रम में भोजपुरिया क्षेत्र से जहाँ तमाम कलाकारों का जमवाड़ा होगा वही इस कार्यक्रम को देखने, सुनने और इसमें बतौर मेहमान के तौर पर मॉरीशस,गुआना,किबी, सूरीनाम, हॉलेंड,अमेरिका जैसे कई देशों से भोजपुरी जानने वाले देसी मेहमान आएंगे.

मनीषा बनी ब्रांड एम्बेसडर

कार्यक्रम में लोकगायिका मनीषा श्रीवास्तव को ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है. नयी उभरती युवा पीढ़ी की ऊर्जावान गायिका मनीषा एक ऐसी गायिका है जसने अबतक कोई भी अभद्र और अश्लील गाना नहीं गाया है. अपनी बेहतरीन गायकी और भोजपुरी एल्बम (परदेसी पिया) में पांच विधाओं में गाने की वजह से कला एवं संस्कृति विभाग गया में सम्मानित भी करने वाला है. प्रेस वार्ता में उपस्थित गायिका ने कहा कि इस महोत्सव के लिए मुझे ब्रांड एम्बेसडर के रूप में चुनकर आप सबने मेरे जीवन का दूसरा अविश्मरणीय पल दे दिया है. मैं भोजपुरी के लिए कृत संकल्पित हूँ और इसे आगे ले जाने के लिए हमेशा प्रयास करुँगी.

आज की प्रेस वार्ता में उपस्थित लोगों में कार्यक्रम के प्रवक्ता मंगलेश तिवारी, रौशन पपुल, अनूप औलिक, संजीव सिन्हा, सुमित श्रीवास्तव, यशवंत सिंह, हरिओम, ब्रजेश सिंह, अनिल यादव, सनोज यादव,पप्पू यादव,विशाल शमशाद प्रेम, नरेन्द्र सिंह और राजीव नयन अग्रवाल शामिल थे.