बाबरी विध्वंस की 26 वर्षगांठ पर भगवा मार्च | यूनाइटेड हिन्दू फ्रंट ने विजय दिवस मनाया

दिल्ली / जंतर मंतर (आशुतोष श्रीवास्तव की रिपोर्ट) | जैसा कि ज्ञातव्य है कि 6 दिसंबर 1992 को ही बाबरी मस्जिद विध्वंस हुआ था, जिसकी जिम्मेदारी सर्वप्रथम जय भगवान गोयल ने ली थी. बृहस्पतिवार को 6 दिसंबर 2018 को जय भगवान गोयल ने मोदी सरकार से आग्रह किया कि अयोध्या में राम मंदिर बनाओ नहीं तो जिस तरह मस्जिद गिराया था, उसी तरह मंदिर भी बनाएंगे. उन्होंने कहा, अयोध्या आंदोलन ने बीजेपी के कई नेताओं को देश की राजनीति में एक पहचान दी, लेकिन राम मंदिर के लिए सबसे बड़ी कुर्बानी पार्टी नेता कल्याण सिंह ने दी. वे बीजेपी के इकलौते नेता थे, जिन्होंने 6 दिसंबर 1992 में अयोध्या में बाबरी विध्वंस के बाद अपनी सत्ता को बलि चढ़ा दिया था. राम मंदिर के लिए सत्ता ही नहीं गंवाई, बल्कि इस मामले में सजा पाने वाले वे एकमात्र शख्स हैं. गोयल के अनुसार मोदी सरकार भी मंदिर बनाने के लिए आयी थी लेकिन अभी तक उनकी तरफ से कोई सुगबुगाहट नही दिखाई दी हैं.

 




 

 

 

देखिये क्या बोला जय भगवान गोयल ने